Editor's Choice:

about tourism भारत में महिलाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ पर्यटन स्थल

Share this on Facebook!

भारत में महिलाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ पर्यटन स्थल

Indiaonline
Close

Want more stories like this?

Like us on Facebook to get more!
Close

भारत में महिलाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ पर्यटन स्थल

भारत में महिलाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ पर्यटन  स्थल

भारत विविधताओं का देश हैं। भारत में पर्यटन के कई स्थल उपलब्ध हैं। पहाड़, नदी, झरने, समुद्र, वन्य जीव, रेगिस्तान इत्यादि सहित यहां प्रकृति के अमूल्य उपहार छिपे हैं। भारत में पर्यटकों के हर वर्ग को देने के लिए बहुत कुछ है। वह पर्यटक बच्चा हो या वयस्क, एवं बुजुर्ग, स्त्री हो या पुरुष यहां सभी के लिए विशेष स्थल मौजूद है। वैसे तो महिलाएं आज हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही है। अकेले आज दुनिया भर की सैर कर रही हैं किन्तु फिर भी कई ऐसी जगह होती है जो महिलाओं की सुरक्षा की लिहाज से उपयुक्त नहीं होती। एक अकेली महिला यात्री की सर्वप्रथम सोच उसकी सुरक्षा होती है कि वो ऐसी जगह जाए जहां उसे सुरक्षित होने का एहसास हो और वो उस स्थल का अच्छा अनुभव कर सके। भारत महिला पर्यटको के लिए एक उपयुक्त देश है जहां महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कई स्थल है जहा वो बेझिझक, बेफिक्र होकर घूम सकती हैं।

वैसे महिला यात्रियों के लिए भारत के अधिकांश हिस्सों को सुरक्षित नहीं माना जाता है लेकिन यह हमेशा और सभी जगहों के लिए सही नहीं है। यही कारण है कि महिलाएं अकेले यात्रा करने के बारे में कम सोचती थी। लेकिन आज समय परिवर्तित हो रहा है महिलाएं आज किसी दूसरे पर निर्भर रहने की जगह स्वंय यात्रा करना जरुरी समझ रही हैं। इन दिनों अधिक से अधिक महिलाएं या तो सभी लड़कियों के समूह में या अकेले ही यात्रा कर रही हैं। हालांकि महिला सभी हिस्सों में यात्रा कर सकती है, लेकिन किसी को अकेले यात्रा करते समय सतर्क रहने की जरूरत है। महिलाएं ट्रेकिंग, तैराकी, स्थानीय संग्रहालयों का दौरा करने, स्थानीय लोगों से मिलने और बातचीत करने, स्थानीय भोजन को चखने एवं समानों की खरीदारी करने जैसी कई गतिविधियों में लिप्त रहती हैं!

घूमने का शौक रखने वाले किसी पर्यटन स्थल पर जाने से पहले कुछ बातों को सुनिश्चित जरूर करना चाहते हैं, जिनमें सबसे पहले आता है महिलाओं की सुरक्षा। चाहे महिला परिवार के साथ जाये या अकेले घूमने का शौक रखती हो,महिलाओं की सुरक्षा पहला विचार होता है। हमारा समाज जिस तरह से आधुनिकता की ओर बढ़ रहा है वैसे ही महिलाएं भी कदम से कदम मिलाकर प्रगती कर रही है इसके बाद भी महिलाओं का अकेला घूमना सुरक्षित नहीं माना जाता है। हालांकि आज कल महिलाएं किसी पर निर्भर नहीं है लेकिन उनके खिलाफ बढ़ते अपराध की वजह से उन्हें घूमने जाने के लिए दूसरों पर निर्भर होना पड़ता है। हमारे देश में कई ऐसे शहर है जो महिला पर्यटकों के लिए सुरक्षित मानी जाती हैं। जंहा पर अकेली महिला पर्यटक भी बिना किसी दिक्कत के यात्रा कर सकती है। भारत में कुछ ऐसी जगहों के बारे में जहां महिलाएं अकेली या अपने गर्ल गैंग के साथ पूरी आजादी के साथ घूम सकती हैं। इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको भारत की कुछ ऐसी जगहों के बारे में बता रहे हैं जो महिला पर्यटको की सुरक्षा औऱ उनकी पसंद के लिहाज़ से एकदम सही है। यहाँ भारत के कुछ महत्वपूर्ण स्थान हैं, जहाँ हर महिला एकल या एक समूह में बिना किसी चिंता के यात्रा का आनंद ले सकती है!


