• Sign in | Register
  • //$(function () { // $(document).on('click', "#scartlink", function (e) { // e.preventDefault(); // //alert('scartlink test'); // $("#showmycartitems").stop().slideToggle("slow"); // if ($('.c-cart a').closest('a').prop('class') == '') { // $(".c-cart a").addClass("active"); // } // else { // $(".c-cart a").removeClass("active"); // } // }); // $(document).on('click', function (e) { // var container = $("div.c-cart"); // $("ul.sub-menu"); // if (!container.is(e.target) && container.has(e.target).length === 0) { // if ($('#showmycartitems').is(':visible')) { // $("#showmycartitems").stop().slideToggle("slow"); // } // // $('#showmycartitems').hide(); // } // }); //});

Editor's Choice:

Share this on Facebook!

भारत में सर्वश्रेष्ठ एकांत गंतव्य स्थल

Indiaonline
Close

Want more stories like this?

Like us on Facebook to get more!
Close

भारत में सर्वश्रेष्ठ एकांत गंतव्य स्थल


भारत में एकांत गंतव्य स्थल

भारत दुनिया के सबसे अधिक आबादी वाले देशों में से एक है। यहां आपको हर शहर में, हर क्षेत्र में लोगों की भीड़ देखने को मिलेगी। भारत में स्थानिय पर्यटकों के साथ-साथ विदेशी पर्यटकों की भी भीड़ कई प्रसिद्ध जगहों पर देखने को मिलती है। जिनके कारण यदि आप अकेले हैं और कुछ समय स्वंय के साथ बिताना चाहते हैं तो आपको ऐसी जगहों की तलाश रहती है जहां आपको शांति का अनुभव हो आप कुछ समय अपने साथ बिता सकें। घूमना हममें से ज़्यादातर लोगों को पसंद होता है. कुछ लोग फ़ैमिली या दोस्तों के साथ घूमने जाते हैं, तो कुछ लोग बिज़नेस ट्रैवेल करते हैं. मगर हममें से ही कुछ होते हैं असली घुमक्कड़, जिन्हें ख़ूबसूरत दुनिया देखने का इतना शौक़ होता है कि वो किसी का इंतज़ार नहीं करते और अकेले ही निकल जाते हैं। ऐसे लोगों को अलग-अलग भाषा, बोली और संस्कृतियों के लोगों से मिलने, नई जगहें और चीज़ें देखने में बड़ी दिलचस्पी होती है.यदि आप भारत की केवल उन्ही जगहों को जानते हैं जहां भीड़-भाड़ रहती है तो आपको भारत की कई अन्य जगहों के बारे  में भी अवश्य जानाना चाहिए। भारत में कई ऐसी जगह हैं जो पर्यटन के लिहाज से संपन्न होने के बाद भी भीड़भाड़ से अछूती हैं। जिनके बारे में पर्यटकों को कम पता है। आप इन जगहों पर जानकर यहां के सुंदर नजारों के बीच स्वंय तो पहचान सकते हैं।

यहां कुछ गंतव्यों ऐसे हैं जो आपको अपनी शांति में झांकने का मौका देते हैं। यह सभी स्थल भीड़ वाले पर्यटक क्षेत्रों से अलग और छिपे हुए हैं। ये वे गंतव्य हैं जो उन लोगों के लिए सही हैं जो कुछ समय अकेले जीना चाहते हैं। आप अपने साथी संग हनीमून पर रहें या अकेले रहें यह वो जगह है जहां आप अपने साथी के साथ भी शांति के साथ शानदार पल बिना किसी शोर-शराबे के बिता सकते हैं। आप बस नए क्षितिज में जा रहे हैं जहां कोई आपको नहीं जानता, आप किसी को नहीं जानते यकिन मानिए यह स्थल आपके जीवन में एक अलग ही अनुभुति को प्रदान करेगें। यहां की अंजान खूबसूरती आपका दिल जीत लेंगी। प्रकृति, वन्यजीवों, पहाड़ों, इतिहास के कुछ ऐसे पहलुओं से आप रूबरू होंगे जिनके बारे में शायद ही कहीं आपने पढ़ा होगा। कई रोमांचक क्रियाओं से भरपूर यात्रा के भी मज़े आपको इन जगहों पर मिलेंगे और यहाँ की शांति में आप पूरी तरह से रम जाएँगे। इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको भारत के कुछ ऐसे ही शांतिपूर्ण और सौंन्दर्य से भरपूर स्थलों के बारे में बता रहे हें जहां आप स्वंय के साथ एक शानदार समय व्यतीत करेगें। इन स्थलों पर आपकी अकेले की यात्रा आपको एक अलग ही अनुभव प्रदान करेगी।



अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के छिपे हुए द्वीप

भारत में एकांत गंतव्य स्थल

यदि आप समय के बारे में परेशान हुए बिना या ऐसी जगह में खो जाना चाहते हैं जहां आपको समय की पता ही ना चले तो अंडमान और निकोबार द्वीप ऐसा ही स्थान है जहां आपको समय का ज्ञान हीं नहीं रहेगा। आप इस स्थल की खूबसूरती में इस कदर रम जाएगें कि आपका मन ही नहीं करेगा यहां से आने का। यह एक ऐसा क्षेत्र है जो आपकी गोपनीयता में दखलअंदाजी करने वालों को कोई जगह नहीं मिलेगी। आप यहां शांतिपूर्ण समय व्यतीत कर सकते हैं। यहां द्वीपों के छोटे समूह हैं जिनमें क्षेत्र में छोटे आकाश फैले हुए हैं। इस श्रृंखला में 300 से अधिक छोटे द्वीप हैं जो आपको भीड़ से आदर्श पलायन देते हैं। अंडमान और निकोबार द्वीप बंगाल की खाड़ी के दक्षिण में हिन्द महासागर में स्थित है। अंडमान और निकोबार यह दो अगल अलग द्वीप समूह हैं जो एक दूसरे से केवल 10 डिग्री नोर्थ लेटिटूड़ की दूरी पर है। उत्तर में अंडमान द्वीप समूह और दक्षिण में निकोबार द्वीप समूह स्थित हैं। दूर तक फैला साफ समुद्र, साफ स्वच्छ हवा, तरह तरह के समुद्री पक्षी, दूर तक फैले जंगल, काजू और नारियल के पेड़ और मनमोहक नजारों के साथ लजीज समुद्री व्यंजनों का अगर लुफ्त लेना है तो एक बार अंडमान निकोबार की सैर आपको अवशय करनी चाहिए।  यहां का नीला पानी और शांत समुद्र किसी को भी अपनी ओर आकर्षित कर सकता है। आप घंटो तक यहां के समुद्र को निहार सकते हैं। अंडमान और निकोबार द्वीप समूह की खासीयत है इस की अनुपम सुंदरता और चकित कर देने वाली वनस्पति तथा जीवजंतु। यहां के आकर्षक स्थान, सूर्य से चमकते समुद्री तट, मनमोहक पिकनिक स्पौट्स और कई अन्य आश्चर्य हैं, जो सैलानियों को बारबार आकर्षित करते हैं। समुद्री तट अपने विस्तार और सुनहरी रेत की वजह से मनमोहक बन गए हैं। आप यहां पर कई स्थलों को भी देख सकते हैं। इन द्वीपों में आजादी से लड़ने वाले दिनों का ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण स्थान है सेलुलर जेल, रॉस द्वीप, वाइपर आइलैंड, हॉप्टाउन और माउंट हेरिएट अंडमान और निकोबार द्वीप समूह दुनिया के 218 सांस्कृतिक पक्षी क्षेत्र में से दो के रूप में घोषित किया गया है। इन द्वीपों में वर्तमान में पक्षियों की 270 प्रजातियां और उप-प्रजातियां दर्ज की गई हैं, इनमें से 106 स्थानीय हैं।


