• Sign in | Register
  • //$(function () { // $(document).on('click', "#scartlink", function (e) { // e.preventDefault(); // //alert('scartlink test'); // $("#showmycartitems").stop().slideToggle("slow"); // if ($('.c-cart a').closest('a').prop('class') == '') { // $(".c-cart a").addClass("active"); // } // else { // $(".c-cart a").removeClass("active"); // } // }); // $(document).on('click', function (e) { // var container = $("div.c-cart"); // $("ul.sub-menu"); // if (!container.is(e.target) && container.has(e.target).length === 0) { // if ($('#showmycartitems').is(':visible')) { // $("#showmycartitems").stop().slideToggle("slow"); // } // // $('#showmycartitems').hide(); // } // }); //});

Editor's Choice:

Share this on Facebook!

भारत के प्रसिद्ध आध्यात्मिक योग ध्यान केंद्र

Indiaonline
Close

Want more stories like this?

Like us on Facebook to get more!
Close

भारत के प्रसिद्ध आध्यात्मिक योग ध्यान केंद्र

भारत के प्रसिद्ध आध्यात्मिक योग ध्यान केंद्र

आज की भागदौड़ भरी जिन्दगी में हम सभी इतने ज्यादा व्यस्त है कि स्वंय के लिए भी हमारे पास समय नहीं है। सुबह से लेकर शाम तक काम के लिए भागना, ना समय पर भोजन करना, ना शारिरिक स्वास्थ्य की ओर ध्यान देना हम सभी की आदत बन गई है जिसके कारण शारिरिक एवं मानसिक थकान के साथ-साथ कई तरह की बीमारियां भी शरीर में घर बना रही है। हम अपने शरीर और दिमाग को आराम देने के लिए आज क्या कुछ नहीं करने की सोचते हैं। व्यस्तता के चलते परिवार संग समय भी नहीं बिता पाते हैं। ऐसे हम अवकाश लेकर किसी शांति के स्थल पर जाने का विचार करते हैं ताकि हमारा शरीर और मन शांत हो सके। शहर के शोर-शराबों से दूर कुछ प्राकृतिक चीजों का आनंद ले सके। आज के समय में व्यस्त कार्यक्रम के साथ, हर किसी को पीछे एक कदम पीछे हटकर स्वंय के बारे में सोचने की आवश्यकता है ताकि हम खुद को जीवित कर सके। आगे बढ़ने की होड़ में हम किसी मशीन की तरह हो गए हैं जो बस चलता जाता है। इसी से छुटकारा पाने के लिए दिमाग और शरीर को आराम देने की जरुरत है।  ई लोग अब छुट्टियों के लिए समुद्र तटों और भीड़-भाड़ वाले पर्यटन स्थलों के बजाय आध्यात्मिक योग और ध्यान केन्द्रों की तलाश में हैं। ताकि वह ना  केवल अपने शरीर को उर्जावान बना पाएं साथ ही दिमाग को भी शांत कर, एकागृ करें। योग और ध्यान, एक साथ करने के लिए परिकल्पित किए गए हैं। योग शरीर  को मजबूत बनाने में मदद करता है। जबकि ध्यान, एक सामान्य व्यक्ति द्वारा प्राप्त की जाने वाली चेतना के एक उच्च रूप (ब्रह्मांडीय चेतना) के साथ उसकी आत्मा को जोड़ने में मदद करता है। पश्चिमी देशों में हजारों साल पहले योग और ध्यान लोकप्रिय हो गया था, जबकि भारत ने इन दोनों का आविष्कार और साधना की थी। भारत में आश्रमों या इनके केंन्द्रों की एक विस्तृत सारणी है, जो मन के साथ-साथ शरीर को निरोग बनाने की दिशा में कार्य करते हैं। पाँच सितारा आश्रम में आवास से लेकर मूल आवास तक की सुविधाए उपलब्ध हैं, जो हर आध्यात्मिक साधकों को ज्ञान प्रदान करने का प्रयास करते हैं। यह आश्रम ना केवल आपको रहने की एक उचित जगह उपलब्ध कराते हैं बल्कि यह आपको नई उर्जा और आत्मिय शक्ति से भी परिपूर्ण करते हैं।

