Editor's Choice:

Share this on Facebook!

भारत में 21 पक्षी-विहार के स्थान

Indiaonline
Close

Want more stories like this?

Like us on Facebook to get more!
Close

भारत में 21 पक्षी-विहार के स्थान

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

भारत एक प्रकृति संपन्न देश हैं। यह हर तरह से परिपूर्ण है। भारत को एक सुंदर देश यहां की कला-संस्कृति, विभिन्न समुदायों के लोग, उनके उत्सव एवं त्यौहारों के साथ यहा के जीव जंतु बनाते हैं। पशु-पक्षियों का प्रकृति की सुंदरता को बढ़ाने में विशेष योगदान रहा है। भारत में तो प्राकृतिक दृश्टि से सभी चीजें व्याप्त है। उत्तर के पहाड़ों से लेकर दक्षिण के समुद्र तट तक, पूर्व की हरियाली से लेकर पश्चिम के रेगिस्तानों की चमक तक सभी इसे एक सुंदर राष्ट्र बनाती है। किन्तु भारत की सुंदरता में चार चांद लगाने का कार्य पक्षी करते हैं। जी हां भारत में पक्षियों की विभिन्न प्रजातियां वास करती है जो भारत के प्रत्येक राज्य, प्रत्येक शहर-गावों में पाई जाती है। भारत के यह रंग-बिरंगे पक्षी इसमें खुशियों के रंग भर देते हैं। इसलिए भारत को विविध वन्यजीव किस्मों का घर भी कहा जाता है। पर्यावरण प्रणालियों, बायोमास और अन्य भौगोलिक और पर्यावरणीय विशेषताओं की विविधता ने भारत को विभिन्न जानवरों, सरीसृपों और निश्चित रूप से पक्षियों से संपन्न कर सबसे लोकप्रिय निवासों में से एक का नेतृत्व प्रदान किया है। यद्यपि भारत ना केवल स्वदेशी हजारों पक्षियों की प्रजातियों का घर है बल्कि पड़ोसी देशों के साथ दूर देशों के पक्षियों की भी पहली पसंद के रुप में व्यापत है। भारत में प्रत्येक वर्ष हजारो की संख्या में यूरोप, अमेरिका, अफ्रीका, जैसे दूरदराज स्थानों से पक्षी भ्रमण के लिए यहां आते हैं।

आधुनिक दुनिया में तकनीक बदवाल के कारण आज प्रकृति के लिए खतरा पैदा हो गया है। आबादी से लेकर प्रदूषण तक इतना ज्या दा बढ़ गया है, कि मनुष्य , पशु-पक्षी और वनस्पिति का जीवन दूभर हो गया है। हालांकि पर्यावरणीय संबंधी इन समस्यापओं को दूर करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं, लेकिन अभी तक इन पर पूर्ण नियंत्रण नहीं पाया गया है। इन खतरों के कारण कई प्रजातियां समाप्तइ हो रही हैं, और विलुप्ति होने की कगार पर हैं। ऐसे में कई पशुओं को चिडियाघर और कई पक्षियों को बर्ड सेंचुरी में संरक्षित किया जा रहा है। जिससे की उनके जीवन को कोई खतरा न हो। बढते प्रदूषण के चलते आज पक्षियों की संख्या मे अवश्य गिरावट आ रही है किन्तु भारत में ऐसी कई जगह एवं पक्षी विहार है जहां आप पक्षियों की मधुर आवाज सुनने के साथ उन्हें देख सकते हैं। पक्षिय़ों की चहचाहट ही हमारा मन मोह लेती है। हम सभी ज्यादा से ज्यादा पक्षियों के बारे में नहीं जानते लेकिन पक्षी विहारों के माध्यम से पक्षियों के विभिन्न स्वरुप, प्रजातियों को देखा जा सकता है जहां यह पक्षी अपनी ही मस्ती में चूर होते हैं और नई-नई अठखेलियां करते रहते है।  स्वाभाविक रूप से, भारत सभी उत्साही पक्षी-देखने वालों के लिए एक स्वर्ग है जो अद्भुत स्थानों की तलाश में इन आश्चर्यजनक प्राणियों के करीब आते हैं।  भारत में कई पक्षी विहार है जो आपको पक्षी प्रेमी के रुप में आमदा करने का दम रखते हैं। भारत के पक्षी विहारों की सूची नीचे दी गई हैं।



1. पंगोट, उत्तरांचल

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

नैनीताल से 15 किमी की दूरी पर स्थित पंगोट, एक छोटा गाँव है। नैनीताल कुमायूं हिमालय की तलहटी पर स्थित पंगोट पक्षियों को देखने का एक अद्भुद स्थान है।  घाटी जिस पर शहर स्थित है, एक नाशपाती के आकार की झील है, जो आकार में विशाल है। आश्चर्यजनक नैनीताल झील शक्तिशाली पहाड़ों और घने जंगल से घिरा हुआ यह शहर अपने आप में सुंदरता की मिसाल है।  यह पक्षी प्रेमियों के स्वर्ग के रूप में प्रसिद्ध है क्योंकि लगभग 200 पक्षी प्रजातियाँ यहाँ वास करती हैंइस घाटी की समुद्र तल से उंचाई लगभग 1938 मीटर है। यह भारतीय और प्रवासी पक्षियों दोनों के लिए सबसे लोकप्रिय स्थल हैं।

आमतौर पर यहाँ देखे जाने वाले पक्षियों में ग्रिफॉन, रयुफस बेली वुड-पैकर (कठफोड़वा), नीले पंख वाले मिनला, धब्बेदार और स्लेटी फोर्कटेल, लैमरगेयर्स, रयुफस बेली निलतावास और खलीज़ तीतर शामिल हैं पंगोट में सबसे आम पक्षियों में लांग-पूंछ और शॉर्ट-बिल मिनिनेट, रूफस सिबिया, लिटिल पाइड फ्लाईकैचर, स्मॉल निल्टावा, व्हाइट - ब्रोड श्रीके-बाबलर, व्हाइट-टेलेड न्यूथैच, ग्रीन-टेल और ब्लैक-थ्रोटेड सनबर्ड, हिमालयी बारबेट, इंडियन ब्लू एंड ऑरेंज-फ्लैंकड बुश रॉबिन, हिमालय ब्लैक बुलबुल, वुडपेकर, ब्लू मैग्ज इत्यादि शामिल है।



