Editor's Choice:

about tourism भारत में 21 सबसे खूबसूरत उद्यान

Share this on Facebook!

भारत में 21 सबसे खूबसूरत उद्यान

Indiaonline
Close

Want more stories like this?

Like us on Facebook to get more!
Close

भारत में 21 सबसे खूबसूरत उद्यान

भारत के खूबसूरत उद्यान

भारत एक ऐसा देश है जिसके हर कोने में एक रंग है। भारत विविधताओं से भरा देश हैं जिसके हर राज्य, हर क्षेत्र को प्रकृति का आशीर्वाद प्राप्त है।  भारत के उत्तर में बर्फीले पहाड़ है तो दक्षिण में चमकते समुद्र तट, पूर्व में हरियाली है तो पश्चिम में सुनहरे रेगिस्तान, भारत में कल-कल बहती नदियां है तो वन-जीव और सुगंधित फूलों से भरे उद्यान है। जो यह दर्शाते हैं कि भारत में प्राकृतिक सुंदरता और संसाधनों की कोई कमी नहीं है। पहाड़, गिर, झील, रेगिस्तान, नदियाँ, जंगल- स्वाभाविक रूप से भारत को धन्य बनाते हैं। लेकिन मनुष्य के बीच सुंदरता की प्यास केवल प्राकृतिक विविधताओं से नहीं बूझती है। इसलिए, वे प्राकृतिक तत्वों की खोज करने निकल पड़ता है। प्रकृति के पास अमूल्य उपहार है जो किसी भी प्रकृति प्रेमी को अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैं। भारत में फूलों, हरियालियों की विविधता है। फूल प्रकृति का वो उपहार है जिसे देख हर कोई उसका प्रेमी बन जाता है। इन फूलों और हरियाली को समेटे भारत में कई उद्यान है जो प्रकृति की सुंदरता का अद्भुत नजारा प्रस्तुत करते हैं। उद्यान ऐसी जगहें हैं जहां सुंदरता की पूजा की जाती है, जहां मानव-आत्माएं प्रकृति के करीब होने का एहसास महसूस करती हैं।

चूँकि भारत के राजा, महाराजा और सम्राट फूल, पौधों और प्राकृतिक संसाधनों जैसे कि गिर, तालाबों या झीलों से सुशोभित सुंदर उद्यानों का निर्माण करते थे इस कारणवश भारत में आज कई उद्यान हैं जो प्रकृति की सुंदरता को प्रदर्शित करते हैं। भारत में वैसे तो ग्रामीण इलाकों में हर जगह हरियाली देखने को मिलती है। सरसों के खेत में लगे पीले-पीले फूल किसी भी व्यक्ति को अपनी खूबसूरती की तरफ आकर्षित कर लेते हैं। रंग-बिरंगे गुलाब के फूल प्रेमियों की गवाही को प्रस्तुत करते हैं। हरियाली, फूल, पेड़-पौधे भला किसे पसंद नहीं होंगे। सभी की चाहत होती है कि वह जहाँ रहें, उसके आस-पास प्राकृतिक खूबसूरती रहे। लेकिन शहरी क्षेत्रों में यह संभव नहीं है। इसलिए शहरों में खुबसूरत बगीचे बनाए जाते हैं, ताकि लोगों को यह अहसास होता रहे कि वह भी प्रकृति के नजदीक रहते हैं। लोग वहाँ सुबह-शाम टहलने के लिए जाते हैं और बगीचे की खूबसूरती का मजा लेते हैं। यह उद्यान ना केवल आत्मिक शांति का अनुभव कराते हैं बल्कि प्रकृति के करीब भी ले आते हैं इन उद्यानों में पक्षीयों की चहचाहट और रंग भर देती है। तो आइए हम आपको भारत के कुछ सुंदर बाग-बगीचों और उद्यानों से रुबरु कराते हैं जिन्हें देख आप उनकी सुंदरता में खो जाएगें।  जहां सुंदर फूल, पेड़-पौधों के साथ ही पक्षियों की चहचाहट देखने को व सुनने को मिलेगी। आप उनकी मधुर आवाज में अपने सुंदर सपनों को बुनने लगेगें।

यहाँ भारत के सबसे खूबसूरत उद्यानों की सूची दी गई है:

