Editor's Choice:

Home about tourism भारत के प्रसिद्ध हनुमान मंदिर

Share this on Facebook!

भारत के प्रसिद्ध हनुमान मंदिर

Indiaonline
Close

Want more stories like this?

Like us on Facebook to get more!
Close

भारत के प्रसिद्ध हनुमान मंदिर

भारत के प्रसिद्ध हनुमान मंदिर

हिन्दु मान्यतानुसार 36 करोड़ देवी-देवता हैं। जिनकी पूजा अर्चाना हिंदू धर्म में की जाती है। भारत एक ऐसा देश है जहां सभी धर्मों के लोग एक साथ रहते हैं। भारत में हिंदू धर्म की बहुलता है यहां हिंदुओं को कई देवी-देवताओं के मंदिर है जहां भक्त पूरे साल श्रद्धा भाव से भगवान के दर्शन करने जाते हैं। हिंदू धर्म के प्रमुख देवताओं में से एक भगवान हनुमान हैं जो पूरी दुनिया में हिंदुओं द्वारा व्यापक रूप से पूजनीय हैं। हनुमान को भगवान राम के परम भक्त के रूप में  जाना जाता है। भगवान हनुमान हिंदू महाकाव्य रामायण के महत्वपूर्ण पात्रों में से एक है। एक वानर यानि बंदर के रुप में होने के बाद भी वो हिन्दुओं को पूज्नीय भगवान के रुप में विख्यात है। भगवान हनुमान के कई किस्से भारत के बच्चे से लेकर बड़े तक को मुंह जुबानी याद हैं। भगवान हनुमान ने लंका के राक्षस राजा रावण के खिलाफ भगवान राम के साथ युद्ध में भाग लिया था। विभिन्न भारतीय ग्रंथों और हिंदू महाकाव्य में भगवान हनुमान का नाम और उनकी महिमा की व्याख्या की गई है। जिसमें महाभारत, प्राचीन हिंदू ग्रंथों और कुछ जैन ग्रंथ भी शामिल हैं। भगवान हनुमान को ऐसा देवता माना जाता है जो आज भी अप्रत्यक्ष और प्रत्यक्ष रुप में भक्तो के साथ रहते हैं। पावन सुता, मारुति, बजरंगबली और अंजनिपुत्र, महावीर आदि कई नामों से जाना जाता है, भगवान हनुमान को भगवान शिव और वायु देव के अवतार के रूप में भी जाता है। हनुमानजी एकमात्र ऐसे देवता हैं जिनके कारण तीनों लोकों की कोई भी शक्ति अपनी मनमानी नहीं कर सकती। वे साधु-संतों के अलावा भगवानों के भी रक्षक हैं। उनसे बड़ा इस ब्रह्मांड में दूसरा कोई नहीं। वे परम ब्रह्मचारी और ईश्वरतुल्य हैं। हनुमान जी श्री राम के महान भक्त हैं। हनुमान भगवान शिव का अवतार हैं। उनके माता-पिता मां अंजना और केसरी, इसलिए हनुमान जी को अंजनी-पुत्र और केसरी-नंदन भी कहा जाता है, उन्हें पवन-पुत्र भी कहा जाता है।

भगवान हनुमान को अक्सर ज्ञान, भक्ति, वीरता, साहस, शक्ति और विनम्रता और सद्गुण के प्रति समर्पण का प्रतीक माना जाता है। एक मजबूत शख्सियत के रूप में देखा जाता है, जो अपने सीने पर भगवान राम की तस्वीर के साथ एक स्मारक गदा रखते हैं। भगवान हनुमान हमेशा लोगों को प्रेरित करते रहते हैं। वैसे तो देशभर में हनुमान जी के हजारों-हजारों मंदिर और पवित्र स्थल हैं, लेकिन इनमें से कुछ मंदिर बेहद खास हैं और उनका जिक्र नहीं किया जाता है, लोग उन्हें सरासर भक्ति से पिरोते हैं। हनुमानजी के चमत्कारिक सिद्धपीठों की संख्या  सैकड़ों में है। उन सभी स्थानों पर हनुमान के मंदिर बने हैं, जहां वे गए थे या जहां वे बहुत काल तक रहे थे या जहां उनका जन्म हुआ। कुछ मंदिर उनके जीवन की खास घटनाओं से जुड़े हैं और कुछ का संबंध चमत्कार से है। भक्तगण मंगलवार को प्रायः हनुमान का दिन ही मानते हैं, और उनका उपवास व प्रार्थना करते हैं। इसके साथ-साथ शनिदेव के आशीर्वाद स्वरूप, शनिवार के दिन भी हनुमान जी की पूजा-अर्चना करने का विधान है। इस लेख के माध्यम से हम आपको भगवान हनुमान के कुछ प्रसिद्ध मंदिर के बारे में बता रहे हैं जहां जाकर आपको भक्ति का एक अलग ही रुप देखने को मिलेगा। आपको यहां भगवान हनुमान के दर्शन के लिए अवश्य जाना चाहिए।


