Editor's Choice:

about tourism भारत में कैम्पिंग के सर्वश्रेष्ठ स्थल

Share this on Facebook!

भारत में कैम्पिंग के सर्वश्रेष्ठ स्थल

Indiaonline
Close

Want more stories like this?

Like us on Facebook to get more!
Close

भारत में कैम्पिंग के सर्वश्रेष्ठ स्थल

भारत में कैम्पिंग के स्थल

यदि आप  रात को तारों से भरे आकाश के नीचे खुले में सोए, साथ में आग जल रही हो, सुंदर संगीत बज रहा हो, प्रकृति की गोद में आप सुकुन से लेटे हों तो भला किसे ऐसा करना अच्छा नहीं लगेगा। शहर के शोर-शराबों से दूर, चमकती लाइटों की जगह चांद और तारों की रोशनी में छोटे से कैंप में रहना एक अलग ही अनुभव प्रदान करता है। यदि आपको भी ऐसा शौक है कि आप घर से दूर प्रकृति के करीब खुले में लेटकर आसमान को देखें और रोचक गतिविधियों का हिस्सा बने तो आपकी छुट्टियों को खास बनाने के लिए कैंपिग एक सुंदर विकल्प है। जिसमें आप अपनी पंसद के कार्य करते हैं। घनें जगलों, बर्फ से घिरे पहाड़ों, सनहरे रेगिस्तानों और चनकते समुद्र स्थलों के पास कैंपिग का आनंद लेने का जो एहसास है वो अविस्मरणीय है। भारत में ऐसे सुंदर स्थलों की कोई कमी नहीं है। यहां बर्फ से घिरे पहाड़ भी है, तो घनें जंगल भी, रेगिस्तान भी हैं तो सुंदर समुद्र भी। भारत एक विविधताओं में एकता का देश है। यहां कैंपिग के जरिए कई ऐसे स्थल है जिनकी खूबसूरती आपके मन को लुभा लेगी। आप इन्हें देखे बिना रह ही नहीं पाएगें। इन सुंदर जगहों की सुंदरता का पता लगाने और इन्हें और करीब से जानने का एकमात्र जऱिया कैंपिग है। कैंपिग के तहत आप एक अपने अनुसार तंबू में रहते हैं जो खुले आकाश के नीचे होता है। साथ ही पास में जल रही आग की रोशनी और चारों तरफ प्राकृतिक छटा आपको एक सुखद अनुभव कराती है। कैंपिग के जरिए आप कई साहसिक गतिविधियों में भी शामिल हो सकते हैं। जैसे ट्रेंकिंग, स्किंइग, वाटर सफ्रिंग इत्यादि। इन कैंपिग के जरिए आप उस शहर और जगह को और बेहतर ढंग से जान पाते हैं जिनके बारे में जानने के लिए आप उत्सुक हैं।  

कैंपिग वो माध्यम है जिसमें आप आपने परिवार या दोस्तों के संग सामूहिक रुप से भी शामिल हो सकते हैं। कैंपिग के जरिए आप स्वंय तक भी पहुंच सकते हैं। रोमांचक गतिविधियों को कैंपिंग में शामिल करने से आपका यह सफर और सुहाना हो जाएगा। इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको भारत के कुछ ऐसे ही स्थलों के बारे में बताने जा रहे हैं जहां कैपिंग करने का आनंद आप हमेशा याद रखेगें और स्वंय को प्रकृति के करीब पाएगें।

भारत में कुछ लोकप्रिय शिविर स्थल यहां दिए गए हैं:


