Editor's Choice:

about tourism भारत की सबसे खूबसूरत 22 झीलें

Share this on Facebook!

भारत की सबसे खूबसूरत 22 झीलें

Indiaonline
Close

Want more stories like this?

Like us on Facebook to get more!
Close

भारत की सबसे खूबसूरत 22 झीलें


भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

भारत को पृथ्वी पर कुछ सबसे आश्चर्यजनक और लुभावनी प्राकृतिक संपत्तियों सें सपंन्न होने का आशीर्वाद मिला है। यहां पर्वत-पहाड़, नदी समुद्र, जंगल रेगिस्तान, झील एवं नहर सब कुछ उपलब्ध है। भारत के पास ऐसी कोई भी वस्तु जो प्रकृति से जुड़ी हो वो वंचित नहीं है। पूर्व से लेकर पश्चिम तक, उत्तर से लेकर दक्षिण तक यहां सब कुछ उपलब्ध है। उत्तर के विशाल हिमालय के नीले सागर से दक्षिण के समुद्र तक,  पश्चिम के रेगिस्तानों से पूर्व की नदियों और अभ्यारणों तक भारत में यह सब कुछ है। वैसे यह भी सच है कि जब भी छुट्टियां शुरू होने वाली होती हैं, ज्यादातर लोग बाहर जाने की प्लानिंग करने लगते हैं। घूमने के लिए सबसे अच्छी जगह वह स्थान होता है, जो प्रकृति की खूबसूरती से घिरा होता है। ऐसी जगह में आनंद तो आता ही है, साथ ही मन को भी सुकून मिलता है। वैसे तो ऐसे भारत में पर्यटन स्थल बहुत हैं, पर प्रकृति की असली खूबसूरती झीलों के किनारे ही देखने को मिलती है। भारत कई झीलों का घर भी है। कश्मीर से लेकर दक्षिण तक और राजस्थान से दूर पूर्वी राज्यों तक, देश भर में बारिश के पानी और ताजे पानी के दोनों झीलों को उनके सुंदर सौंदर्य के साथ बिखरे हुए हैं। भारत में जितने झील के अद्भुत नजारे है वो दुनिया में शायद ही कहीं और देखने को मिलते हो। जहाँ पानी में लहरों की अठखेलियां आपके जीवन की थकान कुछ पल के लिए गायब ही कर देती है। भारत देश में कई ऐसे खूबसूरत झील हैं, जिनके किनारे आप घंटों बैठ जाएं, फिर भी उबते नहीं हैं। यह झीले ना केवल आपकी थकान को पल भर में छू कर देती है बल्कि यहां के झीलों के किनारे के शानदार नजारे आपको तृप्त कर देते हैं। झीलों के किनारे बैठ आप अपने साथी संग सपनों का शहर बनाने का सपना देखने लगते हैं। यह इन झीलों की खासियत ही है कि आप यहां आकर सब कुछ भूल जाते हैं और प्रकृति के अनुपम तोहफे का आनंद उठाते हैं। भारत में लगभग 62 सुंदर झीले हैं। जो कई प्रकार की है। जिन्हेंह विभिन्नं मापदंडों के आधार पर वर्गीकृत किया जा गया है जैसे मीठे पानी की झीलें, खारे पानी की झीलें, प्राकृतिक झीलें, कृत्रिम झीलें, ज्वावलामुखीय झीलें, गोखुर झीलें, मरुद्यान झीलें आदि। झीलों के विभिन्नल अनुप्रयोग जैसे पेयजल, सिंचाई, नौवाहन, जल भंडारण, आजीविका (मछली पकड़ना आदि), सूक्ष्मय जलवायु परिवर्तन पर प्रभाव आदि हैं। यह झीले भारत में कहीं आस्था का केंद्र है तो कई जीवन व्यापन का जरिया है। कहीं इन झीलों के पानी से सिंचाई होती है तो कहीं इन झीलों से रोजगार प्राप्त किया जाता है। कहीं यह झीले पूज्यनीय है तो कहीं बाजार का केंद्र बन गई हैं। भारत की सभी झीलों का अपना-अपना महत्व, अपनी-अपनी महत्वता है जो इन झीलों को और खास बना देती हैं।  इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बारत की कुछ खूबसूरत झीलों के बारे में बता रहे हैं, जहां आप अपनी छुट्टियां आराम से बिता सकते हैं और प्रकृति के अद्भुद नजारे का आनंद उठा सकते हैं।