शिलांग (मेघालय)

भारत में महिलाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ पर्यटन स्थल

मेघालय की राजधानी शिलांग को 'बादलों का घर' भी कहा जाता है। समुद्र तल से 1,496 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, शिलांग एक विचित्र हिल स्टेशन है जो महिला यात्रियों के लिए बहुत लोकप्रिय गंतव्य स्थल है। आप अकेली हों या लड़कियों के एक गिरोह के साथ, आप यहां गुफाओं की खोज, ट्रेकिंग या यहां तक कि वन्यजीवों की खोज से लेकर बहुत सारी मजेदार चीजें कर सकते हैं। विभिन्न बजटों को फिट करने के लिए यहां कई अच्छे लॉज और होटल हैं। आप एलिफेंट फॉल झरने को घंटों बैठ कर देख सकते हैं, संगमा राज्य संग्रहालय देख सकते हैं या केवल गोल्फ खेल सकते हैं और शिलांग गोल्फ कोर्स में आराम कर सकते हैं।

यहां बादलों को बेहद करीब से ना सिर्फ देखा जा सकता है बल्कि उन्हें महसूस भी किया जा सकता है। मेघालय का शाब्दिक अर्थ है बादलों का घर। जहां हर तरफ प्रकृति की भव्य छटा बिखरी हुई है। मेघालय की राजधानी शिलांग में भी कई खूबसूरत और आकर्षक पर्यटन स्थल हैं जिनका दीदार करने के लिए दुनिया के कोने-कोने से लोग आते हैं। मेघालय की सबसे ऊंची चोटी शिलांग करीब 589।50 मीटर ऊंची है। जबकि नोकोक यहां की दूसरी सबसे ऊंची चोटी है। इस राज्य के पश्चिम में गारो हिल्स है, मध्य में खासी और पूर्व में जयंतिया की पहाड़ियां हैं। घने जंगलों के मामले में मेघालय सबसे समृद्ध राज्य माना जाता है। हां क्रेम मॉम्लुह, क्रेम फिलुत, मावसिनराम, मोसमाई और सीजू ऐसे आकर्षक स्थल हैं जो यहां आने वाले पर्यटकों को रोमांच से भर देते हैं।इसके साथ ही आप चेरापूंजी, सीजू गुफा, मोसमाई झरना, जोपाई, मफलंग, वार्डस लेक, उमियाम झील, लेड हैदरी उद्यान, पोलो ग्राउंड, मिनी चिड़ियाघर, और शिलांग की पर्वत चोटी को देख सकती हैं।  यहां का उमरोई हवाई अड्डा प्रमुख शहरों के लिए सीमित उड़ानें प्रदान करता है। आप गुवाहाटी से सड़क के माध्यम से भी यहाँ पहुँच सकती हैं।

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय - अक्टूबर से मई तक


मैसूर (कर्नाटक)

भारत में महिलाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ पर्यटन स्थल

महिला यात्रियों के लिए कर्नाटक देश की सबसे सुरक्षित जगहों में से एक है। मैसूर कई महलों, मंदिरों और ऐतिहासिक स्थानों के साथ एक ऐतिहासिक स्थल के रुप में विद्यमान है। इस शहर की विरासत चालुक्यों, चोल और होयसला के राजवंशों के पास है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि मौसम वास्तव में यहाँ आपका सबसे अच्छा दोस्त नहीं बन सकता क्योंकि यहाँ की जलवायु उष्णकटिबंधीय है। आप मैसूर पैलेस, रेल संग्रहालय, चामुंडी हिल्स, मैसूर चिड़ियाघर, गवर्नमेंट हाउस, रंगाचरलू, जुबली क्लॉक, श्री चामुंडेश्वरी मंदिर, देवराज मार्केट, करणजी झील, आदि स्थानों पर घूम सकते हैं।