स्पीति घाटी: हिमाचल प्रदेश

भारत में कैम्पिंग के स्थल

स्पीति नदी के किनारे हिमाचल प्रदेश के विचित्र कीलोंग जिले में स्थित, स्पीति घाटी उत्तरी भारत में दोनों पर्यटक और आगंतुकों के लिए सबसे लोकप्रिय कैम्पिंग स्थलों में से एक है। अन्य क्षेत्रों के विपरीत, स्पीति घाटी अराजकता और भीड़ से दूर है। भीड़ भाड़ से हटकर सैलानी यहां के शांत वातावरण में कई दिन बिता जाते हैं। ज्यादातर वही लोग यहां सैर सपाटे के लिए आते हैं जो शारीरिक तौर पर स्वस्थ होते हैं। वर्ष 1991 के बाद इसे विदेशी सैलानियों के लिए भी खोला गया। चूंकि, यह लद्दाख और तिब्बत के नजदीक स्थित है इसलिए यहां बौद्ध संस्कृति बहुत प्रमुख रुप से दिखाई पड़ती है। इसके अलावा, निश्चित रूप से यहां पाए जाने वालें स्वादिष्ट तिब्बती व्यंजनों का भी आप भरपूर आनंद ले, सकते हैं। हर साल भारी बर्फबारी के बावजूद यह स्थल दुनिया भर के सैलानियों को अपनी ओर आकर्षित करता है। लद्दाख और तिब्बत की सीमा से सटी इस घाटी में हरियाली कम ही दिखाई देती है। चारों और ठंडा रेगिस्तान और बर्फ से ढके पहाड़ इसकी सुंदरता बढ़ाते हैं।

 हिमालय की विशाल सुंदरता और बर्फ से ढंके चोटियों से घिरा हुआ, स्पीति आपकी गर्मियों से बचने और अवकाशों में समय बिताने के लिए यह सबसे सुंदर स्थान हैं। यहां शिविर स्थापित करने का सबसे अच्छा समय मई और जून के महीनों के बीच है। हिमाचल प्रदेश में अन्य लोकप्रिय शिविर स्थलों में लाहौल, कालपा और संगला में किन्नौर, चंदर्टल झील और कररी झील में सरचु शामिल हैं।



ऋषिकेश: उत्तराखंड

भारत में कैम्पिंग के स्थल

महान हिमालय की तलहटी पर स्थित ऋषिकेश नियमित रूप से पूरे देश से शौकिया और अनुभवी  साहसिक गतिविधि करने वाले लोगों का प्रमुख स्थान है। यहां बड़ी संख्या में रोमांचक गतिविधियों को करने के लिए देश-विदेश सहित कई सैलानी आते हैं। उत्तराखंड स्थित ऋषिकेश अपनी धार्मिक गतिविधियों के साथ-साथ एडवेंचर के लिए भी जाना जाता है। पहाड़ों से होकर आती गंगा नदी इस स्थल को रोमांचक बनाने में मदद करती है। यहां पूरे साल पर्यटकों, ट्रैवलर्स का जमावड़ा लगता है। यहां की सुंदर वादियां हर किसी को अपनी ओर आकर्षित करती हैं। पवित्र गंगा नदी की बलखाती लहरों के बीत यहां कोई भी शिवर में रह कर रिवर राफ्टिंग कर सकता है। ऋषिकेश में शिविर विकल्पों के असंख्य होने के साथ, यह उत्तराखंड में सबसे लोकप्रिय ग्रीष्मकालीन शिविरों में से एक बन गया है। राफ्टिंग के अलावा, यहां पेश किए गए अन्य रोमांचक साहसिक खेलों को भी आजमा सकते हैं। आप यहां के नजदीकी जंगलों में बेस्ट कैम्पिंग का आनंद ले सकते हैं। इसके अलावा आप यहां रिवर राफ्टिंग, रॉक क्लाइंबिंग , रिवर क्रासिंग आदि का भी आनंद उठा सकते हैं।



जैसलमेर: राजस्थान

भारत में कैम्पिंग के स्थल

यदि आप एक उज्ज्वल सितारों के आकाश के नीचे रात भर रहना पसंद करते हैं, तो राजस्थान में  स्थित जैसलमेर आपके लिए एक आदर्श कैंपिग स्थल है। जैसलमेर में सुनहरी रेत के बीच मीठाइयों का अनुभव करने की बेहतरीन जगह है। जैसलमेर की प्राकृतिक सेटिंग इसे कैंपरों के लिए एक आदर्श स्वर्ग बनाता है। जिसे 'गोल्डन सिटी ऑफ इंडिया' के रूप में जाना जाता है, जैसलमेर वास्तव में ट्रेकर का स्वर्ग है। इसके अलावा, चूंकि यह जगह अभी भी भीड़-भाड़ से छूटी हुई है, इसलिए यह शहर के जीवन की हलचल से दूर जाने के लिए एक आदर्श स्थान है। दिन के दौरान ऊंट की सवारी या जीप सफारी का आनंद भी आप ले सकते हैं और रात के दौरान हल्की हवा, बोनफायर और लोक संगीत के साथ एक तारकीय आकाश के नीचे आराम करना आपको शानदार अनुभव देगा। प्रसिद्ध सैम रेत ड्यून्स भारत में कुछ अद्भुत कैम्पिंग साइटों की पेशकश करते हैं। बेटे ने चमचमाते रेत को छुआ रेत के टीलों के खिलाफ एक सिल्हूट बनाते हैं।