1. वूलर झील, जम्मू और कश्मीर


भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

पर्यटकों के परिप्रेक्ष्य से, जम्मू-कश्मीर में स्थित वूलर झील भारत की सबसे आश्चर्यजनक सुंदर झील है। वूलर हमारे देश की सबसे ज्यादा ताजे पानी की झीलों में से एक है। कश्मीर के उत्तरी क्षेत्र में झेलम नदी से लगभग 1,578 मीटर उठान पर वुलर झील स्थित है, जो एशिया में ताजा मीठे पानी की सबसे लम्बी झील मानी जाती है। सामान्यतः इसका क्षेत्रफल 30 वर्ग किलोमीटर है,  वूलर की विशालता और शांति आगंतुकों को पूरी तरह आकर्षित करती है असल में इस झील का वूलर नाम मूलतहः संस्कृत में है। कहा जाता है कि 'वुलर' शब्द शायद 'उल्लोल’ का अपभ्रंश है। झील का प्राचीन नाम 'महापद्मसर’ था। वुलर संस्कृत के उल्लोल शब्द से लिया गया है जिसका अर्थ है-ऊंची लहरों वाली झील। ये लहरें दोपहर तक शांत रहती है लेकिन दोपहर के बाद उग्र रूप धारण कर लेती हैं। यदि हवा का रूख नागा मार्ग से हो तो तीव्रता का जोर देखते ही बनता है। तब इन्हें 'नागाकौन' कहा जाता है। जैनिया वूलर के बीच में कृत्रिम द्वीप एक और आकर्षक दृश्य प्रदान करता है। हजारों प्रवासी पक्षियों के लिए वूलर भी अस्थायी घर है। वुलर झील पर्यटन की दृष्टि से भी बहुत महत्त्वपूर्ण है। झील की अधिकतम गहराई 'शुकरुदीन' की ओर है जिसे 'माताखोन' कहा जाता है, अर्थात, लाशों की खाड़ी, क्योंकि लहरें इस स्थान पर मृत शरीरों को आत्मसात कर लेती हैं। इस झील का सबसे मोहक स्थान है 'सदर कोट'। इस स्थान पर नाव द्वारा सुगमता से पहुंचा जा सकता है। पर्यटक विशेष रुप से इस झील को देखने आते हैं और इसकी सुंदरता देख मंत्रमुग्ध हो जाते हैं।



2. सातताल झील, उत्तराखंड

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

सातताल झील नैनीताल से 23 किमी दूर स्थित एक बहुत ही ख़ूबसूरत झील है। यह झील उत्तराखंड में स्थित हैं।  यह प्राचीन सौंदर्य उत्तराखंड के नैनीताल जिले के एक छोटे से शहर भीमताल के पास स्थित सात इंटरकनेक्टेड ताजे पानी के झीलों का एक नक्षत्र है। सट्टाल या सत ताल झील 1270 मीटर की ऊंचाई पर घने ओक और पाइन वनों के बीच मेहरगांव घाटी के बीच स्थित है। यह झील प्रवासी पक्षियों के लिए एक स्वर्ग है और कुमाऊं क्षेत्र में भी एक बहुत लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। सुस्त धरा के शानदार दृश्य के साथ बेहद खूबसूरत सट्टाल, सट्टाल के पश्चिम में ओक जंगल से बहने वाला एक प्राकृतिक ताजा पानी का वसंत है। इस ताल में नौका-विहार करने वालों को विशेष सुविधायें प्रदान की गयी है। यह ताल पर्यटन विभाग की ओर से प्रमुख सैलानी क्षेत्र घोषित किया गया है। ताल के प्रत्येक कोने पर बैठने के लिए सुन्दर व्यवस्था कर दी गयी है। सारे ताल के आस-पास नाना प्रकार के फूल, लतायें लगायी गईं हैं। बैठने के अलावा सीढियों और सुन्दर- सुन्दर पुलों का निर्माण कर 'सातताल' को स्वर्ग जैसा ताल बनाया गया है। सचमुच यह ताल सौन्दर्य की दृष्टि से सर्वोपरि है। यहाँ पर नौकुचिया देवी का मन्दिर है। सातताल पहुंचने पर सर्वप्रथम झील नल दम्यंती ताल के रूप में मिलती है । आगे बढ़ने पर एक अमेरिकी मिशनरी स्टैनले जॉन्स का आश्रम है। आगे की झील पन्ना या गरुड झील है। नीचे जाने पर वहां तीन झीलों का एक समूह है, इन झीलों को राम, लक्ष्मण और सीता झील के रूप में जाना जाता हैं। यह सात झीले मिलकर इसे सातताल के नाम से विख्यात करती है जो पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र हैं।



3. तामदिल, मिजोरम

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

ताम दिल झील उत्तपूर्वी राज्य मिजोरम की एक सुंदर झील है। यह मिजोरम की राजधानी ऐज़वाल से लगभग 110 किमी दूर स्थित एक आकर्षक जलाशय झील है। ताम दिल कई लोकगीत और मिथकों से जुड़ा हुई है। यह राज्य के प्रमुख पर्यटक आकर्षणों में से एक, ताम दिल एक शांत झील है जो हरे-भरे हरियाली से घिरा हुआ है। यह एक सुरम्य मछली पकड़ने का जलाशय है। निस्संदेह ताम दिल भारत में सबसे आश्चर्यजनक झीलों में से एक है। मिज़ो भाषा में ‘दिल’ का अर्थ झील होता है।  मिजोरम की सबसे बड़ी झील तामदिल झील अपने आकर्षणों के लिए विश्व भर में मशहूर है। यह अपने दिलकश नज़ारों से पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती रहती है। यहाँ का प्राकृतिक सौंदर्य बे मिसाल होता है। यह झील पर्यटकों को अपनी और बहुत आकर्षित करती है।