करने के लिए काम

यहां अपने अकेले की यत्रा में आप स्नॉर्कलिंग, डाइविंग इत्यादि जैसे पानी के खेलों की गतिविधियों में शामिल हो सकते हैं। नीले साफ पानी में मछलियों और समुद्री जल-जीवों के बीच गोताखोरी का यह अनुभव आपको जिंदगी भर याद रहेगा। यदि आप समुद्र तट से बस बाहर निकलना चाहते हैं तो एक चटाई या समुद्र तट की कुर्सी लें और घंटों तक आराम करें। आप समुद्र तट पर लंबी सैर भी कर सकते हैं और यहां वनस्पतियों और जीवों का पता लगा सकते हैं। सावधानी बरतने के लिए- आप यहां अज्ञात क्षेत्रों में बहुत अधिक गहराई तक जाने से बचें।  क्योंकि यहां के आदिवासी लोग हैं। आप उनकी गोपनीयता पर घुसपैठ नहीं कर सकते हैं इसलिए उनकी निजता का ध्यान रखेते हुए अपनी यात्रा को संपूर्ण कीजिए।

कहाँ रहा जाए

द सेराई
कॉफी डे होटल एंड रिसॉर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड
23/2, कॉफी डे स्क्वायर,
विट्टल माल्या रोड,
बैंगलोर-560001,
कर्नाटक, भारत


ड्यू डेल रिसॉर्ट्स
सुंदरगढ़ गांव,
बरतंग द्वीप, सुंदरगढ़
अंडमान और निकोबार द्वीप समूह 744210, भारत


द बेयरफुट समूह
सी / ओ सेराई रिसॉर्ट्स
विट्टल माल्या रोड (यूबी सिटी के नजदीक)
बैंगलोर - 560001
कर्नाटक, भारत
ईमेल: dive@barefootindia.com



शांतिपूर्ण लक्षद्वीप द्वीप समूह

भारत में एकांत गंतव्य स्थल

यदि आप अकेलेपन की यात्रा की तलाश में हैं तो लक्षद्वीप आपके लिए एकदम आदर्श स्थल है। लक्षद्वीप भारत के दक्षिण-पश्चिम में हिंद महासागर में स्थित एक भारतीय द्वीप-समूह है। सभी केन्द्रशासित प्रदेशों में लक्षद्वीप सबसे छोटा है लक्षद्वीप द्वीप-समूह में कुल 36 द्वीप है परन्तु केवल 7 द्वीपों पर ही जनजीवन है।  कहने को तो यह एक छोटा से द्वीप है किन्तु आपको यहां प्रकृति से जुड़ने के अवसर प्राप्त होगा। वास्तव में, यहां प्राचीन पानी और सुंदर वातावरण आपको प्रकृति में एक विशिष्ट अंतर्दृष्टि प्रदान करता है। लक्षद्वीप में कवारट्टी सबसे विकसित द्वीपों में से एक है जो कई मस्जिदों और संरचनाओं का घर भी है। आप लैगून में जा सकते हैं या बस पर्यटक झोपड़ियों में आनंद ले सकते हैं। कल्पनी द्वीप में सबसे बड़ा लागोन है और यह सभी प्रकार के जल खेलों के लिए बिल्कुल सही है। पूर्वी और दक्षिणी तटरेखा के साथ कोरल मलबे देख सकते हैं। फिर मिनिकॉय भी है जो भौगोलिक रूप से अन्य द्वीपों से अलग है और पूर्ण अकेला आनंद प्रदान करता है। यह एक द्वीप है जो महिलाओं का प्रभुत्व है। कदमत अनदेखा इलाकों और तटरेखाओं का आनंद लेने के लिए यहां एक और लोकप्रिय द्वीप है। यहां पूर्व में संकीर्ण लैगून पानी के खेल के लिए आदर्श स्थल है। मुख्य भूमि से दूर इनका प्राकृतिक सौंदर्य, प्रदूषणमुक्त वातावरण, चारों ओर समुद्र और इसकी पारदर्शी सतह पर्यटकों को सम्मोहित कर लेती है। समुद्री जल में तैरती मछलियाँ इन द्वीपों की सुंदरता को और बढ़ा देती हैं। हर द्वीप पर नारियल व पाम के झूमते हरे-भरे वृक्ष, और समुद्र जिसका नीला पानी अनोखी पवित्रता का अहसास कराता है।

करने के लिए काम

लक्षद्वीप पर विशाल तटरेखा का अन्वेषण आप कर सकते है। लागोन में से बाहर निकलें। आप पेंट कर सकते हैं, एक किताब पढ़ सकते हैं । यदि आप पूर्ण एकांत चाहते हैं तो सुंदर समुद्र तटों में से एक पर बाहर निकलें और परिवार के साथ या अपने आप के साथ इन तटों की खूबसूरती को निहारें।  इस द्वीप पर समुद्री भोजन की गुणवत्ता असाधारण है जो की मछली और बाकी का  समुद्री भोजन है जिसके स्वाद की कोई तुलना नहीं की जा सकती। सी फूड सामान्य रूप से द्वीप से बड़ी संख्या में निर्यात किया जाता है।  लक्षद्वीप पर घूमने आने वालों के लिए  मछली पकड़ना अपनी थकान दूर करने के लिए एक शानदार तरीका है जिसके चलते लक्षद्वीप में मछली पकड़ने के लिए कई अवसर प्रचलित हैं। लक्षद्वीप आने वालों के लिए  स्कूबा डाइविंग हमेशा  ही एक लोकप्रिय पर्यटक गतिविधि रही है। आप कई तरह के पानी के खेलों का आनंद भी यहां ले सकते हैं।  यह सुनिश्चित करें कि आपका होटल इन जगहों के निकट हो। कोरल रीफ की तस्वीरें लें या यहां अद्भुत अनुभवों के बारे में अपनी डायरी लिखें।


कहाँ रहा जाए

लक्षद्वीप होमस्टे
सईद जाफरी,
कासिम का होमस्टे,
गांधी रोड, आगाट्टी द्वीप,
संघ शासित प्रदेश
लक्षद्वीप - 682553
फोन - + 9 0 9 447900541,
+91 08129734322, + 9 0 9 446572268


आगाट्टी द्वीप समुद्र तट रिज़ॉर्ट
एचपीओ के पीछे, मार्केट रोड,
कोच्चि - 682 011, केरल, भारत
फोन: + 91-0484-2362232
फैक्स: + 91-0484-2362234
ई-मेल: agattiisland@vsnl.net
 info@agattiislandresorts.com
वेबसाइट: www.agattiislandresorts.com



राजस्थान में थार रेगिस्तान

भारत में एकांत गंतव्य स्थल

यदि आप उन लोगों में से एक हैं जो वास्तव में अपने आप को पसंद करते हैं तो राजस्थान का थार रेगिस्तान एक ऐसा स्थान है जहां आपको अवश्य जाना चाहिए। थार मरुस्थल लहरदार रेतीले पहाड़ों का विस्तार है, जो विशाल भारतीय मरुस्थल भी कहलाता है। इसका कुछ भाग भारत के गुजरात एवं राजस्थान में और कुछ पाकिस्तान में स्थित है। 2,00,000 वर्ग किमी में फैले इस क्षेत्र के पश्चिम में सिन्धु द्वारा सिंचित क्षेत्र है, इसके दक्षिण-पूर्व में अरावली का विस्तार है और दक्षिण में कच्छ का रेगिस्तान है, तो पूर्वोत्तर में पंजाब का भू-भाग है। जैसे ही आप ऊंट के पीछे बैठे रेत की धुनों में प्रवेश करते हैं, आप वास्तव में अकेला महसूस नहीं कर पाते है। यहां अजनबियों में भी आपको अपने मिलेगें। यहां मधुर धुने आपको अपनी ओर सम्मोहित करेगीं। ये धुनें उन जगहों पर हैं जहां कुछ लोग देखने जाते हैं। आदर्श रूप से, आपको यहां सर्दियों के महीनों के दौरान बाहर जाना चाहिए क्योंकि गर्मियों के महीनों में बहुत गर्मी पड़ती हैं। यहां तक कि शाम के दौरान आप अपने आप पर होने के कारण दूरदराज के स्थानों में रह सकते हैं, भले ही आपका आरामदायक तम्बू कुछ गज दूर हो।  रेगिस्तान धरती पर अति गर्म स्थान है, लेकिन रात में यहां की रेत सबसे ठंडी होती है जिस पर सोना बहुत ही आनंददायक होता है। दिन में तो आपका नंगे पैर पैदल चलना भी मुश्किल है। मीलों दूर तक फैले रेगिस्तान में भटकने वाले या तो प्यास से मर जाते हैं या रेत की आंधी से। रेगिस्तान के किनारे पर ही मानव आबादी रहती है जबकि रेगिस्तान में कोई नहीं रहता। रेगिस्तान घूमने का सही मौसम सर्दी है। इस मौसम में रेत के ऊंचे-ऊंचे टीले, ठंडी हवा और दूर तक फैली रेत पर चलते ऊंटों के काफिले किसी का भी मन मोह लेंगे। यही वह मौसम है, जब आप रेगिस्तान के ऐसे मनोरम दृश्यों को अपने कैमरे में कैद कर पायेंगे।