हनुमान गढ़ी

भारत के प्रसिद्ध हनुमान मंदिर

स्थान: अयोध्या, उत्तर प्रदेश
हनुमान गढ़ी मंदिर जाने का आदर्श समय: सूर्योदय से सूर्यास्त तक

भगवान राम की नगरी अयोध्या के पवित्र शहर के केंद्र में स्थित, हनुमान गढ़ी मंदिर क्षेत्र के सबसे अधिक देखे जाने वाले और महत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों में से एक है। हनुमान गढ़ी, श्री हनुमान के मुख्य मंदिरो में से एक है. ये उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से 100 किमी दूर सीतापुर जिले में अयोध्या के पास है. लंबी दूरी से दिखाई देने वाली एक छोटी पहाड़ी पर स्थित, हनुमान गढ़ी मंदिर तक पहुँचने के लिए सत्तर कदमों की चढ़ाई है। भगवान हनुमान को समर्पित, हनुमान गढ़ी एक स्मारकीय चतुर्भुज किला है, जिसके हर कोने पर मंदिर है। यहां हनुमान जी की मूर्ती बलिष्ठ और लाल रंग में है.  मान्यता है कि भगवान राम जब लंका जीतकर अयोध्या लौटे, तो उन्होंने अपने प्रिय भक्त हनुमान को रहने के लिए यही स्थान दिया. साथ ही यह अधिकार भी दिया कि जो भी भक्त यहां दर्शन के लिए अयोध्या आएगा, उसे पहले हनुमान का दर्शन-पूजन करना होगा.

मूल रूप से यह एर क गुफा मंदिर, के रुप में व्यापक रूप से जाना जाता है। कहा जाता है  कि भगवान हनुमान एक गुफा में इस पवित्र स्थान पर रहते थे और उन्होंने जन्मभूमि (राम के जन्म का स्थान) की रक्षा की थी। प्रमुख मंदिर में बाल रुप में हनुमान मां अंजना की गोद में स्थित हैं। यहां पवनपुत्र हनुमान की 6 इंच की प्रतिमा है, जो हमेशा फूल-मालाओं से सुशोभित रहती है. हनुमान चालीसा की चौपाइयां मंदिर की दीवारों पर सुशोभित हैं.  इस मंदिर में दक्षिण मुखी हनुमान जी हैं. मान्यरता है कि यहां दर्शन करने और हनुमान जी को लाल चोला चढ़ाने से ग्रह शांत हो जाते हैं, जीवन में सफलता और समृद्धि मिलती है. यह हनुमान जी का सिद्ध पीठ है यह माना जाता है कि इस ऐतिहासिक मंदिर की यात्रा से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। राम नवमी, दीवाली, हनुमान जयंती और दशहरा इस मंदिर में मनाए जाने वाले सबसे महत्वपूर्ण त्योहार हैं।


सालासर बालाजी मंदिर

भारत के प्रसिद्ध हनुमान मंदिर

स्थान: सालासर, चूरू जिला (राजस्थान), जयपुर - बीकानेर राजमार्ग
(सीकर से 57 किलोमीटर और सुजानगढ़ से 24 किलोमीटर)
मंदिर का समय: सुबह 4:00 बजे से रात 10:00 बजे तक

प्रसिद्ध सालासर धाम के रूप में जाना जाने वाला प्रसिद्ध सालासर बालाजी मंदिर, पश्चिमी भारतीय राज्य राजस्थान में चुरू जिले के सालासर शहर (राष्ट्रीय राजमार्ग 65 पर) में स्थित है। सदियों पुराना मंदिर हनुमान के अवतार भगवान बालाजी का घर है। इस मंदिर में बालाजी भगवान भर में स्थित हनुमान की अन्य सभी प्रतिमाओं से अलग हैं। नियमित मूर्तियों और रूपों के विपरीत भारत में यह एक ऐसा पहला मंदिर है जिसमें बालाजी के दाढ़ी और मूंछ है। वहीं पूरे चेहरे पर सिंदूर लगा हुआ है। बताया जाता है कि इस विशाल मंदिर को मुस्लिम कारीगरों द्वारा बनाया गया है।