शालीमार बाग, श्रीनगर जम्मू और कश्मीर

भारत के खूबसूरत उद्यान

राजा, महाराजा और सुल्तान ज्यादातर अत्याचारी या परोपकारी के रूप में जाने जाते रहे हैं। लेकिन वे कला, ललित-कला के संरक्षक और सुंदरता को बढ़ाने के रूप में भी जाने जाते हैं। मुगल सम्राट उस मामले में कोई अपवाद नहीं थे। भारत के सबसे खूबसूरत मुगल गार्डन में से एक, शालीमार बाग वास्तव में मुगल सम्राट जागीर ने अपनी खूबसूरत पत्नी नूरजहाँ को एक प्यार भरा उपहार दिया था। सुंदरता का यह अद्भुत टुकड़ा 1619 में बनाया गया था और इसे मुगल बागवानी के उच्च बिंदु के रूप में गिना जाता है। शालिमा बाग फ़ारसी उद्यान लेआउट का एक अच्छा उदाहरण है। शालीमार बाग़ जम्मू और कश्मीर के श्रीनगर से 15 कि।मी। की दूरी पर स्थित है। यह बाग़ शहर के सभी मुग़ल बाग़ों में सबसे लोकप्रिय है। 'शालीमार' शब्द। का अर्थ होता है - 'प्रेम का वास'। इस गार्डन को शालीमार बाग़, फ़ैज बख़्श, गार्डन ऑफ़ चार मीनार और फ़राह बख़्श के नाम से भी जाना जाता है।  गार्डन को विभिन्न  प्रायोजनों के लिए तीन सीढ़ीदार वर्गो में विभाजित किया गया है। बाहरी बगीचा दीवान - ए - आम, बीच वाला गार्डन का हिस्साै दीवान - ए - खास या सम्राट का गार्डन और सबसे ऊपर वाले गार्डन के हिस्सेन को शाही महिलाओं के लिए आरक्षित किया गया था। इस गार्डन की डिजायन, चाहार बाग ऑफ पेरसिया पर आधारित है।

अद्भुत प्राकृतिक भव्यता के बीच, यह पत्तेदार उद्यान सरासर रोमांस के लिए एक आदर्श जगह है। शालीमार के प्रसिद्ध उद्यान का दो गुना इतिहास है। यद्यपि बाग को सम्राट जहाँगीर ने अपनी पत्नी के लिए बनवाया था, लेकिन यह भूमि वास्तव में श्रीनगर शहर के संस्थापक राजा प्रवरसेन द्वितीय की थी। उन्होंने इस स्थान का नाम शालीमार (संस्कृत में प्रेम का निवास) रखा और वहां एक कुटिया का निर्माण किया जो समय के साथ बर्बाद हो गई और बाद में फिर कभी इसका पता नहीं लगाया जा सका। यह जहाँगीर था जिसने बगीचे के निर्माण के लिए जगह चुनी थी। इस गार्डन को यहां की चीनी खनास या आर्चड नीचेस के लिए जाना जाता है जो गार्डन के पिछले हिस्से  में वॉटर फॉल्स  में बनी हुई है, यहां रात के दौरान तेल के दीपक से रोशनी की जाती है। इस प्रकाश का झरने पर स्पेजशल इफेक्टत पड़ता है जिससे झरना जादुई सा प्रतीत होता है। इन नीचे में फूलों के गमले लगे हुए हैं जिनका रिफलेक्शेन पानी में पड़ता है जो पानी कई रंगों और रूप में चमक उठता है। शालीमार बाग लगभग 31 एकड़ जमीन पर फैला हुआ है जो चारों तरफ से चिनार के पेड़ों से घिरा हुआ है। आप यहां इसकी सुंदरता देख मंत्रमुग्ध हो जाएगें।


हैंगिंग गार्डन, मुंबई, महाराष्ट्र

भारत के खूबसूरत उद्यान

मालाबार हिल के शीर्ष पर स्थित, फ़िरोज़शाह मेहता गार्डन यानि हैंगिंग गार्डन देश के सबसे खूबसूरत उद्यानों में से एक माना जाता है। बड़े करीने से बनाए गए और अच्छी तरह से बनाए हुए बगीचे सूर्यास्त के दौरान नीले अरब सागर के ऊपर शहर के शानदार दृश्य पेश करते हैं। इस उद्यान का निर्माण 1881 में किया गया था।  यह माना जाता था कि मुख्य रूप से मुंबई के सबसे बड़े जल भंडार को कवर करने और आसपास के टावर्स ऑफ साइलेंस से दूषित होने से बचाने के लिए उद्यान का निर्माण किया गया था।