करने के लिए काम

आप यहां पर कैमल सफारी के दौरान पर्यटर रेगिस्तान के ग्राम्य जीवन जलवायु वन्य जीवों को करीब से देखने का अनूठा अनुभव ले सकते है। ऊंट के मालिक पर्यटकों के लिए गाइड का काम करते हैं। रेगिस्तान की धरती को अगर सही रूप अनुभव करना है तो ऊंट सफारी सब से अच्छा और रोमांचक तरीका है। इसके अलावा सैलानी जीप सफारी, चार पहिया वाहनों से भी भ्रमण का लुत्फ उठा सकते है। आप यहां पर बीकानेर की सैर भी कर सकते है। बीकानेर शहर अपने किले, महल और हवेलियों के लिए पहचाना जाता है। जैसरमेर दुर्ग या सोनार किला-यह दुर्ग विशालतम दुर्गो में से एक मना जाता है। इस भव्य किले में प्रवेश के लिए चार प्रवेश द्वार बने हैं जो चारों दाशाओं में है। इसमें राजमहल, जैन मंदिर, लक्ष्मीनरायण की मंदिर व हवेलियां भी है जो समृद्ध व्यापारियों द्वारा सैकड़ों वर्षो पूर्व बनाई गई थी। सूर्योदय और सूर्यास्त देखने के लिए आप यहां आ सकते हैं। इसके अलावा, परंपरागत नृत्य और गतिविधियां यहां व्यवस्थित की जाती हैं। स्थानीय जनजातियों के भीतर सत्र कहने की कहानी  का आप हिस्सा बन सकते हैं। यहां आकर आप यहं की संस्कृति में रम जाएगें।

कहाँ रहा जाए

ओसीन सेंड ड्यून्स रिज़ॉर्ट और कैंप
प्रताप नगर, ओसीन,
जिला जोधपुर,
राजस्थान, भारत।
मोबाइल नंबर- + 91-94144 28613
+ 91-99298 18060
ईमेल आईडी: info@osianresortcamps.com
rajosian@gmail.com


वेलकम हैरिटेज
पी.ओ. खिमार, जिला, नागौर, खिमसार
राजस्थान 341025, भारत
टेलीः + 91-11-46035500
टोल फ्री नंबर: 1-800-102-2333




लद्दाख के मठ

भारत में एकांत गंतव्य स्थल

कई बार शहरी चहल-पहल से दूर  आध्यात्मिक यात्रा करना एक बेहद सुकुन प्रदान करने वाली यात्रा होती है। ऐसे में अध्यातिमिकता का अनुभव करने के लिए लद्दाख के मठों से बेहतर और क्या हो सकता है। यह दुनिया के आदर्श पलायन स्थानों में से एक है। यहां आपको भीड़ के बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं होगी या सचमुच किसी और के साथ बातचीत नहीं करनी होगी बल्कि आपका आध्यात्मिक आत्मा का अनुभव करेगें। यहां बहुत सारे मठ हैं जहां आप अतिथि के रूप में जा सकते हैं और कुछ हफ्तों तक रह सकते हैं। हालांकि, ऐसा करने के लिए आपको वास्तव में अपना मूल्य साबित करना होगा। ऐसा मत सोचो कि आप बस इस तरह महसूस कर सकते हैं और बाहर निकल सकते हैं। यह शहर अपनी अनूठी संस्कृति, कला, शिल्प और रीति रिवाजो के लिए प्रसिद्ध है। मीलो तक फैला बर्फ का यह रेगिस्तान लद्दाख की प्राथमिक राजधानी भी है। लेह वर्षो तक तिब्बत और मध्य एशिया के बीच व्यापार करने के लिए सुगम मार्ग रहा है। आज इसे मुख्य रूप से बौद्ध धर्म के अनुयायियो की आस्था का केन्द्र तथा तिब्बत शरणार्थियो के रहने की जगह माना जाता है। लेह समुन्द्र तल से लगभग 3524 मीटर की ऊचाई पर स्थित भारत का सबसे ऊचा रहने योग्य स्थान है। यहां के परम्परागत त्यौहार, बौद्ध मठ और उनकी संस्कृति किसी को भी अपनी ओर आकर्षित करने में सक्षम है। अगर आप ट्रेकिंग, स्कीइंग के शौक़ीन हैं तो लद्दाख आपके लिए बेहद रोमांचक स्थल है। जहाँ की रूहानी वादियां, संस्कृति आपके दिल को छू जाएगी। यहाँ आप सुन्दर कलात्मक शैली वाली बौध्य गुफाएं भी देख सकते हैं जिनकी महीन नक्काशी से आप आश्चर्यचकित रह जायेंगे।

 शांति स्तूप लेह लद्दाख यात्रा का प्रमुख दर्शनीय स्थल है। यह नवनिर्मित भवन एक सफेद स्तूप है। शांति स्तूप का निर्माण जापान और लद्दाख का भगवान बुद्ध की स्मृतियो और धरोहरो को संजोने के लिए मिला जुला प्रयास है। लेह के अन्य बौद्ध मठों में जापान द्वारा स्थापित शांति स्तूप, स्टाकना मठ, शंकर मठ, माशो तथा स्टोक मठ व पैलेस भी महत्वपूर्ण हैं। ये सभी लेह के आसपास हैं। स्टोक पैलेस में स्टाकना राजाओं की बहुमूल्य वस्तुओं का संग्रहालय भी है।

करने के लिए काम

आप यहां अध्यात्मिक अनुभुति के साथ कई उत्सवों का आनंद भी ले सकते हैं। गाल्डन नमछोट, बुद्ध पूर्णिमा, दोसमोचे और लोसर नामक त्यौहार पूरे लद्दाख में बड़ी धूम-धाम से मनाए जाते है और इस दौरान यहाँ पर्यटकों की भीड़ उमड़ पड़ती है। दोसमोचे नामक त्यौहार दो दिनों तक चलता है जिसमें बौद्ध भिक्षु नृत्य करते हैं, प्रार्थनाएँ करते हैं और क्षेत्र से दुर्भाग्य और बुरी आत्माओं को दूर रखने के लिए अनुष्ठान करते हैं। तिब्बती बौद्ध धर्म के सबसे महत्वपूर्ण त्यौहारों में से एक है ‘साका दावा' जिसमें गौतम बुद्ध का जन्मदिन, बुद्धत्व और उनके नश्वर शरीर के ख़त्म होने का जश्न मनाया जाता है।  हिंदुओं के लिए सिद्धपीठ काली का मंदिर है। लद्दाखी जनता के लिए यह देवी पालदन लामो है। लद्दाख के सभी मठ ध्यान, साधना, आध्यात्मिक शक्ति तथा शांति के केंद्र हैं। इन मठों की पूजा व पूजा प्रणाली रहस्यात्मक है। इन मठों की चित्रकारी व मनोहारी रंग पर्यटकों का मन मोह लेते हैं।

कहाँ रहा जाए

बाग्सो
लेह, भारत
फोन नंबर: 9419178966


थिस्की मठ
लेह मनाली ह्वी थिक्सी
जम्मू-कश्मीर 194201
टेलीफोन: 0194-2472449



केरल में अलेप्पी

भारत में एकांत गंतव्य स्थल

केरल में बैकवाटर का आनंद लेने एवं अकेले घूमने के लिए अलेप्पी एक आदर्श स्थल और शानदार विकल्प हैं। यह वास्तव में बहुत भीड़-भाड़ वाला स्थल नहीं है अलेप्पी केरल हाउसबोट पर रहने और पानी पर दौरे के लिए जाना जाता है। ये केरल के देखने लायक सबसे अच्छे स्थापनों में से एक है। लॉर्ड कर्जन ने अलेप्पी को ' पूरब का वेनिस ' कहा था। आप यहां बैकवॉटर में जब रहते हैं तो आप नाव पर बाहर निकलने के दौरान वास्तव में स्वंय के साथ होते हैं। अलेप्पी में बहुत सारे नाव किराए पर लेने के विकल्प उपलब्ध हैं जहां आप अपने आप और अपने साथी या दोस्तों से जुड़ते समय अद्भुत दृश्य देख सकते हैं और बाहर निकल सकते हैं। यह वास्तव में क्षेत्र के भव्य बैकवाटर की राजधानी है। यह भी सबसे महंगी जगहों में से एक है। यहां ये शानदार हाउसबोट सस्ते नहीं हैं इसलिए अपने बजट के देखते हुए कुछ अकेले आत्म के लिए तैयार रहें। जब आप यहां हरे-भरे हरियाली और लागोन का पता लगाते हैं तो आप यहां सब कुछ शानदार भोजन से प्राप्त कर सकते हैं।