हालांकि, अगर आप खुद को शामिल करना चाहते हैं, तो सेराई आपको एक शानदार अनुभव प्रदान करेगी। इसमें जैसलमेर पत्थर के आधार पर बने 21 बड़े कैनवास टेंट हैं, जो 30 एकड़ रेगिस्तान साफ़ करने से दूर हैं। इस जगह पर ऐसी कई इमारते हैं जिन्हें  बलुआ पत्थपर से बनाया गया है। इसके अलावा जेसलमेर में कई किले भी हैं जिनमें जैसलमेर का किला, लादुर्वा जैन मंदिर आदि देख सकते हैं। ग्लैं पिंग के लिए आपको जैसलमेर में काफी कुछ मिल सकता है। आप चाहें तो जैसलमेर के रेगिस्ताजन में भी लग्जैरियस कैंप लगा सकते हैं। रेगिस्तातन में कैंपिंग के साथ आप यहां ऊंट की सवार, स्थाजनीय भोजन और लोक नृत्यत का मज़ा भी ले सकते हैं। जैसलमेर के अलावा, राजस्थान में शिविर के लिए अन्य लोकप्रिय स्थानों में ओसीन, कनोई, खुरी, लोदुरवा और कुलधरा गांव शामिल हैं। राजस्थान में शिविर के लिए एक और प्रसिद्ध जगह पुष्कर है। पुष्कर मेला (या ऊंट मेला) के लिए जाना जाता है, पुष्कर त्यौहार के दौरान बड़ी संख्या में शिविर वालों को आकर्षित करता है। रणथंभौर रिजर्व राज्य में एक और लोकप्रिय शिविर स्थल है, जहां आप जंगलों में शिविर के साथ जीवंत वन्यजीवन का आनंद भी ले सकते हैं।




सोनमर्ग: श्रीनगर, जम्मू और कश्मीर

भारत में कैम्पिंग के स्थल

सोनमर्ग का शाब्दिक अर्थ है “सोने के मैदान है। सोनामर्ग श्रीनगर में एक आकर्षक जगह है, जो शिविर के लिए उपयुक्त हैं। सोनमर्ग जम्मू और कश्मीर राज्य में स्थित एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है जो समुद्र सतह से 2740 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। बर्फ से आच्छादित पहाड़ों से घिरा हुआ सोनमर्ग शहर जोजी-ला दर्रे के पहले स्थित है।  हिमालय के विस्मयकारी दृश्य के साथ खूबसूरत बर्फीले पहाडों से घिरा हुआ, सोनमर्ग जम्मू-कश्मीर में सबसे लोकप्रिय कैम्पिंग साइटों में से एक है। एक लुभावनी माहौल के साथ संयुक्त ताजा हवा का अनुभव यहां कैपंर्स को अपनी ओर आकर्षित करता है। यहां पर आप बहुत सारी टट्टूओं की सवारी कर सकते हैं। सिंधू नदी की यात्रा कर सकते हैं जो साल भर स्वतंत्र रूप से बहती है। आप यदि 8 साल से बड़े हैं तो लिद्दर नदी में रिवर राफ्टिंग कर सकते हैं या अरु घाटी में स्कीइंग का लुत्फ भी उठा सकते हैं। इसके अलावा यहां गुलमर्ग के बर्फ से ढके पहाड़ आपका मन मोह लेंगे, आप वहां केबल कार में सैर कर प्राकृतिक छटा का आनंद ले सकते हैं। श्रीनगर न सिर्फ काश्मीर की राजधानी है बल्कि अपने शिकारा और हाउस बोट प्रवास के लिए भी प्रसिद्ध है, और अगर आप टीनएजर हैं तो वाटर स्कीइंग भी कर सकते हैं।