2. केवलादेव घाना राष्ट्रीय उद्यान, भरतपुर

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

भारत के पश्चिमी राज्य राजस्थान के भरतपुर में स्थित केवलादेवी घाना राष्ट्रीय उद्यान एक विरासत स्थल के रुप में सम्मानित है। , भरतपुर में केवलादेव घाना राष्ट्रीय उद्यान भारत में सबसे प्रसिद्ध पक्षी-देखने वाले विहारों में से एक है। जो भारत भरतपुर अभयारण्य के रूप में जाना जाता है। विश्व धरोहर सूची में शामिल यह स्थान प्रवासी पक्षियों का भी बसेरा है। यह भारत का सबसे बड़ा पक्षी अभयारण्य है जो 1964 में अभयारण्य और 1982 में राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया था। यह भारत में सबसे बेहतरीन पक्षी अभयारण्यों में से एक है। विशेष रूप से, यहाँ पर पक्षियों की सबसे दुर्लभ प्रजातियाँ सर्दियों के दौरान पाई जाती हैं, भरतपुर अभयारण्य राजस्थान का गौरव है।  यहां पक्षियों की सबसे बड़ी मात्रा (300 से अधिक प्रजातियां) पाई जाती हैं जो कि 2 9 वर्ग किलोमीटर के बहुत ही सीमित क्षेत्र में उपलब्धहैं। पार्क के चारों ओर गीले घास के मैदान और घने जंगल पक्षियों की एक बड़ी श्रृंखला को आकर्षित करते हैं।

यहां हर साल सर्दियों के मौसम में अक्टूबर से फरवरी के महीनों में दुर्लभ और लुप्तप्राय पक्षी बड़ी संख्याब में आते हैं। क्रेन, पेलिकन, गुई, बतख, ईगल्स जैसे और कई दूसरी प्रजातियों के पक्षी यहां पर देखने को मिलते हैं। इस उद्यान में न केवल देश से बल्कि यूरोप, अफगानिस्तान, चीन, मंगोलिया, रूस और तिब्बत आदि से भी पक्षी आते हैं। 5000 किलोमीटर की यात्रा पूरी कर दुर्लभ प्रवासी पक्षी साइबेरियन क्रेन सर्दियों में यहां पहुंचते हैं जो पानी में पाए जाने कुछ पक्षी जैसे सिर पर पट्टी और ग्रे रंग के पैरों वाली बतख, पिनटेल बतख, सामान्य छोटी बतख, रक्तिम बतख, जंगली बतख, वेगंस, शोवेलेर्स, सामान्य बतख, लाल कलगी वाली बतख आदि यहां पाए जाते हैं। यह राष्ट्रीय उद्यान सुंदर पक्षियों की 375 से अधिक प्रजातियों का बसेरा है। भरतपुर अभयारण्य मेजबानों को पानी के मुर्गियों, नीले रंग के रॉबिन, जड़ी-बूटियों, भारतीय कूरर, इंपीरियल, ब्लैक बिटरर्न, इंडियन और ग्रे नाइटजर्स, ओपनबिल स्टोर्क, लैपविंग्स, एग्रेट्स, सरुस क्रेन, स्पूनबिल्स आदि कई पक्षी पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करते हैं।



3. जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

भारत में सबसे प्रसिद्ध राष्ट्रीय उद्यानों में से एक, जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क एक और लोकप्रिय स्थल है जहां बड़ी संख्या में पक्षियों का घर बना रहता है। कृति की अपार वन-सम्पदा को अपने में समेटे हुए जिम कार्बेट राष्ट्रीय  अभयारण्य उत्तरांचल राज्य के नैनीताल जिले में रामनगर शहर के निकट एक विशाल क्षेत्र को घेर कर बनाया गया है। यह  गढवाल और कुमाऊँ  के बीच  रामगंगा नदी के किनारे  लगभग 1316 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला है। भारत में यह सबसे पुराना पार्क अपने संरक्षित क्षेत्र में पक्षियों की कम से कम 580 प्रजातियों की मेजबानी करता है। जिम कॉर्बेट पार्क उप-हिमालयी बेल्ट पारिस्थितिकीय और भौगोलिक सुविधाओं के कारण मोटा और नम पर्णपाती वन पक्षियों और कई अन्य जानवरों और सरीसृपों की इतनी बड़ी संख्या को आकर्षित करने वाला एक प्रभावशाली हिस्सा निभाता है।

यह स्थान पक्षियों को देखने के उत्तम अवसर प्रदान करता है। ठंड के मौसम के दौरान प्रवासी पक्षी मुख्य रूप से मुरगाबी यहाँ सामान्य रूप से देखी जा सकती है। इस पार्क में लगभग 600 प्रजातियों के रंगबिरंगे पक्षी रहते है जिनमें मोर, तीतर, कबूतर, उल्लू, हॉर्नबिल, बार्बिट, चक्रवाक, मैना, मैगपाई, मिनिवेट, तीतर, चिड़िया, टिट, नॉटहैच, वागटेल, सनबर्ड, बंटिंग, ओरियल, ड्रॉन्गो कूकू, डॉलरबर्ड, व्हाइट-कैपड बंटिंग, स्पॉट-विंगड स्टार्टलिंग, लांग-पूंछ ब्रॉडबिल, ब्लैक स्टोर्क, ब्लैक-गर्दन स्टॉर्क, मिनीवेट, ओसी मिनीवेट, लेसर कौल्क, ग्रेट हॉर्नबिल, रूफस- बिल ईग,ल किंगफिशर, ड्रोंगो, कबूतर, कठफोडवा, बतख, चैती, गिद्ध, सारस, जलकाग, बाज़, बुलबुल और फ्लायकेचर शामिल हैं।  सैलानी यहां आकर प्राकृतिक सौन्दर्य का जी भर कर आनन्द उठा सकते हैं।



4. तालछापर अभयारण्य, राजस्थान

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

तालछापर अभ्यारण राजस्थान का एक और प्रसिद्ध पक्षी विहार है। यह कभी  एक बार बीकानेर के महाराजा के लिए एक शिकार स्थल के रुप में स्थारित था जिसे पूर्ण वन्यजीव अभयारण्य में परिवर्तित कर दिया गया है। 1920 से तालछपार के पास पशु जीवन को संरक्षित करने का लंबा इतिहास है और अब भारत में एक प्रसिद्ध संरक्षण स्थल है जो ज्यादातर ब्लैकबक भीड़ के लिए प्रसिद्ध है। प्रजातियों की कुल जनसंख्या लगभग 2000 है। पार्क थार के किनारों पर स्थित है और स्थान प्रचुरता में वनस्पति प्रदान नहीं करता है, लेकिन पार्क के प्रशासकों के महान इरादों ने इसे एक गौरवशाली अभयारण्य बना दिया है। पिछले कई वर्षों से सैंकड़ों प्रजाति के प्रवासी पक्षी भी आने लगे है। अब अभयारण्य की पहचान पक्षी विहार के रूप में भी होने लगी है। वन्य जीवों को करीब से निहारने प्रवासी पक्षियों के कलरव को देखने के लिए प्रतिवर्ष हजारों पर्यटक अभयारण्य में आते है।