करने के लिए काम

समुद्र तट के अलावा अलेप्पी में कुछ अन्य पर्यटन स्थल भी हैं जैसे अंबालापुक्षा श्री कृष्ण मंदिर, कृष्णापुरम पैलेस, मरारी समुद्र तट, अरथुंकल चर्च आदि की सैर कर सकते हैं। पूरे दिन नाव में बाहर निकलने के साथ स्थानीय गाने और दुर्लभ नौकाओं को पार करते हुए आप यहां की खूबसूरती को निहार सकते हैं। आप धान के मैदानों में भी बैठ सकते हैं और थोड़ी देर के लिए नाव से उतर सकते हैं। बहुत सारा नारियल का पानी पीए सकते हैं।  यदि आप चाहें तो पानी में डुबकी भी ले सकते हैं। पूरी तरह से, अनुभव केवल आपके लिए समय निकालने वाला एक स्थल है। और यदि आपके पास कंपनी है तो एकमात्र छुट्टी पर अपने साथी के साथ घूमने के लिए इससे अच्छा स्थान भला क्या हो सकता है।



कच्छ का रण

भारत में एकांत गंतव्य स्थल

कच्छ के नमकीन दलदल अभी भी ऐसे क्षेत्र हैं जहां कुछ लोग जाने की हिम्मत करते हैं। लेकिन बहुत कम लोग अकेले यात्रा पर जाने की हिम्मत जुटा पाके हैं। यह एक ऐसा स्थान है जहां शून्यता आपको इतनी सारी चीज़ें देती है। कच्छ का रण गुजरात में कच्छ ज़िले के उत्तर तथा पूर्व में फैला हुआ एक नमकीन दलदल का वीरान स्थल है। मूलतः अरब सागर का विस्तार रहा कच्छ का रण सदियों से एकत्रित होने वाले अवसाद के कारण एक बंद क्षेत्र बन गया है। कच्छ का रण समुद्र का ही एक सँकरा अंग है जो भूकंप के कारण संभवत: अपने मौलिक तल को ऊपर उभर आया है और परिणामस्वरूप समुद्र से पृथक हो गया है।  नमकीन मंगल आपकी इंद्रियों को रोमांचित करते हैं और आपको संबंधित भावना देते हैं। जैसा कि आप एक सितारों से भरी रात पर पूर्णिमा के चांद की तरह नजर रखते हैं।  आप बस अपने आप को समुद्र तट के किनारे बैठकर नई कल्पाओं को कर सकते हैं।  लेकिन केवल यहां, कोई समुद्र तट नहीं है। नमक की हवा के साथ सुंदर हवा क्या है जो आपको समुद्र की याद दिलाती है। यह दुनिया में सबसे बड़ा नमक रेगिस्तान है। आप यहां अक्टूबर के महीने के आसपास आ सकते हैं क्योंकि इस समय के दौरान यहां का मौसम अच्छा होता है।

करने के लिए काम

कच्छ में देखने लायक कई स्थान हैं जिसमें कच्छ का सफ़ेद रण आजकल पर्यटकों को लुभा रहा है। इस के अलावा मांडवी समुद्रतट भी सुंदर आकर्षण है। भुज कच्छ की राजधानी है जिसमें कच्छ के महाराजा का आइना महल, प्राग महल, शरद बाग़ पैलेस एवं हमीरसर तलाव भुज में मुख्य आकर्षण है तथा मांडवी में स्थित विजय विलास पैलेस जो समुद्रतट पर स्थित है जो देखने लायक है। भद्रेश्वर जैन तीर्थ और कोटेश्वर में महादेव का मंदिर और नारायण सरोवर जो पवित्र सरोवरों में से एक है वो भी घूमने लायक है। आपको निश्चित रूप से ब्लैक हिल या काला डुंगर तक पहुंचने या इसे बनाने की कोशिश करनी चाहिए क्योंकि यह आपको समुद्र के स्तर से 458 मीटर से पूरे क्षेत्र का एक लुभावनी दृश्य देता है। आप अपने साथ एक गाइड ले सकते हैं या बस अपने आप से बाहर निकल सकते हैं। जब आप अपना गिटार बजाते हुए रात में बाहरप निकलते हैं तो आप चारों और स्वंय को महसूस कर सकते हैं।

कहाँ रहा जाए

रैन राइडर्स
दासदा 382750, जिला - सुरेंद्रनगर,
गुजरात, भारत
फोन: + 91 9925236014
टेलीफ़ैक्स: +91 2757 280257/280457
ईमेल: reservations@rannriders.com, rann-riders@usa.net
वेबसाइट: www.rannriders.com



पश्चिमी घाट कर्नाटक / केरल

भारत में एकांत गंतव्य स्थल

पश्चिमी घाट महाराष्ट्र और गुजरात के पठारों के पास शुरू होते हैं और गोवा, कर्नाटक और केरल के माध्यम से होकर गुजरते हैं। यदि आप एक अकेले उद्यम की तलाश में हैं, तो आपको निश्चित रूप से भारत के दक्षिणी भाग में घाटों की गहराई में जाना चाहिए। प्रकृति के दिल में खोने की तरह कुछ भी नहीं है। यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल के रूप में पहचाना जाने वाला, पश्चिमी घाट वास्तव में जैव-विविध हैं और यहां पर सबसे अच्छे प्रकृति का एक सुंदर और अनूठा दृश्य प्रदान करते हैं। यहां पर आप 1600 किमी के मोटे अनछुए जंगलों में घने होंगे जो घने और हरे रंग के होते हैं। यह पहाड़ों के शीर्ष से देखने के लिए एक दृष्टि से आकर्षक दृष्टि है। यह पक्षियों और कीड़ों के साथ जानवरों और पौधों की 1000 से अधिक प्रजातियों का घर भी है। पश्चिमी घाट का सहयाद्रि भी कहा जाता है और ये दुनिया के आठ बायोलॉजिकल डायवर्सिटी वाली जगहों में से एक है। पश्चिमी घाटों के जंगलों को प्रायद्वीपीय भारत के पानी के टॉवर कहा जाता है एवं यह 58 नदियों का जन्म स्थभल है जिनमें गोदावरी, कृष्णाव और कावेरी शामिल है। जरूर देखें मेघालय की गार्डन ऑफ केव्सट ये घाट ना केवल 50 मिलियन लोगों को सुरक्षा प्रदान करता है बल्कि इसमें 400 से ज्याादा फूलों के पौधे की प्रजातियां, 63 सदाबहार वृक्ष, 120 स्तटनपायी जीव, पक्षियों की प्रजातियां, तितलियां और मछलियां पाई जाती हैं। यह जगह दक्कन पठार के पश्चिमी छोर पर उत्तर से दक्षिण की ओर है और अरब सागर के किनारे कोंकण के संकीर्ण तटीय मैदान से पठार में विघटन करती है।