4. नक्की झील, माउंट आबू, राजस्थान

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

नक्की झील माउंट आबू का प्रमुख आकर्षण है। राजस्थान में पानी की कमी होने के बावजूद इसकी सुंदरता को बढ़ाने के लिए कई झीले मौजूद है इन प्रमुख झीलो में से एक नक्की झील भी है। यह राजस्थान के ही माउंट आबू में स्थित होकर उसकी सुंदरता में चार चांद लगाती है। इस प्राचीन झील में ऐतिहासिक ऐतिहासिक और पौराणिक मूल्य है और यह बेहद पवित्र है। टॉड रॉक (टॉड के आकार के समान) और महाराजा जयपुर पैलेस समेत खूबसूरत परिवेश झील के लिए एक शानदार पृष्ठभूमि बनाता है। एक लोकप्रिय पर्यटक बिंदु होने के नाते, पर्यटकों के लिए कई जल क्रीड़ा सुविधाएं हैं। इस सुंदर झील के किनारे एक सुंदर बगीचा है। यहाँ शाम के समय घूमने और नौका विहार के लिए पर्यटकों का हुजूम उमड़ पड़ता है। नक्की झील राजस्थान की सबसे ऊँची झील है। एक किवदंती है कि इसका निर्माण देवताओं ने अपने नाख़ूनों से खोद कर किया था इसीलिए इसका नाम नक्की झील पड़ा। वहीं यह भी कहा जाता है कि एक प्रेमी ने अपनी प्रेमिका को पाने के लिए शर्त के स्वरुप अपने नाखूनों से इस झील को खोदा था किन्तु छल होने के कारण उसने अपने प्राणों को इसी झील में त्याग दिया था।  यह झील सर्दियों में अक्सर जम जाया करती है। झील के किनारे ही यहाँ का मुख्य बाज़ार है जहाँ शाम के समय मेला सा लगा रहता है । नक्की झील माउंट आबू का दिल है। प्राकृतिक सौंदर्य का नैसर्गिक आनंद देने वाली यह झील चारों ओर पर्वत शृंखलाओं से घिरी है। झील में एक टापू को 70 अश्वशक्ति से चलित विभिन्न रंगों में जल फ़व्वारा लगाकर आकर्षक बनाया गया है  नक्की झील के आसपास बहुत ही शांत और रोमांटिक वातावरण है। श्री रघुनाथजी मंदिर, टॉड रॉक और माउंट आबू में महाराजा जयपुर पैलेस इसके बहुत करीब हैं। बैंडिट्स प्यार, सूर्यास्त इसके निकट स्थित है। जो इसे पर्यटकों के लिए बेहद खास झील बनाती है।



5. लोकटक झील, मणिपुर

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

उत्तर-पूर्व भारत अपने अनुपम सौंदर्य के साथ सबसे अनोखी जगह के रुप में विख्यात है। उत्तर-पूर्व भारत के मणिपुर राज्य में स्थित लोकतक झील भारत की सबसे आकर्षक झील है। पूर्वोत्तर भारत की मीठे पानी की सबसे बड़ी झील है लोकटक झील जोकि मणिपुर की राजधानी इंफाल शहर से 53 किमी की दूरी पर स्थित है। लोकाटक झील सबसे बड़ी ताजे पानी की झील है। लोकतक झील की सबसे दिलचस्प विशेषताओं में से एक फुमडीस है। यहां पर अस्थानयी दलदल भी है जिसे स्था नीय लोग फुमदी कहते हैं। झील के दलदलीय क्षेत्र में केइबुल लामजाओ नेशनल पार्क भी स्थित है। इन विशिष्ट रूप से आकार वाले फमडीस (विघटित एक्वा निकायों और पौधों) के लिए झील को फ़्लोटिंग स्वर्ग भी कहा जाता है। उन पर कई द्वीप बनाए गए और लोकतक झील को यह आकर्षक रूप दिया। यह नेशनक पार्क दुनिया का एकमात्र तैरता हुआ नेशनल पार्क है। यहां पर आप को लुप्त प्राय संगाई की प्रजाति देखने को मिल जाएगी। यह नागालैंड का राज्य  पशु है। यहां पर आपको और भी कई दुर्लभ प्रजाति के जानवर देखने को मिल जाएंगें। ये नेशनल पार्क हज़ारों जलीय पौधों, 425 जानवरों की प्रजातियों और लगभग 200 से ज्याहदा प्रजातियों के पक्षियों का ठिकाना है। पर्यटक इस अनोखी झील की सुंदरता देख ही मंत्रमुग्ध हो जाते हैं।



6. पांगोंग त्सो, लद्दाख

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

पांगोंग त्सो या पांगोंग झील एक और हिमालयी झील है जो एक शानदार सौंदर्य से आशीर्वादित है। यह लॉक नदी बेसिन में भारत से तिब्बत तक और 14,270 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। यह दुनिया की सबसे ऊंची नमकीन पानी वाली झील है। इस लेक का सिर्फ एक तिहाई हिस्सा ही भारत में है जबकि बाकी का हिस्सा तिब्बत में आता है सुंदर पांगोंग त्सो शक्तिशाली पर्वत पंक्तियों से घिरे झील के शानदार दृश्य पेश करती है। पांगोंग के क्रिस्टल स्पष्ट नीले पानी ने कई प्रवासी पक्षियों को आकर्षित किया है, जो एक और कारण है कि झील इतनी जीवंत और युवा दिखती है। नीले आसमान, सुनहरे मैदानों और बर्फ से ढंके चोटियों की पृष्ठभूमि के बीच में स्थित, पांगोंग त्सो झील एकदम जादुई दुनिया जैसी प्रतीत होती है। लद्दाख की अन्य झीलों के मुकाबले इसकी एक ख़ास विशेषता है कि, यहां कितना भी तापमान क्यों ना कम हो जाये, ये झील कभी भी जमती नहीं है। इसके अलावा यह झील अपने रंग बदलने के लिए भी जानी जाती है, जो इसे एक सुरम्य प्रसन्न बनाता है। इस झील की एक और खासियत यह है कि जैसे-जैसे इस पर सूर्य की रोशनी पड़ती है इसका रंग बदलता रहता है।  पांगोंग टीएसओ का दौरा करने का सबसे अच्छा समय मई और सितंबर के बीच का महीना है।