बच्चों के स्वागत के लिए, बगीचे में कई प्रकार के सुंदर फूलों और हरियाली को चारों तरफ अच्छी तरह से फैलाया गया है। यह उद्यान फिरोजशाह मेहता गार्डन के रूप में भी जाना जाता है। यह भी कहा जाता है कि उद्यान के नीचे एक विशाल जलाशय भी है।  इस गार्डन के अलावा फिरोजशाह मेहता गार्डन भी अरब सागर में छिपते सूरज के अनोखे नज़ारे के लिए प्रसिद्ध है। । यह पार्क मुंबई के लोगों के लिए खास जगह है और यहां से आप मुंबई की तेज रफ्तार लाइफ का अंदाज़ा लगा सकते हैं। यह गार्डन बच्चों के लिए आकर्षण का खास केंद्र है। यहां पर अलग-अलग तरह के फूल और पौधे लगाए गए हैं। गार्डन में झाडियों को काटकर पार्क के चारों ओर दिलचस्प पशुओं की आकृतियों से सजाया गया है। जहां आप विभिन्न फोटो लेकर अपनी यादों को सहेज सकते हैं।


वृन्दावन गार्डन, मैसूर, कर्नाटक

भारत के खूबसूरत उद्यान

वृन्दावन गार्डन एक विश्व स्तर पर प्रशंसित उद्यान और कर्नाटक में एक प्रसिद्ध सौंदर्य स्थल है। वृन्दावन गार्डन कर्नाटक के मंड्या जिले में स्थित है जो बैंगलोर से 143 किमी दूर और मैसूर से मात्र 24 किमी दूर है। यह मानव निर्मित चमत्कार प्रसिद्ध कृष्णराजसागर बांध के साथ है जो विवादित कावेरी नदी के पार बना है। बगीचे के निर्माण का कारण नदी के किनारों की सुंदरता को बढ़ाना था और लोगों को बांध और उसके साथ के क्षेत्रों दोनों की सुंदरता का अनुभव करने देना था। महान इंजीनियर और भारत रत्न सर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया वृन्दावन गार्डन के विचार के पीछे थे। तेजस्वी उद्यान 60 एकड़ में स्थित है और श्रीनगर के शालीमार गार्डन के डिजाइन पर आधारित है। यह घोड़े की नाल के आकार में समाप्त होने वाले छतों के तीन चरण बनाता है। यह दुनिया के सबसे खूबसूरत टेरेस गार्डन में से एक है।

यहां आप खूबसूरत फूलों की क्यारियां, घास के मैदान, पेड़, तालाब और झरने देख सकते हैं। साथ ही आप गार्डन के बीच में बने तालाब में बोटिंग का भी आनंद ले सकते हैं। साथ ही आप होने वाले म्यूजिकल और डांसिंग फाउंटेन भी देख सकते हैं। यह गार्डन 20 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ है। इस गार्डन की सजावट नृत्य करते फव्वायरों और फूलों से हुई है। इस गार्डन में फ़िल्मों  की शूटिंग अक्सटर होती रहती है। मैसूर शहर में आने वाला प्रत्येक यात्री प्रसिद्ध वृन्दावन गार्डन देखना एक आवश्यक कार्य मानता था। इस गार्डन में फव्वारों का जल प्रपात, मर्मर पक्षी और आकर्षक फूलों की बहुतायत देखते ही बनती थी। आप इसकी सुंदरता में खो जाएगें।