भागदौड़ और व्यस्त जिंदगी का आदी मनुष्य यह भूल गया है कि खान-पान के अलावा भी शरीर की कुछ और भी जरूरतें होती हैं। जिनमें मानसिक और आत्मिक शांति को सबसे शीर्ष स्थान प्राप्त है। दुनिया में बहुत से शोध 'मानसिक थकान' जैसे गंभीर विषयों पर किए गए हैं, जिनसे यह पता चला है कि जिस इंसान का मन शांत नहीं रहता वो अपने कामों को करने में असक्षम हो जाता है। मानसिक शांति भी इंसान की सबसे बड़ी जरूरत है।  हम अपने काम से अवकाश लेकर तो कई पर्यटन स्थलो पर जाने का विचार बनाते हैं और वहां जाकर वही भीड़-भाड़ और शोर-शराबा देख वापस उसी दुनिया में आ जाते हैं जहां से हमें शांति की तलाश थी। आज लगभग सभी बड़े-बड़े होटल पर्यटन स्थलों पर शहरों की तरह की चमक धमक और शोरगुल होता है जिससे मानसिक शांति मिल ही नहीं पाती। लेकिन योग और ध्यान के केंद्र भारत में कुछ ऐसे स्थल है जिन्होंने भारत की प्राचीन परंपरा का अनुसरण करते हुए मनुष्य की चेतना को आत्मा से मिलाने का मार्ग प्रशस्त किया है। योग और ध्यान से ना केवल शरीर को आराम मिलता है बल्कि काम-काज और तनाव से थका हमारा दिमाग और मन भी एकाग्र होकर शांत होता है। 

देश में कई आध्यात्मिक आश्रम हैं जो शरीर के कायाकल्प के लिए शान्ति की जगह प्रदान करते हैं। ये योग, ध्यान, स्पा और कुछ और चीजंए जो मन को ताज़ा करने में मदद करती हैं, उनसे संबंधित कई गतिविधियां प्रदान करतें हैं। मेहमानों के लिए शांतिपूर्ण वातावरण प्रदान करने के लिए वे आमतौर पर भीड़ वाले स्थानों से दूर शांत स्थानों में स्थित होते हैं। हम इस आर्टिकल के माध्यम से आपको भारत की कुछ ऐसे ही योग और ध्यान केंद्रों के बारे में बताने जा रहें है जो आपको शारिरिक चुस्त-दुरुस्त करने के साथ मानसिक रुप से भी शांत करेंगें।

भारत में शीर्ष योग और ध्यान केंद्र


ब्लू मैंगो केंद्र, हिमालय

भारत के प्रसिद्ध आध्यात्मिक योग ध्यान केंद्र

स्पीति घाटी में स्थित, ब्लू मैंगो आपको वो शांति और सुविधाओं को प्रदान करता है जिनकी आप तलाश कर रहे हैं। हिमालय और जंगलों के समूह के लुभावनी दृश्य के साथ, ब्लू मैंगो सिर्फ एक स्पा नहीं है बल्कि इसे बढ़कर हैं। इस स्थान पर बौद्ध संस्कृति बहुत प्रमुख है। साफ-स्वच्छ और पौष्टिक भोजन के साथ ब्लू मैंगो कई योग, ध्यान और थेरेपी सत्र प्रदान करता है जो आपके शरीर में गाँठ को सीधा कर देगें। इनके विशेष 11-दिवसीय कार्यक्रम की सावधानीपूर्वक योजना बनाई गई है ताकि मेहमानों को आत्म उपचार, ध्यान तकनीक, अनुभवात्मक शिक्षा और योग के विभिन्न संयोजनों के माध्यम से उपचार उपचार प्रदान किया जा सके। इस 11 दिन के सत्र में आप तनाव से किस तरह मुक्ति पा सकते हैं यह सिख जाएगें। यह ना केवल आपकी दैनिक दिनचर्या को सुधारने का काम करता है बल्कि आपको आपने होने का भी महत्व बताता है।


