• Sign in | Register
  • //$(function () { // $(document).on('click', "#scartlink", function (e) { // e.preventDefault(); // //alert('scartlink test'); // $("#showmycartitems").stop().slideToggle("slow"); // if ($('.c-cart a').closest('a').prop('class') == '') { // $(".c-cart a").addClass("active"); // } // else { // $(".c-cart a").removeClass("active"); // } // }); // $(document).on('click', function (e) { // var container = $("div.c-cart"); // $("ul.sub-menu"); // if (!container.is(e.target) && container.has(e.target).length === 0) { // if ($('#showmycartitems').is(':visible')) { // $("#showmycartitems").stop().slideToggle("slow"); // } // // $('#showmycartitems').hide(); // } // }); //});

Editor's Choice:

Share this on Facebook!

पूर्वी भारत में पर्यटन स्थल

Indiaonline
Close

Want more stories like this?

Like us on Facebook to get more!
Close

पूर्वी भारत में पर्यटन स्थल

पूर्वी भारत में पर्यटन स्थल

पूर्वी भारत संस्कृति का अक्षय पात्र यानि गढ़ है। भारतीय संस्कृति सभ्यता की नींव पूर्वी भारत को ही माना जाता है। पूर्वी भारत ना केवल धार्मिक रुप से भारत का अग्रणी है बल्कि सांस्कृतिक और ऐतिहासिक रुप से भी भारत की पहचान का साक्षी है। भारत के प्रमुख तीन धर्मों सिख, बौद्ध और जैन धर्मों का जनक भी पूर्वी भारत ही है। यह भारत के इन प्रमुख क्षेत्रों में से एक है जहां कोई भी एक तरफ बर्फ से ढके पहाड़ों का पता लगा सकता है और दूसरी तरफ रेतीले समुद्र तटों का पर जा सकता है। यहां सास्कृतिक साक्ष्य भी है और ऐतिहासित धरोहरें भी है। धार्मिक सभ्यता भी है और समृद्ध इतिहास भी है। पूर्वी भारत कई रंगों के साथ छिड़काव वाला कैनवास है, जो पश्चिम बंगाल में दीघा के समुद्र तटों और ओडिशा में पुरी के समुद्र तटों से मिलती है। बिहार के ऐतिहासिक तथ्यों से झारखंड की हरियाली तक यहां सब कुछ संपूर्ण है। आप यहां हावड़ा में बेलूर मठ और दक्षिणाश्वर में दिव्य आशीर्वाद मांग सकते है, कोलकाता में सबसे पुराने कैथेड्रल मे जा सकते हैं एवं बौध गया में शांति की तलाश कर सकते हैं। जहां राजकुमार सिद्धार्थ ने ज्ञान प्राप्त कर दुनिया को बौद्ध धर्म से अवगत कराया। पूर्वी भारत में भारत के पूर्व के क्षेत्र आते हैं। पूर्वी भारत  उड़ीसा और पश्चिम बंगाल के राज्यों के बिहार और झारखंड मुख्य रुप से आते हैं। आप इन चारों राज्यों से जुड़े कई क्षेत्रों को भी देख सकते है जो इनसे जुड़े हुए है।  भारत के यह पूर्वी राज्य अपने आप में भारत की अपार सुंदरता और समृद्ध इतिहास को समाहित किए हुए हैं। इन राज्यों की सैर कर आप भारत को मुख्य रुप से जान सकते हैं। भारत के पूर्वी राज्यो से ही देश के कई महानुभवों ने जन्म लेकर भारत की भूमि को कृत कृत किया है। गुरु गोबिंद से लेकर महात्मा बुद्ध और महावीर तक, रविन्द्रनाथ ठाकुर से लेकर राजेन्द्र प्रसाद तक कई लोगों ने यहां जन्न लिया है। इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको भारत के पूर्वी राज्यों के बारे में बता रहे हैं जहां आप जाकर यहां के पर्यटन स्थलों का भ्रमण कर भारत को और करीब से जान सकते हैं। 



