आपकी जीत में ही हमारी जीत है
  • //$(function () { // $(document).on('click', "#scartlink", function (e) { // e.preventDefault(); // //alert('scartlink test'); // $("#showmycartitems").stop().slideToggle("slow"); // if ($('.c-cart a').closest('a').prop('class') == '') { // $(".c-cart a").addClass("active"); // } // else { // $(".c-cart a").removeClass("active"); // } // }); // $(document).on('click', function (e) { // var container = $("div.c-cart"); // $("ul.sub-menu"); // if (!container.is(e.target) && container.has(e.target).length === 0) { // if ($('#showmycartitems').is(':visible')) { // $("#showmycartitems").stop().slideToggle("slow"); // } // // $('#showmycartitems').hide(); // } // }); //});

Editor's Choice:

Share this on Facebook!

भारत के हिल स्टेशन

Indiaonline
Close

Want more stories like this?

Like us on Facebook to get more!
Close

भारत के हिल स्टेशन

भारत के हिल स्टेशन

भारत विभिन्नताओं का देश हैं। यह पूरी तरह से प्रकृति से संपन्न देश हैं। भारत के प्रत्येक कोने में प्रकृति का एक अनमोल उपहार निहित है।  यहां पहाड़, समुद्र, नदी, झरने, वर्षा वनों से लेकर रेगिस्तान और हरियाली संपन्न जंगल भी स्थित है। यही कारण है कि भारत हमेशा से पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता आया है। भारत के पास अपने पर्यटकों को प्रदान करने के लिए वो सब कुछ है जो किसी पर्यटक को चाहिए। उत्तर में कश्मीर से लेकर दक्षिण में मुन्नार तक, पूर्व में शिलोन्ग से लेकर पश्चिम में खंडाला तक की यहां रोमांचित करने वाली पहाड़ियां स्थित है। इस विशाल देश के हर हिस्से में कुछ अनोखा है जो प्रत्येक हिल स्टेशन प्रेमी के दिलों को जीतने का दम रखता है। उत्तर से पूर्व की ओर चल रहे हिमालय, विंध्य और अरावली की सीमाएँ मध्य और पश्चिमी भारत में फैली हुई हैं। यहां की छोटी पर्वत श्रृंखलाएँ जैसे कि नीलगिरी पर्वत दुनिया के कुछ बेहतरीन परिदृश्य पेश करती हैं।

जो लोग विदेशों में हिल स्टेशन की तलाश में जाते है उनके लिए भारत किसी स्वर्ग से कम नहीं है। भारत में कई हिल स्टेशन हैं। हिल स्टेशन को मनोरम पहाड़ी इलाका भी कहा जाता है। भारत में पहाड़ियों की विशालतम, लंबी, सुंदर और अद्भुत श्रृंखलाएं हैं। कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक ऐसे कई पहाड़ हैं जिनका धार्मिक और पर्यटनीय महत्व है। भारत में ही विश्व के सबसे प्राचीन और सबसे नए पर्वत विद्यमान हैं। इन पहाड़ों की प्राचीनता और भव्यता देखते ही बनती भारत में ना केवल एक या दो पर्वत श्रृंख्लाएं हैं बल्कि यहां सात पर्वत श्रृंख्ला एं हैं। यहां पर आप आराम से रह सकते हैं और यहां पर खाने की भी बढिया व्यंवस्था  होती है। प्रकृति दृश्यों से भरपूर यह हिल स्टेशन ना केवल आपको शहरी भाग-दौड़ से शांति का अनुभव कराएगें बल्कि यहां आकर आप स्वच्छ वातावरण का अनुभव भी करेगें। भारत के हिल स्टेशन नव विवाहित जोड़ो के हनीमून  के लिए तो पहली पंसद है ही साथ ही दैनिक काम से और रिटायरमेंट के बाद आराम करने के लिए इन हिल स्टेशनों से बेहतर जगह और कोई नहीं हो सकती है। यह हिल स्टेशन पर्यटन की दृष्टि से पूर्णतः संपन्न है। यहां देखने के लिए कई स्थल मौजूद है यही नहीं ऐडवेंचर के शौकिनों के लिए भी भारत के हिल स्टेशन किसी उपहार से कम नहीं है। यहां की रोमांचित कर देने वाली खाईयां, ऊंचाई और दृश्य किसी को भी अपनी ओर आकर्षित कर लेगें। इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको भारत के कुछ प्रमुख हिल स्टेशनों के बारे में बता रहे हैं जहां ना केवल आपको शांति का अनुभव होगा बल्कि यहां की सुंदरता में आप खो जाएगें।


भारत में शीर्ष हिल स्टेशन

शिमला

भारत के हिल स्टेशन

हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला भारत में सबसे लोकप्रिय हिल स्चटेशन है। आपको इस हिल स्टेशन पर अवश्य जाना चाहिए। अग्रेजों के आराम करने के लिए बनाई गई यग जगह आज सबसे ज्यादा पर्यटनों को लुभाती है। उत्तर भारत के इस खूबसूरत हिल स्टेशन में अपने पैरों के निशान आपको अवश्य छोड़ने चाहिए हैं। देवदार, देवधर और रोडोडेंड्रोन पेड़ों से बड़ रही जंगलों की सुंदरता में खुद को आप जरुर खो देना चाहेगें। इसकी इमारतें और मकबरे वाली सड़कें आपको मंत्रमुग्ध करने के लिए एक पुरानी दुनिया में ले जाएगीं। आप इसके आकर्षण से बच नहीं पाएगें।

शिमला में अवश्य जाएँ
द रिज
जाखू पहाड़ी
राजकीय संग्रहालय
सेंट माइकल कैथेड्रल
चैल
गॉर्टन कैसल
क्राइस्ट चर्च


गुलमर्ग

भारत के हिल स्टेशन

भारत का स्वर्ग कहे जाने वाले जम्मू और कश्मीर में गुलमर्ग भारत के सबसे लोकप्रिय हिल स्टेशनों में से एक है। यह एक महत्वपूर्ण स्कीइंग गंतव्य भी है। 2650 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, इसमें देश के सबसे ऊंचे गोल्फ कोर्स भी हैं। देवदार के पहाड़ी किनारे और बर्फ से ढके पहाड़ गुलमर्ग को भारत के सबसे लोकप्रिय हिल स्टेशनों में से एक बनाते हैं। गुलमर्ग का मतलब होता है फूलों की घाटी। गुलमर्ग फलों से भरी घाटी है जहां आप वसंत और गर्मी के मौसम का मज़ा ले सकते हैं। सर्दी के मौसम में से जगह पूरी बर्फ से ढक जाती है और आप यहां पर स्कीीइंग का मज़ा ले सकते हैं। इसके साथ ही यहां और भी कई तरह के विंटर स्पोजर्ट्स का मज़ा ले सकते हैं। ये जगह गोल्फ् कोर्स और गुलमर्ग बायोस्फे‍यर रिजर्व के लिए जानी जाती है। यहां पर आप डेज़ी, ब्लूुबेरी और वनस्प‍ति और जीवों की कई वैरायटी देख सकते हैं।