यह मंदिर सालासर कस्बे के बीच में बना हुआ है। इस मंदिर में दर्शन के लिए लोग दूर-दूर से अच्छी  खासी तादाद में आते हैं। इस मंदिर के विषय में किवंदती है कि सन 1811 में जब नागपुर के एक गांव में एक जाट किसान अपने खेत में हल चला रहा था। तभी अचानक उसके हल से जमीन में एक पथरीली चीज टकराई। उसने उस जगह को खोदा और पाया कि उसमें दो मूर्तियां दबी हुई हैं। जब उस किसान ने मूर्तियों पोछा तब पाया कि वह बालाजी भगवान श्री हनुमान की थी।
हनुमान की जी मूर्ति देख उसने पूरे गांव में यह बात फैला दी। रात में सोते वक्ता बालाजी ने उसे सपने में दर्शन दिए और आदेश दिया कि इस मूर्ति को चूरू जिले में सालासर भेज दिया जाए। फिर उसी रात हनुमान जी ने एक अन्यू भक्त  सालासर के मोहन दासजी को भी उनके सपने में आ कर दर्शन दिए। भगवान बालाजी ने उसे असोटा की मूर्ति के बारे में बताया। उस व्य।क्तित ने तुरंत ही असोटा के ठाकुर को एक संदेश भेजा।  जब असोटा के ठाकुर को पता चला कि मोहन दासजी को इस बारे में सब कुछ पता है तो वह हैरान रह गए। निश्चित रूप से यह चमत्काबर बालाजी की कृपा से हुआ। फिर मूर्ति को सालासर भेज दिया गया और फिर इस जगह को आज सालासर धाम के रूप में जाना जाने लगा। वहीं दूसरी मूर्ति को पाबोलाम में स्थांपित किया था। इसके अलावा, सालासर बालाजी मंदिर एक लोकप्रिय तीर्थयात्रा सर्किट में एक महत्वपूर्ण नाम है जिसमें रानी सती मंदिर और खाटूश्यामजी (शीश के दाणी) शामिल हैं, जहां तीनों प्रसिद्ध धार्मिक स्थल एक-दूसरे के करीब हैं।


संकट मोचन हनुमान मंदिर

भारत के प्रसिद्ध हनुमान मंदिर

स्थान: संकट मोचन रोड, साकेत नगर, नागवा लंका, वाराणसी, उत्तर प्रदेश 221005
मंदिर का समय: सुबह 5:00 बजे से दोपहर 12:00 बजे और शाम 4:00 बजे तक

भगवान हनुमान के सबसे शानदार मंदिरों में से एक के रूप में संकट मोचन हनुमान मंदिर को जाना जाता है।  संकट मोचन हनुमान मंदिर उत्तर भारत के उत्तर प्रदेश राज्य की आध्यात्मिक राजधानी वाराणसी में स्थित है। दक्षिणी वाराणसी में संकट मोचन हनुमान मंदिर को बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में शानदार दुर्गा कुंड मंदिर और श्री विश्वनाथ मंदिर (नया विश्वनाथ मंदिर) के मार्ग में देखा जा सकता है। मूर्ति के बारे में कहा जाता है कि इसे कवि गोस्वामी तुलसीदास ने स्वयं अपने हाथों से गढ़ा था और तब एक छोटा-सा मंदिर बाद में विस्तृत होता गया. ऐसी भी मान्यता है कि 16वीं शताब्दी में तुलसीदास ने पवित्र हिंदू ग्रंथ रामचरितमानस् का एक अच्छा-ख़ासा हिस्सा वहीं रहकर लिखा था. वैसे तो इस मंदिर के द्वार हमेशा खुले रहेते है लेकिन हनुमान जी का वार होने की वजह से यहाँ हजारो की तदार पर भक्त आते है|  मंगलवार और शनिवार, हज़ारों की तादाद में लोग भगवान हनुमान को पूजा अर्चना करते है| और अगर ज्योतिष की मने तो हनुमान मनुष्यों को शनि गृह के क्रोध से बचते हैं अथवा जिन लोगों की कुंडलियो में शनि गलत स्थान पर स्तिथ होता हैं|.