चंदन की खुशबू से महकते इस शहर में चमेली, मोगरा, गुलाब की सुगंध इस तरह समाई है कि जो भी यहां आए सराबोर हो जाए। राजमहल, चंदन, चामुंडी हिल्स, अगरबत्तियां, इत्र व वृन्दावन गार्डन्स सहित यहां बुहत कुछ है। मैसूर के चंदन से बनी छोटी-बड़ी चीजें, अगरबत्तियां व महकदार साबुन विश्व भर में प्रसिद्ध हैं। अगर आप प्राचीन इमारतों व इतिहास की शौकीन हैं तो ये जगह आपके लिए परफेक्ट रहेगी। यहां समय-समय पर कई राजाओं का शासन रहा, जिस कारण यहां किले आज भी जीवित हैं। यहां के लोगों का दोस्ताना व्यवहार आपकी यात्रा को सुखद और आसान बना देता है। मैसूर की सिल्क की साड़ियां देशभर में प्रसिद्ध हैं। अब इन साड़ियों को खुद मैसूर में देखने का भी अलग रोमांच है।  आफ उन्हें खरीद सकती हैं। यहां का मशहूर वृंदावन गार्डन  इस गार्डन की खूबसूरती आपका मन मोह लेगी। यहां की ताजगी आप अपने साथ ले जाएंगे और यहां का खूबसूरत नजारा आप भुलाए नहीं भूल सकेंगे। इनके अलावा मैसूर में कई झील हैं जहां आप भ्रमण कर सकती हैं। यहां की मिठाई का स्वाद आपकी जुबान पर जादू करता है। आप यहां की संस्कृति में खो जाएगीं। शहर अच्छी तरह से ट्रेनों से जुड़ा हुआ है और इसमें एक हवाई अड्डा भी है।

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय - अक्टूबर से मार्च तक

दार्जिलिंग (पश्चिम बंगाल)

भारत में महिलाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ पर्यटन स्थल

पश्चिम बंगाल के शहर दार्जिलिंग को पहाड़ियों की रानी के रूप में भी जाना जाता है। यह शहर हमेशा महिला यात्रियों की एक पसंदीदा जगह है। समुद्र तल से 2,164 मीटर ऊपर हिमालय में बसा यह छोटा सा शहर सभी के लिए कुछ न कुछ प्रदान करता है। इसमें औपनिवेशिक संरचनाएं, बौद्ध मठ, एक अच्छी तरह से रखा हुआ चिड़ियाघर और बहुत सारी साहसिक गतिविधियाँ भी हैं। आप यहां टॉय-ट्रेन से आ सकती हैं, जो एक विरासत रेलवे है। यह बस आपको समय में वापस ले जाता है। रसीला चाय सम्पदा पर जाएँ या बस ट्रेकिंग और लंबी पैदल यात्रा करें। कुछ घंटे की दूरी पर राफ्टिंग जोन भी हैं।
प्रकृतिक खूबसूरती, शानदार खुशनुमा मौसम और घूमने के लिए एक से बढ़कर एक कई जगहें यहां हैं। दार्जिंलिंग की पहचान चाय के बागान, पहाड़, मंदिर, मठ और प्रकृतिक खूबसूरती से है।

दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे का संग्रहालय भी मौजूद है। यहां पर पहाड़ों पर चलने वाला सबसे पहला रेल इंजन बेबी सीवॉक रखा गया है। सन् 1881 में इसी इंजन द्वारा पहाड़ों में दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे की शुरुआत हुई थी। मागढोग योलमोवा मोनेस्ट्री बतासिया लूप से थोड़ी ही दूरी पर स्थित है। यह मोनेस्ट्री आलूबारी मोनेस्ट्री के नाम से भी जानी जाती है। यह एक बड़ी मोनेस्ट्री है, जिसका निर्माण 1914 में हुआ था। इसका संबंध उत्तर-पूर्वी नेपाल से आए नेपाली समुदाय से है। इसे बहुत सुंदर तरीके से सजाया गया है। इसमें बुद्ध और पद्मसंभव की विशाल मूर्तियां हैं। यहां की दीवारों पर खूबसूरत भित्तचित्र भी बने हुए हैं। यहां का भोजन तिब्बती और स्थानीय बंगाली व्यंजनों का मिश्रण है। स्थानीय बाजारों में चीन और नेपाल दोनों के सामानों की भरमार है, जो इसे शानदार शॉपिंग डेस्टिनेशन भी बनाता है। इसमें कई महिला हॉस्टल भी हैं, जो मॉल रोड पर कुछ स्वैच्छिक रिसॉर्ट्स के साथ स्थित हैं। आप बागडोगडा हवाई अड्डे से सड़क मार्ग से या न्यू जलपाईगुड़ी रेलवे स्टेशन से यहाँ तक पहुँच सकते हैं।

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय - सितंबर से मई

खजुराहो (मध्य प्रदेश)