मुगल गार्डन, राष्ट्रपति भवन, दिल्ली

भारत के खूबसूरत उद्यान

राजधानी दिल्ली में स्थित राष्ट्रपति भवन का अपना एक समर्पित बगीचा है, जिसे विभिन्न प्रकार के फूलों से सजाया गया है, जो इसे देश के सबसे खूबसूरत उद्यानों में से एक बनाता है। मुगल गार्डन, जैसा कि सभी को पता है कि इसमें मुगल और अंग्रेजी भूनिर्माण शैली दोनों शामिल हैं। पूरे बगीचे को चार भागों में विभाजित किया गया है- मुख्य उद्यान, टैरेस गार्डन, लंबा गार्डन या पर्धा गार्डन और गोलाकार उद्यान। सभी भाग बहुत से अलग-अलग फूलों के पौधों से भरे हुए हैं और मुख्य उद्यान में कई फव्वारे और पानी के चैनल हैं जो सभी सुंदरता को वास्तव में रोमांचित करते हैं। इस गार्डन को लॉर्ड हार्डिंगे की पत्नी लेडी हार्डिंगे के लिए बनाया गया था और प्रसिद्ध वास्तुकार सर ऐडविन लुटियंस ने इसे बनाया था। सर एडविन लुटियंस ने 1917 की शुरुआत में मुगल गार्डन के डिजाइन को अंतिम रूप दिया था, हालांकि, यह केवल 1928-1929 के दौरान ही पौधे लगाए गए थे। यह गार्डन लगभग 15 एकड़ में जमीन बना हुआ है। यह उद्यान फरवरी से मार्च के बीच 1 महीने के लिए आम जनता के लिए खोला जाता है।

इस बागीचे में ट्यूलिप, गुलाब, समेत विभिन्न फूलों की प्रजातियां हैं। इस बाग को गौरव पूरी दुनिया में है। इस पुरानी मुगल शैली में बनाया गया है इसलिए इसका नाम मुगल गार्डन है। इस बागीचे में गुलाब की 150 से भी अधिक की किस्में मौजूद हैं। कुछ गुलाब के फूलों को दुनिया की प्रसिद्ध हस्तियों का नाम दिया गया है। इसमें अब्राहम लिंकन, मदर टेरेसा, जवाहर लाल नेहरू, क्वीन एलिजाबेथ आदि के नाम हैं। मुगल गार्डन में फूलों की खूबसूरती के अलावा बेहतरीन फौव्वारे भी हैं। गुलाब के अलवा जो प्रमुख फूल हैं उनमें रात की रानी, मोगरा, मोतिया, जुही आदि के फूल मौजूद हैं। बागीचे में म्यूजिकल सिस्टम से लगा हुए फौव्वारे भी हैं।


पिंजौर गार्डन, पंचकुला, हरियाणा

भारत के खूबसूरत उद्यान

पिंजौर गार्डन भारत के राज्य चंडीगढ़ से 22 किमी दूर अंबाला-शिमला राजमार्ग पर पिंजौर नामक गांव में स्थित है। यह आश्चर्यजनक उद्यान मुगल गार्डन शैली का एक और उदाहरण है। पिंजौर गार्डन मूल रूप से 17 वीं शताब्दी में पटियाला राजवंश के नवाब फिदाई खान द्वारा बनाया गया था। लेकिन रखरखाव की कमी के कारण, बगीचे खंडहर में गिर गया और यह महाराजा यादविंद्र सिंह था, जो पटियाला रियासत के पूर्ववर्ती राजा थे जिन्होंने बगीचे का पुनर्निर्माण किया और इसे पिछले भव्यता के साथ बहाल किया। यादविन्द्र उद्यान के नाम पर अब इस उद्यान का नाम बदल दिया गया है। पिंजौर के बगीचे में सात छते हैं। शीश महल, हवा महल, रंग महल और जल महल, ये सभी खूबसूरत महल बगीचे को और भी शाही बनाते हैं।

ऐसा माना जाता है कि यादवेंद्र गार्डन उत्तर भारत का सबसे पुराना और सुंदर बाग है। कमरे और रेस्तरां के साथ रोशन फव्वारे यात्रियों को समर्पित हैं। यादवेंद्र गार्डन चंडीगढ़ से 22कि।मी। दूर है। इस गार्डन में कई छतें हैं और इसके बीच में राजस्थान-मुग़ल शैली में निर्मित एक महल भी स्थित है। इसकी पहली छत पर स्थित महल शीशमहल और हवामहल से जुड़ा हुआ है। इसका मुख्य द्वार इस छत पर खुलता है। दूसरी छत पर रंगमहल है जबकि तीसरी छत पर पेड़, फूल और फलों का बगीचा है। अगली छत पर फव्वारों के साथ जलमहल स्थित है जहाँ आराम करने के लिए एक मंच भी बना हुआ है। इससे अगली छत पर पेड़ ओर फव्वारें मौजूद हैं जबकि आखिरी छत पर एक डिस्क के आकार में ओपन एअर थिएटर बना हुआ है। इस बाग के साथ एक चिडि़याघर भी स्थित है। इस परिसर में एक मंदिर और एक खुला संग्रहालय भी है जिनमें रोशनी की अच्छी व्यवस्था है और जो उचित रास्तों से भली प्रकार से जुड़े हैं। 2006 में हरियाणा सरकार द्वारा पिंजौर हेरिटेज फेस्टिवल शुरु किया गया था। पिंजज्ञेर शहर की गौरवशाली प्राचीन विरासत और यादवेंद्र गार्डन की भव्यता इस फेस्टिवल में मनाई जाती है। इस फेस्टिवल के दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रमों की व्यवस्था की जाती है जिसमें प्रसिद्ध कलाकार भाग लेने के लिए आते हैं।