ओशो ध्यान रिज़ॉर्ट, पुणे

भारत के प्रसिद्ध आध्यात्मिक योग ध्यान केंद्र

ओशो ध्यान रिज़ॉर्ट रेगिस्तान के बीच में एक हरियाली की तरह है। जो अविश्वसनीय 28 एकड़ परिसर के साथ एक एक शानदार वातावरण प्रदान करता है जहां लोग आराम कर सकते हैं। शहरी जीवन के हलचल से दूर रह सकते हैं। यह एक पारंपरिक आश्रम अनुभव और कई ध्यान वर्गों, स्विमिंग पूल, उद्यान और सुंदर पत्ते के साथ एक असाधारण स्पा का एकदम सही संयोजन प्रदान करता है।
पुणे में कोरेगांव पार्क में स्थित, ओशो ध्यान रिज़ॉर्ट एक ऐसा स्थान है जो परिसर में प्रवेश करने के पल भर में आपके दिमाग और आत्मा को शांत करता है। यहां पर कोई लिंग अलगाव नहीं है और प्रत्येक उपस्थिति को अपने प्रवास के दौरान एक रंगीन वस्त्र पहनना पड़ता है। इस आश्रम की स्थापना आध्यात्मिक गुरू ओशो ने 1974 में की थी। ओशो के विचार दुनिया भर में फैले हुए हैं उन्हें वैसे तो विवादित गुरु के रुप में जाना जाता है क्योंकि उनके विचार काफी खुले हुए हैं। यहां आकर आपको ओशो के विचार के साथ तन और मन को कैसे शांत करना है यह सिखलाया जाता है। सभी को एक जैसे वस्त्र पहनाकर एक जैसा होने का एहसास दिलाया जाता है।



आर्ट ऑफ लिविंग इंटरनेशनल सेंटर, बैंगलुरु

भारत के प्रसिद्ध आध्यात्मिक योग ध्यान केंद्र

बेंगलुरु से लगभग 36 किलोमीटर दूर पनागिरी पहाड़ियों में स्थित, द आर्ट ऑफ लिविंग इंटरनेशनल सेंटर शांति-साधकों के बीच एक प्रसिद्ध आध्यात्मिक केंद्र है। यह उन विदेशी लोगों के बीच बहुत लोकप्रिय है जो भारत के लिए सच्चे आश्रम अनुभव की तलाश में आते हैं। यहां सुन्दर बगीचे, शांत झील, पहाड़ी ट्रेल्स और कार्बनिक खेतों के साथ जगह परिपूर्ण है। योग और ध्यान करने के लिए यह जगह एकदम उत्तम है।  सभी पृष्ठभूमि और धर्मों के लोग हैं, जिन्हें आश्रम की खाना पकाने, सेवा करने, सफाई और रखरखाव जैसी स्वैच्छिक सेवा के लिए भी आमंत्रित किया जाता है। श्री रवि शंकर द्वारा 1 9 86 में स्थापित, यह आश्रम अपने तनाव मुक्त पर्यावरण और ध्यान और योग कार्यक्रमों के लिए जाना जाता है। आर्ट ऑफ लिविंग प्रथम और द्वितीय में पाठ्यक्रम, वास्तु शास्त्र, युवा प्रशिक्षण और वैदिक गणित भी यहां पेश किए जाते हैं। आर्ट ऑफ लिविंग इंटरनेशनल सेंटर  की स्थापना 1981 में श्री श्री रवि शंकर ने की थी। इस आश्रम को बनाने का मकसद था कि एक तनावमुक्त और हिंसा मुक्त समाज का निर्माण किया जाए। संस्था में कई तरह की गतिविधियां होती हैं। यहां लोगों को तनाव से मुक्ति दिलाने के लिए योगा और ध्यान के वर्कशॉप का आयोजन किया जाता है। आज इनके कार्यक्रम पूरे विश्व में चर्चित हो गए हैं। समय के साथ-साथ इस आत्मिक और सामाजिक संस्थान ने मानवतावादी प्रोजेक्ट के जरिए अपना विस्तार किया है और यह कोंगो जैसे कई संगठनों का सदस्य भी है। इस संस्था में आर्ट ऑफ लिविंग और मेडिटेशन को कोर्स भी कराया जाता है। जो ना केवल आपको शांति और ध्यान का मार्ग प्रशस्त करेगा बल्कि दुनिया के बीच में रहकर कैसे खुद को शांत किया जा सकता है यह भी बताएगा।