पश्चिम बंगाल

पूर्वी भारत में पर्यटन स्थल

भारत के पूर्वी क्षेत्र में स्थित पश्चिम बंगाल समृद्ध संस्कृति और विरासत का राज्य है। किसी समय यह ब्रिटिश औपनिवेशिक गतिविधियों का केंद्र था तथा यहाँ की वास्तुकला और प्राचीन इमारतों में इसके प्रमाण आज भी मिलते हैं। पश्चिम एक समृद्ध दौरे की योजना बनाने के लिए एक आदर्श स्थल है। अपने औपनिवेशिक इतिहास के लिए जाना जाने वाला पश्चिम बंगाल कई पर्यटन स्थलों का घर है। जो प्रकृति की महिमा से घिरे हुए है। इसे कैस्केडिंग झरने, पहाड़ी इलाके और समुद्र तटों से सजाया गया है। यहां की भूमि आपको संस्कृति, प्रकृति, इतिहास, कला और मनोरंजन के उदार संयोजन की प्रशंसा करने का अवसर प्रदान करती है। कोलकाता राज्य की राजधानी है जिसे "जॉय शहर" के रूप में जाना जाता है। इस प्राचीन शहर को दो हजार से अधिक वर्षों में रहने के लिए माना जाता है और यह इसकी समृद्ध सांस्कृतिक पृष्ठभूमि और विविध जातीयता से स्पष्ट है। कोलकाता कई स्मारकों से सजी हुई है। जहां भारत में ब्रिटिश राज की झलक देखने को मिलती है। विक्टोरिया मेमोरियल, बेलूर मठ, दक्षिणेश्वर काली मंदिर, कालीघाट काली मंदिर, दार्जिलिंग हिमालयी रेलवे, सुंदरबान, जलदापारा, शांतिनिकेतन, दार्जिलिंग, कालीम्पोंग और कुर्सियांग के दौरे के बिना पश्चिम बंगाल की यात्रा अपूर्ण रहेगी। दीघा बीच और मंडर्मानी बीच समुद्र प्रेमियों को खेलने और प्रसन्न करने के लिए सबसे अच्छे स्थान हैं। भारत के पूर्वी भाग में स्थित पश्चिम बंगाल राज्य संस्कृति और समृद्ध परंपरा की धरती है। अपने गौरवशाली अतीत के अलावा आज पश्चिम बंगाल को वामपंथी प्रभुत्व के गढ़ के तौर पर देखा जाता है। यही नहीं दार्जिलिंग आपकी बेहतरीन छुट्टियों का सबसे सही स्थान है। बर्फ से ढके पहाड़ों, हरे-भरे हरियाली और हिमालय के आश्चर्यजनक दृश्य पृथ्वी पर एक स्वर्ग बनाते हैं। पूरी भूमि हरे रंग की चाय के पत्तों की खुशबु आपको अपनी और आकर्षित करती है।

पश्चिम बंगाल की यात्रा आपको एक ऐसे राज्य में ले जाएगी जहां देश में सबसे ज्यादा नोबेल पुरस्कार विजेताओं का जन्म हुआ है। यह दुनिया भर में मशहूर रहे असंख्य कवियों, चित्रकारों, फिल्मकारों और विद्वानों की धरती है।  कई अनूठी आर्ट गैलरी और बड़ी संख्या में राज्य संग्रहालय से लेकर यहां शिक्षा और मनोरंजन के कई केंद्र हैं। इसके अलावा पश्चिम बंगाल के आकर्षण के अलावा सैलानियों को महत्वपूर्ण पर्यटन स्थलों की श्रृंखला को भी देखने का मौका मिलता है। पश्चिम बंगाल के आकर्षण यहां की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और पारंपरिक विरासत को दर्शाते हैं, और आज के आधुनिक युग तक कायम हैं।



ओड़िशा

पूर्वी भारत में पर्यटन स्थल


पश्चिम बंगाल के पास ओड़िशा पूर्वी भारत का एक और आकर्षक पर्यटन स्थल है। जो आपको शानदार पर्यटन स्थल प्रदान करता है। ओडिशा बंगाल की खाड़ी से सटा भारत के पूर्वी कोने में स्थित एक शांतिपूर्ण राज्य है। भारत का प्राचीन इतिहास अभी भी उसके मंदिरों, चैत्य और स्तूपों से ही प्रकट होती है। दो हजार साल पुरानी समृद्ध विरासत, राज्य मौर्य साम्राज्य से लेकर अब तक के सुनहरे इतिहास की झांकी पेश करता है ।ओड़िशा की यात्रा आपको एक ऐसी धरती पर ले जाएगी, जहां भारतीय इतिहास की सबसे बड़ी और भयंकर लड़ाइयां (कलिंग युद्ध) लड़ी गई। जिसकी वजह से अशोक एक सम्राट से बौद्ध के मार्ग पर चलने वाले सबसे बड़े संत में तब्दील हुए। यह अपने सुंदर समुद्र तटों, तीर्थ स्थलों, झीलों, झरनों और वन्यजीव अभयारण्यों के लिए प्रसिद्ध है। ओडिशा की यात्रा पर, आप पुरी, कोणार्क और भुवनेश्वर जा सकते हैं। कोणार्क में स्थित सूर्य मंदिर भारतीय राज्य ओडिशा के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। , कोणार्क सूर्य मंदिर यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल के रुप में विख्यात है। चूंकि कोणार्क ओडिशा में स्थित है; यह तथा-कथित “पर्यटन के सुनहरे त्रिभुज” के तीन बिंदुओं में से एक है। इस त्रिभुज के दो अन्य बिंदु हैं- मंदिरों का शहर भुवनेश्वर और पुरी का भगवान जगन्नाथ मंदिर।  पुरी अपने महान जगन्नाथ मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। चिलीका झील, एक खारे पानी  की झील है, इसके साथ ही लैगून पक्षी, मछली पकड़ने और नौकायन में रुचि रखने वालों के लिए एक स्वर्ग स्थल प्रदान करता है। सिमलीपाल नेशनल पार्क, हिरकूद बांध, तालासरी बीच, चंडीपुर-ऑन-सागर, हीराकुंड बांध, दुदुमा जलप्रपात, उषाकोठी वन्य जीव अभयारण्य, गोपानपुर समुद्री तट, हरिशंकर, नृसिंहनाथ, तारातारिणी, तप्तापानी, भितरकणिका, भीमकुंड कपिलाश आदि ओडिशा में जाने के लिए अन्य जगह हैं। ओडिशा राज्य में स्थित महत्वपूर्ण पर्यटन केंद्रों में से एक है भीतरकनिका। प्रकृति प्रेमियों को इस जगह जरूर जाना चाहिए। यहां पौधों और वन्य जीवों की एक विस्तृत शृंखला है।