गुलमर्ग में करने के लिए चीजें
घुड़सवारी / लंबी पैदल यात्रा
खिलनमर्ग की सवारी केबल कार
गोल्फ़
सर्दियों के महीनों के दौरान स्नो स्कीइंग (दिसम्बर-मार्च)
गोंदोला सवारी
सेंट मैरी चर्च पर जाएं


ऊटी

भारत के हिल स्टेशन

दक्षिण भारत के सबसे प्रसिद्ध हिल स्टेशन के रुप में विख्यात ऊधगमंडलम को मुख्य रुप से ऊटी के नाम से जाना जाता है क्योंकि ऊटी भारत के सबसे सुरम्य हिल स्टेशनों में से एक है। तमिलनाडु में सुंदरता का यह टुकड़ा 1800 तक खोजा नहीं गया था, जब तक कि अंग्रेजों ने इसे अपनी ग्रीष्मकालीन छुट्टी का स्थान नहीं बनाया था। यदि आप कंपकंपाती हुई ठंड का आनंद लेना चाहते हैं तो ऊटी अवश्य आएं यहां का तापमान 0o C तक गिर जाता है। यह भारत की सबसे अच्छी जगहों में से एक है। आपको यहां यूनेस्को की विश्व विरासत ट्रेन की सवारी का आनंद भी अवश्य उठाना चाहिए।

ऊटी में अवश्य जाना चाहिए
डोडाबेट्टा चोटी
जनजातीय अनुसंधान केंद्र संग्रहालय
थ्रेड गार्डन
सेंट स्टीफन चर्च
टॉय ट्रेन में सवारी


मुन्नार

भारत के हिल स्टेशन

एक रमणीय पर्यटन स्थल के रुप में जाना जाने वाला मुन्नार केरल में स्थित एक सुदंर हिल स्टेशन है। केरल को भगवान का घर भी कहा जाता है। यह एक अद्भुत हिल स्टेशन है। अपने विदेशी वनस्पतियों और जीवों के साथ, यह एक ऐसी जगह है जो हर साल आपको आकर्षित करेगी। चाय बागान, विदेशी छुट्टी रिसॉर्ट्स और घुमावदार गलियां हर साल हजारों पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए पर्याप्त हैं। आप यहां आकर यहां की सुंदरता में खो जाएगें।

मुन्नार में घूमने की जगहें
एराविकुलम राष्ट्रीय उद्यान
अनमुदी पीक
मट्टुपेट्टी डैम
चाय संग्रहालय
इको पॉइंट


दार्जिलिंग

भारत के हिल स्टेशन

पश्चिम बंगाल का सबसे महत्वपूर्ण और आकर्षण हिल स्टेशन दार्जलिंग है। अपनी भीनी-भीनी चाय की महक और चाय बगाने से भरपूर दार्जलिंग किसी को भी अपना दिवाना बना देने का दम रखता है। भारत के इस हिल स्टेशन का दौरा आपको अवश्य करना चाहिए। दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे, यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल है। दार्जिलिंग की अपनी यात्रा के दौरान एक तरफ तीस्ता नदी और दूसरी तरफ हिमालय की ऊंची पहाड़ियों का आनंद लेना एक अनुपम अनुभव होगा।

दार्जिलिंग में रहने के लिए जगह
टाइगर हिल
जापानी शांति पैगोडा
समन चोलिंग गोम्पा
यिगा चोलिंग गोम्पा


गंगटोक

भारत के हिल स्टेशन

5500 फीट की ऊंचाई पर स्थित, सिक्किम की राजधानी गंगटोक एक स्पष्ट हिल स्टेशन है, जिसमें स्पष्ट आसमान में कंचनजंगा का एक आदर्श दृश्य दिखलाई पड़ता है। भारत की सबसे ऊंची चोटी के रुप में विख्यात कंचनजंगा का दृश्य आपको मंत्रमुग्ध कर देगा। यह पहाड़ी स्टेशन आपको स्वच्छ जलवायु और सुंदर दृश्यों का आनंद प्रदान करता है।

गंगटोक में करना चाहिए
रोपवे केबल कार की सवारी
रिवर राफ़्टिंग
एक याक पर सवारी करें
नामग्याल इंस्टीट्यूट ऑफ तिब्बतोलॉजी पर जाएं


तवांग

भारत के हिल स्टेशन

समुद्र तल से 3048 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, तवांग अरुणाचल प्रदेश के उत्तर में स्थित है। गुदपी और चोंग-चुगमी पर्वतमाला, तवांग चू नदी और तवांग घाटी की एकांत और प्राकृतिक सुंदरता बहुत ही मंत्रमुग्ध कर देने वाली है। जिसे  देख कोई भी इसकी सुंदरता में खो जाना पंसद करेगा। यह हिल स्टेशन पर्यटकों में बहुत लोकप्रिय है।


तवांग में अवश्य जाएँ
तवांग मठ की यात्रा करें
बाप टेंग कांग
तवांग युद्ध स्मारक
गोरीचेन पीक
सेला दर्रा


कूर्ग

भारत के हिल स्टेशन

दक्षिण भारत में भी हिल स्टेशनों की कमी नहीं है। कर्नाटक के पश्चिमी घाटों में स्थित, कूर्ग एक सुंदर झरने का दृश्य प्रस्तुत करता है, जिसमें सदाबहार वन हैं। इस सुरम्य हिल स्टेशन में एक अच्छा समय हो सकता है। कॉफी के बेहतरीन कप और कुछ स्वादिष्ट कूर्ग व्यंजनों का आनंद ले सकते हैं। यहां पर कॉफी बगानों की सुंदरता और उनकी महक आपको अपना बना लेंगी।

कूर्ग में करने के लिए चीजें
कोट्टेबेटा, थंडीयाडमोल और ब्रह्मगिरी में ट्रेकिंग
कॉफी बागानों के अंदर क्वाड बाइकिंग
कूर्ग में बर्ड वाचिंग
वाल्नूर में कावेरी नदी के बैकवाटर्स में एंग्लिंग


कोडईकनाल

भारत के हिल स्टेशन

हिल स्टेशनों की राजकुमारी के रूप में विख्यात कोडईकनाल एक सुंदर हिल स्टेशन है। 1845 में कोडाइकनाल की खोज की गई थी। जल-निकाय, प्राचीन गुफाएं और करामाती झरने के साथ यह पूरी तरह से पर्यटकों के लिए है। पर्यटक को कोडाइकनाल में घूमना और इसकी सुंदरता देखने का आनंद कभी नहीं छोड़ना चाहेगें।