धर्मशाला में तुषिता ध्यान केंद्र

भारत के प्रसिद्ध आध्यात्मिक योग ध्यान केंद्र

धर्मशाला में स्थित तुषिता ध्यान केंद्र महान संत दलाई लामा के जन्म स्थान पर स्थित है, इसलिए आपके दिमाग और शरीर को फिर से जीवंत और शुद्ध करने के लिए इससे बेहतर और कोई जगह नहीं हो सकती है। तुषिता ध्यान केंद्र भगवान बुद्ध की प्रार्नाओं और शिक्षण का पालन करता है और इस प्रकार आध्यात्मिकता का उपयोग अपने आगंतुकों को खुद को खोजने में मदद करने के लिए करता है। यह अपने मेहमानों को आराम देने के लिए चुप्पी की विधि का उपयोग करता है। जिससे किस तरह आप शांत रहकर बिना बोले अपनी ऊर्जा का सही जगह प्रयोग कर सकते है यह आपको यहां सिखने को मिलता है।  तुशिता ध्यान केंद्र, बौद्ध धर्म (तिब्बती महायान परंपरा) के अध्ययन और अभ्यास के लिए अच्छी तरह से जाना जाता है।  तुशिता ‘महायान’ ध्यान केंद्र एक साधारण जीवन और मौन पर ध्यान केंद्रित करने वाला प्रमुख उपादान है। यह सभी जाति और पृष्ठभूमि वाले लोगों को बुद्ध की शिक्षाओं को सीखने और उनका पालन करने के लिए एक घरेलू, अनुकूल और अनुशासित वातावरण प्रदान करता है। यह पूरा स्थान सकरात्मक वातावरण से भरा पूरा है। जो स्वंय आपको अपनी ओर आकर्षित करता है। आप यहां आकर अपनी सारी परेशानियां भूल जाएगें। और अद्भुद शांति का अनुभव करेगें। इसके अलावा, सुंदर वातावरण यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि आप इस सुखदायक भूमि में शांति को कैसे अवशोषित करते हैं। केंद्र प्रत्येक दिन कई ध्यान और आध्यात्मिकता कक्षाएं प्रदान करता है जो आगंतुकों को खुद से जुड़ने में मदद करते हैं।