निशात बाग, श्रीनगर, जम्मू और कश्मीर

भारत के खूबसूरत उद्यान

भारत का स्वर्ग कहे जाने वाले कश्मीर घाटी का दूसरा सबसे बड़ा मुगल गार्डन और पूरे देश में सबसे खूबसूरत उद्यानों में से एक, निशात बाग वास्तव में श्रीनगर का एक गौरव है। बर्फ से ढंके पीर पिंजल पर्वत श्रृंखला के ठीक नीचे मनभावन ज़बरवान पर्वत और लुभावनी डल झील के साथ सुशोभित एक शानदार प्राकृतिक परिस्थितियों के बीच, निशात बाग, मुगल सम्राट जहांगीर की पत्नी नूरजहाँ के लिए आसिफ खान का एक प्यार भरा उपहार था। निशात बाग का निर्माण असफ खान, महारानी नूरजहां के भाई ने किया था। सभी मुगल गार्डन की तरह, निशात भाग का लेआउट भी फारसी गार्डन के बुनियादी मॉडल पर आधारित था, केवल पानी की आपूर्ति प्रणाली को इसके स्थान और पानी की उपलब्धता के अनुसार संशोधित करना था। निशात बाग मूल रूप से कुल बारह छतों को समेटे हुए है, जिनमें से दूसरी छत को सबसे सुंदर माना जाता है।

निशात बाग शालीमार गार्डन से छोटा है, लेकिन अधिक बढ़िया सुंदर है निशात को मशहूर चिन्नार (पेड़) पेड़ों के लिए मनाया जाता है, मुसलमानों द्वारा पर्शिया से कश्मीर में आयात किया जाता है। इनमें से, मुगल सम्राटों द्वारा कई विशाल चिनार के पेड़ लगाए गए हैं। निशात में 12 छतों हैं जो राशि चक्र के 12 लक्षणों का प्रतिनिधित्व करती हैं, जो धीरे-धीरे गिरती हैं और दाल झील के परिधि में विलय कर देती हैं। फूलों के बिस्तर के साथ देखा गया छतों, उज्ज्वल और सुंदर रंगों का एक मोज़ेक, एक अविस्मरणीय दृश्य बनाता है।  उद्यान ग्रीष्म एवं पतझड़ में सर्वोत्तम कहलाता है। इस ऋतु में पत्तों का रंग बदलता है एवं अनेकों फूल खिलते हैं।


लोधी गार्डन, दिल्ली

भारत के खूबसूरत उद्यान

देश की राजधानी दिल्ली में स्थित एक और सुंदर बाग खान मार्केट और सफदरजंग के मकबरे के बीच 90 एकड़ में फैला, लोधी गार्डन है जो दिल्ली का सबसे लोकप्रिय उद्यान है। इसमें मोहम्मद शाह, सैय्यद राजवंश के शासक, सिकंदर लोदी, लोधी राजवंश के सबसे सफल शासक के साथ-साथ शीश गुम्बद और बड़ा गुंबद भी शामिल हैं। गार्डन को मोहम्मद शाह को श्रद्धांजलि दिखाने के लिए 1444 में अला-उद-दीन आलम शाह द्वारा बनाया गया था और यह 15 वीं शताब्दी में लोदी के परिष्कृत वास्तुशिल्प कार्यों का एक सुंदर उदाहरण है। वास्तुकला हिंदू और इस्लामी दोनों शैलियों का एक अद्भुत संयोजन है। यह आश्चर्यजनक सुंदर बगीचा अब भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की संपत्ति है और स्थानीय लोगों के लिए पसंदीदा सुबह की सैर का स्थल है।