सितंबर से मार्च तक मंगोलिया कजाकिस्तान मूल के कुरजां पक्षियों के अलावा यूरोप एशिया महाद्वीप के स्टार्क, हैरीयर, लद्दाख मानसरोवर के बार हैडेड गीज, आस्ट्रेलिया के फ्लेमिंगों सहित सैंकड़ों प्रजाति के हजारों पक्षी प्रतिवर्ष अभयारण्य में मेहमान बन कर आते है, जिसके चलते पिछले कई वर्षों से अभयारण्य की पहचान पक्षी विहार के रूप में भी होने लगी है।  ताल छपार में आमतौर पर देखे जाने वाले पक्षी अविफाउना, पूर्वी शाही ईगल, स्पैरो, ब्लू जेज़, रिंग कबूतर, ब्राउन कबूतर, स्काइलार्क, टॉनी ईगल, डेमोइसेल क्रेन, शॉर्ट-टूड ईगल, ब्लैक इब्स, क्रेस्टेड लार्क इत्यादि यहां देखे जाने वाले प्रसिद्ध पक्षी हैं।

 

5. मंगलाजोडी, चिल्का झील, ओडिशा

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

उड़ीसा में स्थित खूबसूरत चिल्का झील न केवल मानव ध्यान को अपना और आकर्षित करती है बल्कि यह हजारों प्रवासी पक्षियों को भी अपनी ओर आकर्षित करती है जो झील को और भी खूबसूरत बनाते हैं। विचित्र मंगलाजोडी गांव सबसे सक्रिय वन्यजीव संरक्षण केंद्र में से एक के रूप में जाना जाता है। उपजाऊ गीले घास के मैदान और बिखरे घास के मैदान (खगरा रीड) मंगलजोडी पक्षियों के लिए एक आदर्श गंतव्य बनाते हैं। 1100 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र के इस खारे लैगून में लगभग 160 पक्षी प्रजातियां हैं। सर्दियों के मौसम में सात-समंदर पार कर असंख्य प्रवासी पक्षी इस झील तक पहुंचते हैं। एकसाथ इतने सारे पक्षियों को देखना सच में कल्पना से परे है। बता दें कि यहां रूस, लद्दाख, मध्य एशिया , बैकाल झील आदि जगहों से रंग बिरंगे विभिन्न पक्षी उड़कर आते हैं। यह झील 14 प्रकार के शिकारी पक्षी, 152 रेयर इरावती डॉल्फिन, व 37 प्रकार के सरीसृप (रेंगनेवाला जन्तु) उभयचरों (जलथलचर) का निवास स्थान भी है

मंगलाजोडी चिल्का क्षेत्र के प्राचीन गांवों में से एक है। यह गांव मछली पकड़ने के गांव के रूप में जाना जाता है। पूर्वी तट पर बसा यह खूबसूरत गांव, कई पक्षी प्रजातियों के साथ दुर्लभ पक्षियों का मुख्य निवास है। इस मंदिर का नाम 250 वर्ष पुराने जुड़वा मंदिर 'रघुनाथ मंदिर' के नाप पर रखा गया, जो धार्मिक गतिविधियों का मुख्य केंद्र है। चिलिका में सबसे आम पक्षी लुप्तप्राय काले-पूंछ वाले गॉडविट, बड़े अहंकार, छोटे कॉर्मोरेंट, भारतीय तालाब हेरॉन, बैंगनी मुरहेन, ब्राह्मण शेल्डक, मार्श सैंडपाइपर, कांस्य-पंख वाले जैकाना इत्यादि हैं। सी इगल, ग्रेलैग गीज़, पर्पल मोरहेन, फ्लेमिंगो जकाना की भी प्रजातियां देखी जा सकती हैं। पक्षियों के साथ-साथ यहां जंगली जानवर जैसे ब्लैकबग, गोल्डेन जैकाल, स्पॉटेड हिरन और हायना भी मौजूद हैं।



6. बैनरघाटा राष्ट्रीय उद्यान, कर्नाटक

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

बैंगलोर से केवल 25 किलोमीटर दूर एक सतर्क रूप से संरक्षित वन्यजीव अभयारण्य है जिसमें 25,000 एकड़ क्षेत्र शामिल है। इस अभ्यारण की नाम बैनरघाटा राष्ट्रीय उद्यान है। यहां सर्कस कंपनियों से बचाए गए जानवरों के ज्यादातर शेर और बाघ के लिए पुनर्वास केंद्र स्थापित किया गया है। बैनरघाटा राष्ट्रीय उद्यान पक्षी-निरीक्षकों के लिए एक स्वर्ग भी है। पार्क लगभग 200 पक्षी प्रजातियों का घर है। पार्क मधुमक्खियों, भारतीय सींग वाले उल्लू, हरी बार्बेट, बैंगनी सनबर्ड, टिकेल के नीले, भारतीय किंगफिशर, फंतासी फ्लाईकैचर और भी कई पक्षियों का निवास स्थान है।



7. रंगनाथथु पक्षी अभयारण्य, कर्नाटक

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

प्रसिद्ध ऑर्निथोलॉजिस्ट डॉ सलीम अली के सुझाव पर 1940 में एक पक्षी अभयारण्य घोषित किया गया, जिसे रंगनाथथु पक्षी अभ्यारण का नाम दिया गया। यह पार्क वास्तव में पक्षियों और पक्षी-निरीक्षक दोनों के लिए एक स्वर्ग है। यह अभयारण्य ऐतिहासिक शहर, श्रीरंगपट्टन के पास कावेरी के तट पर स्थित है। यह कावेरी नदी के तट पर स्थित है। इक विहार का अधिकांस भाग नदी बायोम क्षेत्र में आता है। 18 वीं सदी में जब कावेरी नदी के पार एक बांध बनाया गया था तब यह पक्षी विहार अस्तित्व में आया है। पक्षी विज्ञानी डॉ॰सलीम अली के अनुसार यह क्षेत्र महत्वपूर्ण घोंसले के लिये अनुकुल है जो कि पक्षियों को पनाह देता है। मैसूर राजी वोड़ेयार ने इसे 1940 में एक वन्यजीव अभयारण्य घोषित है  अभयारण्य के आस-पास आरामदायक वातावरण और व्यापक पत्ते के जंगल पक्षियों के लिए आदर्श घर बनाते हैं। अभयारण्य नदी पर छह छोटे द्वीपों सहित 40 एकड़ के क्षेत्र को कवर करता है।