योग विद्या आध्यात्मिक  केंद्र, केरल

भारत के प्रसिद्ध आध्यात्मिक योग ध्यान केंद्र

योग, ध्यान और आयुर्वेद का एक सुंदर मिश्रण, केरल में योग विद्या आध्यात्मिक वापसी केंद्र में सिखने को मिसता है। योग सीखने के लिए यह एक अविश्वसनीय संस्था है । जिन्हें भी योग सिखना है उन्हें यहां अवश्य आना चाहिए।  यह दुनिया भर से भिक्षुओं और विद्वानों द्वारा संचालित और प्रबंधित किया जाता है, जो विभिन्न पाठ्यक्रमों और कार्यक्रमों के माध्यम से योग पढ़ाते हैं। उनके लोकप्रिय 10-दिन योग विसर्जन शुरुआती लोगों के लिए बहुत अच्छी है, जो सिर्फ अपनी आध्यात्मिक यात्रा शुरू कर रहे हैं। हालांकि, उनके पास एक गहन योग डिटॉक्स रिट्रीट भी है, जो उन्नत छात्रों के लिए अधिक उपयुक्त है। आयुर्वेदिक और योग उपचार आपको मानसिक रूप से ही नहीं बल्कि शारीरिक रूप से भी पुनर्जीवित करेंगे। यहां योग करके आप आपना तन-मन शांत करने की कला सिखेंगे। जो आपके लिए कई मायनों में लाभदायक है।


आयुर्वेद योग ध्यान रिज़ॉर्ट, कुन्नौर

भारत के प्रसिद्ध आध्यात्मिक योग ध्यान केंद्र

दक्षिण भारत में नीलगिरी पर्वत पर स्थित आयुर्वेद योग ध्यान रिज़ॉर्ट भारतीय चिकित्सा (आयुर्वेद) के पारंपरिक तरीकों की खोज में उत्कृष्टता प्रदान करता है। कुन्नूर में स्थित आयुर्वेद योग ध्यान रिजॉर्ट एक पुरस्कृत विजेता और विश्वास पूर्ण आयुर्वेद और योग केंद्र है। वर्ष 1950 में स्थापित यह केंद्र सुंदर और प्राचीन नीलगिरि की पहाड़ियों पर स्थित है, जहाँ की स्वच्छ एवं ताजी हवा तथा इसके आस-पास का परिवेश काफी लुभावना है। यह एक हरी चाय बागान पर स्थित है और कार्बनिक खेतों, औषधीय पौधों और नीलगिरी के जंगलों से घिरा हुआ यह केंद्र विभिन्न अनुकूलित कार्यक्रमों की पेशकश करता है जो व्यक्तिगत आवश्यकताओं पर ध्यान केंद्रित करते हैं। इसका सुंदर वातावरण ही आपको अद्भुद शांति का अनुभव कराता है। ये विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं जैसे उच्च रक्तचाप, शराब और तनाव से संबंधित विकारों के लिए कई समग्र उपचार भी प्रदान करते हैं। केरल आयुर्वेदिक उपचार, कई बीमारियों के हरणकर्ता के रूप में उपलब्ध हैं। मेहमानों को ध्यान में रख यहां चिकित्सा, योग, स्वयंसेवी कार्य, जैविक खेती और संयुक्त शाकाहारी भोजन जैसे कई कार्यों के माध्यम से व्यस्त रखा जाता है। ताकि मनुष्य में कोई भी गलत भावना या तनाव का प्रसार ना हो सकें।  व्यक्तिगत उपचार के अलावा प्रत्येक दिन यहाँ योग का अभ्यास कराया जाता है। रिजार्ट में आध्यात्मिक और मानसिक विश्राम के लिए दिन का समापन ध्यान के साथ होता है। यहां हर बीमारी से स्वंय को दूर रखने के उपायों को बता मनुष्य में शांति का संचार किया जाता है ताकि वो तनाव और गलत भावनाओं से स्वंय को दूर रख सके।



