Editor's Choice:

about personalities historicalheroes चाणक्य

Share this on Facebook!

चाणक्य

Indiaonline
Close

Want more stories like this?

Like us on Facebook to get more!
Close

चाणक्य

चाणक्य

चाणक्य एक शिक्षक, दार्शनिक और शाही सलाहकार, एवं मौर्य साम्राज्य की स्थापना के मुख्य वास्तुकार थे। चाणक्य पहले मौर्य सम्राट चंद्रगुप्त के सत्ता में वृद्धि का उदय थे। परंपरागत रूप से कौटिल्य एवं विष्णु गुप्त के रूप में पहचाने जाने वाले चाणक्य भारतीय राजनीतिक ग्रंथ "अर्थशास्त्र" के लेखक हैं। भारत में अर्थशास्त्र और राजनीतिक विज्ञान के दायर में चाणक्य को अग्रणी माना जाता है। उन्हें भारत में एक महान विचारक और राजनायिक के रूप में जाना जाता है। वह एकमात्र ऐसे व्यक्तित्व के धनी है जिसे भारतीय और पश्चिमी विद्वान दोनों द्वारा प्रतिभा के रूप में स्वीकारा और सम्मानित किया गया है। चाणक्य भारत के निर्माण में एक ऐतिहासिक मील का पत्थर साबित हुए हैं। यद्यपि वह तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व के आसपास रहते थे, लेकिन उनके विचार और सिद्धांत आज के दिन में सहमति और वैधता से स्थापित है और बड़े आदर्शस्वरुप स्वीकारे जाते हैं। चाणक्य का जन्म एक घोर निर्धन परिवार में हुआ था। अपने उग्र और गूढ़ स्वभाव के कारण वे ‘कौटिल्य’ भी कहलाये। उनका एक नाम संभवत: ‘विष्णुगुप्त’ भी था। चाणक्य ने उस समय के महान शिक्षा केंद्र ‘तक्षशिला’ में शिक्षा पाई थी। 14 वर्ष के अध्ययन के बाद 26 वर्ष की आयु में उन्होंने अपनी समाजशास्त्र, राजनीती और अर्थशास्त्र की शिक्षा पूर्ण की और नालंदा में उन्होंने शिक्षण कार्य भी किया।वे राजतंत्र के प्रबल समर्थक थे। उन्हें ‘भारत का मेकियावली’ के नाम से भी जाना जाता है। ऐसी किंवदन्ती है कि एक बार मगध के राजदरबार में किसी कारण से उनका अपमान किया गया था, तभी उन्होंने नंद – वंश के विनाश का बीड़ा उठाया था। उन्होंने चन्द्रगुप्त मौर्य को राजगद्दी पर बैठा कर वास्तव में अपनी प्रतिज्ञा पूरी कर ली तथा नंद – वंश को मिटाकर मौर्य वंश की स्थापना की।


चाणक्य का जीवन

चाणक्य का जन्म सी 350 ईसा पूर्व में हुआ था। उनका जन्मस्थान रहस्य से घिरा हुआ है। उनकी उत्पत्ति के बारे में कई सिद्धांत हैं। एक सिद्धांत के अनुसार वह पाटलिपुत्र में पैदा हुआ थे। बुद्धसिट पाठ "महावम्सा टिक" के अनुसार उनका जन्म तक्षशिला में हुआ था। जैन ग्रंथों जैसे "आदबिधन चिंतमनी" का कहना है कि उनका जन्म दक्षिण भारत में हुआ था। जबकि कुछ अन्य जैन ग्रंथो ने कैनाका गांव के रूप में इनके जन्मस्थान का उल्लेख किया है। बहुत कम उम्र में उन्होंने वेदों को सीखना शुरू कर दिया था। अपने बचपन के दौरान ही उन्होंने सभी ग्रंथो और वेदों का याद कर लिया था। चाणक्य को बचपन से राजनीति में बहुत दिलचस्पी थी। चाणक्य ने सीखने के लिए प्रसिद्ध प्राचीन केंद्र तक्षशिला में अध्ययन किया। बाद में वह तक्षशिला में एक शिक्षक बन गए। उनका जीवन तक्षशिला और पाटलीपुत्र के दो शहरों से जुड़ा हुआ था। चाणक्य की मौत का कारण ज्ञात नहीं है। लेकिन एक पौराणिक कथा के अनुसार सुबानु को चाणक्य पसंद नहीं थे। उन्होंने चंद्रगुप्त के पुत्र बिंदुसार को भड़काते हुए कहा कि चाणक्य ही उनकी मां की मृत्यु के लिए जिम्मेदार हैं।जिससे बिंदुसार चाणक्य पर क्रोधित हो गए। अपने उपर क्रोध की वजह जानने के बाद चाणक्य ने स्वंय को भूखा रख मारने का निश्चय किया। बाद में जब राजा को पता चला कि उसकी मां की मौत दुर्घटना के कारण  हुई थी, तो उसने सुबंधू से चाणक्य को मनाने के लिए कहा कि वह खुद को मारने की योजना को निष्पादित करे। यह भी कहा जाता है कि सुबानु ने चाणक्य के लिए एक समारोह आयोजित करने का नाटक किया और चाणक्य को जीवित जला दिया। 7575 ईसा पूर्व में पटलीपुत्र में उनकी मृत्यु हो गई।