आप यहां कई तरह के खूबसूरत पक्षियों को देख सकते हैं, जिनमें पेंटेड स्ट्रोक, हेरन, स्ट्रोक बिल्ड किंगफिशर, कॉमन स्पूनबिल, पेलिकन आदि शामिल हैं। पक्षी प्रेमियों के लिए यह एक आदर्श स्थल है। 30 प्रजातियों में से रंगनाथितु में सबसे लोकप्रिय रूप से देखे जाने वाले पक्षियों में आम चम्मच, चित्रित स्टोर्क, ओरिएंटल डार्टर, हेरॉन, इग्रेट, स्टोर्क-बिल किंगफिशर, आईबीस, इंडियन शेग, प्लोवर, नदी टर्न और बड़ी संख्या में पेलिकन आदि पक्षी यहां देखने को मिलते हैं। पक्षी देखने के लिए सबसे अच्छा समय नवंबर से जून तक है।



8. पुलिकेट लेक पक्षी अभयारण्य, तमिलनाडु

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

पुलिकेट लेक पक्षी अभयारण्य नमकीन बैकवॉटर लैगून तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश तट पर स्थित है और 321 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र को कवर करता है। विशाल अभयारण्य की आर्द्रभूमि पर्यावरण प्रणाली पक्षियों की लगभग 100 प्रजातियों और अन्य जानवरों की कई प्रजातियों की मेजबानी करती है। प्रवासी मौसम के दौरान, पार्क लगभग 50,000 विदेशी पक्षियों की उपस्थिति का अनुभव करता है जो इसे भारत में सबसे ज्यादा पक्षी-देखने वाली साइटों में से एक बनाता है।

पुलिकट झील, भारत की दूसरी सबसे बड़ी खारी झील है। तमिलनाडू और आंध्र प्रदेश, दोनों राज्यों की सीमा पर स्थित यह झील देश के आधे दक्षिणी भाग से पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती है। यह लैगून पशु और पक्षी जीवन से समृद्ध है और मत्स्य गतिविधियों का वाणिज्यिक केंद्र भी है। इस झील में तीन मुख्य नदियों से पानी आता है- अरनी नदी, कलंगी नदी और स्वर्णमुखी नदी। जैव विभिन्नता और अप्रतिम प्राकृतिक सुंदरता का आनंद उठाने के लिए पुलिकट आये हुए पर्यटकों को यहाँ अवश्य आना चाहिए। हालांकि इस झील में मछली की विभिन्न प्रजातियाँ, दुर्लभ पक्षी, कई रेप्टाइल (सरीसृप) और जलीय वनस्पति देखने को मिलती है परंतु पर्यटक मुख्य रूप से पेलिकन देखने यहाँ आते हैं। पुलिकेट लेक बर्ड अभयारण्य में बड़ी संख्या में जड़ी-बूटियां, आम किंगफिशर, चम्मच, पेलिकन, फ्लेमिंगोस, पेंट किए गए स्टॉर्क और बतख हैं। नवंबर से फरवरी तक पक्षी-देखने के लिए सबसे अच्छा मौसम है।



9. नीरा घाटी राष्ट्रीय उद्यान, पश्चिम बंगाल

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

नीरा घाटी राष्ट्रीय उद्यान पश्चिम बंगाल में स्थित एक प्रसिद्ध पक्षी विहार है। पक्षी-निरीक्षक के लिए यह स्वर्ग है। नीरा घाटी राष्ट्रीय उद्यान एक अर्द्ध सदाबहार जंगल है जो 1600 मीटर और 2700 मीटर के बीच की ऊंचाई पर स्थित है। यहां स्वदेशी के साथ-साथ विदेशी पक्षियों का जमावड़ा लगा रहता है। यह वो सबसे ज्यादा आकर्षित होते हैं। हर साल दिसंबर और जनवरी के महीनों में प्रवासी पक्षियों के पार्क में एक अस्थायी आश्रय लेते हैं और उनकी उपस्थिति सुंदर घाटी को और भी शानदार बनाती है।

नीरा राष्ट्रीय उद्यान (200 मीटर) का नाम उस नदी के नाम पर रखा गया है जो पार्क के भीतर बहती है। पार्क में कई टोरेंट और पहाड़ी धाराएं नेट की तरह फैली हुई हैं, नीरो नदी को खिला रही हैं और संरक्षित क्षेत्र में वनस्पति की एक अद्भुत श्रृंखला को बनाए रखती हैं। यह क्षेत्र पक्षियों की 200 से अधिक प्रजातियों का घर है। मरीज ट्रेकर के पास चमकदार पुरुष सैटिर ट्रगोपन, कलिज फिजेंट, गोल्डन ईगल, जेरडन का बाज़ार, नटकेकर, मैग्पी और कई फिनिश और सनबर्ड देखने का हर मौका है। स्तनधारियों, सरीसृप जीवों और पक्षियों से पौधों तक। स्थायी निवासियों की प्रचुरता के साथ-साथ कई दुर्लभ पक्षियों, जैसे सुनहरे-पतले बार्बेट, सफेद-गोरेटेड फ्लाईकैचर, सोना-नेपड फिंच, सैटिर ट्रैगोपन और यहां कई और लोग देखे गए हैं। इसके अलावा, यह भारतीय तेंदुए, स्लोथ भालू, सिवेट की पांच प्रजातियों, लाल पांडा, और कई खूबसूरत कीड़े, जैसे कि सिकाडा, तितलियों और बीटल के निवास के लिए भी जाना जाता है। नीरो वैली नेशनल पार्क में कई दुर्लभ पक्षियों जैसे सतीर ट्रागोपन, बे वुडपेकर, रूफस-थ्रोटेड पैट्रिज, दार्जिलिंग वुडपेकर, कम कोयल, ब्राउन वुड उल्लू, सफेद पूंछ वाले रॉबिन, वॉर्बलर, व्हाइट-गोरेटेड फ्लाईकैचर, स्ट्राइटेड बुलबुल, फायर-टेलेड सनबर्ड और कई दुर्लभ पक्षियों का घर है।