भारत में महिलाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ पर्यटन स्थल

मध्य प्रदेश का ऐतिहासिक शहर खजुराहो, यूनेस्को का विश्व धरोहर स्थल है। एक महिला यात्री होने के नाते आपके पास ऐसे लोग हो सकते हैं जो आपको घूर रहे हों, खासकर जब आप मोहक धार्मिक स्थलों और वास्तुकला का पता लगा रही हो लेकिन इसके बाद भी यह शहर अपेक्षाकृत सुरक्षित है। खजुराहो का मंदिर यहाँ के प्रमुख आकर्षणों में से एक है और परिसर में देखने के लिए बहुत कुछ है। एक बार जब आप विरासत संरचनाओं को देखगीं तो इसमें खो जाएगीं। आप लक्ष्मण मंदिर या पुराने गांव को देखने के लिए जा सकती हैं। यहां के अन्य लोकप्रिय स्थानों में आदिनाथ मंदिर, लक्ष्मी मंदिर, पार्श्वनाथ मंदिर, भगवान महावीर मंदिर और मातंगेश्वर महादेव मंदिर शामिल हैं। दो झीलों को भीड़ भरे शहर के रूप में एक शांतिपूर्ण राहत प्रदान करता है।

यहां टूरिस्ट गाइड से बचने के लिए आपको ट्रिक्स आनी चाहिए वरना ये अच्छे खासे पैसे वसूलते हैं। खजुराहों की मूर्तियां अविश्वसनीय हैं। मंदिर की दीवारों पर ऐसी कामुक मूर्तियों को देख किसी भी उत्सुकता बढ़ जाती है। ये मुर्तियां जीवन के चरम सुख यानी संभोग को पदर्शित करती हैं। ये कामुक नक्काशी न केवल संभोग कला पर प्रकाश डालती है बल्कि महिलाओं के दृढ़ विश्वास को भी चित्रित करती है। यह मूर्तियों स्पष्ट करती हैं कि महिलाएं उस दौरान केवल आनंद की वस्तु नहीं थीं। मंदिरों और राष्ट्रीय उद्यानों के अलावा आप यहां प्राचीन किलों किलों की सैर का भी आनंद ले सकते हैं। यहां का अजिगढ़ किला राज्य के मुख्य पर्यटन गंतव्यों में गिना जाता है, जो विंध्य पर्वत श्रृंखला पर 206 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह किला पहाड़ी के समतल बिंदू पर बनाया गया है जहां से आप केन नदी के लुभावने दृश्यों को आसानी से देख सकते हैं। मंदिरों की सैर के अलावा आप खजुराहो में प्राकृतिक खूबसूरती का भी आनंद ले सकते हैं। यहां स्थित पन्ना राष्ट्रीय उद्यान राज्य के मुख्य पर्यटन गंतव्यों में गिना जाता है। विभिन्न वन्यजीव प्रजातियां के साथ यह एक नेशनल पार्क है जिसे भारत के प्रसिद्ध टाइगर रिजर्व में का भी दर्जा प्राप्त है। यहां बाघों की अधिकता है। टाइगर के अलावा आप यहां तेंदुआ, लकड़बग्गा, भेड़िया और कई अन्य जंगली जानवरों को देख सकती हैं। यहाँ आयुर्वेदिक मालिश बहुत लोकप्रिय हैं लेकिन केवल उन स्थानों पर जाती हैं जो विश्वसनीय या प्रतिष्ठित हैं। इसके साथ, स्ट्रीट फूड को आज़माएँ और एक स्मारिका के लिए स्थानीय बाजारों में जाएँ। शहर का अपना घरेलू हवाई अड्डा है जो प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है। आप रेल से भी यात्रा कर सकते हैं।

यात्रा करने के लिए सबसे अच्छा समय – वर्ष भर


शिमला (हिमाचल प्रदेश)