कौटिल्य एवं विष्णुगुप्त

चाणक्य परंपरागत रूप से कौटिल्य या विष्णु गुप्ता के रूप में पहचाने जाते है। प्राचीन ग्रंथ "अर्थशास्त्र" लिखने के लिए परंपरागत रूप से चाणक्य को जिम्मेदार माना जाता है। "अर्थशास्त्र" अपने लेखक को कौटिल्य नाम से पहचानता है, एक कविता को छोड़कर जिसमें उन्हें विष्णुगुप्त नाम से संदर्भित किया गया है अन्य में वो कौटिल्य नाम से ही जाने जाते रहे हैं। चाणक्य देश की अखण्डता के भी अभिलाषी थे, चाणक्य का नाम राजनीती, राष्ट्रभक्ति एवं जन कार्यों के लिए इतिहास में सदैव अमर रहेगा। लगभग 2300 वर्ष बीत जाने पर भी उनकी गौरवगाथा धूमिल नहीं हुई है। चाणक्य भारत के इतिहास के एक अत्यन्त सबल और अदभुत व्यक्तित्व हैं। उनकी कूटनीति को आधार बनाकर संस्कृत में एक अत्यन्त प्रसिध्द ‘मुद्राराक्षस’ नामक नाटक भी लिखा गया है।


चाणक्य और मौर्य साम्राज्य

चाणक्य एक शिक्षक, दार्शनिक और शाही सलाहकार थे। वह प्राचीन तक्षशिला विश्वविद्यालय में शिक्षक थे। वह चंद्रगुप्त और उनके बेटे बिंदुसारा के मुख्य सलाहकार थे। चाणक्य मौर्य साम्राज्य की स्थापना का मुख्य वास्तुकार थे और पहले मौर्य सम्राट चंद्रगुप्त के सत्ता में वृद्धि का उदय उन्होंने किया था। कनक्य और चंद्रगुप्त मौर्य को नंद साम्राज्य को पराजित करने और मौर्य साम्राज्य की स्थापना के लिए श्रेय दिया गया है। चाणक्य को सकाताल द्वारा नंद राजा की अदालत में पेश किया गया था। जैसा कि चाणक्य को अदालत में अपमानित किया गया था, उसने बाल को खुला छोड़ दिया और शपथ ली कि वह अपने बालों को तब तक बांध नहीं पाएगें जब तक कि वह नंद साम्राज्य को नष्ट नहीं कर लेते हैं। उन्होंने और चंद्रगुप्त ने उत्तर पश्चिमी भारत के परवाटक के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए जिसने नंद साम्राज्य पर अपनी जीत सुनिश्चित की। साम्राज्य को बाद में परवाटक और चंद्रगुप्त के बीच बांटा गया था। चाणक्य ने चंद्रगुप्त को उनके दुश्मनों के कई हमलों से बचाया। उन्होंने मौर्य साम्राज्य की स्थापना के बाद चंद्रगुप्त के सलाहकार के रूप में कार्य करना जारी रखा। लोकप्रिय किंवदंतियों के अनुसार जब सम्राट चंद्रगुप्त को आचार्य एक अच्छे राजा होने की तालीम दे रहे थे तब वे सम्राट के खाने में रोज़ाना थोड़ा थोड़ा विष मिलाते थे ताकि वे विष को ग्रहण करने के आदी हो जाएं और यदि कभी शत्रु उन्हें विष का सेवन कराकर मारने की कोशिश भी कर तो उसका राजा पर कोई असर ना हो। लेकिन एक दिन विष मिलाया हुआ खाना राजा की पत्नी ने ग्रहण कर लिया जो उस समय गर्भवती थीं। विष से पूरित खाना खाते ही उनकी तबियत बिगड़ने लगी, जब आचार्य को इस बात का पता चला तो उन्होंने तुरंत रानी के गर्भ को काटकर उसमें से शिशु को बाहर निकाला और राजा के वंश की रक्षा की। यह शिशु आगे चलकर राजा बिंदुसार के रूप में विख्यात हुए। चाणक्य चंद्रगुप्त और उनके बेटे बिंदुसारा के मुख्य सलाहकार बने रहे।