10. कच्छ, गुजरात का लघु रण

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

कच्छ का लघु रण शायद देश में सबसे अद्भुत और दृश्यमान आकर्षक पक्षी-अनुभव प्रदान करता हैं। भारत में कम फ्लेमिंगोस के लिए सबसे बड़ी मंडल स्थल के रूप में अधिकतर प्रसिद्ध, कम भूमि वाले समुद्री बिस्तर समेत समतल भूमि का यह अंतहीन विस्तार पक्षियों के लिए एक मणि है। शैवाल समृद्ध पानी पक्षियों की इतनी बड़ी संख्या को आकर्षित करने के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। गुजरात का ग्रेट रण ऑफ कच्छ अगर नमक के अपने सफेद रेगिस्तान और ‘रण-उत्सव’ के लिए मशहूर है तो वहीं लिटिल रण ऑफ कच्छ अपनी अनोखी जैव विविधताओं, प्रवासी पक्षियों और  जंगली गधों के लिए जाना जाता है। वन्यजीवों और अभयारण्यों की सैर के शौकीन सैलानियों के लिए तो छोटा रण जैसे एक अद्भुत जन्नत ही है

पक्षी देखने के शौकीनों के लिए तो छोटा रण जैसे जन्नत ही है। यहां बीसियों तरह के पक्षी साल भर देखे जा सकते हैं। गुजरात टूरिज्म, फिक्की और गुजरात के वन विभाग द्वारा आयोजित सालाना ग्लोबल बर्ड वॉचिंग कॉन्फ्रेंस के जरिए यहां हर साल बड़ी तादाद में पर्यटक, पक्षी प्रेमी और छात्र पहुंचते हैं। पक्षियों को देखने के लिए पर्यटन विभाग की ओर से भी व्यवस्था है। एलआरके न केवल सबसे कम फ्लेमिंगोस की मेजबानी करता है, बल्कि इसमें बड़ी संख्या में आम और डेमोइज़ेल क्रेन, हुबारा बस्टर्ड, रीफ मिरेट्स, फाल्कन और कई रेगिस्तान पक्षी भी हैं। एलआरके में एक पक्षी सफारी के लिए सबसे उपयुक्त समय नवंबर से मार्च तक है।



11. नागहरोल राष्ट्रीय उद्यान, कर्नाटक

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

कर्नाटक वास्तव में सबसे आश्चर्यजनक प्राकृतिक और वन्यजीवन सत्यताओं के साथ धन्य है। पक्षी-निरीक्षक के लिए, राज्य में कई गहने पेश किए जाते हैं। नागहरोल नेशनल पार्क जिसे राजीव गांधी नेशनल पार्क भी कहा जाता है, कोडागु और मैसूर जिले के बीच स्थित है यह उन कुछ जगहों में से एक है जहां एशियाई हाथी पाए जाते हैं। हाथियों के बड़े-बड़े झुंड यहां देखे जा सकते हैं। मानसून से पहले की बारिश में यहां बड़ी संख्या में रंगबिरंगे पक्षी दिखाई देते हैं। उस समय पूरा वातावरण उनकी चहचहाट से गूंज उठता है। पशुप्रेमियों के लिए यहां देखने और जानने के लिए बहुत कुछ है। पक्षियों की 270 से अधिक प्रजातियों का एक अद्भुत विविध संयोजन प्रदान करता है। पक्षियों के अलावा, 643 वर्ग किलोमीटर के इस विशाल क्षेत्र में भारतीय बाइसन, बाघ और अन्य सरीसृप भी हैं।

यह उन कुछ जगहों में से एक है जहां एशियाई हाथी पाए जाते हैं। हाथियों के बड़े-बड़े झुंड यहां देखे जा सकते हैं। मानसून से पहले की बारिश में यहां बड़ी संख्या में रंगबिरंगे पक्षी दिखाई देते हैं। उस समय पूरा वातावरण उनकी चहचहाट से गूंज उठता है। पशुप्रेमियों के लिए यहां देखने और जानने के लिए बहुत कुछ है। यह नीलगिरी बायोस्फीयर रिजर्व का हिस्सा है। ब्रह्मगिरी पक्षियों से रुबरु होने वाले के उचित जगह है। नागहरोल कुछ गंभीर रूप से लुप्तप्राय सफेद-समर्थित गिद्धों, अधिक देखी गई ईगल, नीलगिरी लकड़ी-कबूतर, अधिक भूरे रंग के मछली के ईगल, मालाबार ग्रे हॉर्नबिल इत्यादि सहित सैकड़ों पक्षियों का घर है।  इस अभयारण्य में आने का सही समय अक्टूबर से मई है। यहां आने से पहले अनुमति लेना आवश्यक है।



12.  बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान वन्यजीव प्रेमियों के लिए कर्नाटक का एक और उपहार है। अधिकतर बाघों की आबादी के साथ बाघ आरक्षण के लिए यह जाना जाता है, यह राष्ट्रीय उद्यान भी सैकड़ों खूबसूरत पक्षियों के लिए एक प्रतिष्ठित आश्रय है। घने जंगल, पास के कबीनी नदी और एक आर्द्र मौसम पक्षियों को पार्क में वापस आते रहते हैं। नवीनतम जनगणना के अनुसार, बंदीपुर नेशनल पार्क पक्षियों की 180 से अधिक प्रजातियों की मेजबानी करता है।

बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान बाघ, चार सींगों वाला हिरण, विशाल गिलहरी, हाथी, हार्नबिल, जंगली कुत्ते, चीता, निष्क्रिय भालू, और गौर को प्राकृतिक आवास प्रदान करता है। जानवरों के साथ साथ यहाँ कुछ दुर्लभ प्रजाति के पक्षी भी पाए जाते हैं जिसके अंतर्गत प्रवासी और निवासी पक्षी आते हैं। पार्क में भूरे बाज़ उल्लू, ट्रोगोंस, ग्रे जंगल पक्षी, ड्रोंगो बे उल्लू, बुनकर पक्षी(बया), कठफोड़वा, किंगफिशर, सामान्य गाने वाले पक्षी और मक्खी आदि को देखा जा सकता है। इस उद्यान में कुछ दुर्लभ प्रजाति की वनस्पतियां जैसे सागौन, आँवला, बाँस और सित्सल भी पाई जाती हैं। बांदीपुर में सबसे आम पक्षी pपीफॉलl है। अन्य आम तौर पर देखे जाने वाले पक्षियों में कौवे, भूरे जंगल के पक्षी, ड्रॉन्गो, लाल सिर वाले गिद्ध, क्रिस्टेड सर्प ईगल, भारतीय रोलर्स, हुप्स और कई अन्य होते हैं।