कोडइकनाल में अवश्य जाएँ
थलियार जलप्रपात
कूकर का चलना
शेनबागानुर संग्रहालय
सिल्वर कैस्केड फॉल्स


कुल्लू और मनाली

भारत के हिल स्टेशन

कुल्लू और मनाली हिमाचल प्रदेश के महत्वपूर्ण हिल स्टेशन हैं। ब्यास नदी के तट पर स्थित, कुल्लू और मनाली को प्रकृति का आशीर्वाद प्राप्त है। कुल्लू घाटी को अक्सर देवताओं की घाटी या ऐपल की ईडन कहा जाता है क्योंकि यह धौलाधार और पीर पंजाल पर्वतमाला से घिरा हुआ है। हिल स्टेशन भगवान रघुनाथजी का घर भी है, जो इस क्षेत्र के प्रमुख देवता हैं। कुल्लू और मनाली का एक अन्य महत्वपूर्ण आकर्षण विभिन्न साहसिक खेल हैं।

कुल्लू और मनाली में अवश्य करें
पैराग्लाइडिंग
ट्रेकिंग
स्कीइंग
डेरा डालना
जीप सफारी


उत्तर भारत में हिल स्टेशन

जम्मू और कश्मीर

भारत के हिल स्टेशन

कश्मीर - भारत के उत्तरी भाग में स्थित, कश्मीर की घाटियाँ पश्चिम में पाकिस्तान और पूर्व में चीन से घिरी हुई हैं। अक्सर भारत के 'स्विटज़रलैंड' के रूप में जाना जाने वाला कश्मीर भारत का स्वर्ग भी माना जाता है। यह हिल स्टेशन समुद्र तल से 1,850 मीटर की औसत ऊंचाई पर स्थित है।

क्या मिस नहीं करना है?

सोनमर्ग - पैराग्लाइडिंग, ट्रेकिंग और अन्य साहसिक खेलों के लिए एक अच्छी जगह है, यह कश्मीर घाटी में आखिरी प्रमुख बिंदु है ज़ोजी पास था जब तक यह लदाख के साथ अलग नहीं हुआ था।
शालीमार गार्डन - सम्राट शाहजहाँ ने अपनी पत्नी नूरजहाँ के लिए इस खूबसूरत बगीचे का निर्माण करवाया था।

हरवन - चिनार के पेड़ों, फूलों की क्यारियों और बगीचे के ठीक बीचों बीच बहती एक खूबसूरत नहर के साथ एक सुंदर बगीचा किसी को भी  आकर्षित कर सकता है।

डल झील - इस पहाड़ी शहर की सबसे प्रसिद्ध झील, जिसे भारत में सबसे अधिक हाउस बोट के रूप में जाना जाता है।

मुगल गार्डन - इस हिल स्टेशन में एक और उद्यान है। यह अंतर है टैरेस गार्डन और खूबसूरत फव्वारे के बीच।

हजरतबल मस्जिद - यह आकर्षक सफेद मस्जिद डल झील के किनारे पर स्थित है, जो भीड़ और प्रदूषण से दूर है।

बहू किला - शायद कश्मीर में मौजूद सबसे पुरानी इमारत है, जो पूरी तरह से चट्टानों पर बनी है और तवी नदी का सामना करती है

कैसे पहुंचा जाये?

हवाई मार्ग से - श्रीनगर हवाई अड्डा शहर के केंद्र से लगभग 14 किमी दूर है। भारत के सभी प्रमुख शहरों से श्रीनगर के लिए दैनिक उड़ानें उपलब्ध है।

सड़क मार्ग से - शहर दिल्ली जैसे पड़ोसी शहरों जैसे - 850 किमी, अमृतसर - 457 किमी, अंबाला - 622 किमी, चंडीगढ़ - 592 किमी, लुधियाना -528 किमी से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

रेल द्वारा - जम्मू तवी निकटतम रेलवे प्रमुख है और लगभग 305 किमी की दूरी पर है।


लद्दाख

भारत के हिल स्टेशन

 'हाई पास की भूमि' तिब्बती में लद्दाख का शाब्दिक अनुवाद है। यह समुद्र तल से 3,000 मीटर से अधिक की ऊँचाई पर स्थित है। यह एक ऐसा स्टेशन है जहाँ भूरे बंजर और चट्टानी पहाड़ हैं। सुन्दर झीलें और मठ, मन को सम्मोहित कर देने वाले परिदृश्य और पहाड़ की चोटियाँ यहाँ की आकर्षक विशेषताएँ हैं। मुख्य शहर ‘लेह’ के अलावा, इस क्षेत्र के समीप कुछ प्रमुख पर्यटन-स्थल जैसे, अलची, नुब्रा घाटी, हेमिस लमयोरू, जांस्कर घाटी, कारगिल, अहम पैंगांग त्सो, और त्सो कार और त्सो मोरीरी आदि स्थित हैं ।


क्या मिस नहीं करना है?

लेह - लद्दाक का सबसे बड़ा शहर कभी लद्दाख साम्राज्य की राजधानी था। यह ट्रेकिंग के लिए एक अच्छी जगह है और बैकपैकर्स का स्वर्ग है।

पैंगोंग झील – यह एक अविश्वसनीय ऊँचाई वाली नीली झील है।

लामायुरु मठ - अधिकांश श्रद्धेय बौद्ध मठ

हंटर सैंड टिब्बा - नुब्रा घाटी में स्थित है। हरी घाटी में रहस्य रेत के टीले मुख्य आकर्षण हैं।

खारतुंगला दर्रा - समुद्र तल से 5,360 मीटर की ऊँचाई पर स्थित, दुनिया में सबसे ऊँचे मोटरेबल पास में से एक है।

ज़ांस्कर - यहाँ जमी हुई नदी ट्रेक काफी लोकप्रिय है।

कैसे पहुंचा जाये

वायु द्वारा - दिल्ली और जम्मू से लेह के लिए उड़ानें उपलब्ध हैं

सड़क मार्ग से - अच्छी तरह से श्रीनगर से जुड़ा हुआ है - 434 किमी, दिल्ली - 1,047 किलोमीटर, मनाली - 473 किमी

रेल द्वारा - जम्मू तवी सबसे नजदीक रेलवे स्टेशन है।


हिमाचल प्रदेश में हिल स्टेशन


हिमाचल पश्चिमी हिमालय में स्थित है। यह राज्य अपनी प्रचुर प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। यह ठंडा हिल स्टेशन पर्यटकों के लिए एक आदर्श स्थान है। इसकी सीमा उत्तर में जम्मू और कश्मीर, पश्चिम में पंजाब और दक्षिण-पश्चिम में और पूर्व में तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र से लगती है।