सोनमर्ग में कैंपिंग और तम्बू का मजा लिया जा सकता है और यहां के ताजिवास ग्लेशियर की तो छटा ही निराली है। इस प्रकार कश्मीर बच्चों की छुट्टियों के लिए न सिर्फ मनोरंजक बल्कि शिक्षाप्रद अनुभव भी है। पहाड़ों की ऊँची चोटियों पर जब सूर्य की किरणें पड़ती हैं तो वे भी सुनहरी दिखती हैं। सोनमर्ग उन यात्रियों के लिए उचित गंतव्य है जो साहसिक गतिविधियों जैसे ट्रेकिंग या पैदल लंबी यात्रा में रूचि रखते हैं। सभी महत्वपूर्ण ट्रेकिंग के रास्ते सोनमर्ग से ही प्रारंभ होते हैं जो इसे ट्रेकिंग के लिए लोकप्रिय स्थान बनाते हैं। यह स्थान अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है जिसमें झीलें, दर्रे और पर्वत शामिल हैं। सोनमर्ग अमरनाथ जाने वाले तीर्थयात्रियों के लिए प्रारंभ बिंदु की तरह है। सोनामर्ग में शिविर जाने का सबसे अच्छा समय ग्रीष्मकाल है। यह श्रीनगर हवाई अड्डे से लगभग दो घंटे की ड्राइव पर स्थित है। सोनामर्ग शानदार अल्पाइन लेक्स ट्रेक के लिए आधार शिविर भी है, जिसमें गद्दार झील, कृष्णसर झील, गंगाबाल झील और विष्णार झील शामिल हैं।



सोलांग घाटी: मनाली, हिमाचल प्रदेश

भारत में कैम्पिंग के स्थल

मनाली में सोलांग घाटी देश में शिविर के लिए सबसे अच्छे स्थलों में से एक है। यह अपने चट्टानी इलाके के कारण हाइकर्स और ट्रेकर्स के बीच बहुत लोकप्रिय है। सोलांग घाटी सोलांग गांव और बीस कुंड के बीच स्थित है। यह आसपास के बर्फ़ीले पहाड़ों और हिमनदों के मनोरम दृश्य पेश करता है। यह समुद्र तल से 8500 फीट की ऊंचाई पर स्थित है और हरे घने जंगलों से ढका हुआ है। साहसी लोगों को इस सुरम्य घाटी का पता लगाने में बहुत रोमांच महसूस होता है। सर्दियों स्कीइंग त्यौहार सोलांग घाटी में आयोजित किया जाता है। स्कीइंग और पैराग्लाइडिंग यहां दो मुख्य गतिविधियां आयोजित की जाती हैं। सर्दी में, घाटी एक स्कीइंग स्वर्ग बन जाती है जिसमें सभी उम्र के बच्चे और ताजा सफेद बर्फ पर फिसलते हैं। गर्मियों में, इसमें पैराग्लाइडिंग, ज़ोरबिंग, माउंटेन बाइकिंग और घुड़सवारी की सुविधा है। चारों ओर ट्रैकिंग ट्रेल्स भी हैं। साहसिक प्रेमियों लोग सोलांग घाटी में शिविर का आनंद ले सकते हैं।

कैंपर्स या तो अपनी प्राथमिकताओं के आधार पर 7874 फीट की ऊंचाई पर या 11,800 फीट के स्तर पर शिविर स्थापित कर सकते हैं। जबकि कुछ शिविर शानदार आवास और सुविधाएं प्रदान करते हैं, वहीं कुछ ऐसे हैं जो शिविर के अन्वेषण पक्ष पर अधिक ध्यान केंद्रित करते हैं। चमकीले सूरज, खूबसूरत पहाड़ियों, भव्य नीले आकाश, ताजा वातावरण और प्राकृतिक ढलान निश्चित रूप से ताज़ा हो जाएंगे और आपको पुनरुत्थान करेंगे। शीतकालीन महीने (जनवरी से फरवरी) यहां शिविर स्थापित करने का सबसे अच्छा समय है।  हालांकि, कोई भी गर्मी के महीनों (अप्रैल से जून) के दौरान भी यहां आ सकता है। यहां आने से पहले बहुत सारे गर्म कपड़े पैक करना सुनिश्चित करें, क्योंकि यहां गर्मियों के दौरान भी बहुत ठंड हो सकती है।