अर्थशास्त्र

चाणक्य परंपरागत रूप से कौटिल्य या विष्णु गुप्ता के रूप में पहचाना जाता है। वह "अर्थशास्त्र" नामक प्राचीन भारतीय राजनीतिक ग्रंथ के लेखक हैं। उन्हें भारत में अर्थशास्त्र और राजनीतिक विज्ञान के दायर में अग्रणी माना जाता है। उनका काम शास्त्रीय अर्थशास्त्र के लिए एक अग्रणी है। अर्थशास्त्र विवरण में मौद्रिक और राजकोषीय नीतियों, कल्याण, अंतर्राष्ट्रीय संबंधों और युद्ध रणनीतियों पर चर्चा करता है।

नीतिशास्त्र

नीतिशास्त्र को चाणक्य नीति भी कहा जाता है। यह जीवन के आदर्श तरीके पर एक ग्रंथ है। यह चाणक्य के जीवन शैली के गहरे अध्ययन को दिखाता है। उनके द्वारा "नीति-सूत्र" भी विकसित किया गया था। यह एक खाता है कि लोगों को कैसे व्यवहार करना चाहिए। इसमें 455 प्रसिद्ध सूत्र हैं। इन सूत्रों में से 216 "राजा-नीति" का संदर्भ लेते हैं जो कि एक राज्य चलाने के काम को संदर्भित करता है। चंद्रगुप्त और अन्य चुने हुए शिष्यों को एक राज्य पर शासन करने की कला में सजाते हुए इन सूत्रों को चाणक्य द्वारा संदर्भित किया गया था।| दूरदर्शी चाणक्य को इस बात का ज्ञान था कि समय के काल चक्र के साथ राज्य और समाज की व्यवस्थाएं बदलती रहेंगी | ऐसा भी समय आयेगा जब की राजशाही टूटने पर समाज की व्यवस्था और विधान बदलती रहेगी | इस समय उनकी चाणक्य नीति की उपयोगिता हर किसी के लिये हितकर रहेगी ।



चाणक्य पर हुए हैं कई कार्य

चाणक्य के जीवन और कार्य को चित्रित करने के कई काम किए गए हैं। फिल्म "चाणक्य चंद्रगुप्त" चाणक्य और चंद्रगुप्त की कहानी पर आधारित है। टेलीविजन श्रृंखला "चाणक्य" चाणक्य के जीवन और समय का एक रुप है। "चंद्रगुप्त मौर्य" एक टेलीविजन श्रृंखला चाणक्य के जीवन को संदर्भित करती है। "प्रबंधन पर चाणक्य" पुस्तक में राजा-नीति पर 216 सूत्रों में से प्रत्येक का अनुवाद किया गया है। नई दिल्ली में राजनयिक संलग्नक का नाम चाणक्य के रूप में चाणक्यपुरी के नाम पर रखा गया है। प्रशिक्षण संस्थान चाणक्य, चाणक्य राष्ट्रीय कानून विश्वविद्यालय और चाणक्य संस्थान के सार्वजनिक नेतृत्व सहित कई संस्थानों का नाम उनके नाम पर रखे गए हैं। आचार्य चाणक्य भारतीय इतिहास के सर्वाधिक प्रखर कुटनीतिज्ञ माने जाते है। उन्होंने ‘अर्थशास्त्र’ नामक पुस्तक में अपने राजनैतिक सिध्दांतों का प्रतिपादन किया है, जिनका महत्त्व आज भी स्वीकार किया जाता है। कई विश्वविद्यालयों ने कौटिल्य (चाणक्य) के ‘अर्थशास्त्र’ को अपने पाठ्यक्रम में निर्धारित भी किया है। महान मौर्य वंश की स्थापना का वास्तविक श्रेय अप्रतिम कूटनीतिज्ञ चाणक्य को ही जाता है। चाणक्य एक विव्दान, दूरदर्शी तथा दृढसंकल्पी व्यक्ति थे और अर्थशास्त्र, राजनीति और कूटनीति के आचार्य थे।

To read this Article in English Click here
306
  • SHARE THIS
  • TWEET THIS
  • SHARE THIS
  • COMMENT
  • LOVE THIS 0

Related Links

Comments / Discussion Board - चाणक्य

Loader