भारत में महिलाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ पर्यटन स्थल

इसमें कोई संदेह नहीं है कि हिमाचल प्रदेश राज्य महिलाओं के लिए विभिन्न प्रकार के पर्यटन स्थल प्रदान करता है हिमाचल प्रदेश का शहर शिमला, जो कि इसकी राजधानी है, उनमें से एक शहर है। इस खूबसूरत हिल स्टेशन में देश के कुछ बेहतरीन आवास हैं और साथ ही सुंदर बाज़ार और भोजन भी यहा की पहचान हैं। गर्मियों के दौरान मौसम अच्छा रहता है और सर्दियों के दौरान बर्फ की अच्छी संभावना होती है। यहां आनंद लेने के लिए बहुत सारी गतिविधियां हैं। आप बस मॉल रोड पर रुक सकती हैं या क्राइस्ट चर्च, द रिज, वाइसरेगल लॉज, टाउन हॉल, जाखू मंदिर, गैईटी म्यूजियम, स्टेट म्यूजियम, भीमा काली मंदिर और जाखू मंदिर जैसे ऐतिहासिक स्थलों को देख सकती हैं। मॉडरेशन में स्थानीय वाइन का आनंद लें। हुडलूम के बारे में चिंतित हुए बिना, आप रात के बीच में मॉल रोड में आसानी से बैठ सकती हैं, क्योंकि यह हमेशा पर्यटकों की भीड़ होती है।

शिमला ऐसी ही जगहों में से एक है जहां देखनेयहां आनों वालों की भीड़ लगी रहती है इसलिए ये महिलाओं की लिए ज्यादा सुरक् के लिए कई सारी जगहें हैं। सबसे अच्छी और खास बात इन जगहों की होती है कि यहां देर रात को भी सैलानियों को घूमते, खाते-पीते, मौज-मस्ती करते हुए देखा जा सकता है। असके अलावा शिमला में घूमने की बहुत सी जगहें हैं जिन्हे आप अपने सूची में शामिल कर सकते हैं। संग्रहालय, थिएटर और औपनिवेशिक लॉज से लेकर चलने के लिए अनोखे रास्ते, चहल-पहल वाले मॉल, गोथिक शैली में बने चर्च और हेरिटेज होटल ये ऐसे स्थान हैं, जहां आप अपने आप को व्यस्त रख सकते हैं। ये हिल स्टेशन आपकी व्यापक आवश्यकताओं को पूरा करता हैं। शिमला का माल रोड सभी कार्यकलापों और गतिविधियों का केन्द्र है। शॉप, कैफे, थिएटर, रेस्तरां और सभी प्रकार के मनोरंजन जैसी सभी दिलचस्प जगह इस रोड पर है। यहां के रेस्तरां व्यंजनों की व्यापक श्रृंखला की पेशकश करते हैं और शिमला में सांस्कृतिक गतिविधियों के लिए गेयटी थिएटर जा सकते हैं। यदि आप शॉपिंग की जगह की तलाश कर रहे है तो माल रोड पर एक से बढ़कर एक बड़ी दुकानें, शोरूम और स्टोरहाउस (माल-गोदान) जैसी जगहें मौजूद है। जहां शॉल और ऊनी कपड़ों से लेकर आभूषण, मिट्टी के बर्तन और किताबें उपलब्ध है। पूर्व में बार्न्स कोर्ट तक फैला और पश्चिम में वाइसरीगल कोर्ट तक फैला माल रोड वो जगह है जो दिनभर आपका मनोरंजन करता रहेगा। शिमला का अपना हवाई अड्डा है और सड़क और ट्रेन द्वारा और कालका शिमला रेलवे के माध्यम से पहुँचा जा सकता है।

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय - सितंबर से जून

जयपुर (राजस्थान)

भारत में महिलाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ पर्यटन स्थल

राजस्थान की राजधानी जयपुर, में इतनी पेशकश है कि एक महिला यात्री निश्चित रूप से ऊब नहीं पाएगी। यह एक ऐसा शहर भी है जो ऐतिहासिक काल से महिलाओं का सम्मान करने के लिए जाना जाता है। खरीदारी और खाने के भार के साथ शहर का सुंदर ऐतिहासिक स्थान है। गर आप भाग्यशाली हैं, तो आप यहां एक सेलिब्रिटी शादी का हिस्सा बन सकती हैं! यहां के प्रसिद्ध स्थानों में अम्बर किला, हवा महल, जंतर मंतर, सिटी पैलेस, स्टेच्यू सर्कल, नाहरगढ़ किला शामिल हैं।