पश्चिमी घाट में उभयचरों, पक्षियों, स्तनपायियों व फूलों की अनेक  प्रजातियाँ पाई जाती हैं| महाबलेश्वर, पंचगनी, माथेरान,अंबेली घाट, कुद्रेमुख, कोडागु और लोनावाला-खंडाला जैसे पर्वतीय पर्यटन केंद्र इसी श्रेणी में स्थित हैं| शरावती नदी पर स्थित गरसोप्पा या जोग प्रपात भी पश्चिमी घाट में स्थित है, जोकि भारत के सर्वाधिक ऊँचे जलप्रपातों में से एक है| यह विश्व स्तर पर खतरे वाली 325 प्रजातियों के साथ वनस्पतियों और जीव की विभिन्न प्रजातियों का एक हाटस्पाट है। पश्चिमी घाट के चारों ओर 1200 मीटर की ऊंचाई है। भौगोलिक दृष्टि से, पश्चिमी घाट पहाड़ नहीं हैं, बल्कि डेक्कन पठार के किनारे हैं। पश्चिमी घाट मानव निर्मित झीलों और जलाशयों का एक बड़ा संग्रह है। मानसून के दौरान, घाट के नीचे बहती हुई कई धाराएं और नदियां, शानदार झरने बनाती हैं,जिनमें से कर्नाटक राज्य में पड़ने वाला जाग फॉल्स देश में सबसे बड़े झरनों में से एक है।

यहाँ करने के लिए चीजें

उन चीज़ों का कोई अंत नहीं है जो आप यहां कर सकते हैं। शुरुआत करने वालों के लिए बस प्रकृति का पता लगाएं और भूल जाओ कि एक मानव उपनिवेश है। आप यहां बढ़ सकते हैं, ट्रेकिंग कर सकते हैं या यहां तक कि दोस्तों और भागीदारों के साथ कैंपिंग भी कर सकते हैं। सुन्दर जंगलों में प्रकृति और खुद से जुड़ने में आपकी मदद करने के लिए एक आदर्श पलायन भी है। इसके अलावा, उस क्षेत्र में बहुत सारे प्राकृतिक झरने और झील हैं जहां आप घंटों तक बैठ सकते हैं और अपने रचनात्मक आत्म का पता लगा सकते हैं या बस ध्यान कर सकते हैं। आपको यहां दिखाई देने वाली विभिन्न पक्षी ध्वनियों या नई कीड़े की संख्या का ट्रैक रखें (बेशक, उन्हें छूने से बचें)। इस अकेले यात्रा पर एक प्रकृति प्रेमी के रूप में अपने नवीनतम शौक की एक नई डायरी बना कर यादों को संजो सकते हैं।

कहाँ रहा जाए

पश्चिमी घाट विला
30, टोप स्लीप रोड
सेतुमादी, पोलाची तालुक
तमिलनाडु 642133, भारत


एमरल्ड वेस्टर्न घाट रिसॉर्ट्स
बिक्री कर चेक पोस्ट के पास, मुथंगा,
सुल्तान बाथेरी, वायनाड,
केरल 6735 9 2
ईमेल: mail@emaraldwayanad.com
आरक्षण: + 91 9747548 9 66




हिमाचल प्रदेश में मनाली

भारत में एकांत गंतव्य स्थल

जब भी बात मनाली की आती है तो आप आपको यहीं लगता है कि पर्यटकों से भरा एक हील स्टेशन है जहां आप जाना नहीं चाहते लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। मानाली के पास कई ऐसे स्थल मौजूद है जहां आप शौर-शराबों से दूर शांतिपूर्ण समय व्यतीत कर सकते हैं। मनाली से कुछ किलोमीटर दूर हैं जहां आप पैराग्लाइडिंग जा सकते हैं। ऐसा एक क्षेत्र सोलन वैली है जहां आप आसानी से जा सकते हैं और पैरा ग्लाइडिंग जैसे नए साहसिक खेल को आजमा सकते हैं और हवा में उड़ सकते हैं। फिर यहां विभिन्न शिविर और ट्रेकिंग स्थान भी हैं जो आपको भीड़ वाले शहर से दूर ले जाते हैं। इन यात्राओं पर आप अपने अकेले आत्म का पता लगा सकते हैं और कुछ दूरस्थ स्थानों पर जा सकते हैं। अनगिनत पहाड़ी इलाकों के साथ यहां सुन्दर जंगलों ने आपको एकदम सही उद्यम प्रदान किया है। मनाली में अपने आधार के साथ, आप नई सड़कों की खोज करने के लिए आगे बढ़ना शुरू कर सकते हैं। आप बाइक किराए पर लेने और लेह और लद्दाख तक जा सकते हैं। यदि आप अकेले मार्ग पर जाने के इच्छुक नहीं हैं, तो कुछ दिनों के लिए अकेले साहस की कोशिश करने के लिए मनाली से ट्रेकिंग और कैंपिंग साइटों में से एक पर जाएं। ये यात्राएं सुरक्षित हैं और मार्गदर्शिका आपके ठिकाने पर एक ट्रैक रखती हैं। सोलंग घाटी ब्यास नदी और सोलंग विलेज के बीच में स्थित है। यहां से बर्फ से ढके पहाड़ और ग्लेशियर का खूबसूरत नज़ारा दिखाई देता है।

करने के लिए काम

बस जो कुछ आप जानते हैं उसे भूल जाओ और कुछ नया प्रयास करें। इन आश्चर्यजनक अकेले छुट्टियों में जाने का यही विचार है। पैरा ग्लाइडिंग और स्कीइंग जाओ। यदि खेल आपकी बात नहीं हैं, तो अकेले रात में एक ट्रेक या कैंप का प्रयास करें। आप एक संलग्न क्षेत्र में होंगे जहां अन्य कैंपर्स हैं, इसलिए यह बहुत सुरक्षित है, लेकिन आपके निश्चित रूप से उस तम्बू में बाहर होने से आपको साहसिक ट्रैक पर रखा जाता है। गर्मियों में यहां पैराग्लाइडिंग, ज़ोरबिंग (चक्र), माउंटेन बाइकिंग (पहाड़ो पर बाइक चलाना) और घुड़सवारी का लुत्फ उठा सकते है। सर्दियों के मौसम में विशेषकर जनवरी और मार्च के बीच में यहां स्कीइंग, स्नोबोर्डिंग और स्लेजिंग का भी आनंद उठा सकते है। यहां सर्दियों में स्कीइंग फेस्टिवल का आयोजन किया जाता है। पर्वातारोहण निदेशालय और एलाइड स्पोर्ट के अंतर्गत स्कीइंग के मध्यवर्ती पाठ्यक्रम को आयोजित करता है। जिन्हें एडवेंचर थोड़ा कम चाहिए उनके लिए यहां कई ट्रेकिंग के लिए रास्ते हैं।  पहाड़ी जंगलों और इलाकों का अन्वेषण करें।




मेघालय में गुफा अन्वेषण और रॉक क्लाइंबिंग

भारत में एकांत गंतव्य स्थल

मेघालय की पहाड़ी आपको रॉक क्लाइंबिंग के साथ-साथ गुफाओं की खोज करने का एकदम सही मिश्रण प्रदान करती है। इस क्षेत्र में कई छिपी हुई गुफाएं और चट्टान चढ़ाई क्षेत्र हैं, जो उत्साहजनक हैं। मेघालय उत्तर में असम और दक्षिण में बांग्लादेश से घिरा हुआ है। राज्य के करीब एक तिहाई हिस्से पर जंगल है। मेघालय के जंगल स्तनपाई, पक्षी और पौधों की जैव विविधता के लिए जाने जाते हैं। यहां के विभिन्न प्रकार के जीव-जंतु और वनस्पति आपको कभी न भूलने वाला अनुभव दिलाएंगे यह किसी ऐसे व्यक्ति के लिए एक आदर्श अवसर है जो खुद को तलाशने और नए रोमांचों की कोशिश करने में रूचि रखता है। आप इन  क्षेत्र में जा सकते हैं या यहां तक कि दोस्तों और परिवार के साथ भी जा सकते हैं। क्षेत्र की सुंदरता यह है कि जब आप गुफा की खोज कर रहे हैं, तो आप पृथ्वी के छिपे हुए इलाकों में प्रवेश करते हैं, जहां बहुत कम जाने की हिम्मत होती है। यहां की सबसे लोकप्रिय गुफाओं में से कुछ में क्रेम माल्मलुह, क्रेम फीलट, क्रेम लिआट प्रह, मासिनराम, मासस्माई और सिजू शामिल हैं। इन छिपे चमत्कारों में, आप विभिन्न प्रकार के चट्टानों और पत्थरों की जांच कर सकते हैं। यहां सुंदर पहाड़ियों के साथ प्राकृतिक संरचनाएं भी हैं। एक बार जब आप अपने चट्टान चढ़ाई सत्र के साथ कर लेंगे, तो आप आ सकते हैं और रॉक क्लाइंबिंग के साथ हाथ आज़मा सकते हैं! यह एक और दिलचस्प खेल है। वहां बहुत सारे रॉक क्लाइंबिंग गंतव्यों हैं जहां आप दूरस्थ क्षेत्रों में जा सकते हैं। अपने आप में चढ़ाई एक अकेला अनुभव है क्योंकि आप आगे बढ़ने के लिए प्रयास कर रहे हैं। एक बार जब आप शीर्ष तक पहुंच जाते हैं, तो दृश्य के साथ विजय की भावना बस रोमांचकारी होती है।