हिमाचल के कुछ हिल स्टेशनों पर जाना चाहिए:

भारत के हिल स्टेशन

धर्मशाला - कांगड़ा घाटी की ऊपरी पहुँच में स्थित यह खूबसूरत शहर घने जंगलों से घिरा हुआ है। तिब्बती प्रवासियों द्वारा यहां बसने वाले कई मठ यहां स्थापित किए गए हैं। कई ट्रेकिंग ट्रेल्स का प्रारंभिक बिंदु धर्मशाला है। मैक्लॉडगंज गंज धर्मशाला का एक उपनगर है जिसे छोटा ल्हासा भी कहा जाता है, यह एक बहुत ही लोकप्रिय पर्यटन स्थल है।
 
शिमला
- शिमला पर्यटकों को ट्रेकिंग और स्कीइंग से लेकर शिमला स्टेट म्यूजियम, समर हिल, क्राइस्ट चर्च और कुछ अन्य स्थानों पर जाने के लिए कई विकल्प देता है। यह पर्यटकों के बीच बहुत लोकप्रिय है।

कुल्लू - ब्यास नदी के तट पर स्थित, कुल्लू एक ऐसी जगह है जो उन पर्यटकों को आसानी से संतुष्ट कर सकती है जो एक आध्यात्मिक विराम की तलाश में हैं। इस क्षेत्र में स्थित मंदिरों की संख्या के लिए इसे धन्यवाद देना चाहिए। यहां बहुत मंदिर स्थित है। रघुनाथ मंदिर, महा देवी तीर्थ मंदिर, बिजली महादेव मंदिर यहाँ स्थित कुछ मंदिर हैं। मंदिरों के अलावा आपके पास रायसन में ब्यास नदी के किनारे एक सुंदर शिविर स्थल है। कसोल ट्राउट के लिए एक अच्छा स्थान है।

मनाली - यह एक छोटा शहर है जिसका नाम ऋषि मनु से मिलता है। इस शहर को "देवताओं की घाटी" के रूप में जाना जाता है। ऋषि मनु को समर्पित एक प्राचीन मंदिर यहां अवश्य जाना चाहिए। यह स्थल पर्यटकों से हमेशा घिरा रहता है।

कैसे पहुंचा जाये?

वायु मार्ग द्वारा -स्टेट द्वारा शिमला, कुल्लू और कांगड़ा जिले में तीन घरेलू हवाई अड्डे हैं, जो धर्मशाला से 15 किलोमीटर दूर है।

सड़क से- राज्य में 28,208 किलोमीटर का सड़क कनेक्शन है। सभी स्थान विशेषकर चंडीगढ़ से सड़कों द्वारा आसानी से पहुँचा जा सकता है।

रेल द्वारा - हिमाचल अपने नैरो गेज ट्रैक रेलवे के लिए जाना जाता है। कालका-शिमला रेलवे यूनेस्को की विश्व धरोहर है। निकटतम ब्रॉड गेज रेलवे चंडीगढ़ में है जो 235 किलोमीटर दूर है।

हिमाचल प्रदेश के अन्य हिल स्टेशनों में शामिल हैं: कसौली, सोलन,डलहौजी


पूर्व और उत्तर-पूर्व भारत में हिल स्टेशन

अरुणाचल प्रदेश में हिल स्टेशन

भारत के हिल स्टेशन

अरुणाचल प्रदेश पूर्वोत्तर भारत में स्थित है। यह दक्षिण में असम और नागालैंड राज्य की सीमाओं और भूटान, चीन और म्यांमार के साथ अंतर्राष्ट्रीय सीमाएँ साझा करता है। राज्य वन्यजीवों से समृद्ध है और इसमें वन्यजीव अभयारण्यों की संख्या अधिक है।

अरुणाचल प्रदेश में कभी ना भूलने वाले कुछ महत्वपूर्ण हिल स्टेशन है

तवांग- तवांग ऐतिहासिक रूप से तिब्बत का एक हिस्सा था। तवांग की यात्रा के लिए विशेष सरकारी अनुमति की आवश्यकता होती है। तवांग में अवश्य जाने वाली जगह तवांग मठ है।

कैसे पहुंचा जाये?


हवाई मार्ग से- अरुणाचल में कोई कार्यात्मक हवाई अड्डा नहीं है। असम में तेजपुर का निकटतम हवाई अड्डा है।

सड़क मार्ग से- अरुणाचल में दो प्रमुख राजमार्ग हैं जो इसे असम से आसानी से पहुँचा जा सकता है। असम से एक दैनिक बस सेवा है।

रेल द्वारा
- असम से रेल सेवा है। लेकिन यह सामान्य रुप से सुचारु नहीं है।


असम में हिल स्टेशन

भारत के हिल स्टेशन

असम पूर्वी हिमालय के दक्षिण में स्थित है और इसमें ब्रह्मपुत्र घाटी और बराक नदी घाटियाँ शामिल हैं। अपनी चाय और रेशम के लिए जाना जाने वाला यह राज्य अपने वन्य जीवन के लिए भी जाना जाता है। यहां कई हिल स्टेशन है जो पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करने का दम रखते हैं।

हाफलोंग

यह असम का एकमात्र हिल स्टेशन है। हाफलोंग पहाड़ी अपनी ट्रैकिंग और लंबी पैदल यात्रा के लिए लोकप्रिय है। हाफलोंग झील, हिमालय का एक सुंदर दृश्य प्रस्तुत करती है और नौका विहार में संलग्न होने का अवसर प्रदान करती है।

वहाँ कैसे पहुंचें?

वायु मार्ग द्वारा- गुवाहाटी के पास निकटतम कार्यशील हवाई अड्डा है।

रेल द्वारा- रेलवे एक बहुत अच्छा विकल्प है क्योंकि लुमडिंग से इस गंतव्य के लिए रेल मार्ग सक्रिय है।

सड़क मार्ग- सड़क मार्ग द्वारा भी यहां आसानी से पहुँचा जा सकता है। गुवाहाटी सिर्फ 310 किलोमीटर दूर है।


मेघालय में हिल स्टेशन

भारत के हिल स्टेशन

मेघालय पूर्वोत्तर भारत में स्थित एक सुंदर राज्य है। यह राज्य पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ बांग्लादेश और उत्तर और पूर्व में भारत के असम राज्य द्वारा दक्षिण और पश्चिम में घिरा हुआ है। राजधानी शिलांग को "पूर्व के स्कॉटलैंड" के रूप में जाना जाता है।

शिलांग
यह खूबसूरत शहर आपको कई प्रकार के विकल्प प्रदान करता है। चिड़ियाघर से झीलों से लेकर संग्रहालयों तक। हाथी झरनों से लेकर शिलांग पीक, लेडी हाइडारी पार्क तक ऐसे कुछ पर्यटन स्थल हैं, जिन्हें यहाँ देखना कोई नहीं छोड़ना चाहेगा।

चेरापूंजी
चेरापूंजी, ग्रह पृथ्वी पर सबसे ऊँची भूमि है। यह अपने जीवित पुलों के लिए प्रसिद्ध है और यहाँ के हर पर्यटक को खासी संस्कृति सीखने के लिए कुछ समय निकालना चाहिए। यह जगह सबसे अधिक वर्षा होने के लिए भी जानी जाती है।

शिलांग कैसे पहुँचे?