संकट मोचन ’शब्द का शाब्दिक अर्थ ‘समस्याओं से राहत’ के रूप में अनुवादित किया जा सकता है। इस मंदरि में भक्त अपनी विपत्तियों से छुटकारा पाने के लए साल भर आते रहते हैं। हिंदू महाकाव्य रामायण से सुंदरकांड का पाठ करते हैं, भक्ति के साथ हनुमान चालीसा का जप करते हैं और प्रार्थना करते हैं। संकट मोचन हनुमान मंदिर की वर्तमान संरचना का निर्माण 90 के दशक के प्रारंभ मं  बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के संस्थापक, महामना पंडित मदन मोहन मालवीय, प्रसिद्ध भारतीय शिक्षाविद् और स्वतंत्रता सेनानी द्वारा किया गया था। यहाँ के राजसी भगवान हनुमान देवता की मूर्ति नारंगी रंग के सिंदूर से ढकी हुई है और लाल पेड़ा चढ़ाया जाता है। मान्यता है कि तुलसीदास जी ने रामचरितमानस का कुछ अंश संकटमोचन मंदिर के पास विशाल पीपल के पेड़े के नीचे बैठकर लिखा था। हनुमान जयंती पर मंदिर में बड़े स्तर पर संगीत कार्यक्रम आयोजित होता है। । मंदिर परिसर में काफ़ी संख्या में बन्दर भी रहते हैं।


श्री बालाहनुमान संकीर्तन मंदिर

भारत के प्रसिद्ध हनुमान मंदिर

स्थान: श्री प्रेमभिक्षुजी मार्ग, गवर्नमेंट कॉलोनी, जामनगर, गुजरात 361001
मंदिर का समय: सुबह 6:00 बजे से सुबह 10:00 बजे तक

श्री प्रेमभिक्षुजी महाराज द्वारा वर्ष 1963-64 के दौरान स्थापित सबसे प्राचीन मंदिर, बाला हनुमान मंदिर जामनगर, गुजरात में रणमल झील (लखोटा झील) के दक्षिण की ओर पर स्थित है। 1 अगस्त 1964 से भगवान राम के परम पवित्र मंत्र श्री राम, जय राम, जय जय राम के अखंड 24 घंटे के जप के लिए यह भव्य मंदिर दूर-दूर तक प्रसिद्ध है।

इस वंदना ने भगवान हनुमान मंदिर को गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में स्थान दिलाया है। साल भर करोड़ों श्रद्धालु श्री बालाहनुमान संकीर्तन मंदिर आते हैं। इस मंदिर में जाने के लिए शाम का समय एक अच्छा समय होता है क्योंकि दैनिक पूजा शाम की पूजा के साथ मंत्रमुग्ध कर देने वाले अनुष्ठान का समय निकालते हैं। यहां भक्त आकर असीम शांति का अनुभव करते हैं।


महावीर मंदिर

भारत के प्रसिद्ध हनुमान मंदिर

स्थान: पटना जंक्शन, पटना, बिहार के पास 800001
मंदिर का समय: सुबह 5:30 बजे से रात 10:30 बजे तक

भगवान हनुमान को समर्पित सबसे पवित्र हिंदू मंदिरों में से एक, प्रसिद्ध महावीर मंदिर बिहार की राजधानी पटना में स्थित है। पूरे उत्तर भारत में दूसरे सबसे अधिक देखे जाने वाले मंदिरों के रूप में, महावीर हनुमान मंदिर का प्रबंधन श्री महावीर चरण न्यास समिति (महावीर मंदिर ट्रस्ट) द्वारा किया जाता है। प्रसिद्ध महावीर मंदिर पीतल का मंदिर हैं जो मंदिर की संरचना के शीर्ष पर देखे जा सकते हैं। 1983 और 1985 के बीच, मंदिर का पुनर्निर्माण किया गया और कई देवताओं का अभिषेक किया गया। लाखों तीर्थयात्री इस मंदिर में आते हैं और महावीर मंदिर उत्तर भारत में सबसे अधिक दर्षन किए जाने के लिए दूसरे स्थान पर है। संकट मोचन की प्रतिमा भक्तों के दिल में एक विशेष स्थान रखती है। रामनवमी के पावन अवसर पर अनेक लोग इस मंदिर में आते हैं।