करने के लिए काम

जब आप या तो गुफा अन्वेषण या चट्टान चढ़ाई कर रहे हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप अपने साथ एक विशेषज्ञ गाइड लें। यह जगह कमजोर दिल वालों के लिए नहीं है दुर्घटनाओं से बचने के लिए आपको विशेषज्ञ मार्गदर्शन की आवश्यकता है। सुनिश्चित करें कि आप इन अद्भुत क्षणों को पकड़ने के लिए आरामदायक कपड़ों और कैमरे को अपने साथ ले जाएं। बैठने के लिए अपना समय लें और अंत में विजय की भावना का आनंद लें। मेघालय और आसपास के पर्यटन स्थल देखा जाए तो मेघालय घूमना वास्तव में संस्कृति, प्रकृति, लोग और भाषा के बीच से होकर गुजरना है।

कहाँ रहा जाए

होटल पाइनवुड
यूरोपीयन वार्ड, रीटा रोड,
शिलांग - 7900 001, मेघालय
भारत
फोन: (0364) 2223116, 2223146, 2223263, फैक्स: 0364 - 2224176
ई-मेल: pinewoodhotel@dataone.in
वेबसाइट: www.meghalayatourism.org


होटल पोलो टावर्स
पोलो ग्राउंड
शिलांग
फोन नं: 0364 2222341, 2222342
फैक्स: 0364 22200 9 0
ई-मेल: enquiry@hotelpolotowers.com
वेबसाइट: www.hotelpolotowers.com




ज़ोंगरी सिक्किम में मठों के लिए ट्रेक

भारत में एकांत गंतव्य स्थल

सिक्किम एकमात्र या दूरस्थ छुट्टियों के साधक के लिए एक और आदर्श क्षेत्र है। यहाँ बहुत सारे अलग-अलग और अनपढ़ इलाके हैं जो इंद्रियों को घुमाते हैं। यह एक प्रकृति प्रेमी गंतव्य है और निश्चित रूप से अनदेखा है। यहां करने के लिए सबसे अच्छी बात यह है कि वह आपकी अपनी सारी महिमा में प्रकृति की खोज करेगी और पहाड़ियों में छिपे हुए मठों तक आपकी खोज आपको ले जाएगी। आप यह देखने के लिए आश्चर्यचकित होंगे कि सभी प्रकृति को क्या पेश करना है। यहां रुमटेक मठ सबसे महत्वपूर्ण तिब्बती बौद्ध धर्म है और अनगिनत अमूल्य कलाकृतियों का भंडार है। सिक्किम पर्यटकों के बीच अपनी अपार प्राकृतिक सुन्दरता, उंचे उंचे पहाड़ों के लिए जाना जाता है, लेकिन इनके बीच कुछ ऐसी भी जगहें मौजूद है, जो आज भी पर्यटकों की नजरों से दूर है। सिक्किम अपने प्राकृतिक हरे-भरे पौधों, जंगलों, दर्शनीय घाटियों और पर्वतमालाओं और भव्य सांस्कृतिक धरोहर के लिए प्रसिद्ध है। यहाँ के शांतिप्रिय लोगों के कारण से यह प्रदेश पर्यटकों के लिए सुरक्षित स्वर्ग के समान है। राज्य सरकार पर्यावरण से मित्रतापूर्ण पर्यटन तथा तीर्थ पर्यटन को प्रोत्साहन दे रही है, जिससे यहाँ आने वाले लोग सिक्किम की जीवनशैली और प्राकृतिक पर्यटन का आनंद ले सकें।  जहां एक तरफ सिक्किम अपनी प्राकृतिक सुंदरता, वन्यजीवन, कला सभ्यता संस्कृति और बर्फ से ढंकी पहाड़ियों के लिए जाना जाता है तो वहीं दूसरी तरफ खूबसूरत बौद्ध मठों के चलते भी पूरी दुनिया इसका लोहा मानती है। गौरतलब है कि ध्यान और योग की दृष्टि से सिक्किम से बेहतर जगह भारत में और कोई नहीं है। ज्ञात हो कि आज सिक्किम में 200 से ऊपर मठ हैं जो बौद्ध धर्म का संरक्षण करते हैं। आपको बता दें कि आज सिक्किम के रूमटेक, ताशीडिंग स्थित मठों में सबसे ज्यादा लोग घूमने और दर्शन के लिए जाते हैं। यदि आप सिक्किम में हों तो यहाँ के कर्मा कग्यू मठ की यात्रा अवश्य करें बताया जाता है कि ये मठ कोई 200 साल पुराना है। युक्सोम से जोंगरी पीक सिक्किम ट्रैकिंग और ट्रैकर्स दोनों का मक्का है। तो यदि आपमें डर से लड़कर उसे जीतने का जज्बा है तो आप ट्रैकिंग के जरिये युक्सोम से जोंगरी पीक की यात्रा अवश्य करें। अगर आप चाहें तो सिल्लिम के सबसे लोकप्रिय ट्रैक गोइचा पीक की भी यात्रा कर सकते हैं। आपको बताते चलें कि गोइचा पीक पर ट्रैक का शुमार सिक्किम के अलावा भारत के सबसे जटिल ट्रैकों में होता है क्योंकि इसके लिए आपको घने जंगलों से होकर गुज़ारना पड़ता है। ज्ञात हो कि विदेशियों को यहां ट्रैकिंग के समय परमिट दिखाना पड़ता है। भिक्षुओं से अनुमति लेने के बाद, यहां कुछ दिनों के लिए रहने का विकल्प होता है। यह वास्तव में आपकी आत्मा से जुड़ने का एक स्थान है। ज़ोंगरी ट्रेक यहां देखने के लिए सबसे खूबसूरत जगहों में से एक है।

करने के लिए काम

ट्रेकिंग यहां सबसे लोकप्रिय गतिविधियों में से एक है। आप विभिन्न क्षेत्रों में जा सकते हैं और एक दिन का ट्रेक या पूर्व रात अभियान ट्रेक भी चुन सकते हैं। इसके अलावा, यहां राफ्टिंग और पैरा ग्लाइडिंग जैसे अकेले साहस का अनुभव करने के लिए बहुत सारे साहसिक खेल भी हैं। आप पहाड़ी इलाकों में रिमोट मठों में से एक में भी रह सकते हैं जहां भिक्षु बहुत भव्य स्वागत करते हैं।

कहाँ रहा जाए

द हिडन फोरेस्ट
मध्य सिच्चे
गंगटोक - 737101
सिक्किम।
दूरभाष: 91-3592-205197
मोबाइल: (0) 9474 9 1367, 9434137409


टीन टेली इको गार्डन रिज़ॉर्ट
रुमटेक, सिक्किम
फोन: + 91-3592 252256,
मोबाइल: + 91-98320 14867,
ईमेल: sikkimresort@hotmail.com