विपश्यना ध्यान केंद्र, देहरादून

भारत के प्रसिद्ध आध्यात्मिक योग ध्यान केंद्र

विपश्यना ध्यान केंद्र विपश्यना के प्राचीन सिद्धांत का पालन करता है जिसे बौद्धों द्वारा केंद्रित ध्यान के लिए डिजाइन किया गया था। विपश्यना भारतीय इतिहास में सबसे पौराणिक विधि है जिसके जरिए आत्मा को शांत कर। तनाव से मुक्ति पाई जाती है। विपश्यना ध्यान केंद्र में रहने के साथ दस दिवसीय पाठ्यक्रम चलाया जाता है जिसका उद्देश्य आत्मनिरीक्षण के माध्यम से दिमागी शुद्धिकरण को पढ़ाना है। यह देश के गंभीर ध्यान केंद्रों में से एक है, जहां पूरे कार्यक्रम के माध्यम से जाने के लिए पूरी तरह से समर्पित और केंद्रित होना आवश्यक है । आप यदिन यहां से दिन का शिविर लेते हैं तो आपको इसके लिए पहले ही रजिस्ट्रेशन कराना होता है और पूरे दिन दिनों तक इनके कहे अनुसार नियमों का पालन करना होता है जिसमें रात के भोजन की मनाही होती है। माना जाता है कि एसएन गोयनका के नेतृत्व में, यहां पर उपयोग की जाने वाली सख्त तकनीकों और प्रथाओं को पांचवीं शताब्दी से शिक्षकों द्वारा देखा ना जाता है। किसी भी प्रकार की अवकाश गतिविधि जिसमें टेलीविजन देखना, संगीत सुनना, मुलायम बिस्तर पर सोना, शराब या निकोटीन की खपत या यहां तक कि सजाने वाले गहने और मेकअप भी सख्ती से प्रतिबंधित है। एक 'नोबल साइलेंस' संरक्षित है जहां कोई शिक्षक को छोड़कर किसी से बात नहीं कर सकता यहां तक की इशारा भी नहीं कर सकता है। यह एक बहुत ही चुनौतीपूर्ण कोर्स है। जिसमें शामिल होने के लिए आपको पूरी तरह से समर्पित होना चाहिए। यदि आप एक बार इस कोर्स को कर लेगें तो आप जीवन भर मानसिक शांति का अनुभव करेगें।


श्रेयस योग रिट्रिट, बेंगलुरु

भारत के प्रसिद्ध आध्यात्मिक योग ध्यान केंद्र

देश में सबसे भव्य और शानदार योग ध्यान केंद्रों में से एक, बेंगलुरू में श्रेयस योग रिट्रीट एक आध्यात्मिक वापसी है जो व्यक्तियों की हर जरूरत और वरीयता से मेल खाने के लिए विशेष अनुकूलित कार्यक्रम प्रदान करती है। यह कायाकल्प, एक अनंत स्विमिंग पूल और स्वादिष्ट कार्बनिक शाकाहारी भोजन के लिए एक स्पा के साथ योग और ध्यान के लिए कक्षाओं और पाठ्यक्रमों की एक श्रृंखला प्रदान करता है। यह केंद्र आध्यात्मिकता के साथ अवकाश को जोड़ता है और प्रशिक्षित पेशेवरों के मार्गदर्शन में व्यक्तियों को खुद से जुड़ने में मदद करता है। 25 एकड़ में फैले, श्रेयस योग रिट्रीट अपने उत्कृष्ट कर्मियों, उच्च गुणवत्ता वाली सेवा और योग पाठ्यक्रमों के लिए जाना जाता है जो मन और शरीर के कायाकल्प में मदद करते हैं।


कलारी कोवालाकोम, केरल

भारत के प्रसिद्ध आध्यात्मिक योग ध्यान केंद्र

दक्षिण भारत में कालारी कोवालाकोम अपने विशेष आयुर्वेद उपचार के लिए जाना जाता है जो वास्तव में उपचारों का एक महल है। यह केंद्र मेहमानों को अपनी परेशानियों को पीछे छोड़ने और आराम से वातावरण में आनंद लेने का अवसर प्रदान करता है। यह विभिन्न ध्यान और योग पाठ्यक्रमों, उपचार मालिश और एक शुद्ध शाकाहारी व्यंजन के माध्यम को  प्रदान करता है जो एक आयुर्वेदिक रसोई में ताजा जड़ी बूटी के साथ तैयार किए जाते है। यह केंद्र प्रत्येक दोपहर 'योग निद्रा' के लिए कक्षाएं भी प्रदान करता है, जो एक प्राचीन ध्यान तकनीक है जो गहरी छूट को प्रेरित करने और तनाव को कम करने में मदद करती है। कलारीपट्टू की पुरानी मार्शल आर्ट प्रैक्टिस के लिए कक्षाएं भी यहां पेश की जाती हैं। यहां आकर आप अपने तनाव से मुक्ति पाने के साथ ही अपनी दैनिक दिनचर्या में भी सुधार करना सिखेगें। जिससे ना केवल आपका शरीर स्वस्थ रहेगा बल्कि आपका मन भी शांत रहेगा।