इस मंदिर का मुख्य द्वार उत्तर दिशा की ओर है और मंदिर के गर्भगृह में भगवान हनुमान की मूर्तियां हैं। इस मंदिर में सभी देवी-देवताओं की मूर्तियां स्थापित हैं। स्थापित किए गए कुछ अन्य महत्वपूर्ण देवताओं में भगवान शिव, लक्ष्मण के साथ भगवान राम और शबरी, भगवान कृष्ण और अर्जुन, भगवान गणेश, देवी दुर्गा, सत्यनारायण भगवान, भगवान बुद्ध, देवी सरस्वती, शनिदेव गुफा इत्यादि शामिल हैं। यह उल्लेख करना महत्वपूर्ण है कि महावीर मंदिर भारत का एकमात्र धार्मिक स्थल है जहाँ पूजा के दौरान पुजारी को दिया जाने वाला दान (दक्षिणा) श्री महावीर चरण न्यास समिति को जाता है। इसके अलावा, मंदिर आध्यात्मिक कार्यक्रमों में पूरे दान का उपयोग करता है जिसमें आम तौर पर असहाय लोगों की सेवा होती है। इस मंदिर में आकर शीश नवाने से भक्तों की मनोकामना पूर्ति होती है। इस मंदिर को हर दिन लगभग एक लाख रुपये की राशि विभिन्न मदों से प्राप्त होती है।  यहां की एक खास बात यह है कि यहां रामसेतु का पत्थर कांच के बरतन में रखा हुआ है। इस पत्थर का वजन 15 किलो है और यह पत्थर पानी में तैरता रहता है। यह मंदिर बाकी हनुमान मंदिरो से कुछ अलग है, क्योंकि यहां बजरंग बली की युग्म मूर्तियां एक साथ हैं।


श्री बड़े हनुमान मंदिर

भारत के प्रसिद्ध हनुमान मंदिर

स्थान: बाँध मार्ग, बाँदा, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश
मंदिर का समय: सुबह 6:00 बजे से 11:00 बजे और शाम 4:00 बजे तक

श्री बडे हनुमान मंदिर इलाहाबाद किले के काफी करीब स्थित है और इलाहाबाद में सबसे अधिक देखे जाने वाले मंदिरों में से एक है। मंदिर में दर्शन करने वाले भक्तों को कुछ अनोखा सा लगता है, यानी भगवान हनुमान की एक विशाल मूर्ति, जो 6.096 मीटर लंबी और 2.438 मीटर चौड़ी है। यहां भगवान हनुमान की अध्यक्षता करने वाले देवता एक विलक्षण आसन से अपना आशीर्वाद प्रदान करते हैं और मूर्ति वास्तव में जमीनी स्तर से दो फीट नीचे है। भगवान हनुमान पुनरावर्ती मुद्रा में हैं। आम तौर पर मंदिरों में भगवान की मूर्तियां बैठी हुई या खड़ी होती हैं लेकिन यहां पर भगवान हनुमान लेटे हुए देखे जा सकते हैं। यह पूरी दुनिया मे इकलौता मन्दिर है, जहां बजरंग बलि की लेटी हुई प्रतिमा को पूजा जाता है। ऐसी मान्यता है कि संगम का पूरा पुण्य हनुमान जी के इस दर्शन के बाद ही पूरा होता है। इलाहाबाद का हनुमान मंदिर अपनी खास बनावट की वजह से बहुत मशहूर है। ये दुनिया का एकमात्र ऐसा मंदिर है जहां हनुमान की लेटी हुई मूर्ति है। कहा जाता है कि संगम आने वाले लोगों की यात्रा इस मंदिर में दर्शन के बिना अधूरी है। नदी में बाढ़ के दौरान मंदिर पूरी तरह से डूब जाता है। पुराणों के अनुसार उस वक्त गंगा हनुमान जी को स्नान कराने आती हैं।