13.  सलीम अली पक्षी अभयारण्य, गोवा

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

सलीम अली पक्षी अभयारण्य गोवा में एकमात्र पक्षी अभयारण्य है। सुंदर मंडोवी नदी के चारो द्वीप और एक सुंदर मैंग्रोव दलदल के बीच स्थित यह प्राचीन जगह है।  सलीम अली अभयारण्य सैकड़ों पक्षियों का पसंदीदा निवास स्थान है। यह छोटा और अभी तक आश्चर्यजनक पार्क केवल 1।8 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में शामिल है, जो सर्दियों के मौसम के दौरान प्रवासी पक्षियों की सबसे बड़ी संख्या की मेजबानी करता है।

सालिम अली पक्षी अभयारण्य में पक्षियों की अनेक दुर्लभ प्रजातियाँ हैं। सालिम अली पक्षी अभयारण्यय में पक्षी प्रेमी अक्टूबर से मार्च माह के दौरान यहाँ पर आकर इस घने जंगल में दुर्लभ प्रजातियों के पक्षियों को देख सकते हैं। गोवा का यह सलीम अली पक्षी अभ्यारण भी काफी प्रसिद्ध है। यहां गौरैया, मोर, तोते, हवासील जैसे कई तरह के खूबसूरत पक्षियों को देखा जा सकता है। यह देश के लोकप्रिय स्थाभनों में एक है। यहां का शांत वातावरण और चिड़ियों की चहचहाहट पक्षी प्रेमियों को बहुत लुभाती है। इस पार्क के सबसे आम पक्षी पश्चिमी रीफ हेरॉन, लाल गाँठ, धारीदार हेरोन, थोड़ा कड़वा आदि पाए जाते हैं हैं।  आप इन अभयारण्यों में अनेकों पक्षियों, सुन्दर मोर, ग्रेट इंडियन बस्टर्ड, भारतीय सींग के बिल, किंगफिशर और भारतीय ईगल आदि को देख सकते हैं। भारत में तक़रीबन 1,200 से अधिक पक्षियों की प्रजातियां पाई जाती हैं। आप इन पक्षी अभयारण्यों में आकर बेहद सुकून अनुभव कर सकेंगे। यह पक्षी प्रेमियों के लिए एक आदर्श स्थल है।



14. थेक्केडी पक्षी अभयारण्य, केरल

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

पौराणिक पक्षी वैज्ञानिक डॉ। सलीम अली द्वारा 'प्रायद्वीपीय भारत पर सबसे प्रसिद्ध पक्षी निवास' के रूप में थेक्केडी पक्षी अभयारण्य को देखा जाता है। यह अभयारण्य आश्चर्यजनक पेरियार नदी की शाखाओं के बीच स्थित है। अभयारण्य में पक्षियों और प्रकृति-प्रेमियों दोनों मनुष्यों को आकर्षित करने वाला एक मोहक वातावरण है।

थट्टेकड़ पक्षी अभयारण्य 25 स्किवायर किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है और इस जगह कई जंगल, नदियां और मैदान हैं। इस पक्षी अभयारण्य में दुर्लभ और प्रवासी पक्षियों की 300 से भी ज्या्दा प्रजातियां देखने को मिलेंगीं जिनमें मालाबार हॉर्नबिल्सि, फेयरी ब्लूाबर्ड्स, ग्रे हैडेड फिशिंग ईगल्सग, बारबेट्स, बी ईटर्स और ग्रे हॉर्नबिल्सर आदि शामिल हैं। अक्टूईबर से फरवरी के बीच यहां आने का सबसे सही समय है। थेक्केडी  में पक्षियों के बाद सबसे अधिक मांग किए जाने वाले कुछ भारतीय कोयल, ड्रॉन्गो कूकू, ओरिएंटल डार्टर, नारंगी सिर वाली थ्रश, जेरडन के नाइटजर, कॉर्मोरेंट्स, कॉलर स्कॉप्स उल्लू, पीले ब्रोबल बुलबुल, सुईलेट इत्यादि हैं। अभयारण्य में टीले, जंगली बतख, उदास, हिरण, कोयल, जलपक्षी, डेटर और प्रवासी पक्षियों सहित कई पक्षी शामिल हैं। यह जगह द्वीपों के चारों ओर नाव यात्रा प्रदान करता है जिससे आपको पक्षियों और प्रकृति की सुंदरता देखने का एक लुभावना अनुभव होता है।



15. ब्रह्मगिरी वन्यजीव अभयारण्य

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

कर्नाटक में एक और खूबसूरत पक्षी-विहार, बहामागिरी वन्यजीव अभयारण्य है। वास्तव में यह कोगागू (कोडागु) जिले के एक सुरम्य स्थान पर स्थित सबसे महत्वपूर्ण बाइडिंग पार्क में से एक है, जो लगभग कोडागु और वायनाड (केरल) के सीमावर्ती इलाके में स्थित है। लगभग 181 किलोमीटर के कवर क्षेत्र के माध्यम से आठ नदियों और कुछ छोटी धाराएं बहती हैं। घने सदाबहार जंगल और इन जल निकायों पक्षियों को वहां रहने के लिए लुभाने के लिए एक स्थायी या अस्थायी घर बनाते हैं।

यहां के पक्षी विहार में ओरिएंटल सफेद बैक वाली गिद्ध, व्यापक पूंछ वाले घास के मैदान, नीले पंख वाले पैराकेट और सनबर्ड ब्राह्मणगिरी अभयारण्य के प्रसिद्ध निवासी हैं। एम्ब्रेेल्ड  डव, ब्लैछक बुलबुल और मालाबार ट्रोगन, एम्ब्रेखलड फाख्ता्, ब्लैूक बुलबुल और मालाबार ट्रोगन आदि भी यहां पाई जाती है।


16. अरलम वन्यजीव अभयारण्य , केरल

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

पक्षियों की 188 प्रजातियों का गर्व प्राप्त करता हुआ अरलम वन्यजीव अभयारण्य एक पक्षी विहार के रुप में प्रसिद्ध है। यह केरल के पक्षी-निरीक्षकों के लिए अरलम वन्यजीव अभयारण्य  एक और स्वर्ग है। यह पार्क को आठ किलोमीटर से भी कम का कवर क्षेत्र है, वह पश्चिमी घाटों और कुछ लुप्तप्राय प्रजातियों के स्थानिक पक्षियों के घर है। कुन्नूर के एक आकर्षक माहौल की गोद में पक्षियों के लिए देखने का एक आकर्षक अनुभव प्रदान करता है।