बिहार

पूर्वी भारत में पर्यटन स्थल

अपनी सांस्कृतिक विरासत और इतिहास के लिए प्रसिद्ध, बिहार कई ऐतिहासिक स्थलों की भूमि है। बिहार को भारत का ऐतिहासिक स्थल कहा जाए तो कम नहीं होगा। बिहार पर्यटन की दृष्टि से वैसे राज्यों में शुमार है जो आध्यात्मिकता और इतिहास का संगम है बिहार राज्य में नालंदा, बरबार गुफाओं, कुमरहर, विक्रमाशिला आदि जैसे पुरातात्विक स्थलों का गढ़ है। कला और संस्कृति में अमीर लोकप्रिय बिहार के मिथिला क्षेत्र में प्रचलित मधुबनी चित्रकला देश विदेश में प्रचलित है।।  बिहार एक ऐसा पूर्वी राज्य है जो भारत के प्रमुख धर्मों का जनक है।  बौद्ध, जैन और सिख धर्मावलंबियों के लिए पूरी दुनिया में जो जगह सबसे पवित्र माने गए हैं उनमें बिहार का प्रमुख स्थान है। इन तीनों धर्मों के प्रंमुख लोगों का संबंध बिहार से रहा। विश्व के प्रथम गणतंत्र वैशाली की धरती को जैनधर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर का जन्मस्थान होने का गौरव हासिल है। यह स्थान बौद्धधर्म के लिए भी प्रमुख रहा है। यह राज्य का प्रमुख पर्यटन स्थल है जो बौद्धसर्किट से जुड़ा है। यहां का शांतिस्तूप आगंतुकों को अपनी ओर खींचता है।

भगवान बुद्ध और भगवान महावीर की भूमि एक महान सांस्कृतिक स्थल है। बिहार में महाबोधि मंदिर यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल के रुप में विख्यात है। तख्त श्री हरमंदिर साहेब, सिख धर्म के पांच तख्ते में से एक बिहार के पटना में स्थित है। यह सिखों के दसवें गुरु गुरु गोबिंद सिंह का जन्मस्थान है। उत्तर बिहार का चंपारण बौद्धकाल से लेकर आधुनिक काल तक चर्चित रहा। स्वतंत्रता आंदोलन में गांधी को पहचान चंपारण सत्याग्रह से ही मिली। यहां स्थित केसरिया में विश्व का सबसे ऊंचा बौद्धस्तूप है। इसी के बगल में स्थित कैथवलिया में दुनिया का सबसे बड़ा रामायण मंदिर बनाने का प्रस्ताव है। नालंदा जिले में ही राजगीर अवस्थित है जो देशी-विदेशी सैलानियों के लिए आकर्षण का प्रमुख केंद्र है। मुंगेर में ऐतिहासिक किला है। यहां पर सीताकुंड नामक प्रमुख कुंड है। मुंगेर से 6 किलोमीटर पूर्व में सीता कुंड मुंगेर आनेवाले पर्यटकों के आकर्षण का प्रमुख केंद्र है। सीतामढ़ी को सीता के जन्मस्थान के रूप में माना जाता है सीतामढ़ी के पूनौरा नामक स्थान पर जब राजा जनक ने खेत में हल जोते तो उस समय धरती से सीता का जन्म हुआ था। राज्यो के प्रमुख पर्यटन केंद्र हैं- राजगीर, नालंदा, वैशाली, पावापुरी जहाँ भगवान महावीर ने अंतिम सांस ली और निर्वाण को प्राप्त  हुए, बोधगया, विक्रमशिला उच्चज शिक्षा के बौद्ध विश्व विद्यालय के अवशेष, पटना पाटलीपुत्र का प्राचीन नगर और सासाराम शेरशाह सूरी का मक़बरा और मधुबनी है। नालंदा भारत के सबसे प्रचीन विश्विद्यालय के रुप में विख्यात है। बोधगया पूरी दुनिया में भगवान बुद्ध की ज्ञानभूमि के रुप में प्रसिद्ध है। यहां महाबोधिमंदिर और बोधिवृक्ष सहित कई देशों की ओर से बनवाए गए बौद्धमंदिर आकर्षण के केंद्र रहते हैं। गयाजी हिंदुओं का प्रसिद्ध पिंडदान स्थल है जो पूरी दुनिया के हिंदुओं के लिए श्रद्धा का केंद्र है। यहां पर्यटन स्थलों की भरमार है। पापुरी, मानेर शरीफ, थवे मंदिर, बिहार में अन्य महत्वपूर्ण तीर्थ स्थलों हैं। पूर्वी भारत का यह हिस्सा असंख्य प्राकृतिक आकर्षण से आशीर्वादित है। राष्ट्रीय उद्यानों और वन्यजीव अभ्यारण्य के रूप में विविध प्राकृतिक सौंदर्य केवल वर्तनी-सीमा है। वाल्मीकि नेशनल पार्क, भीमबंध वन्यजीव अभयारण्य, विक्रमशिला गंगाटिक डॉल्फिन अभयारण्य, काकोलाट वाटरफाल, तेलहर वाटरफॉल आपको बिहार की प्राकृतिक सुंदरता का पता लगाने का मौका देता है। इस तरह के महान आकर्षण बिहार पर्यटन में शामिल हैं जो इसे पूर्वी भारत की यात्रा पर एक यात्री के यात्रा कार्यक्रम का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनाते हैं।