कंबल के माथे, विशाल भुजाओं, चौड़ी कमर के साथ हनुमान के दर्शन करने का यह एक अनोखा स्थल है, जहां कुछ ही समय में भक्तों के मन में भक्ति जाग उठती है! जब भी पवित्र गंगा नदी तट पर होती है, तो यह मंदिर उपनगरीय हो जाता है। इस मदिंर को लेकर किवंदती है कि लंका पर विजय प्राप्त करने के बाद भगवान राम संगम स्नान करने आए थे। तभी उनके प्रिय भक्त हनुमान शारीरिक कष्ट से पीड़ित होकर यहां गिर पड़े थे। तब माता जानकी ने अपने सिंदूर से उन्हें नया जीवन देते हुए हमेशा आरोग्य और चिरायु रहने का आशीर्वाद दिया था। तभी से यहां मंदिर में हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाने की भी परंपरा है।  एक अन्य रहस्य जो इस मंदिर से जुड़ा है वह यह कि बरसात में गंगा का जल कम से कम एक बार इस मंदिर तक जरूर पहुंचता है. गंगा की धारा मूर्ति के चरण तक पहुंचने के बाद धीरे-धीरे जलस्तर गिरने लगता है. इसके बाद गंगा अपने वास्तविक धारा के साथ बहने लगती है. जबकि गंगा की धारा और मंदिर की दूरी करीब साढ़े तीन किलोमीटर की है. गंगा जी का मंदिर के गर्भ तक पहुंचने के पीछे का एक कारण यह भी है कि अगर किसी वर्ष पानी बजरंगी बली के चरणों तक नहीं पहुंचता है तो माना जाता है कि कोई न कोई प्राकृतिक आपदा आ सकती है. लेटे हनुमान को बड़े हनुमान के नाम से भी इसलिए जाना जाता है क्योंकि यह शहर में बजरंग बली की सबसे बड़ी मूर्ती है, जो करीब 20 फिट से ज्यादा की है.


जाखू मंदिर

भारत के प्रसिद्ध हनुमान मंदिर

स्थान: जाखू, शिमला, हिमाचल प्रदेश 171001
मंदिर का समय: सुबह 7:00 बजे - शाम 8:00 बजे

हिमाचल प्रदेश के सबसे पुराने हिंदू मंदिरों में से एक, प्रसिद्ध जाखू मंदिर शिमला में स्थित है यह भगवान हनुमान को समर्पित मंदिर है। समुद्र तल से 8,000 फीट की ऊँचाई पर जाखू पहाड़ी पर खूबसूरती से बसे, जाखू मंदिर तक केवल शिमला में रिज से एक खड़ी चढ़ाई द्वारा पहुँचा जा सकता है। मंदिर तक पहुंचने के लिए घोड़े को किराए पर लेने का विकल्प भी भक्तों के लिए उपलब्ध है। देश-विदेश से लोग दर्शन करने आते हैं. जाखू मंदिर 108 फीट ऊंची हनुमान की मूर्ति के लिए प्रसिद्ध है जिसे इतनी ऊंचाई पर दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति के रूप में जाना जाता है।

इस मंदिर को लेकर मान्यता है कि राम-रावण युद्ध के दौरान लक्ष्मण जी के मूर्छित हो जाने पर संजीवनी बूटी लेने के लिए हिमालय की ओर आकाश मार्ग से जाते हुए हनुमान जी की नजर यहां तपस्या कर रहे यक्ष ऋषि पर पड़ी. बाद में इसका नाम यक्ष ऋषि के नाम पर ही यक्ष से याक, याक से याकू, याकू से जाखू तक बदलता गया. हनुमान जी विश्राम करने और संजीवनी बूटी का परिचय प्राप्त करने के लिए जाखू पर्वत के जिस स्थान पर उतरे, वहां आज भी उनके पद चिह्नों को संगमरमर से बनवा कर रखा गया है. यक्ष ऋषि से संजीवनी बूटी का परिचय लेने के बाद वापस जाते हुए उन्होंने मिलकर जाने का वचन यक्ष ऋषि को दिया और द्रोण पर्वत की तरफ चल पड़े. मार्ग में कालनेमि नामक राक्षस के कुचक्र में फंसने के कारण समय के अभाव में हनुमान जी छोटे मार्ग से अयोध्या होते हुए चल पड़े. जब वह वापस नहीं लौटे तो यक्ष ऋषि व्याकुल हो गए. हनुमान जी ने उन्हें दर्शन दिया, उसके बाद इस स्थान पर हनुमान जी की स्वयंभू मूर्ति प्रकट हुई. जिसे लेकर यक्ष ऋषि ने यहीं पर हनुमान जी का मंदिर बनवाया. आज यह मूर्ति मंदिर में स्थापित है और दूर-दूर से लोग उनके दर्शन को आते हैं.