हवाई मार्ग से- शिलांग में एक हवाई अड्डा है जो आपको असम तक ले जा सकता है जहाँ से आप अपनी कनेक्टिंग फ्लाइट पकड़ सकते हैं।

सड़क मार्ग द्वारा- मेघालय में लगभग 7,633 किलोमीटर का सड़क नेटवर्क है, जिसमें से 3,691 किलोमीटर काली चोटी और शेष 3942 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। मेघालय असम में सिलचर से भी जुड़ा है, मिजोरम में आइजोल और त्रिपुरा में अगरतला से राष्ट्रीय राजमार्गों के माध्यम से जुड़ा हुआ है।

रेल द्वारा- मेघालय में मेंदीपाथर में एक रेल-हेड है और मेघालय और असम में दुधोई को जोड़ने वाली नियमित ट्रेन सेवा, 1 अप्रैल 2014 से शुरू हुई है।


पश्चिम बंगाल में हिल स्टेशन

भारत के हिल स्टेशन

यह राज्य भारत के पूर्वी हिस्से में स्थित है। और यहां कई खूबसूरत हिल स्टेशन हैं जैसे कि दार्जिलिंग, कलिम्पोंग, मिरिक आदि। हिल स्टेशनों में दार्जिलिंग सबसे बड़ा आकर्षण है। यहां कई स्थल देखने लायक है।

दार्जिलिंग
यह खूबसूरत शहर, दार्जिलिंग अपने चाय सम्पदा के लिए जाना जाता है। प्राकृतिक सुंदरता और सम्पदा के अलावा प्रमुख आकर्षण एडवेंचर प्रेमियों और टॉय ट्रेन के लिए दार्जिलिंग रोपवे हैं। दार्जिलिंग कार्निवल भी एक अच्छा आकर्षण है।

वहाँ कैसे पहुंचें?


हवाई मार्ग से - बागडोगरा हवाई अड्डा, दार्जिलिंग से 90 किलोमीटर दूर स्थित है।

सड़क मार्ग द्वारा - दार्जिलिंग राष्ट्रीय राजमार्ग 55 से सिलीगुड़ी होते हुए सड़क मार्ग से पहुँचा जा सकता है, जो 77 किमी दूर है।

रेल द्वारा - दार्जिलिंग न्यू जलपाईगुड़ी से 88 किमी लंबी दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे द्वारा पहुँचा जा सकता है।

पश्चिम बंगाल के अन्य हिल स्टेशन हैं: मिरिक, कलिम्पोंग।


पश्चिमी भारत में हिल स्टेशन

महाराष्ट्र में हिल स्टेशन

भारत के हिल स्टेशन

महाराष्ट्र भारत के पश्चिमी क्षेत्र का एक राज्य है। महाराष्ट्र को पाँच भौगोलिक क्षेत्रों में विभाजित किया गया है। पश्चिमी घाटों और समुद्र के बीच कोंकण पश्चिमी तटीय क्षेत्र है। इस राज्य में लगभग 15 हिल स्टेशन हैं, हालांकि सभी लोकप्रिय नहीं हो सकते हैं। लेकिन कुछ हिल स्टेशन यहां बहुत अधिक लोकप्रिय है। जिन्हें अवश्य देखना चाहिए।

खंडाला
टाइगर की लीप निश्चित रूप से एक बहुत ही आकर्षक दृश्य है जैसा कि नाम से पता चलता है यदि आप इस बिंदु से खंडाला का बारीकी से निरीक्षण करते हैं, तो ऐसा प्रतीत होगा जैसे एक बाघ घाटी में छलांग लगा रहा है। भुला झील के साथ कार्ला और भजा गुफा यहां की एक दिलचस्प जगह है।

महाबलेश्वर
वेन्ना झील, हाथी बिंदु महाबलेश्वर में कुछ आकर्षण हैं जो इसे महाराष्ट्र का एक महत्वपूर्ण हिल स्टेशन बनाते हैं।

माथेरान
झील शेर्लोट, लुईसा बिंदु वे स्थान हैं जिसके लिए कोई भी माथेरान में जा सकता है।

कैसे पहुंचा जाये


हवाई मार्ग से - पुणे और मुंबई के निकटतम हवाई अड्डे हैं और ये सभी स्थान वहां से सड़क मार्ग द्वारा आसानी से सुलभ हैं।

रेल द्वारा - रेलवे सक्रिय है और पुणे और मुंबई से लगातार ट्रेनें हैं।

सड़क मार्ग से- मुंबई से पुणे के लिए एक्सप्रेस हाईवे आपको अधिकांश हिल स्टेशन गंतव्यों तक पहुंचने में मदद करता है और अन्य हिल स्टेशन सड़कों के माध्यम से भी सुलभ हैं।


दक्षिण भारत में हिल स्टेशन

भारत के हिल स्टेशन

दक्षिण भारत - मंदिर क्षेत्रों का पर्यायवाची, ऐतिहासिक महत्व के स्थान, पुरातात्विक स्थल, बैकवाटर और चटनी के साथ गर्मा गर्म इडली, डोसा के लिए प्रसिद्ध है। लेकिन यही नहीं इसे, अक्सर गर्म समशीतोष्ण जलवायु के साथ वाली जगह के रूप में जाना जाता है। वहीं दक्षिण भारत में कई ऐसे स्थल भी है जो अपने गर्म प्रदेशों के विपरित ठंडे स्थल भी प्रदान करता है। हरे भरे पहाड़ों की यहां खोज की जा रही है और आपको इसकी भव्य घाटियों और शांत पानी से घिरा दक्षिण भारत आपको एक अनुपम दृश्य की ओर अग्रसर करता है।