उत्तराखंड ऋषिकेश के आश्रम


भारत में एकांत गंतव्य स्थल

हिमालय की तलहटी ऋषिकेश शहर है, जो काउंटी में सबसे महत्वपूर्ण धार्मिक पर्यटन स्थलों में से एक है। यह एक ऐसा क्षेत्र है जहां एक प्राचीन काल की परंपराओं के साथ समकालीन आत्मा विलय को देखता है। यह एक ऐसी भूमि है जहां हजारों मंदिर और खूबसूरत नदी अलकनंदंद हैं, जो अपनी सारी महिमा में अतीत में तैरती हैं। इस शहर में कुछ सबसे लोकप्रिय आश्रम और उपचार रिसॉर्ट्स भी हैं। यदि आप वास्तव में एक दूरस्थ छुट्टी चाहते हैं, तो आपको निश्चित रूप से इन आश्रमों में से एक में रहना चाहिए क्योंकि आपको यहां वास्तविक आत्म का अनुभव करना पड़ता है। इन आश्रमों में, आप भारतीय और संतों के असली गुरुओं से मार्गदर्शन प्राप्त कर सकते हैं। हिमालय की पहाड़िया और प्राकर्तिक सौन्दर्यता से ही इस धार्मिक स्थान से बहती गंगा नदी ऋषिकेश को अतुल्य बनाती है | ऋषिकेश का शांत वातावरण कई विख्यात आश्रमों का घर है | हर साल ऋषिकेश के आश्रमों में बड़ी संख्या में तीर्थयात्री ध्यान लगाने और मन की शांति के लिए आते है |वशिष्ठ गुफा , लक्ष्मण झूला और नीलकंठ मंदिर आदि ऋषिकेश के प्रमुख पर्यटन स्थल है ऋषिकेश पर्यटन का सबसे आकर्षक स्थल है। विदेशी पर्यटक भी यहाँ आध्यात्मिक सुख की चाह में नियमित रूप से आते रहते हैं। मान्यता है कि समुद्र मंथन के दौरान निकला विष भगवान शिव ने इसी स्थान पर पिया था। विष पीने के बाद उनका गला नीला पड़ गया और उन्हें 'नीलकंठ महादेव' के नाम से जाना गया। एक अन्य किवदंती के अनुसार भगवान श्रीराम ने अपने वनवास काल के दौरान यहाँ के जंगलों में अपना समय व्यतीत किया था। रस्सी से बना 'लक्ष्मण झूला' इसका प्रमाण माना जाता है  ऋषिकेश में लक्ष्मण झूला पार करते ही गीता आश्रम है। यहाँ रामायण और महाभारत के चित्रों से सजी दीवारें इस स्थान को आकर्षण बनाती हैं। यहाँ एक आयुर्वेदिक डिस्पेन्सरी और गीताप्रेस गोरखपुर की एक शाखा भी है। आप योग, दिव्य जीवन, सांसारिक वांछित छोड़ने आदि के बारे में जान सकते हैं। ध्यान और प्रार्थना दैनिक दिनचर्या का हिस्सा हैं। यदि आप आध्यात्मिक पलायन के लिए उत्सुक हैं, तो यह निश्चित रूप से आपकी पसंद है। न केवल आप साधारण जीवन का अनुभव करते हैं, बल्कि आप उन संतों में भी आते हैं जो दूरदराज के गुफाओं में रहते हैं, बिना किसी बुनियादी आवश्यकता के, बस प्रार्थना और ध्यान करते हैं। यहां से ट्रेक उपलब्ध हैं कि आप एक दूरदराज के गुफा में प्रार्थना करने वाले इन दूरदराज के संतों में से एक को देख सकते हैं। बेशक, शहर में भीड़ है लेकिन इन आश्रमों पर, आप पूर्ण एकांत का अनुभव कर सकते हैं। यहां छोटे बड़े कई आश्रम मौजूद हैं जो अपनी धार्मिक और आध्यात्मिक गतिविधियों के लिए जाने जाते हैं। इसके अलवा ऋषिकेश योग के लिए भी जाना जाता है। यहां देश-विदेश से सैलानी बेहतर यौगिक अनुभव के लिए आते हैं। अब यहां आधुनिक योगशालाएं भी खुल चुके हैं, जो एक निश्चित अवधी के लिए योग अभ्यास कराते हैं। इसके अलावा यहां नेचुरोपैथी और अन्य आर्युवैदिक उपचार भी किए जाते हैं।

करने के लिए काम

यहां करने के लिए सबसे अच्छी बात मंदिरों का दौरा करना। ये आश्रम अकेले कमरे और झोपड़ियों की पेशकश करते हैं, जहां आप एक दूरस्थ और फिर भी शांतिपूर्ण क्षेत्र में रहते हैं। यहां पर, आप परेशानियों के बिना घंटों तक प्रार्थना और ध्यान कर सकते हैं। आश्रम रहने के बाद, आप कुछ मज़े के लिए सफेद पानी राफ्टिंग भी जा सकते हैं और पहाड़ियों के नीचे शिविर के किनारों में से एक तक जा सकते हैं। प्रार्थना और योग के साथ गुरुओं द्वारा सुझाए गए शुद्ध आहार का पालन करें और पवित्र गंगा के तट पर स्वंय को एकांत पाएं।



गोवा में ले किराए की नाव का आनंद

भारत में एकांत गंतव्य स्थल

गोवा शायद भारत में सबसे ज्यादा भीड़ वाले स्थानों में से एक है, इसलिए आपको आश्चर्यचकित होना चाहिए कि पृथ्वी पर कोई वास्तव में वहां एकांत कैसे ढूंढ सकता है या शांति अवकाश का आनंद ले सकता है। लेकिन गोवा समुद्र तट की मील भी प्रदान करता है जिसकी खोज नहीं की जाती है। यहां आप दोनों दुनिया के सर्वश्रेष्ठ अनुभव कर सकते हैं। समुद्र पर, आपको भीड़ के बारे में चिंता करने या खोने की ज़रूरत नहीं है। आप स्वंय के साथ शांतिपूर्ण निजी पल बिता सकते हैं। यहां नाव का अनुभव बस किराए पर ले कर पूरा किया जा सकता है। गोवा तट पर एक नौका आसानी से उपलब्ध है। आपको बस यह सुनिश्चित करना होगा कि आप पहले से ही एक चुनें। यह वास्तव में दुनिया से अलग होने का एक अच्छा विकल्प है। आप अपने बजट के आधार पर कुछ दिन या उससे अधिक के लिए नाव चुन सकते हैं या किराए पर ले सकते हैं। एक बार जब आप नाव लेते हैं, तो आप समुद्र में किसी राजा की तरह बाहर निकलते हैं जहां चारों और पानी ही पानी और आप अपनी नौका के साथ यात्रा कर रहे हों।  तट पर बहुत कम नौकाएं हैं। यह नव विवाहितों के लिए एक महान स्थल है । लेकिन सावधान रहें कि यदि आपके पास समुद्र या पानी से जर लगता है तो आपको इससे दूर रहनी चाहिए। गोवा में एक यह नया आकर्षण अभी जुड़ा है। आप यहां पणजी, वास्को दा गामा, मारगांव, मापुसा, पोंडा, ओल्ड गोवा, छापोरा, वेगाटोर, बेनॉलिम, दूधसागर झरने भी है। इसके अलावा गोवा का अगुडा किला भी प्रमुख दर्शनीय स्थलों में से एक है। जिसका आप आनंद ले सकते हैं।

करने के लिए काम

नाव पर आपको रसोईघर, टेलीविजन इत्यादि सहित सबकुछ मिल जाएगा। यदि आप समुद्र में गहराई से बाहर निकलते हैं तो वाई-फाई एक समस्या हो सकती है। लेकिन विचार बस आराम और सूर्यास्त और सूर्योदय देखना है। आप समुद्र में डुबकी के लिए भी जा सकते हैं और समुद्री पक्षियों और समुद्री शैवाल देख सकते हैं। इसके अलावा यह आपके साथी या खुद के साथ अकेले रहने का एक सही तरीका चुन सकते है। कुछ खाना पकाने, व्यायाम और सरल विश्राम कर सकते हैं।

नौका किराए पर कहां है

चैंपियंस यॉट क्लब
गेरा इंपीरियम 1
ग्राउंड फ्लोर - जी 12 और जी 14
ईडीसी परिसर,
पट्टो प्लाजा,
पंजिम, गोवा- 403001
फोन: 080-451 51201 या + 91-777 406 2621
ईमेल: info@championsyachtclub.com
sales@championsyachtclub.com