7. डल झील, जम्मू और कश्मीर

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

भारतीय हिंदी फिल्मों यानि कि बॉलीवुड की सबसे पसंदीदा झील के रुप में जाने जानी वाली डल झील किसी परिचय का मोहताज नहीं है। जो भी फिल्म कश्मीर में बनी है उनमें डल झील को अवश्य दिखाया गया है।  डल झील वास्तव में जम्मू-कश्मीर की ग्रीष्मकालीन राजधानी शहर श्रीनगर का ताज रत्न है। भारत में सबसे प्रसिद्ध झीलों में से यह सबसे आश्चर्यजनक में से एक भी है। इसका दर्पण वाला पानी, सुंदर, शांत झील और आसपास के मनोरंजक दृश्य पर सुंदर और उत्कृष्ट घरों और शिकारों (संकीर्ण कश्मीरी नौकाओं) का प्रतिबिंब निश्चित रूप से आगंतुकों के लिए सबसे सुखद अनुभव प्रदान करती है। दुनिया भर में यह झील विशेष रूप से शिकारों या हाऊस बोट के लिए जानी जाती है। डल झील के पास ही मुग़लों के सुंदर एवं प्रसिद्ध पुष्प वाटिका से डल झील की आकृति और उभरकर सामने आती है।  इसके जल निकाय भी शहर के प्रमुख मछली पकड़ने स्थलों के रूप में सेवा करते हैं। झील झील में घर नौकाओं के लिए बैंकों से लोगों के लिए सवारी दे रहा शिकार से भरा है। डल झील में तैरते शीतल पेय, जैसे उत्पादों की बिक्री देखा जा सकता है डल झील के पूर्वी तरफ स्थित इन प्राचीन उद्यान, अभी भी अच्छी तरह से अपने सीढ़ीदार उद्यान, मेपल के पेड़, ताज़ा फव्वारे और फूल खिलने के साथ रखा जाता है। शालीमार बाग, निशांत बाग सबसे लोकप्रिय उद्यान हैं। अनगिनत फूलों के साथ, इन उद्यान पर्यटकों आंखों को वास्तविक मानते हैं। डल झील के आस-पास की प्राकृतिक सुंदरता अधिक संख्या में लोगों को अपनी ओर आकर्षित करती है।



8. त्सो मोरीरी, लद्दाख

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

लेह लद्दाख की, तासो मोरीरी शक्तिशाली पर्वत श्रृंखलाओं के बीच लुभावनी रूपशु घाटी में स्थित एक आकर्षक झील है जिसे 'माउंटेन लेक' भी कहा जाता है।  यह भारत सबसे शानदार झीलों में से एक है। यह खारे पानी की झील है क्यों कि इस झील से पानी का निकास नही हो सकता हैं। पहाड़ों पर बर्फ़ पिघलने की वजह से ये जल इकठठा होता हैं। आरामदायक स्थिरता और झील की शांति और इसके विस्मयकारी सुंदर बर्फ-पहने परिवेश इसे पूर्ण आत्मा खोज के लिए एक अंतिम स्थान बनाते हैं।  मोरीरी त्सो या मोरीरी लेक चैंगथैंग एरिया में समुद्र तल से 15 हजार 075 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। मोरीरी, भारत के हिमालय क्षेत्र में पायी जाने वाले सबसे ऊंची झीलों में एक है। इस झील की लंबाई 19 किलोमीटर और चौड़ाई 7 किलोमीटर है। बर्ड वॉचिंग यहां की एक फेमस ऐक्टिविटी है क्योंकि करीब 34 प्रजाति की बर्ड्स यहां आती हैं। लेह से इस झील की दूरी 240 किलोमीटर है।  त्सो मोरीरी झील के पास गौतम बुद्ध के कई बौद्ध धर्मावलंबियों की भी मूर्तियां स्थापित हैं। इसके तट पर बौद्ध धर्म का प्रसिद्वधार्मिक स्थल, कोरज़ोक गोम्पा मठ स्थित है। पहले यह मठ रुपशु घाटी का मुख्यालय के नाम से शुमार हुआ करता था।



9. पिछोला झील, उदयपुर, राजस्थान

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

आश्चर्यजनक रूप से सुंदर पिछोला झील राजस्थान के बहुत प्यारे शहर उदयपुर में स्थित एक कृत्रिम झील है। पिछोला शहर की सबसे पुरानी झीलों में से एक है और इसकी पृष्ठभूमि  सुंदर परिवेश का शानदार दृश्य पेश करती है। इसके बीच में जग मन्दिर और जग निवास महल हैं, जिनका प्रतिबिम्ब झील में पड़ता है। उदयपुर की पीने और सिंचाई की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए एक बांध का निर्माण किया गया जिसके क्रम में झील बनी। महाराणा उदय सिंह को झील के परिवेश ने अत्यधिक प्रभावित किया, इसलिए उन्होंने इस झील के तट पर उदयपुर शहर का निर्माण करने का फैसला किया।प्राचीन झीलों को प्रतिष्ठित महल, मंदिरों और सभी तरफ से हरे पहाड़ियों की ऊंची पहाड़ियों द्वारा घिरा हुआ है। पिछोला झील के पूर्वी तटों को चमकदार उदयपुर सिटी पैलेस से सजाया गया है। झील के आसपास के क्षेत्र में, यात्री नटिनी चबूतरे को देख सकते हैं, यह एक को उठा मंच है, जिसे एक कसी रस्सी पर चलने वाली 'नटिनी ' के और उसके श्राप की कथा के सम्मान में बनाया गया था। पिछोला झील ने निश्चित रूप से कई गुना उदयपुर की सुंदरता को बढ़ा दिया है।