अंजुना: गोवा

भारत में कैम्पिंग के स्थल

गोवा अपने शानदार समुद्र तटों और रोमांचक  खेलों के लिए ना केवल देश में बल्कि विदेशी पर्यटकों में भी बहुत प्रसिद्ध है। यहां समुद्र के किनारें बोनफायर के बीच कैंपिग करना किसे पंसद नहीं आएगा। यदि आप समुद्रू तरंगों और एक सुंदर समुद्र की हवा की सुखद आवाज़ के बगल में सोना पसंद करते हैं, तो गोवा आपके लिए एक उत्कृष्ट शिविर स्थल है। पहाड़ी जंगलों से हट अगर आप समुद्री बीचों पर कैम्पिंग का रोमांचक आनंद लेना चाहते हैं तो आप गोवा के अंजुना बीच का जरूर प्लान बनाएं। गोवा का अंजुना तट बाकी एडवेंचर के साथ कैम्पिंग के लिए भी काफी ज्यादा प्रचलित है। अंजुना एक छोटा समुद्री साइड गांव है जो गोवा की राजधानी पणजी से 18 किलोमीटर दूर है। यह उत्तर बार्डेज़ तालुका में स्थित है, जो वाग्टर बीच के दक्षिण में और बागा-कालंग्यूट-कैंडोलिम के उत्तर में स्थित है, जहां से बागा नदी से इसे काटा जाता है। इटलाइफ़ अंजुना वास्तव में प्रसिद्ध है।

इसके अलावा, एक जीवंत नाइटलाइफ़ और स्वादिष्ट भोजन के साथ, गोवा में कभी भी उबाऊ क्षण महसूस नहीं हो सकता। चांदनी समुद्र तटों पर बहुत से ट्रान्स बार गुफाओं में अंजुना में हर रात कई सामूहिक पार्टियां होती हैं ताकि चीजें रॉकिंग हो सकें। पानी के खेल यहां का विशेष आकर्षण है आप यहां अंजुना से मैपूस भी जा सकते हैं, जो अपने विभिन्न मसालों के लिए जाना जाता है। गोवा में शिविर जाने का सबसे अच्छा समय सर्दियों के दौरान होता है, जब मौसम काफी सुखद होता है। कैंप लगाकर समुद्री लहरों को अपने पास आते देखना, चहलकदमी करना और पार्टनर के साथ प्यार-मोहब्बत की बातें करना किसी सपने से कम नहीं। इन गर्मियों आप यहां की प्लान बना सकते हैं।



लद्दाख

भारत में कैम्पिंग के स्थल

पूरे हिमालयी रेंज, शांतिपूर्ण नदियां, सुन्दर वनस्पति और गहरी चट्टानों के लुभावने दृश्य लद्दाख को शिविर के लिए सबसे अच्छी जगह बनाते है, खासतौर पर पर्यटकों के बीच जो बहुत साहसी हैं यह उनके लिए एक आदर्श स्थल है। 'लद्दाख चंद्रमा भूमि' के रूप में भी जाना जाता है, लद्दाख कई खूबसूरत कैंपिंग साइटों का घर है जो ऊंचाई में 9000 फीट से 25,000 फीट तक भिन्न होते हैं। लद्दाख में घूमने की बहुत सारी जगह हैं, लेकिन इनमें से कुछ जगहें ऐसी भी हैं, जिनसे पर्यटक आज भी अंजान हैं। आपको लगता होगा कि आपने पूरा लद्दाख एक्स्प्लोर कर लिया है, तो शायद आप गलत होंगे। यहां ऐसी बहुत सी खूबसूरत जगहें हैं, जहां पर आज भी पर्यटकों का जमावड़ा नहीं जाता है, लेकिन अगर रियल नेचर की बात कही जाए, तो ये जगहें अतुलनीय हैं।