अरलम वन्यजीव अभयारण्य  में सबसे अधिक प्रजातियां मालाबा ग्रे हॉर्नबिल, बुलबुल, रूफस बब्बलर, ब्लैक-एंड-ऑरेंज फ्लाईकैचर, नीलगिरी लकड़ी कबूतर इत्यादि हैं। यह एक शांत और विशाल अभयारण्य है। उष्णकटिबंधीय पेड़ों से घिरे इस अभयारण्य में जीव जंतुओं की अनेक दुर्लभ प्रजातियों को देखा जा सकता है। ये जगह हरियाली से भरी हुई है। नीलगिरी बायोस्फे यर रिज़र्व के साथ साइलेंट वैली और मुकुरथी नेशनल पार्क का ये अहम हिस्साफ है। रोबर्ट विट ने इस पार्क की खोज 1847 में की थी और आज 170 सालों बाद भी इस जगह का आकर्षण और सौंदर्य कम नहीं हुआ है। इस पार्क में वनस्पाति की 858 से भी ज्याौदा प्रजातियां और पक्षियों की 292 प्रजातियां देखने को मिलेंगीं जिनमें ब्लूक विंग्डा पैराकीट, वाइट बेलिड ब्लूय फ्लाईकैचर, नीलगिरि पिपिट और नीलगिरि चुड पिजन आदि शामिल हैं।



17. सुल्तानपुर पक्षी अभयारण्य, हरियाणा

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

दिल्ली के हलचल से केवल 46 किलोमीटर दूर, सुल्तानपुर पक्षी अभयारण्य सबसे लोकप्रिय पक्षी अभयारण्यों में से एक है जो बेहद सुखद पक्षी देखने का अनुभव प्रदान करता है। यह हरियाणा में स्थित है। गीली मार्श-भूमि जिसे एक सुंदर जल निकाय में परिवर्तित किया गया था, दुनिया भर से सैकड़ों पक्षियों को आकर्षित करता है। यहां तक कि भूमि कई घरेलू पक्षियों के लिए भी एक लोकप्रिय घर है। स्वयं डॉ। सलिमम अली द्वारा खोजे गए, सुल्तानपुर पक्षी अभयारण्य में पक्षियों की 100 से अधिक प्रजातियां हैं। उनमें से सबसे लोकप्रिय लोग टील्स, आम किंगफिशर, सैंडपाइपर, डेमोइज़ेल क्रेन, लैपिंग, हेरॉन इत्यादि हैं।

हरियाणा के सुल्तानपुर राष्ट्रीय उद्यान में बना सुल्तानपुर पक्षी अभ्यारण पक्षी प्रेमियों के लिए किसी स्वर्ग से कम नहीं है। यहां निवासी और प्रवासी दोनों तरह दुर्लभ पक्षियों को देखा जा सकता है। ये पक्षी यूरोप, साइबेरिया और मध्य एशिया में ठंड बढ़ने और जमीन तथा झीलों के बर्फ से जम जाने के कारण अपने नए घर की तलाश में यहां आते हैं। इस अभयारण्य में पक्षियों की लगभग 250 प्रजातियां पाई जाती हैं। जिनमें साइबेरियन सारस, ग्रेटर फ्लेमिंगो, काले पंखों वाला लट्ठा, उत्तरी पिनटेल, पीला वेगटेल, सफेद वेगटेल, उत्तरी शेवलर, गुलाबी हवासील, यूरेशियन विजिओन इत्यादि प्रमुख हैं।



18. ओखला पक्षी अभयारण्य, यूपी

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

ओखला पक्षी विहार सबसे अच्छे पक्षी-देखने वाले अनुभवों में से एक को देखने का  एक अद्भुत स्थान है। यह पार्क '50 के उत्तरार्ध में स्थापित किया गया था और तब से यह घरेलू और प्रवासी दोनों पक्षियों की 320 से अधिक प्रजातियों के लिए आश्रय प्रदान कर रहा है। यमुना के नदी किनारे पक्षियों के लिए विशेष रूप से आरामदायक वातावरण और भोजन की प्रचुरता के लिए आकर्षित होने के लिए भारत के सबसे पसंदीदा स्थानों में से एक के रुप में स्थापित है।

ओखला पक्षी अभयारण्य पक्षी प्रेमियों के लिए एक पसंदीदा जगह है। ओखला पक्षी अभयारण्य यमुना नदी पर दिल्ली और उत्तर प्रदेश के बीच स्थित है, जो उत्तर प्रदेश राज्य के गौतम बुद्ध नगर जिले के नोएडा में स्थित है। ओखला पक्षी अभयारण्य भारतीय तालाब हेरोन, ओरिएंटल स्काइलार्क, गुलाब-रिंग वाले पैराकेट, उत्तरी शॉवेलर, सफेद-थ्रोटेड किंगफिशर, कम सीट वाली बतख, काले पंख वाले स्टिल्ट, रेडवाटल लैपिंग इत्यादि जैसे पक्षियों का स्वर्ग है।ओ खला पक्षी अभयारण्य असंख्य पक्षियों का आवास है, जोकि विदेशी पक्षियों के आगमन के लिए जाना जाता है। आगंतुकों को सफेद-धब्बेदार गिद्ध, भारतीय गिद्ध (यह दोनों गंभीर रूप से लुप्तप्राय हैं) बिकाल तिल, बेयर पोचार्ड, सारस क्रेन और सोसिएबल लैपविंग जैसी लुप्तप्राय होने वाली प्रजातियों के साथ-साथ देखा जा सकता है। ओखला पक्षी अभयारण्य में फेर्रजिनस पोचार्ड, ब्लैक-बेलाईड टर्न और ग्रे की अगुवाई वाली फिश ईगल को भी देखा जा सकता है। पक्षियों के लिए एक स्वर्ग की तरह, ओखला पक्षी अभयारण्य इंडियन स्किनमेर, पल्लास फिश ईगल, लेजर एडजुटेंट, ब्रिस्टल ग्रासबर्ड और फिन वीवर का भी घर हैं। इसके अलावा पक्षी प्रेमियों को, ब्लैक-पूल्ड गॉडविट, कॉमन रेडशैंक, वुड सेंडपीपर, वेस्टर्न मार्श हैरियर और ब्लू थ्रू जैसे कुछ अनेक पक्षी भी दिखाई दे सकते हैं।