नमक्कल अंजनियर मंदिर

भारत के प्रसिद्ध हनुमान मंदिर


स्थान: अरुलमिगु अंजनियर सन्नथी, नामक्कल, तमिलनाडु
मंदिर का समय: सुबह 6:30 बजे से दोपहर 1:00 बजे और शाम 4:30 बजे तक

दक्षिणी राज्य तमिलनाडु में नमक्कल शहर में स्थित नमक्कल अंजनेयार मंदिर राज्य के सबसे अधिक देखे जाने वाले हनुमान मंदिरों में से एक है। इस मंदिर का निर्माण वास्तुकला के द्रविड़ियन शैली में किया गया है। अंजनेर अर्थात हनुमान जी की मूर्ति 18 फीट (5.5 मीटर) ऊँची हैं , जो भारत में हनुमान की सबसे ऊंची मूर्तियों में से एक है। दक्षिण भारतीयों के लिए, विशेष रूप से तमिल आबादी के लिए, 'नामक्कल' शब्द विशाल 5.48 मीटर लंबे हनुमान की याद दिलाता है जो आसानी से लंबी दूरी से दिखाई देता है। इस मंदिर की बहुत मान्यता है। भक्त साल भर यहां आकर भगवान हनुमान का आशीर्वाद ग्रहण करते हैं।

इस मंदिर में विशाल हनुमान की मूर्ति एक ही पत्थर से स्थापित की गई है। भगवान हनुमान अपने हाथों में एक जपमाला के साथ खुले आसमान के नीचे पूजा करते हुए दिखाई देते हैं! अंजनियर मंदिर तीर्थयात्रियों और पर्यटकों के लिए एक देखने योग्य स्थान है। लगभग 1500 साल पुराना, यह प्राचीन मंदिर नमक्कल किले के नीचे स्थित है। यह नृसिंह मंदिर के सन्मुख लगभग 100 मीटर की दूरी पर स्थित है। इस मंदिर में स्थित भगवान अंजनियर की मूर्ति इसका मुख्य आकर्षण है, जो भगवान हनुमान का दूसरा नाम है, और यह मूर्ति लगभग 13 फुट ऊंची है। यह मूर्ति कुछ इस तरह स्थापित की गई है कि भगवान अंजनियर का मुख भगवान नृसिंह की ओर है। यह माना जाता है कि प्रभु अंजनियर की प्रतिमा किले के एक अभिभावक के रूप में कार्य करती है और दुश्मनों के आक्रमण से रक्षा करती है।
इस मंदिर में भगवान हनुमान के लिए कोई छत नहीं है। सटीक होने के लिए, श्री नमक्कल अंजनेयार श्री नरसिंह स्वामी का सम्मान करते हुए, खुले आसमान के नीचे खड़े चट्टान के पश्चिमी भाग में अपना आशीर्वाद प्रदान करते हैं।


श्री प्रसन्ना अंजनेय मंदिर

भारत के प्रसिद्ध हनुमान मंदिर

स्थान: 9 वां ब्लॉक, जयनगर, बैंगलोर - 560069
मंदिर का समय:
8:00 - 11:30 पूर्वाह्न और 5:00 अपराह्न - 8:30 अपराह्न (कार्यदिवस)
8:00 - 12:30 अपराह्न और 5:00 अपराह्न - 9:00 (सप्ताहांत)

लोकप्रिय रूप से यह मंदिर रागिगुड़ा अंजनेय मंदिर के रूप में जाना जाता है, श्री प्रसन्ना अंजनेय मंदिर जयनगर, बैंगलोर में स्थित है। हनुमान मंदिर एक छोटी सी प्राकृतिक पहाड़ी पर स्थित है और यह लोकप्रिय रूप से माना जाता है कि श्री प्रसन्ना अंजनेय स्वामी की अध्यक्षता में रहने वाली पहाड़ी में उंगली बाजरा (रागी) के ढेर से आकार लिया गया था और इसलिए इसे 'रागिगुड़ा' कहा जाता था।