ईशा योग केंद्र, तमिलनाडु

भारत के प्रसिद्ध आध्यात्मिक योग ध्यान केंद्र

कोयंबटूर से लगभग 30 किलोमीटर दूर वेल्लियांगिरी पहाड़ों की तलहटी पर स्थित, ईशा योग केंद्र एक गैर-लाभकारी और गैर-धार्मिक योग केंद्र और आश्रम है। उनके तीन से सात दिन परिचय कार्यक्रम पूरी दुनिया से नियमित रूप से आगंतुकों को आकर्षित कर रहे हैं।ईशा-फाउन्डेशन के संरक्षण तले संस्थापित है, जो वेलिंगिरि पर्वतों की तराई में 150 एकड की हरी-भरी भूमि पर स्थित है। आंतरिक विकास के लिए बनाया गया यह शक्तिशाली स्थान विश्व के हरेक कोने से लोगों को आकर्षित करता है तथा योग के चार मुख्य मार्ग - ज्ञान, कर्म, क्रिया, और मेहमान या तो अपने गहन योग कार्यक्रम को और अधिक गंभीर करने के लिए यहां आ सकते हैं या शुरुआत करने के उद्देश्य से आपना तन-मन शांत करने की कला यहां सिख सकते हें। यह व्यक्ति के स्वास्थ्य और कल्याण पर केंद्रित है। अत्यधिक शांति से घिरी हुई यह जगह न केवल लोगों से खुद को जोड़ने में मदद करती है बल्कि आंतरिक शांति प्राप्त करने में भी मदद करती है। योग और ध्यान दोनों ही भारतीयों और विदेशियों के बीच भारत में लंबे समय से प्रसिद्ध हैं। चूंकि उनमें से अधिकतर घूमने वाले शहरों से दूर स्थित हैं, इसलिए वे एक उत्कृष्ट तनाव मुक्त वातावरण प्रदान करते हैं, खासतौर पर उन लोगों के लिए जो व्यस्त कार्यक्रम में रहते हैं। यहां विभिन्न समूहों की जरूरतों को ध्यान में रखकर कई आवासीय कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। योग केंद्र में ध्यानलिंग योग मंदिर है, जिसमें ऊर्जा का एक सशक्त और अनोखा रूप - ध्यानलिंग प्रतिष्ठित है, यह ध्यानलिंग 250,000 ईंटों के स्तंभहीन गुंबदनुमे ढाँचे के नीचे अपनी पूरी गरीमा में मौजूद है। इसके साथ-साथ इसमें तीर्थकुण्ड - एक पवित्र भूमिगत जल कुण्ड भी स्थित है। इस अनूठे ध्यान केंद्र पर हर हफ्ते हजारों लोग आंतरिक शांति और कल्याण की खोज में आते हैं। यह केंद्र उनके दिमाग और शरीर को आराम और पुनर्जीवित करने में मदद करता हैं, साथ ही साथ सामान्य पर्यटक स्थलों से ताज़ा बदलाव भी प्रदान करता हैं। 


To read this article in English Click here
793
  • SHARE THIS
  • TWEET THIS
  • SHARE THIS
  • COMMENT
  • LOVE THIS 0

Related Links

Comments / Discussion Board - भारत के प्रसिद्ध आध्यात्मिक योग ध्यान केंद्र

Loader