10. पंगकांग तेंग त्सो झील, अरुणाचल प्रदेश

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

अरुणाचल प्रदेश में तवांग से करीब 17 किमी दूर, पगकांग टेन त्सो एक और आश्चर्यजनक झील है जिसे भारत की सबसे सुंदर झील होने का आशीर्वाद प्राप्त है। दिलचस्प तथ्य यह है कि बड़े पैमाने पर भूकंप के बाद झील का गठन हुआ था। पंकांग तेंग झील के चारों ओर एक लुभावनी दृश्य है। झील बर्फ से ढके पहाड़ी चोटियों और कभी भी खूबसूरत नीली लैपिस (लाजुली) फूलों से घिरी हुई है। ऊंचाइयों से झील का दृश्य वास्तव में इसे और खास बनाता है इसकी सुंदरता दिलों को थाम देती है। यह झील पर्यटको के बीच भी खासी लोकप्रिय है।


11. पराशर झील, हिमाचल प्रदेश

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

सबसे खूबसूरत वर्षा जल झीलों में से एक, हिमाचल प्रदेश की पराशर झील के पास आपका दिल चुरा लेने के लिए सब कुछ है। पवित्र संत ऋषि पराशर के नाम से जाने जानी वाली यह पराशर झील अन्य पर्वत झीलों की तुलना में आकार और आकार में बहुत छोटी है, लेकिन इसके आस-पास की सुंदरता इसे भारत में सबसे आश्चर्यजनक झीलों में से एक बनाती है। झील में एक अद्वितीय पगोडा के आकार का मंदिर है जो ऋषि को समर्पित है। पराशर झील बर्फ से ढके पहाड़ों से घिरी हुआ है। झील में एक गोलाकार फ़्लोटिंग द्वीप भी है जो झील को और अधिक दिलचस्प बनाता है। झील के चारों ओर ऊंची–ऊंची पहाड़ियाँ देखने में आकर्षक लगती है।  पराशर झील जनबस्तियों से काफ़ी दूर एकांत में हैं। इसके किनारे 'पैगोडा शैली' में निर्मित ऋषि पराशर का तीन मंजिला मंदिर भी है।  पराशर झील के आसपास कोई वृक्ष नहीं है। इसके चारों ओर बस हरी-हरी घास ही है, जो दिसम्बर के महीने में पीले रंग की हो जाती है। यह झील हर क‍सी को अपनी तरफ आकर्षि‍त करती है। पराशर ऋषि से जुड़ी इस झील में एक टापू ऐसा है, जो झील के बीच तैरता है। यह टापू ही सबके लिए रोचकता का केंद्र है। इस झील की गहराई भी आज तक एक रहस्यब ही है।



12. पालक झील, मिजोरम

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

भारत में सबसे आश्चर्यजनक लेकिन सुंदर झीलों में से एक, पालक झील (जिसे पलक दिल या पाला टिपो भी कहा जाता है) मिजोरम में एक प्राकृतिक मणि के रुप में स्थित है। यह मिज़ोरम की सबसे बड़ी झील है पलक झील, जो दक्षिणी मिज़ोरम के सैहा जिले में स्थित है।पालक झील छिमतुईई जिले के लखेर क्षेत्र में स्थित है, जो राज्य के सबसे दूरस्थ और सबसे अप्राप्य हिस्सों में से एक है। जो झीलों को आगंतुकों के बीच थोड़ा असंगत बनाता है। भारत के उत्तर-पूर्वी हिस्से में कई झीलों की तरह, भूकंप के बाद पालक झील का निर्माँण किया गया था। । झील के चारों ओर पहाड़ों का दृश्य इसे एक रहस्यमय आकर्षण देता है! करीब 45 किलोमीटर दूर पालक झील में विभिन्न प्रजाति के बत्तख, बड़ी मछलियां और केकड़े पाए जाते हैं। यह पर्यटकों के लिए एक आकर्षण का केंद्र है।



13. वेना झील, महाराष्ट्र

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

महाराष्ट्र के महाबलेश्वर में विशाल पश्चिमी घाट पहाड़ों के बीच स्थित वेन्ना झील मोहक सुंदरता का एक टुकड़ा है। वेन्ना की निपुण सुंदरता अपने अजीब पानी और पहाड़ियों और हिरणों से युक्त आकर्षक प्राकृतिक परिवेश में स्थित है। हालांकि पर्यटकों के भ्रमण ने कुछ हद तक पर्यावरण की शांति को खराब कर दिया है, फिर भी वेना के पास कोर के लिए अपनी अद्भुत प्रेरणादायक प्राकृतिक सुंदरता है। वेन्ना झील प्राकृतिक झील नहीं है क्योंकि इसे 1942 में छत्रपति शिवाजी महाराज के वंशज द्वारा बनाया गया था। हरी-भरी हरियाली से घिरी वेन्ना झील में लगभग 28 एकड़ जमीन का परिसर लगभग 7-8 किलोमीटर है। महाबलेश्वर शहर के लिए पानी की जरूरतों को पूरा करने के लिए झील का निर्माण किया गया था। यह हनीमूनों के साथ-साथ परिवारों के बीच बहुत लोकप्रिय स्थान है। पर्यटकों के लिए रो और पेडल नौकाएं उपलब्ध हैं। इसका क्षेत्रफल 2.4 कि.मी. में फैला है। पर्यटक वेन्ना झील में नाव की सैर व फिशिंग का भी लुत्फ उठा सकते हैं। वेन्ना झील महाबलेश्र्वेर के प्रसिद्ध पर्यटन आकर्षण केंद्रों में से एक है इस झील के चारों ओर पेड़ लगे हुए हैं। महाबलेश्र्वेर में स्थित होटलों के द्वारा भी इस झील के मनमोहक दृश्य का आनंद लिया जा सकता है