19. पोंग वेटलैंड, हिमाचल प्रदेश

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

हिमालयी की तलहटी को फूलों और जीवों की अनगिनत विविधताओं का गर्व प्राप्त है। कई अन्य जानवरों की तरह, शानदार जलवायु और आजीविका के प्रचुर स्रोत के कारण पक्षियों को इन स्थानों पर अत्यधिक आकर्षित किया जाता है। पोंग वेटलैंड सुंदर कंगड़ा घाटी का एक छिपा खजाना है जो उत्साही दर्शकों को एक अद्भुत पक्षी-देखने का अनुभव प्रदान करता है। पोंग उत्तर भारत में सबसे बड़ी झीलों में से एक है जो प्रवासी की 240 प्रजातियों और घरेलू पक्षियों की एक और सैकड़ों प्रजातियों को आकर्षित करता है। खूबसूरत परिदृश्य और चिंगारी पक्षियों की चपेट में आपके अनुभव को और भी शानदार बना दिया जाएगा।

इसे पौंग जलाशय या पौंग बांध के नाम से भी जाना जाता है। करीब 180 किलोमीटर के बीच क्षेत्र में फैली इस झील में बीते साल 2016 में कुल 2।5 लाख भारतीय तथा विदेशी पक्षी रिकॉर्ड किए गए थे, जिनमें अनेक दुर्लभ प्रजातियों के पक्षी शामिल रहे। पौंग वेटलैंड में भारत में विद्यमान पक्षियों की कुल 77 प्रजातियों में से 54 प्रजातियों की 230 उपजातिया पाई जाती हैं। पोंग के कुछ लोकप्रिय पक्षी यूरेशियन विजन, पेंटेड स्टोर्क, यूरेशियन स्पूनबिल, नॉर्थर शोवेलर, आम पोर्चर्ड, बतख स्पेक, जैक स्निप, इंडियन पिट्टा, लेसर कलक, क्रेन, बी-ईटर, वुडपेकर इत्यादि हैं। हर साल सर्दियों के मौसम में हजारों की संख्या में यह पक्षी यहां मेहमान बनकर आते है।



20. वेदांतंगल जल पक्षी अभयारण्य, तमिलनाडु

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

तमिलनाडु में वेदांतंगल पक्षी अभयारण्य सैकड़ों पक्षी प्रजातियों का राजसी मेजबान है। यह अभयारण्य भारत में सबसे आश्चर्यजनक पक्षी-देखने वाली जगहों में से एक है जिसे स्थानीय निवासियों द्वारा 250 वर्षों तक संरक्षित किया गया है। हरे-भरे हरियाली और गीली भूमि के बीच आश्चर्यजनक रूप से सुंदर वातावरण, वेदांतंगल पक्षी पक्षियों के लिए वास्तव में एक तरह का अनुभव प्रदान करता है। वेदांतंगल पक्षी अभयारण्य । छोटे झीलों और प्रचुर मात्रा में प्रकृति के साथ घिरा हुआ, यह पक्षियों की एक सरणी के लिए एक खाद्य स्थल के रूप में कार्य करता है, और यह पानी और भूमि दोनों पक्षियों का निरीक्षण करने के लिए एक आदर्श स्थान बनाता है। और हर साल, दुनिया भर से 40, 000 से अधिक प्रवासी पक्षी इस अभयारण्य में एकत्र होते हैं,

यह पक्षी अभयारण्यइ, तमिलनाडु के कांचीपुरम जिले में स्थित है। इस अभयारण्यप में कई सारे प्रवासी पक्षी रहते हैं, जैसे- कॉमन सैंडपाइपर, ग्रे वाग्टे्ल, पिनटेल, गारगेनी और कई अन्यस पक्षी। इस क्षेत्र में जानवरों और स्थाटनीय लोगों को शिकार से रोकने के लिए, इसे 1858 में स्थातपित किया गया था।  वेदांतंगल में कॉर्मोरेंट्स, हेरन्स, खुले बिल वाले स्टॉर्क, ब्लैक-विंगड स्टिल्ट्स, डार्टर और पेलिकन सबसे अधिक बार देखे जाने वाले पक्षी हैं। इस अभयारण्य् में कई सारे प्रवासी पक्षी रहते हैं, जैसे- कॉमन सैंडपाइपर, ग्रे वाग्टेऔल, पिनटेल, गारगेनी, आम सैंडपाइपर, पिंटेल, नीली पंख वाली तिल, गर्गनियां, चमकदार इब्स और कई अन्यत पक्षी यहां निवास करते हैं।



21. नल सरोवर, गुजरात

भारत में पक्षी-विहार के स्थान

गुजरात में स्थित नल सरोवर में पक्षियों का दीदार कभी भी किया जा सकता है। यह पक्षियों की 250 से अधिक प्रजातियों के लिए घर, यह शानदार गीली भूमि दुनिया भर से पक्षियों का ध्यान खींचती है। आश्चर्यजनक झील इतनी रंगीन पक्षियों की उपस्थिति से चमकीली हो जाती है। इस 116 वर्ग किलोमीटर की विस्तृत झील में फ्लेमिंगोस, पेलिकन, बतख, जड़ी-बूटियों, उदाहरण, हॉर्नबिल और कई अन्य घरेलू और प्रवासी पक्षियों की उपस्थिति मौजूद है।

गुजरात के अहमदाबाद व सुंदर नगर जिलों से सटा नल सरोवर अभयारण्य अहमदाबाद से लगभग 65 किमी की दूरी पर है। सरोवर क्षेत्र में छोटे-बड़े कुल 300 तक टापू हैं जिनमें से 36 ऐसे बड़े टापू है जिनके अपने स्थानीय नाम हैं। जहां पर आज नल सरोवर है  नल सरोवर में खानपान की कमी के कारण पक्षी आसपास के इलाकों में चले जाते हैं जो मानसून के बाद वापस लौट आते हैं। झील में प्लोवर्स, सैंडपिपर्स और स्टींट्स जैसे कई खूबसूरत पक्षियों को देखा जा सकता है। 200 से ज्यादा पक्षी यहां देखे जा सकते हैं । सर्दियों में यहां साइबेरियन के अलावा रोसी पेलिकन से लेकर ब्राह्मण बत्तख, सफेद स्टॉर्क, बिटरटें, ग्रिब्स, फ्लेमिंगो, कैक्स जैसे पक्षी देखने को मिलते हैं।

To read this Article in English Click here
934
  • SHARE THIS
  • TWEET THIS
  • SHARE THIS
  • COMMENT
  • LOVE THIS 0

Related Links

Comments / Discussion Board - भारत में 21 पक्षी-विहार के स्थान

Loader