शहर का सबसे आश्चर्यजनक लैंडमार्क अपनी गुलाबी जालीदार खिड़कियों और बालकॉनी के लिए प्रसिद्ध है जहां से शहर का खूबसूरत दृश्य दिखाई देता है। इसे हवा महल कहा जाता है इसका निर्माण 1799 में महाराजा संवाई प्रताप सिंह ने कराया था। इसका इस्तेमाल शाही परिवार की महिलाएं बिना दिखे शहर में होने वाली गतिविधियों को देखने के लिए करती थीं। आप यहां, साड़ी, दुपट्टे, चूड़ियाँ, अर्ध-कीमती गहने आदि जैसे भव्य, पारंपरिक राजस्थानी सामानों का पता लगाने के लिए जौहरी बाज़ार जाएँ, और आप चौकी ढाणी को ना नहीं कह सकती हैं, जो राजस्थान की सभी पारंपरिक चीज़ों का एक बड़ा केंद्र है। मेहमानों को यहां स्थानीय शैली में बैठने और खाने के लिए बनाया गया है। आप ऊंट की सवारी की कोशिश कर सकते हैं या अपने हाथों पर मेहंदी लगवा सकते हैं। जयपुर दिल्ली से सुलभ सड़क है। रेलवे स्टेशन के साथ ही इसका अपना अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा भी है।

यात्रा का समयः वर्ष भर


नैनीताल (उत्तराखंड)

भारत में महिलाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ पर्यटन स्थल

उत्तराखंड की शांत पहाड़ियों में स्थित नैनीताल एक खूबसूरत शहर है। किंवदंती है कि देवी सती का एक हिस्सा यहां गिर गया था जब भगवान शिव गुस्से में उनके जलते शरीर को लेकर चारो ओऱ भाग रहे थे तह सती की आंख यहां गिर गई थी। शहर का नाम यहां की झील के नाम के रुप में रखा गया है जिसे नैना झील कहते हैं। एकल महिला यात्री के लिए यहाँ पर्याप्त आवास उपलब्ध हैं।

उत्तराखंड की ये जगह अपनी प्रकृति की खूबसूरती के साथ यहां के लोगों की खास आवभगत और दोस्ती भरे मिजाज के लिए जानी जाती है। इस कारण से ही देश के अनेक स्थानों से आने वाली लड़कियों या महिलाओं के अकेले घूमने के लिए यह बेहतर जगह है। यहां लोगों की अच्छी-खासी तादाद मिल जाती है, जिससे आप अकेला तो कभी भी महसूस नहीं कर सकती हैं। समुद्र तल से 2084 मीटर की ऊंचाई पर, इस भव्य स्थान पर सर्दियों के दौरान बर्फबारी होती है। बोटिंग के एक राउंड के लिए आप बस मॉल रोड या झील की ओर जा सकते हैं। यहाँ बहुत सारी साहसिक गतिविधियाँ हैं, यहाँ तक कि नौकायन, लंबी पैदल यात्रा, ट्रेकिंग आदि भी आप पं। के जंगल में कर सकते हैं। जी बी पंत हाई एल्टीट्यूड चिड़ियाघर या पास के जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क में जाएं। आनंद लेने के लिए अन्य स्थान हैं- रोपवे, स्नो व्यू, टिफिन टॉप, चीना पीक, लवर्स पॉइंट, नैना देवी मंदिर, भीमताल, नौकुचियाताल, सत्तल, जामा मस्जिद, पंगु पक्षी अभयारण्य आदि।

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय - अक्टूबर से अप्रैल

कूर्ग (कर्नाटक)

भारत में महिलाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ पर्यटन स्थल

कूर्ग या कोडगु कर्नाटक की पहाड़ियों में 1,584 मीटर की ऊंचाई पर स्थित एक सुंदर शहर है। यह एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है देश में सबसे सुरक्षित स्थानों में से एक है। वास्तव में कूर्ग में लिंग अनुपात महिलाओं के पक्ष में है। आप एक गर्म कप कॉफी का आनंद लेने के लिए इस विचित्र छोटे शहर में आसानी से जा सकते हैं क्योंकि इसमें देश के कुछ बेहतरीन कॉफी बागान हैं। आगे बढ़ें और देखें कि कॉफी कैसे उगाई और निर्मित की जाती है। कुछ मुफ्त कॉफी के साथ मुफ्त दौरे का आनंद लें। इसमें कई मसाले के बागान भी हैं।