14. त्सुगु / चंगु / सोंगमो झील, सिक्किम

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

सिक्किम की सुंदरता सोंगमो (जिसे चंगु और त्सुगु के रूप में भी जाना जाता है) यह झील भारत में सबसे आश्चर्यजनक झीलों में से एक है। सोंगमो पूर्वी सिक्किम में स्थित एक हिमनद झील है। झील को स्थानीय बौद्ध और हिंदू लोगों दोनों द्वारा बेहद पवित्र माना जाता है। हालांकि सर्दी के मौसम में झील जम जाती है।  लेकिन मई और जून के महीनों में यह स्वर्गीय सुंदर हो जाती है। क्रिस्टल स्पष्ट नीलमणि पानी, नीले और पीले फूल आदि जैसे विभिन्न फूलों के मोहक गुच्छा झील के एक किनारे को ढक कर इसे और सुंदर बना देते हैं।  सोंगमो के आसपास वातावरण गोताखोरी प्रकृति की ओर एक दिव्य यात्रा ले जाएगा! यह सुंदर झील ग्लेोशियर यानी हिमनदों से युक्तल है, समुद्र के स्तर से 3780 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। सिक्किम में नाथू ला दर्रे के रास्ते पर यह झील पड़ती है। इस प्राचीन झील से मात्र 5 किलोमीटर की दूरी पर चीनी सीमा क्रॉसिंग है। इस झील के बारे में एक विशेषता है। भारतीय डाक सेवा ने वर्ष 2006 में इस झील को समर्पित एक टिकट जारी किया था। यह झील दर्शकों को बहुत आकर्षित करती है।



15. कोलेरू झील, आंध्र प्रदेश

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

कोलेरू झील एक और खूबसूरत झील है जो कृष्णा और गोदावरी नदी डेल्टा के बीच स्थित है। यह भारत की सबसे बड़ी ताजे पानी की झीलों में से एक है। यह झील प्रवासी पक्षियों के लिए एक अद्भुत जगह प्रदान करती है जो स्वाभाविक रूप से इस विशाल जल निकाय को दर्शकों के लिए एक सुंदर दृष्टि बनाते है। इसके स्पष्ट सेरूलेन पानी और इसके चारों ओर हरे रंग की बहुतायत के साथ, पूर्व-आश्चर्यजनक कोलेरू झील हमारी इंद्रियों को आराम देता है। इसका दृश्य किसी का भी मन मोह लेने का दम रखता है जो इस झील का प्रमुख विशेशता है।



16. रेणुका झील, हिमाचल प्रदेश

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

हिमाचल प्रदेश की सबसे बड़ी झील, रेणुका झील राज्य की सबसे पवित्र झीलों में से एक है। इस खूबसूरत झील का नाम भगवान विष्णु के दस अवतार परशुराम जी की मां और ऋषि, जमदग्नी की पत्नी देवी रेणुका के नाम पर रखा गया था। यह आकर्षक झील जो महिला के आकार की दिखलाई पड़ती है। इसे देख ऐसा प्रतीत होता है जैसे कोई महिला लेटी हुई हो। रेणुका झील की समुन्द्र तल से ऊचाई लगभग2200 फीट है। यह एक अत्यंत रमणीक झील है जो लगभग तीन किलोमीटर लंबी तथा आधा किलोमीटर चौडी एक अदभुत झील है।  इस झील के चारो ओर हरियाली व इसके पानी मे अठखेलियां करती मछलिया पर्यटको को अपनी ओर आकर्षित करती है। इस झील की गणना एक पावन तीर्थ स्थल के रूप में भी की जाती है। हर वर्ष दिपावली के लगभग दस दिन बाद यहां एक विशाल मेले का आयोजन किया जाता है। जिसमे हजारो श्रद्धालु भाग लेते है। झील के किनारे माँ रेणुका और परशुराम का प्रसिद्ध मंदिर है। तथा एक छोटा सा चिडियाघर है जो पर्यटको काफी पसंद आता है। झील में मनोरंजन के लिए बोटिंग करने की सुविधा उपलब्ध है।  रेणुका झील के आसपास का वातावरण बहुत खूबसूरत और शांतिपूर्ण है | हरे-भरे पेड़ शीतल स्वच्छ जल में रंग बिरंगी मछलियां, खूबसूरत लता कुंज, आश्रम का रोमांचकारी चिड़ियाघर और पास बहती गिरी नदी इसे और आकर्षक और सुंदर बनाती है।