कुछ लोकप्रिय लोगों में जांस्कर घाटी, शाम घाटी, लेह-हेमिस और लेह-करज़ोक (नुबरा घाटी के माध्यम से), मार्कहा घाटी, रहस्यवादी सांगला घाटी, पश्चिम लद्दाख शिविर, त्सोमोरीरी झील और पांगोंग झील शामिल हैं। ट्रेकिंग और लंबी पैदल यात्रा के अलावा, कैंपर्स मछली पकड़ने, पक्षी देखने, खुबानी लेने, चट्टान चढ़ाई या बस आसपास के प्राकृतिक सौंदर्य की खोज करने जैसे अन्य साहसिक खेलों में शामिल हो सकते हैं। लेह से करीबन 60 किमी दूर सिंधु नदी के तट पर स्थित एक कैंपिंग साइट है। लेह की भीड़-भाड़ से दूर आप इस सुंदर जगह पर कैंपिंग का मजा ले सकते हैं। यह इलाका ट्रैकिंग, पर्वतारोहण और राफ्टिंग के लिए काफी लोकप्रिय है। यूं तो यहां पहुंचना ही किसी रोमांच से कम नहीं लेकिन यहां आने वालों के लिए उससे भी आगे बेइंतहा रोमांच यहां उपलब्ध है। दुनिया की सबसे ऊंचाई पर स्थित सड़कों (मारस्मिक ला व खारदूंग ला) के अलावा इस इलाके में सात हजार मीटर से ऊंची कई चोटियां हैं जिनपर चढ़ने पर्वातारोही आते हैं। ट्रैकिंग के भी यहां कई रास्ते हैं। ट्रैकिंग व राफ्टिंग के लिए तो यहां उपकरण व गाइड आपको मिल जाएंगे लेकिन पर्वतारोहण के लिए भारतीय पर्वतारोहण संस्थान से संपर्क करना पड़ेगा। सुनिश्चित करें कि आप लद्दाख में शिविर करते समय आकाश का निरीक्षण करें। आप देखेंगे कि यह लगभग हर घंटे रंग बदलता है। लद्दाख में शिविर जाने का सबसे अच्छा समय जून और अक्टूबर के महीनों के बीच का है।



कौडियाला: उत्तराखंड

भारत में कैम्पिंग के स्थल

कौडियाला उत्तराखंड के घने जंगल में स्थित एक छोटी सी छोटी जगह है। यह केदारनाथ ट्रेक पर तीर्थयात्रियों और आगंतुकों के बीच अधिक लोकप्रिय है और पवित्र गंगा नदी के पास 1574 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। गंगा नदी के तट पर स्थित कौडियाला घने जंगलों से घिरा हुआ है। कौडियाला विभिन्न प्रकार के जंगली जानवरों का घर है जिन्हें पर्यटक अपनी यात्रा के दौरान देख सकते हैं। साहसिक गतिविधियों में रुचि रखने वाले लोग यहाँ पर कैम्प करके प्रशिक्षित पेशेवरों की देखरेख में व्हाइट रिवर राफ्टिंग का आनन्द ले सकते हैं और अपने प्राकृतिक मित्रों के बीच अपने दोस्तों और परिवारों के साथ कुछ शांतिपूर्ण दिन बिता सकते हैं।



केरल

भारत में कैम्पिंग के स्थल

हरी-भरी हरियाली, पर्वत, सुगंधित चाय के बगीचे और मीठा-सुगंधित कॉफी, काली मिर्च और अर्क-अखरोट बागानों से घिरे हुए, केरल को दक्षिण भारत के सबसे खूबसूरत शिविर स्थलों में से एक माना जाता है। आपको केरल राज्य में अरब सागर के दक्षिण पश्चिम तट पर स्थित कोझिकोड जा सकते हैं, जो आज भी पर्यटकों की नजरों और शहरीकरण की मार से दूर बेहद ही खूबसूरत हिलस्टेशन है, जहां आप घूमते हुए प्रकृति की प्राचीन सुंदरता का आनंद ले सकते हैं।
इसके अलावा, लंबी गतिविधियों जैसे लंबी पैदल यात्रा, ट्रेकिंग, राफ्टिंग और आयुर्वेदिक स्पा मालिश को आराम से, कैंपर्स यहां पर ऊब नहीं सकते हैं।