पहाड़ियों के बीच बसा यह खूबसूरत हरा-भरा जिला आउटडोर एक्टिविटीज के लिए बेहतरीन है। यहां पर आप ट्रैकिंग, फिशिंग और वाइट वॉटर राफ्टिंग का मजा ले सकते हैं। यहां कर्नाटक की सबसे कम जनसंख्या है, इस वजह से आपको शहरी शोर-शराबे और भागदौड़ से अलग शांत माहौल मिलेगा, जो सुकूनभरा अनुभव होगा। कुर्ग में प्रसिद्ध पर्यटन स्थल में भगमंदला, तालकावेरी, निसर्ग धाम, दुबेरे, अब्बे वॉटर फॉल, इरुप्पू वॉटर फॉल और नागरहोल नेशनल पार्क शामिल हैं। पुष्पगिरि और ब्रह्मगिरी ट्रैकिंग के लिए फेमस हैं। ऐतिहासिक रूप से, यहां कई तिब्बती बस्तियां थीं और आप सुंदर मठ में विरासत देख सकते हैं। आप डबरे एलिफेंट कैंप में एक पचमीर को स्नान कर सकते हैं और यहां पर किए गए कई मंदिरों और अनुष्ठानों की जांच कर सकते हैं। कुछ मज़ेदार गतिविधियाँ जिनका आप यहाँ आनंद ले सकते हैं, उनमें बर्ड वॉचिंग, बाइकिंग, ट्रेकिंग, हाइकिंग या यहाँ तक कि एंगलिंग के साथ व्हाइट वाटर राफ्टिंग भी शामिल है। यहां विभिन्न रिसॉर्ट हैं, जिनमें पर्यावरण के अनुकूल हैं। स्थानीय रेशम उत्पादों के साथ-साथ कॉफी और मसालों के स्मृति चिन्ह यहा से लेकर जाएं।
आप यहां आकर पूर्वी और पश्चिमी ढलानों के सौंदर्य का लाभ उठा सकती है और यहां के दिल थाम लेने वाले दृश्यों  को निहार सकती है।

यात्रा करने के लिए सबसे अच्छा समय – वर्ष भर

अंडमान द्वीप समूह

भारत में महिलाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ पर्यटन स्थल

रंगीन मछली और कालीडोस्कोपिक कोरल से भरा, अंडमान सागर के क्रिस्टल-स्पष्ट जल में दुनिया के सबसे धनी और कम से कम खराब समुद्री जल भंडार हैं – स्नॉर्केलिंग और स्कूबा डाइविंग के लिए बिल्कुल सही। हालांकि द्वीपसमूह के कुछ हिस्सों में अब भी कुछ आगंतुक दिखाई देते हैं, लेकिन अंडमान अब पर्यटक सर्किट पर मजबूती से हैं।  अंडमान द्वीप जहाज या हवाई मार्ग से आसानी से पहुँचा जा सकता है। द्वीप पर आप तैराकी, सर्फिंग, स्कूबा डाइविंग, स्नोर्केलिंग या नौकायन जैसे सभी प्रकार के पानी के खेल और मजेदार गतिविधियों का विकल्प चुन सकते हैं।

अंडमान निकोबार द्वीप समूह भारत के सात केंद्रशाषित प्रदेशो में से एक है जो बंगाल की खाड़ी में स्तिथ द्वीपों का एक समूह है | यह केन्द्र्शषित प्रदेश उत्तर में इंडोनेशिया और दक्षिण में थाईलैंड और म्यांमार के द्वीपों से अंडमान सागर द्वारा अलग है | यह प्रदेश दो द्वीपों के समूह अंडमान द्वीप और निकोबार द्वीप से मिलकर बना हुआ है | अंडमान की राजधानी पोर्ट ब्लेयर है। यह स्थल महिला पर्यटकों के लिए एक सुरक्षित स्थल हैं। आप मायाबंदर, रॉस द्वीप और डिगलीपुर द्वीप के माध्यम से द्वीप होपिंग के लिए भी जा सकती हैं। यहां वर्षा वन पर्यटन की भी व्यवस्था है। समुद्रिका समुद्री संग्रहालय, सेलुलर जेल राष्ट्रीय स्मारक, चैथम सॉ मिल और महात्मा गांधी मरीन नेशनल पार्क, जो एक मानव विज्ञान संग्रहालय है, का दौरा करें। द्वीप पर बहुत सारे अच्छे रिसॉर्ट उपलब्ध हैं, जो न केवल सुरक्षित हैं, बल्कि यात्रा और दौरे की गतिविधियों के लिए भी व्यवस्था करते हैं। अंडमान निकोबार की सबसे अच्छी बात यही है कि यहां तापमान पूरे साल अच्छा होता है और तापमान में परिवर्तन बेहद कम होता है। उष्णकटिबंधीय द्वीप होने के कारण अंडमान और निकोबार में ज्यादा सर्दी नहीं पड़ती है इसलिए इसे मॉनसून और समर सीजन में बांट सकते हैं अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के द्वीप राज्य के पर्यटन को मजबूती देते हैं। खूबसूरत द्वीपों में जॉली बॉय, हैवलॉक, क्लिन्क, चंथम, वाइपर, रोज, बारेन और रेड स्किन शामिल हैं।