17. नैनीताल झील, उत्तरांचल

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

नैनी ताल या नैनी झील उत्तरांचल के नैनीताल शहर की एक हरी पहाड़ी घाटी की गोद में एक चमचमाती मणि के समान झील है। यह झील पहाड़ियों से घिरी हुई, खूबसूरत ताजे पानी की झील है जो एक आकर्षक दृश्य को प्रस्तुत करती है। झील पर सबसे प्रमुख दृश्य सैकड़ों पैडल नौकाएं है। इस झील की धार्मिक मान्यता भी है।  स्कंसद पुराण में इसे त्रिऋषि सरोवर भी कहा गया है। कहा जाता है कि जब अत्री, पुलस्त्य और पुलह ऋषि को नैनीताल में कहीं पानी नहीं मिला तो उन्होंने एक गड्ढा खोदा और मानसरोवर झील से पानी लाकर उसमें भरा। झील के पानी में आसपास के पहाड़ों का प्रतिबिंब दिखाई पड़ता है। रात के समय जब चारों ओर बल्बों की रोशनी होती है तब तो इसकी सुंदरता और भी बढ़ जाती है।  इस सुंदर झील में नौकायन का आनंद लेने के लिए लाखों देशी-विदेशी पर्यटक यहाँ आते हैं। पहाड़ियों और भव्य भवनों के इसे और आकर्षक बनाता हैं। नैनीताल झील का हवाई दृश्य निश्चित रूप से लुभावना और सुंदर दृश्य होता है जो पर्यटकों को बहुत आकर्षिक करता है।



18. उमियम झील (बारापानी), मेघालय

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

उमियम झील  उत्तर पूर्वी राज्य मेघालय की सबसे शानदार झीलों में से एक है। मान निर्मित यह झील प्राकृतिक सुंदरता का एक आदर्श कृत्रिम प्रतिनिधित्व करती है। शिलांग, उमियम झील या बरपानी (स्थानीय रूप से बुलाया गया) से मात्र 15 किमी दूर स्थित एक खजाना है जो उसके आस-पास की सभी प्राकृतिक सुंदरता से युक्त है। आसपास के हरी-भरी हरियाली, नीले शांत पानी पर दिखाई देती हैं। यह झील स्काटलैंड की झीलो जैसा मनोरम दृश्य प्रस्तुत करती है ।  उमियाम नदी के ऊपर जल-विद्युत उत्पादन के लिए बनाए गए बांध के कारण 1960 में इस झील को बनाया गया। आज, यह झील अपने वाटर स्पॉट्स और साहसिक खेलों के कारण एक उत्कृष्ट पर्यटन स्थल के रुप में कार्य करती है। बदलते समय के साथ यह झील पर्यटकों के बीच अपनी अद्भुत सुन्दरता के चलते खासा लोकप्रिय हो गयी। इस झील से पूर्व खासी पहाड़ियों के लुभावने नजारों को निहारा जा सकता है। झील के खूबसूरत नजारे निश्चित रूप से स्कॉटलैंड के झीलों के आकर्षण से प्रतिस्पर्धा कर सकती है। इस झील के आसपास पर्यटक कई वाटर स्पोर्ट्स का मजा ले सकते हैं, जिसमे नौकायन, मछली पकड़ने, पानी के सायकलिंग और कयाकिंग शामिल हैं हां आप कई तरह के वॉटर स्पोर्ट्स जैसे रोइंग बोट, पैडल बोट, वॉटर स्कूटर, स्पीड बोट का आनंद उठा सकते हैं।



19. चिल्का झील, ओडिशा

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

एशिया की सबसे बड़ी खारे पानी की झील के रुप में विख्यात चिल्का झील भारत के पूर्वी राज्य उड़ीसा में स्थित है। यह भारत की सबसे खूबसूरत झीलों में से एक है। चिल्का झील हमेशा अपनी मोहक सुंदरता के कारण फोटोग्राफर की खुशी का रुप रही है।  हजारों प्रवासी पक्षियों के लिए यह बेहद विस्तारित लैगून वास्तव में एक स्वर्ग है। यहां पक्षियों की लगभग 160 प्रजातियां पाईं जाती है। सर्दियों के मौसम में सात-समंदर पार कर असंख्य प्रवासी पक्षी इस झील तक पहुंचते हैं। खूबसूरत झील में कई छोटे द्वीप हैं जहां ज्यादातर स्थानीय मछुआरों के परिवारों में रहते हैं और इन द्वीपों पर नाव यात्रा के माध्यम से पहुंचा जा सकता है। इस मनोरम झील का एक और मुख्य आकर्षण चिल्लका की प्रमुख प्रजाति इरावदी डॉल्फ़िन की उपस्थिति है। करीब 110 वर्ग किमी में फैली यह झील, असंख्य जीव जन्तुओं व जलीय वनस्पतियों का निवास स्थान है। यहां करीब 220 से ज्यादा मछलियों की प्रजातियां मौजूद हैं। बालू से बनी कई किमी लंबी दीवारें, इस झील को समुद्र से अलग करती हैं। आप यहां जी भरकर प्राकृतिक खूबसूरती का लुत्फ उठा सकते हैं। आप झील में नौका विहार का भी आनंद ले सकते हैं।  यह झील 14 प्रकार के शिकारी पक्षी, 152 रेयर इरावती डॉल्फिन, व 37 प्रकार के सरीसृप (रेंगनेवाला जन्तु) उभयचरों (जलथलचर) का निवास स्थान भी है। जो इसे एक रोमांचक झीलों की श्रेणी में लाता है।

 