डेक्कन पठार में घूमने वाले को लुभाने के लिए अपने आकर्षण के साथ हिल स्टेशनों का एक विस्तृत मिश्रण है। यहां उन स्थलों की सूची दी गई है, जो गर्म ग्रीष्मकाल के दौरान भी एक शांत और शीतल रहते हैं। यहां दक्षिण में पहाड़ी समुद्रों की एक सूची दी गई है जो राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दोनों यात्रियों के बीच पसंदीदा स्थल प्रदान करती है।


तमिलनाडु में हिल स्टेशन

ऊटी

भारत के हिल स्टेशन

सूची में सबसे पहले निश्चित रूप से ऊटी होना चाहिए। दक्षिण भारत में सबसे लोकप्रिय और प्रचलित हिल स्टेशनों में से एक, ऊटी झीलों, झरनों, घाटियों, दृश्यों और कई चाय सम्पदाओं का एक आदर्श संयोजन है, जो इस गंतव्य पर अपने चढ़ाई शुरू करते ही आपको शुभकामनाएं देता है। मद्रास प्रेसीडेंसी की एक बार की ग्रीष्मकालीन राजधानी, वोडायर्स के एक ग्रीष्मकालीन महल के पास है, जो अब एक पहाड़ी पर स्थित एक होटल है, जो एक गर्म कप चाय की चुस्की लेने और अपनी पसंदीदा पुस्तक की एक प्रति पड़ने के लिए एक विंहगम दृश्य प्रदान करता है। ऊटी तमिलनाडु राज्य में स्थित है और बैंगलोर और कोयम्बटूर से समान रूप से सड़क मार्ग से आसानी से पहुंचने योग्य है। नीलगिरि माउंटेन रेलवे, जो अब यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल है, अपने मार्ग के लिए हर साल हजारों पर्यटकों को आकर्षित करती है, जो कि पहाड़ की झुकियों, पुलों और घाटियों के बीच सुरम्य नीले पहाड़ों के बीच बिछाया गया है। ऊटी में, अपने दांतों को पापी होममेड चॉकलेट्स में डुबोने से नहीं चूकना चाहिए। स्थानीय रूप से बेक्ड कॉफी और ब्रेड से स्थानीय बेकर्स आपका दिल चुरा लेगें।  इस तरह के विस्तृत सरणी वाले एक हिल स्टेशन को याद ना करना बहुत मुश्किल है।


कोडईकनाल

भारत के हिल स्टेशन

ऊपरी पलानी हिल्स के शिखर में स्थित, यह कोडईकनाल तमिलनाडु में मदुरै के करीब स्थित है। कोडईकनाल अज्ञात वर्षों से सबसे अधिक मांग वाले स्थलों में से एक रहा है और दुनिया भर के पर्यटकों को आकर्षित करता है। यह विभिन्न फिल्मों की एक सुंदर पृष्ठभूमि रही है। कोडईकनाल मदुरई, कोयम्बटूर, त्रिची और चेन्नई से सड़क द्वारा आसानी से पहुंच योग्य है। 2,133 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह हिल स्टेशन जंगल, शांत झीलों, नीलगिरी के बागानों और आरामदायक हवा का एक सुंदर संयोजन है। किसी को भी नए मशरूम वाले स्पा और मसाज सेंटर का आनंद लेने के लिए यहां अवश्य आना चाहिए जो आपकी नसों को शांत करने और तनाव मुक्त करने का वादा करते हैं। एडवेंचर के दीवाने के लिए एक अच्छी जगह है, क्योंकि इसमें विभिन्न खेल जैसे कि माउंटेन बाइकिंग, रोइंग और ट्रेकिंग शामिल हैं।


कन्नूर

भारत के हिल स्टेशन

ऊटी के बहुत करीब स्थित एक हिल स्टेशन और अक्सर ऊटी के विस्तार के रूप में जाना जाने वाला कन्नूर है। यह शहर समुद्र तल से 1,850 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। कई ट्रेकिंग अभियान अक्सर वहां आयोजित किए जाते हैं। यह स्थान चाय के बागानों से घिरा हुआ है और चाय बागानों के बीच कई सूर्योदय / सूर्यास्त बिंदु स्थित हैं। यहां उत्पादित चाय का निर्यात किया जाता है और अंतरराष्ट्रीय आबादी द्वारा स्वाद लिया जाता है। आप यहां जब जाएं तो यहाँ पर गर्म चाय की चुस्की लेना न भूलें, जो आपकी स्वाद की कलियों को चट कर जाती हैं।


कर्नाटक में हिल स्टेशन

कूर्ग

भारत के हिल स्टेशन

कावेरी नदी का जन्म स्थान, दक्षिण की सबसे डरावनी नदियों में से एक कूर्ग है। कूर्ग को स्थानीय रूप से कोडगु के नाम से भी जाना जाता है जो दक्षिण पश्चिमी कर्नाटक के पश्चिमी घाट में स्थित है। रणनीतिक रूप से स्थित यह हिल स्टेशन कर्नाटक के मैसूर, हासन, बैंगलोर और केरल के कासरगोड, कन्नूर और वायनाड से आसानी से मोटर सक्षम है। अक्सर ब्रिटिश द्वारा भारतीय स्कॉटलैंड के रूप में जाना जाता है, कूर्ग शानदार भोजन, जीवंत संस्कृति, काफी बगानों, सुखद मौसम और वनस्पतियों की हरियाली का एक मिश्रण है। कर्नाटक और केरल के निवासियों के लिए एक आदर्श सप्ताहांत शांति के लिए, यह जगह आपको निराश नहीं करेगी। वन्यजीव फोटोग्राफर के लिए यह जगह किसी स्वर्ग से कम नहीं है। आपके लिए निश्चित रूप से कुछ अच्छे साहसिक और अन्वेषण के लिए यहां रोमांचकारी खेल उपलब्ध है जिनका आप आनंद ले सकते हैं।


कुद्रेमुख

भारत के हिल स्टेशन

चिकमंगलूरु जिले से लगभग 95 किलोमीटर की दूरी पर स्थित इस स्थान का नाम घोड़े के आकार की चोटी के नाम पर रखा गया है। यह अरब सागर के किनारे स्थित है और इसकी पहाड़ियाँ एक दूसरे से लगातार जुड़ी हुई हैं। यह वनस्पतियों और जीवों की एक विस्तृत विविधता समेटे हुए है और एक ट्रेकर का स्वर्ग स्थल है। यह समुद्र तल से 1,894 मीटर की ऊंचाई पर है। कुद्रेमुख का हिल स्टेशन ट्रेकिंग के लिए जाना जाता है और पहाड़ियों के विशाल विस्तार के अलावा इसके मुख्य आकर्षण और कुछ हैं। इस चोटी पर एक काफी शिविर की योजना बनाएं। एक अलाव निश्चित रूप से आपको मज़ा करने के लिए अलग अनुभव प्रदान करेगा। बहुत सारे ट्रैवल एजेंट इस हिल स्टेशन पर शिविर और ट्रेक की व्यवस्था करते हैं।