झारखंड

पूर्वी भारत में पर्यटन स्थल

पूर्वी भारत में कई जगहें हैं जो यात्रा के लायक हैं और उनमें से एक झारखंड राज्य है जिसका अर्थ है जंगलों की भूमि। यह राज्य चॉटनगपुर पठार का हिस्सा है। पूर्वी भारत के इस हिस्से में सुंदर सुंदरियों, घासों और बांस के जंगल के साथ वनस्पतियों और जीवों की समृद्ध विविधता है। रांची झारखंड की राजधानी हैझारखंड को वनों की भूमि के रूप में बुलाया जाता है, प्रकृति प्रेमियों के लिए ये स्वर्ग है। राजसी पहाड़ियों, सुंदर झरने, समृद्ध हरियाली और रंगीन संस्कृति के साथ राज्य की अद्वितीय सुंदरता दिखाती हैं। प्रमुख जनजातीय आबादी के लिए धन्यवाद, भूमि प्रकृति को सबसे अच्छी तरह से संरक्षित करती झारखंड की राजधानी रांची को सही ढंग से झरने का शहर कहा जाता है। प्रकृति की सुन्दरता से धन्य रांची आपकी आत्मा को तृप्त कर सकती है। जमशेदपुर आर्थिक गतिविधियों का केंद्र है। यह खनिज संसाधनों में इतना समृद्ध है कि इसे ‘पूर्व के मैनचेस्टर’ भी कहा जाता है। भीड़-भाड़ के बीच यह शहर का सबसे खूबसूरत कोना माना जाता है, जहां पर्यटकों को सुबह से शाम के बीच देखा जा सकता है। इस झील को जयंती सरोवर के नाम से भी जाना जाता है। यह झील प्रसिद्ध जुबली पार्क के अंदर है। बोकारो, धनबाद, पलामू, गिरिडीह, देवघर झारखंड के अन्य प्रमुख शहर हैं। रॉक गार्डन, मैथन बांध, हुद्रू फॉल्स, परसनाथ हिल्स, टैगोर हिल, बाबा बैद्यनाथ मंदिर, जुबली पार्क, दल्मा वन्यजीव अभयारण्य, पलामू टाइगर रिजर्व झारखंड के कुछ प्रमुख आकर्षण हैं। यहां कोयले और लौह अयस्क की बहुत सी बड़ी खदान मौजूद हैं। इन सब से परे अगर बात पर्यटन की हो तो यह राज्य इस मामले में भी किसी से कम नहीं। झारखंड में ऐसे बहुत से खूबसूरत पर्यटन स्थल मौजूद हैं जो न आपको सिर्फ मानसिक शांति प्रदान करेंगे बल्कि राज्य की लोक संस्कृति को जानने का अवसर भी प्रदान करेंगे।

To read this Article in  English Click here
578
  • SHARE THIS
  • TWEET THIS
  • SHARE THIS
  • COMMENT
  • LOVE THIS 0

Related Links

Comments / Discussion Board - पूर्वी भारत में पर्यटन स्थल

Loader