20. केंबनाद झील, केरल

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

केरल में सबसे लंबी और सबसे बड़ी खराश लैगून, वेम्बनाद झील राज्य के सबसे बड़े आकर्षणों में से एक है। यह शानदार झील एक लोकप्रिय पिकनिक गंतव्य और हमेशा के लिए सुंदर बैकवॉटर यानि नाव वाले घर का आनंद उठाने के लिए एक स्वर्गीय स्थान प्रदान करती है। झील के चारों ओर नारियल के पेड़ की पंक्तियां और सुंदर केट्टुवाल्म्स (केरलटाइट हाउस नौकाओं) पानी पर ढंके हुए वेम्बनाद झील को खुश करने के लिए एक जगह बनाते हैं। प्रतिवर्ष इस झील में नाव प्रतियोगिताएँ आयोजित की जाती हैं। इस प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए दूर-दूर से प्रतियोगी यहाँ आते हैं। दुनिया भर में झील, इसपर ओणम के दौरान आयोजित होने वाली वार्षिक नौकादौड़ (नेहरू ट्रॉफी बोट रेस) के लिये प्रसिद्ध है। विभिन्न क्षेत्रों की कई नावें इस ऐतिहासिक रेस में भाग लेकर दर्शकों के लिए एक मनमोहक दृश्य प्रदान करती हैं। झील का पूर्वी भाग प्रवासी पक्षियों का घर है और जहाँ स्थित कुमारकोम पक्षी अभयारण्य एक प्रमुख पर्यटक आकर्षण है। यहां बोटिंग, फिशिंग और साइटसिंग के अनुभवों का आनंद लिया जा सकता है। वेम्बनाड झील केरल में कई जिलों में अलग अलग नाम से जानी जाती है किन्तु यह सबको अपने मनोरम दृश्य प्रदान करती है।



21. मानसबल झील, जम्मू-कश्मीर

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

भारत में सबसे गहरी झील, मानसबल झील जम्मू-कश्मीर के गंदरबल जिले के सफापोरा में स्थित है। मानसबल नाम झील मानसरोवर से लिया गया माना जाता है। यह एक ताजे पानी की झील है और यह हमारे देश में सबसे खूबसूरत झीलों में से एक है। मानसबल झील तीन आकर्षक गांवों से घिरा हुआ है, इस प्रकार एक शानदार दृश्य पेश करता है। झील के बीच में कमल का एक गुच्छा दर्शकों के लिए एक और सुंदर दृष्टि है। झील समुद्री तल से 1500 किमी की ऊँचाई पर स्थित है। इस झील की लम्बाई 5 किमी और चौड़ाई 1 किमी है। मानसबल झील विशाल और सुरम्य झील होने के साथ कई राजसी लोगों को अपनी और आकर्षित करता है, इसलिए इसे 'कश्मीर के झीलों का सबसे श्रेष्ठ रत्न' भी कहते हैं।  इस झील की खास बात यह है कि, इस झील में किसी भी नदी की धारा नहीं मिलती है। यह झील मुख्यतः बारिश के पानी, पहाड़ों से जमा किये गए पानी या किसी जमे हुए नदी पर आश्रित है। जम्मू कश्मीर के झेलम नदी की श्रेणी में मानसबल झील सबसे ऊँचे स्थित झीलों में से एक है ग़ल बाग़ और झऱोखाबाग किले के अलावा, इस झील के किनारे कई अन्य बाग़ भी मौजूद हैं। सेबों के बाग़, शहतूत के बाग़, चिनार के बड़े-बड़े पेड़ और जलग्रहण क्षेत्र में ही खेतों के भाग, इस झील की सुंदरता में चार चाँद लगाते हैं। जो किसी को भी अपनी और आकर्षित करने का दम रखते हैं।



22. चंद्रताल, स्पीति घाटी, हिमाचल प्रदेश

भारत की सबसे खूबसूरत झीलें

चंद्रताल या चंद्रमा झील स्पीति घाटी के गोद में स्थित एक प्राकृतिक मणि है। यह सुंदर झील हिमालय में 14,100 फीट की ऊंचाई पर और कुंजम पास से 10 किमी की दूरी पर स्थित है। चंद्रताल एक तरफ पत्थर के पहाड़ों से घिरी हुई है जो कि चंद्रमा के आकार की झील के शानदार दृश्य पेश करता है इस अर्धचंद्राकार के समान होने के कारण इसका नाम चंद्रताल पड़ा है। चंद्रताल प्रकृति प्रेमियों और साहस साधकों के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य है क्योंकि यह दोनों शांत वातावरण और इसके आसपास ट्रेकिंग के लिए जगह प्रदान करती है। चंद्रताल जाने का सबसे अच्छा समय मई से अक्टूबर के बीच के महीनों में है। चंद्रा नदी की ओर मुख किए हुए समुद्र टापू पठार पर चंद्रताल स्थित है। समुद्रतट से चंद्रताल 4300 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। चंद्रताल झील के पास कैंप लगाकर आप रूक सकते हैं। जिसका पानी शीशे की तरह चमकता है और पूरी तरह प्रदूषण मुक्त है। यहां साल भर एडवेंचर के शौकीनों का आवागमन लगा रहता है। इस झील से एक पौराणिक किवदंती भी जुड़ी है, माना जाता है कि यह वो स्थान है जहां भगवान इंद्र के रथ ने युधिष्ठिर को उठाया था, युधिष्ठिर पांच पांडवों में से सबसे बड़े थे। यह झील पहाड़ियों और बर्फीली चोटियों से घिरी है, जो आपको काफी ज्यादा उत्साहित करने का काम करेंगी। आप शानदार पहाड़ी आकर्षणों का आनंद ले सकते हैं। झील के आसपास आप कैंपिग का आनंद भी ले सकते हैं और अपने गंतव्य को यादगार बना सकते हैं।


To read this Article in English Click here
1422
  • SHARE THIS
  • TWEET THIS
  • SHARE THIS
  • COMMENT
  • LOVE THIS 0

Related Links

Comments / Discussion Board - भारत की सबसे खूबसूरत 22 झीलें

Loader