केरल में हिल स्टेशन

मुन्नार

भारत के हिल स्टेशन

पहाड़ों के घुमावदार इलाकों से घिरा हुआ मुन्नार हिल स्टेरशन पश्चिमी घाट पर स्थित है। भगवान का घर कहे जाने वाले केरल में स्थित मुन्नाटर के नाम नाम का अर्थ तीन नदियों के नाम पर है। जो मधुरपुजहा, नल्लाेथन्नीट और कुंडाली नदियों के अजीब मिलन स्थाल वाले क्षेत्र को प्रदर्शित करता है। काफी बगानों के लिए मशहूर मुन्नार हनीमून के लिए भी सर्वोत्तम स्थल है। मुन्नार एक सौंदर्य है जो शहर के जीवन की हलचल से अछूता है। यह पहाड़ी शहर अपनी खूबसूरत झीलों, चाय के बागानों के विशाल विस्तार, झरने, बांध, दृष्टिकोण और त्रुटिहीन देश के लिए जाना जाता है। वन्यजीव प्रेमियों के लिए अच्छी खबर यह है कि, यह हिल स्टेशन कई जीवों और अभयारण्यों से घिरा हुआ है। मुन्नार उत्तर में अनामुड़ी राष्ट्रीय उद्यान, दक्षिण में पम्पादुम शोला राष्ट्रीय उद्यान, पूर्व में कुरुन्जिमाला अभयारण्य और उत्तर पूर्व में चिनार वन्यजीव अभयारण्य से घिरा हुआ है। मुन्नार कोचीन, अलुवा, आदि शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। शहर कई लुप्तप्राय प्रजातियों जैसे नीलगिरि थार, लंगूर, सांभर, आदि के लिए घर है। घाटियाँ नीलकुरंजी फूलों से लदी हुई हैं जो केवल 12 वर्षों में एक बार खिलते हैं।


वायनाड

भारत के हिल स्टेशन

केरल के उत्तर - पूर्वी हिस्से में स्थित वायनाड एक खूबसूरत हिल स्टेशन है जो अभी भी बहुत सारे पर्यटकों के लिए अस्पष्ट और अज्ञात बना हुआ है। इसलिए, यह जगह एक सुंदरता है जो अपने प्राचीन और शांतिपूर्ण आकर्षण को बरकरार रखती है। काबिनी नदी इस जगह की जीवन रेखा है और यह जिले बहुत सारी चोटियों की मेजबानी करता है जो अपने उच्च ऊंचाई के कारण हर समय धुंध को चूमती रहती हैं।



आंध्र प्रदेश में हिल स्टेशन

अनंतगिरी हिल्स

भारत के हिल स्टेशन

यह एलीसियन ट्रिमुला हिल्स में विशाखापत्तनम से लगभग 112 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह आंध्र प्रदेश में एक आकर्षक पहाड़ी स्थल है। यह ग्रीष्मकाल के दौरान एक आदर्श पलायन स्थल है। यह एक हिल स्टेशन है जिसमें एक अंतर है, यह आम के पेड़ों और बागों से घिरा है जो नियमित चाय और कॉफी के बागानों के विपरीत है। भवानीसी झील को अक्सर दक्षिण के बद्रीनाथ के रूप में माना जाता है। यह एक ट्रेकर्स स्वर्ग है, इस जगह के लिए एक और आकर्षण यह है कि, यह कई तीर्थस्थलों से घिरा हुआ है।


अरकु घाटी

भारत के हिल स्टेशन

यदि आपको लगता है कि विशाखापत्तनम / विजाग आपकी भूगोल की पाठ्यपुस्तकों में बंदरगाहों के साथ सिर्फ एक जगह थी, तो इसका समय आपके क्षितिज को व्यापक बनाता है। आंध्र प्रदेश में एक शानदार जगह अराकू घाटी है, जो पूर्वी घाट में स्थित है और कम से कम प्रदूषित, अछूती सुंदरियों में से एक है और इसका व्यवसायीकरण उतना नहीं है जितना दक्षिण के बाकी हिल स्टेशनों से होता है। अराकू सड़क के माध्यम से स्वीकार्य है और विजाग से 114 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और उड़ीसा सीमा के करीब है। घाटी गैलीकोंडा, रक्ताकोंडा, चिंतामोगोंडी, आदि जैसे पहाड़ों के मन-उड़ाने वाले विचारों से घिरी हुई है, अराकू घाटी अपने कॉफी बागानों, असंख्य घाटियों के लिए बहुत प्रसिद्ध है और थकी हुई आँखों का इलाज कर उन्हें तरोताजा करती है।


हनीमून के लिए भारत में सर्वश्रेष्ठ हिल स्टेशन

हनीमून एक जोड़े के जीवन में होने वाली सबसे प्यारी चीज़ों में से एक है - जो यादें सही मायने में जीवन भर बनी रहती हैं। हनीमून वो समय होता है जब आप अपने साथी के साथ लंबे समय तक साथ चलते हैं, हाथ पकड़ते, संय की परवाह किए बिना शांति का अनुभव करते हैं। चुपचाप एक आकर्षक झरने के पास बैठते हैं या हंसते हुए प्रतीत होते हैं कि निरर्थक चीजें जीवन से पोषित होती हैं। आपके हनीमून के लिए एक अच्छा गंतव्य इसलिए बहुत महत्वपूर्ण है ताकि आपको एक सुंदर यादें मिल सकें। भारत में आपके हनीमून को यादगार बनाने के लिए कई हिल स्टेशन हैं जहां आप अपनी नई जिंदगी शुरू करना पसंद करगें ऑ भारत में अपने साथी के साथ एख सुंदर समय बिताने के लए कई  बेहतरीन हिल स्टेशन हैं।

ऊटी

भारत के हिल स्टेशन

माँ प्रकृति की गोद के बीच किसी के जीवन को नये सिरे से शुरू करने के लिए सबसे अच्छी जगहों में से एक है।


मुन्नार

भारत के हिल स्टेशन

मुन्नार में केरल में अन्नामलाई हिल्स के बीच में अपने रिश्ते को मजबूत बनाएं।


कसौली

भारत के हिल स्टेशन

हिमाचल प्रदेश का एक विचित्र हिल स्टेशन जहाँ आप अपने प्रियजन के साथ लंबे समय तक एकांतवास बिता सकते हैं।


माउंट आबू

भारत के हिल स्टेशन

रेगिस्तान में एक नखलिस्तान, राजस्थान में माउंट आबू आपके हनीमून के लिए भारत की सबसे अच्छी जगहों में से एक है।