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय - सितंबर से मई

काजीरंगा (असम)

भारत में महिलाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ पर्यटन स्थल

अगर आपको वन्य जीव से प्यार है तो आपके लिए असम का काजीरंगा जंगल का पता लगाने का एक उपयुक्त स्थल है। काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान आपके लिए सही विकल्प है। यह वन क्षेत्रों में से एक है जो बहुत सारे जानवरों के साथ प्रचुर मात्रा में है, खासकर एक सींग वाले गेंडे। अन्य जानवर जिन्हें आप पार्क में देख सकती हैं, वे हैं बड़े भारतीय सिवेट, स्मॉल इंडियन सिवेट, लेपर्ड, फिशिंग कैट, सांभर, बार्किंग हिरण, हूलॉक गिबन, कैप्ड लंगूर, हॉग हिरण, गौर, होग बैजर, आसामी मकाक और रीसस मैकाक इत्यादि हैं।  यह महिला यात्रियों के लिए एक बड़ा आकर्षण है सरकार हाथी यात्राओं के साथ-साथ निजी जीप सफारी के लिए भी प्रावधान करती है जो बेहद सुखद हैं। यहां का रिज़ॉर्ट न केवल जंगल को देखने के लिए एक शानदार जगह है, बल्कि इसकी भव्यतम प्रकृति भी है।

महिलाओं के लिए आसाम के काजीरंगा नेशनल पार्क में घूमना बहुत ही यादगार और शानदार साबित हो सकता है। वन्य जीव का अनुभव लेने के लिए आपको काजीरंगा का रूख करना चाहिए। अकेले घूमना हो या ग्रूप, महिलाओं के लिए हर लिहाज से सुरक्षित है। काजीरंगा नैशनल पार्क यूनेस्कों की विश्व विरासत सूची में शामिल है यह दुनिया के उन कुछ चुनिंदा स्थानों में से एक है जहां इंसानों की मौजूदगी नहीं है करीब 43 हजार हेक्टेयर में फैला यह पार्क पर्यटकों के बीच काफी लोकप्रिय है। काजीरंगा नैशनल पार्क दुनिया के दो तिहाई एक सींग वाले गैंडे का घर है। अधिकतर लोग इन गैंडों को देखने ही यहां आते हैं र्यटक काजीरंगा में एक सींग वाले गैंडे को देखने जाते हैं।  इस नेशनल पार्क में कुल मिलकर 35 स्तनधारी प्रजातियां पाई जाती हैं लेकिन इनमें 15 अब खतरें में हैं। इसके अलावा काजीरंगा में पाए जाने वाले अन्य जानवरों में हाथी, गौर, सांभर, जंगली सूअर, बंगाल लोमड़ी, गोल्डन सियार, आलसी भालू, भारतीय मोंटजैक, भारतीय ग्रे नेबला, छोटा भारतीय नेबला के नाम शामिल हैं। इसके साथ एक सींग वाले गेंडे, जंगली जल भैंस, दलदल हिरण, एशियाई हाथी और शाही बंगाल बाघ सबसे ज्यादा पाए जाते हैं। काजीरंगा में प्रति 5 वर्ग किमी में एक बाघ पाया जाता है। इसके अलावा पार्क में जंगली बिल्लियों की आबादी 118 है। अगर काजीरंगा में पाए जाने वाले पक्षिओं के बारे में बात करें तो इनमे सफेद-सामने वाले हंस, फेरुगिन डक, बेयर पोचर्ड बतख, काले गर्दन वाले सारस, एशियाई ओपनबिल कॉर्क, बेलीथ के किंगफिशर, सफेद बेल वाले बगुले, डालमेशियन पेलिकन, स्पॉट-बिल्व्ड के नाम शामिल हैं। यहां आने के लिए गुवाहाटी से सड़क द्वारा जंगल सुलभ है, जिसमें एक हवाई अड्डा भी है।

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय - अक्टूबर से अप्रैल

To read this Article in English Click here
809
  • SHARE THIS
  • TWEET THIS
  • SHARE THIS
  • COMMENT
  • LOVE THIS 0

Related Links

Comments / Discussion Board - भारत में महिलाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ पर्यटन स्थल

Loader