इस चमत्कारी घटना के दौरान, हिंदू त्रिमूर्ति, अर्थात् निर्माता ब्रह्मा, संरक्षक विष्णु और विनाशक शिव पहाड़ी के पास रहना चाहते थे और खुद को तीन पत्थर के खंभों में बदल दिया। इन तीन विशाल पत्थरों में अब हिंदू त्रिमूर्ति की नक्काशी है। इस मंदिर के कुछ अन्य मंदिरों में श्री सीता राम स्वामी मंदिर, श्री राजराजेश्वरी तीर्थस्थल, नवग्रह तीर्थस्थल आदि शामिल हैं।  प्रसन्ना वेन्केतेश्वरस्वामी मंदिर मुख्य शहर से 14 किमी दूर की दूरी पर स्थित है और 'अभय हस्ता' की मुद्रा में वेंकटेश्वरस्वामी को समर्पित है जिसे परम आशीर्वाद मुद्रा माना जाता है। वायुभावन की एक मूर्ति भी है जिसे कल्याग की पुरानी बीमारी को मुक्त करने के लिए एक शक्तिशाली स्रोत कहा जाता है। यहां वार्षिक ब्रह्मोत्सव मनाया जाता है.


परिताल अंजनेय स्वामी मंदिर

भारत के प्रसिद्ध हनुमान मंदिर

स्थान: कृष्णा, आंध्र प्रदेश 521180

यह दुनिया की सबसे ऊंची हनुमान प्रतिमा के घर के रूप में जाना जाने वाला मंदिर है। परिताल अंजनेय  स्वामी मंदिर आंध्र प्रदेश के दक्षिणी राज्य में परिताल गांव में स्थित है। वर्ष 2003 के दौरान स्थापित, यहां स्थित अंजनेय स्वामी 41 मीटर (135 फीट) ऊंची राजसी प्रतिमा है।

ब्राजील के रियो डी जेनेरियो में क्राइस्ट द रिडीमर प्रतिमा की तुलना में यहां हनुमानजी ऊर्ध्वाधर आयाम में अधिक हैं। मंदिर पूरे वर्ष भर दुनिया के भक्तों को हनुमान जी का दर्शन प्राप्त कराता है। यह एक भगवान हनुमान की मूर्ति है, जो आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा के पास परिताल शहर में स्थित है। हनुमान स्वामी मूर्ति दुनिया का सबसे लंबा हनुमान और 2003 में स्थापित 41 मीटर (135 फीट) की ऊंचाई के साथ भारत की दूसरी सबसे ऊंची मूर्ति है। इस मंदिर मे पूजा ’पंचरात्र आगम’ नियम के अनुसार किया जाता है। भक्तों की भागीदारी के साथ हनुमान जयंती हर साल सौर कैलेंडर के अग्रहायण महीने के अमावस्या पर प्रदर्शन की जाती है। 'उत्सव मुर्ति' खडी मुद्रा मे गदा बाये हाथ में रखा गया है और उसके दाहिने हाथ से अपने भक्तों को अभय प्रदान करता है। हर माह अमावस्या के दिन भगवान वीर हनुमान के 'उत्सव मुर्ति' मंदिर के आसपास जुलूस में ले जाते हैं। तमिल नए साल का दिन इस मंदिर में कई लाखों भक्तों की भागीदारी के साथ एक लाख तेल के दीपको के प्रकाश के साथ 'लक्षद्दीप' के रूप में जाना जाता है, जो इस मंदिर के लिए अद्वितीय है।

भारत के कुछ अन्य महत्वपूर्ण हनुमान मंदिरों में शामिल हैं:

नैनीताल में हनुमान गढ़ी मंदिर
आनंद में रोकडिया हनुमान मंदिर
लखनऊ में संकट मोचन मंदिर
मलप्पुरम में अलथियुर हनुमान
रामेश्वरम में साची हनुमान मंदिर
इंफाल में हनुमान मंदिर
हैदराबाद में कर्मघाट हनुमान मंदिर
वडोदरा में श्री लाल नंदन हनुमान मंदिर
करूर में श्री जया अंजनेय मंदिर
गुना में पंचमुखी हनुमान आश्रम
अहमदाबाद में वीज़ा हनुमान मंदिर
मुंबई में पंचमुखी हनुमान मंदिर

To read this Article in English Click here
1155
  • SHARE THIS
  • TWEET THIS
  • SHARE THIS
  • COMMENT
  • LOVE THIS 0

Related Links

Comments / Discussion Board - भारत के प्रसिद्ध हनुमान मंदिर

Loader