शिलांग

भारत के हिल स्टेशन

'बादलों के निवास' में अपने प्रिय के साथ खो जाने के लिए इससे अच्छी जगह नहीं हो सकती।

मैक्लॉडगंज

भारत के हिल स्टेशन

ऊपरी धर्मशाला में मैक्लॉडगंज में शानदार धौलाधार चोटी और अद्भुत परिदृश्य का आनंद लेंने के लिए इसे बेहतर और क्या हो सकता है।

कोडईकनाल

भारत के हिल स्टेशन

पश्चिमी घाट का यह खूबसूरत हिल स्टेशन एक आदर्श स्थान है जहाँ आप कोडाइकनाल में शादी के बाद जीवन का भरपूर आनंद ले सकते हैं।

मसूरी

भारत के हिल स्टेशन

इस लुभावनी सुंदर हिल स्टेशन में रोमांच के साथ अपने हनीमून को मसाला दें।

रानीखेत

भारत के हिल स्टेशन

उत्तराखंड की सुंदरता रानीखेत एक खूबसूरत जगह है जो आपके साथी के साथ हिमालय की पृष्ठभूमि के रूप में आपको यादगार अनुभव प्रदान करेगी।

कलिम्पोंग

भारत के हिल स्टेशन

तीस्ता नदी और कंचनजंगा के दृश्य के साथ एक सुंदर हिल स्टेशन भारत में हनीमून के लिए सबसे अच्छा हिल स्टेशन है।


वो हिल स्टेशन जहां आप रिटायर होने के बाद अवश्य समय बिताएगें


यदि एलआईसी और अन्य निवेश विकल्प सेवानिवृत्ति के लिए निवेश करने के लिए 20 या 30 का लालच दे सकते हैं, तो अपने रिटायरमेंट स्थल को भी क्यों न तय करें! प्रिस्टाइन और उदात्त हिल स्टेशन, एक शहर की हलचल से दूर, उन सभी लंबे काम के घंटों के बाद कुछ 'मुझे समय' बिताने के लिए एक आदर्श स्थान है जहां आप काम से मुक्त होकर केवल अपने साथ समय बिता सकते हैं। भारत में कई ऐसे स्थल हैं जो आपकी रिटायरमेंट के बाद के जीवन को शानदार बना देगें।


पहलगाम

भारत के हिल स्टेशन

पहलगाम में प्रकृति के असली रंगों का अनुभव और सराहना करें!

श्रीनगर

भारत के हिल स्टेशन

अपने गोधूलि वर्षों में श्रीनगर में हिमालय और डल झील की यादगार सुंदरता का गवाह बन चुका है।


वालपराई

भारत के हिल स्टेशन

हरे-भरे जंगल, भव्य झरने और खूबसूरत घाटियाँ, तमिलनाडु में वलपराई आपके जीवन के बाकी हिस्सों को बिताने के लिए एक आश्चर्यजनक हिल स्टेशन है।

चम्पावत

भारत के हिल स्टेशन

यदि आपको भीड़ बिल्कुल पसंद नहीं है, तो उत्तराखंड में चंपावत आपके उन शांतिपूर्ण क्षणों को यादगार बनाने के लिए उपयुक्त है।

दार्जिलिंग

भारत के हिल स्टेशन

पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग में खूबसूरत मठ और चाय के बागान आपको आराम करने और कायाकल्प करने में मदद करेंगे।

मनाली

भारत के हिल स्टेशन

ब्यास नदी के किनारे स्थित, मनाली आपको एक बार फिर प्रकृति के प्यार से भर देगा।

खज्जियार

भारत के हिल स्टेशन

महंगा स्विटजरलैंड क्यों जाएं, जब हिमाचल में खज्जियार है। एक पठार पर बैठे, तो आप भी वही खूबसूरती महसूस करेगें जो आपको स्विट्जरलैंड में महसूस होगी।


गंगटोक

भारत के हिल स्टेशन

सिक्किम की राजधानी गंगटोक में हिमालय के बीच में रहने का आपको अलग ही अनुभव प्राप्त होगा।

पंचगिरी

भारत के हिल स्टेशन

एक एकशांत हिल स्टेशन में आपको मंत्रमुग्ध करने के लिए पंचगिरी एक पुराना विश्व आकर्षण केंद्र है।


भारत में 5 अनदेखे हिल स्टेशन

हमें शिमला, मनाली, मुन्नार, ऊटी और कश्मीर जाना पसंद है। लेकिन भारत के कुछ हिल स्टेशनों के बारे में क्या आप जानते है जो जनता के बीच कम लोकप्रिय हैं लेकिन फिर भी समान रूप से और कभी-कभी अधिक करामाती और रोमांचकारी भी हैं। यह कम ज्ञात गंतव्य आपको एक अलग ही अनुभव प्रदान करेगें जो आम हिल स्टेशनों पर नहीं मिलेगा।

मुनसियारी

भारत के हिल स्टेशन

मुनस्यारी का अर्थ है 'बर्फ वाला स्थान' उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले का एक छोटा सा गाँव है और हिमालयी रेंज में कई ट्रेक के लिए शुरुआती बिंदु है।


चिखलधारा

भारत के हिल स्टेशन

महाराष्ट्र में अमरावती जिले में विदर्भ क्षेत्र का एकमात्र हिल स्टेशन चिखलधारा है। इसका संदर्भ महाभारत में मिलता है जहां भीम ने कीचक को मार डाला और उसे घाटी में फेंक दिया था उसी के नाम से यह जाना जाता है।

धनोल्टी

भारत के हिल स्टेशन

अधिक लोकप्रिय हिल स्टेशन मसूरी से महज 24 किलोमीटर की दूरी पर स्थित, धनोल्टी ए शांत और कम भीड़-भाड़ वाले वातावरण के लिए जाना जाता है जहां कोई भी अल्पाइन के जंगलों की सुंदरता में डूब सकता है।

जीरो

भारत के हिल स्टेशन

पाइन क्लैड हिल्स, आप्टानी जनजाति और चावल का मैदान, अरुणाचल प्रदेशियों की ज़ीरो की खूबसूरती मन मोह लेती है।

द्रास

भारत के हिल स्टेशन

हालाँकि अब लोग कारगिल युद्ध के कारण द्रास के बारे में जानते हैं, फिर भी कई लोग इसकी आकर्षक सुंदरता और सुरू घाटी के अद्भुत ट्रेक से अनजान हैं। यह जगह आपको अवश्य पसंद आएगी।

To read this Article in English Click here
165
  • SHARE THIS
  • TWEET THIS
  • SHARE THIS
  • COMMENT
  • LOVE THIS 0

Related Links

Comments / Discussion Board - भारत के हिल स्टेशन

Loader