फूलों की घाटी, उत्तराखंड

भारत में एकांत गंतव्य स्थल

उत्तराखंड के सीमांत चमोली जनपद के उच्च हिमालयी क्षेत्र में समुद्र तल से 3962 मीटर की ऊंचाई पर स्थित 87.5 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल में फैली यह घाटी पर्यटकों के लिए कुदरत का अनुपम उपहार है। यह वही घाटी है, जिसका जिक्र रामायण और महाभारत में नंदकानन के नाम से हुआ है। यह हिमालय, उत्तराखंड में सीधे चुने गए सबसे शांत स्थल में से एक है। फूलों की घाटी एक जगह है, जो आपको महसूस करती है कि आप बस पृथ्वी पर नहीं हैं। हर जगह हरे-भरे हरियाली हैं और आप एक पथ के नीचे आनंद ले रहे हैं। यह न केवल उन लोगों के लिए एक स्वर्ग है जो कुछ अकेलेपन की तलाश में हैं बल्कि दुनिया भर से वनस्पतिविद भी हैं। यह दुनिया के कुछ दुर्लभ फूलों का घर है जैसे ब्लू पोस्पी या भ्रामकमल। यहां से, आप हर रोज पहाड़ों और सांस ताजा हवा के मनोरम दृश्य देख सकते हैं। इसकी बेइंतहां खूबसूरती से प्रभावित होकर स्मिथ 1937 में दोबारा घाटी में आए और 1938 में ‘वैली ऑफ फ्लॉवर्स’ नाम से एक किताब प्रकाशित करवाई। वर्ष 1982 में फूलों की घाटी को राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया। हिमाच्छादित पर्वतों से घिरी यह घाटी हर साल बर्फ पिघलने के बाद खुद-बखुद बेशुमार फूलों से भर जाती है। यहां आकर ऐसा प्रतीत होता है, मानो कुदरत ने पहाड़ों के बीच फूलों का थाल सजा लिया हो। अगस्त से सितंबर के बीच तो घाटी की आभा देखते ही बनती है। प्राकृतिक रूप से समृद्ध यह घाटी लुप्तप्राय जानवरों काला भालू, हिम तेंदुआ, भूरा भालू, कस्तूरी मृग, रंग-बिरंगी तितलियों और नीली भेड़ का प्राकृतिक वास भी है फूलों की घाटी में जुलाई से अक्टूबर के मध्य 500 से अधिक प्रजाति के फूल खिलते हैं। खास बात यह है कि हर 15 दिन में अलग-अलग प्रजाति के रंगबिरंगे फूल खिलने से घाटी का रंग भी बदल जाता है। यह ऐसा सम्मोहन है, जिसमें हर कोई कैद होना चाहता है। हिमालय की ऊंची घाटियों में स्थित इस पार्क में लगभग 300 तरह के एलपाइन फूल पाए जाते हैं। जिससे बर्फ से ढंके पहाड़ों के आगे ऐसा लगता है मानो रंग-बिरंगी कालीन बिछी हों। लगभग 55 मील में फैले इस पार्क को 1982 में राष्ट्रीय उद्यान का दर्जा मिला। यह उद्यान नंदी देवी नेशनल पार्क के पास ही है।

करने के लिए काम

फूलों की घाटी पर, आपको वास्तव में चीजों के बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है। आपको बस अपना समय कुछ भी नहीं करना है। मनोरम दृश्यों का अन्वेषण करें और स्थलों का आनंद लें। बस घाटी के बीच में सुंदर फूलों और पक्षियों की उड़ान देखें। यदि आप चाहते हैं, तो आप एक डायरी बना सकते हैं और उन सभी पक्षियों, फूलों आदि को नोट कर सकते हैं जिन्हें आप यहां देखते हैं। छोटी ट्रेक पर जाएं और शानदार पहाड़ी की जांच करें। प्रकृति को सर्वोत्तम रूप से देखने के लिए जंगल में गहरे घूमते हैं, जबकि आप अपनी अकेली छुट्टी का आनंद लेते हैं।

कहाँ रहा जाए

होमस्टे
राष्ट्रीय राजमार्ग 58
जोशीमठ, उत्तराखंड 246443
भारत


हिमालयी इको लॉज
घंगरिया (फूलों की घाटी)
चमोली 246443




जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क, उत्तराखंड

भारत में एकांत गंतव्य स्थल

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क भीड़ की दुनिया से दूर होने और प्रकृति के संपर्क में आने के लिए एक दूरस्थ और अभी तक आरामदायक संलग्नक है। यह विशाल पार्क है और सैकड़ों किलोमीटर से अधिक फैला हुआ है। यहां पर, आप शहर के जीवन की हलचल से दूर होने का अनुभव कर सकते हैं। यह राजसी बाघ का घर भी है। उत्तरांचल के आधार पर, बाघों की भूमि, यहां जानवरों और पक्षियों की विभिन्न प्रजातियां भी हैं। पहाड़ियों के नीचे छोटी धाराएं बहती हैं और अचानक मार्ग के माध्यम से रिव्यूलेट काटते हैं। यहां पर, आप मेहमानों को नामित छोटे कॉटेज में एकांत पा सकते हैं। यहां तक कि जब कुछ लोग आसपास हैं, तो आप कुछ अकेला शांति अनुभव कर सकते हैं। 520 स्क्वेयर किलोमीटर इलाके में फैला यह पार्क 4 अलग-अलग जोन्स में बंटा हुआ है- बिजरानी, धिकाला, झिरना और दुर्गादेवी जोन। पीक सीजन के वक्त हर साल करीब 70 हजार टूरिस्ट्स देश ही नहीं बल्कि दुनियाभर से जिम कॉर्बेट आते हैं। कॉर्बेट नेशनल पार्क वन्य जीव प्रेमियों के लिए एक स्वर्ग है जो प्रकृति माँ की शांत गोद में आराम करना चाहते हैं।  जिम कॉर्बेट पार्क लगभग 160 बाघों का आवास है। यह रामगंगा नदी के किनारे स्थित है और यहाँ के आकर्षक पर्यटन स्थलों का भ्रमण करने तथा साहसिक सफ़ारी के लिए पर्यटक यहाँ आते हैं। इस पार्क में दिखाई देने वाले जानवरों में बाघ, चीता, हाथी, हिरण, साम्बर, पाढ़ा, बार्किंग हिरन, स्लोथ भालू, जंगली सूअर, घूरल, लंगूर और रेसस बंदर शामिल हैं। इस पार्क में लगभग 600 प्रजातियों के रंगबिरंगे पक्षी रहते है जिनमें मोर, तीतर, कबूतर, उल्लू, हॉर्नबिल, बार्बिट, चक्रवाक, मैना, मैगपाई, मिनिवेट, तीतर, चिड़िया, टिट, नॉटहैच, वागटेल, सनबर्ड, बंटिंग, ओरियल, किंगफिशर, ड्रोंगो, कबूतर, कठफोडवा, बतख, चैती, गिद्ध, सारस, जलकाग, बाज़, बुलबुल और फ्लायकेचर शामिल हैं। इसके अलावा यात्री यहाँ 51 प्रकार की झाडियाँ, 30 प्रकार के बाँस और लगभग 110 प्रकार के विभिन्न वृक्ष देख सकते हैं।

करने के लिए काम

आप एक सफारी का चयन करके पशु और पक्षी देख सकते हैं। पार्क में 110 प्रकार के पेड़, 50 स्तनपायी नस्ल के प्राणी, पक्षियों के 580 जातियाँ, 25 प्रकार केरेंगने वाले जीव पाए जाते हैं। यह पार्क प्रोजेक्ट टाइगर का एक अभिन्न अंग है। पार्क के प्राकृतिक पहाड़ों की गोद में चीते दिखाई देते हैं। विभिन्न प्रकार की नाकॅटरनल बिल्लियाँ यहाँ पाई जाती हैं। इसके अलावा अनेक जंगली बिल्लियाँ भी मिलती हैं। यदि आप अपने आप से बाहर निकलना चाहते हैं, तो आपको गार्ड से सुरक्षित मार्गों के बारे में अनुमति लेनी होगी चूंकि यह एक राष्ट्रीय वन रिजर्व है, इसलिए आपके पास मुख्य वन क्षेत्र तक सीमित पहुंच होगी। लेकिन कम घने हिस्सों के साथ, आप ट्रेकिंग और शिविर योजनाओं का काम कर सकते हैं।

कहाँ रहा जाए

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क
रामनगर,
नैनीताल, उत्तराखंड (भारत)
पोस्टल कोड - 244715
संपर्क संख्या - + 91-8826678883, + 91-7409250836
ईमेल: contact@corbettnationalpark.in


To read this article in English Click here
614
  • SHARE THIS
  • TWEET THIS
  • SHARE THIS
  • COMMENT
  • LOVE THIS 0

Related Links

Comments / Discussion Board - भारत में सर्वश्रेष्ठ एकांत गंतव्य स्थल

Loader