मुन्नार पहाड़ी स्टेशन, जो अपने चाय बागानों के लिए जाना जाता है, केरल के सबसे लोकप्रिय शिविर स्थलों में से एक है। पेरियार टाइगर रिजर्व में कैम्पिंग राज्य में जंगल का पता लगाने का सबसे अच्छा तरीका है। क्लिफ हट दक्षिण भारत में सबसे ज्यादा शिविर स्थल है और यह केरल में एक और लोकप्रिय शिविर स्थल भी है।  2100 मीटर की ऊंचाई पर चेम्ब्रा पीक वयनाड के दक्षिणी हिस्से में मेप्पाडी के समीप स्थित है। यह इस क्षेत्र की चोटियों में सबसे ऊंची चोटी है और इसकी चढ़ाई काफी मुश्किलों भरी है। चेम्ब्रा पीक की चढ़ाई एक रोमांचक अनुभव है, जहां चढ़ाई के हर चरण में वयनाड का व्यापक विस्तार दिखाई पड़ता है और शिखर तक पहुंचते-पहुंचते यहां के दृश्य काफी विस्तृत बन जाते हैं। इस चोटी तक पहुंचकर वापस लौटने में एक दिन का समय लगता है। जो इसके शीर्ष पर कैंप करना चाहते हैं, बेशक उनके लिए तो यह एक यादगार अनुभव ही होगा। केरल में शिविर जाने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर और मार्च के महीनों के बीच है।


नए कैंपर्स के लिए कैम्पिंग निर्देश


पहली बार कैंपिग यानि शिवर करने जा रहे कैंपर्स को नए स्थानों पर शिविर स्थापित करने के लिए यह बहुत मुश्किल और असुविधाजनक लग सकता है। लेकिन परेशान मत होने की आपको कोई जरुरत नहीं है, यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं जिससे आपको कैंपिग करने में सहायता तो मिलेगी ही साथ ही आप अपना ध्यान भी बेहतर ढंग से रख पाएगें। इन निर्देशों के साथ आपके पास अपने जीवन का सबसे अच्छा समय होगा जिसका आप भरपूर आनंद उठाएगें।

कैंपिग में जाते वक्त सबसे पहले सुनिश्चित करें कि कैंपिंग जाने के दौरान आप हमेशा रोशनी करने का सामान साथ रखे जैसे टॉर्च इत्यादि। आप भारी सामान बिल्कुल भी अपने बैग में ना रखें। भारी सामान ना आपको धीमा कर देगा बल्कि यात्रा के दौरान एक बड़ी परेशानी साबित होगा। पैकिंग करते समय, हमेशा हल्के सूती कपड़े और साथ ही गर्म ऊनी दोनों तरह के कपड़े रखें, क्योंकि तापमान दिन और रात के दौरान भिन्न हो सकता है। चूंकि कुछ कैम्पिंग साइट कस्बों और शहरों से बहुत दूर हैं, हमेशा अपनी दवाएं और प्राथमिक चिकित्सा किट अपने साथ ले जाएं। ताकि जब भी आपको कोई जरुरत हो आप प्राथमिक उपचार कर सकें।

यदि आप एक हवादार क्षेत्र में शिविर  करने जाने की योजना बना रहे हैं, तो सुनिश्चित करें कि आपके तंबू हवाओं का प्रतिरोध करने के लिए पर्याप्त मजबूत हों। साथ ही, शिविर के दौरान हमेशा आपके साथ पर्याप्त पेयजल, सनस्क्रीन लोशन, स्नैक्स और बग रिपेलेंट रखें। यह सभी सामान जरुरत के समय आपको बहुत काम आएंगें। अंत में, आप जहां भी कैंपिग के लिए जा रहे हैं उस जगह का भरपूर आनंद लेना ना भूलें। रंग-बिंरगी सुंदर यादों को सहेजे आप अपने घर वापस आएं।


To read this article in English Click here
863
  • SHARE THIS
  • TWEET THIS
  • SHARE THIS
  • COMMENT
  • LOVE THIS 0

Related Links

Comments / Discussion Board - भारत में कैम्पिंग के सर्वश्रेष्ठ स्थल

Loader