लोधी गार्डन इंडिया इंटरनेशनल सेंटर के पास स्थित है। हुमायूं के मकबरे से महज तीन किलोमीटर दूर। यह दिल्ली के ऐतिहासिक उद्यानों में से एक है। लोधी गार्डन में सईद और लोधी शासकों के मकबरे हैं। लोधी गार्डन 15वीं और 16वीं सदी के बीच बना था। सईद और लोधी शासकों ने इसका निर्माण करवाया था। यह गार्डन आज भी बहुत अच्छे-से मेंटेन किया गया है। यहां मौजूद ऐतिहासिक स्मारक पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र हैं।  दिल्ली में लोधी गार्डन को जेए स्टेन और गैरेट एकबू ने 1968 में री-डिजाइन किया था। इस लोदी गार्डन के बीचों बीच बारा गुंबद और शीश गुंबद है, जो कालखंड की वास्तुकला का बेजोड़ नमूना है। बारा गुंबद में रबर से बना डोम है, यह तीन गुंबद वाली मस्जिद है और उसके प्रांगण के आसपास एक रिहाइश है, जहां एक पानी की टंकी है। इस बारा गुंबद के सामने शीश गुंबद है। वह किसी अनजान परिवार का मालूम होता है, यहां आपको कई रोचक चीज़े देखने को मिलेगी। लोधी उद्यान में कई उद्यान भी हैं, जैसे रोज़ गार्डन, बैम्बू गार्डन, हर्बल गार्डन आदि। यहाँ आप इन ऐतिहासिक स्मारकों के साथ-साथ प्रकृति से भी पूरी तरह जुड़ पाएंगे। यहां पूरे साल कई अलग-अलग तरह के पक्षी भी देखने को मिलते हैं। खास कर की सर्दियों के दिनों में लोग सुबह और दिन के समय इस उद्यान की सैर करने ज़्यादा आते हैं।


सरकारी बॉटनिकल गार्डन, ऊटी, तमिलनाडु

भारत के खूबसूरत उद्यान

तमिलनाडु के ऊटी में स्थित वनस्पति उद्यान एक राज्य सरकार के स्वामित्व वाला उद्यान है जिसे 1848 में औपनिवेशिक शासन के दौरान स्थापित किया गया था। सुंदर उद्यान मुख्य रूप से एक महत्वपूर्ण है क्योंकि इसमें विदेशी और देशी पौधों की लगभग एक हजार किस्में हैं, जिनमें से कुछ दुर्लभ प्रजातियों के हैं। यह उद्यान नीलदिरी पहाड़ियों के सबसे ऊंचे पर्वत डोड्डाबेट्टा चोटी की निचली ढलान पर लगभग 22 हेक्टेयर के क्षेत्र को कवर करता है। प्रकृति प्रेमियों के लिए ऊटी झील को देखना अपने आप में एक अनोखा और सुखद अनुभव है। झील के चारों ओर फूलों की क्यारियों में तरह-तरह के रंगबिरंगे फूल यहां की ख़ूबसूरती में चार चांद लगाते हैं। झील में मोटर बोट, पैडल बोट और रो बोट्स में बोटिंग का लुत्फ भी उठाया जा सकता है। ढाई किमी लंबी इस झील का निर्माण सन् 1825 में हुआ था। इस झील को देखने के लिए सालाना लाखों पर्यटक यहां पहुंचते हैं।


इस भव्य उद्यान को छह परतों में विभाजित किया गया है और इटालियन उद्यान, कंज़र्वेटरी, नर्सरी, फव्वारे आदि को समेटे हुए है। उद्यान के मुख्य आकर्षणों में से एक जीवाश्म वृक्ष का तना है जो कम से कम 20 मिलियन वर्ष पुराना है। बगीचे की एक और दिलचस्प विशेषता टोडा पहाड़ी या टोडा मुंड, एक जगह है जो ऊटी की मूल जनजातियों टोडास की जीवन शैली को दर्शाती है। 22 एकड़ में फैला यह गार्डन अपने बागानों के लिए मशहूर है। इस गार्डन में दुनिया के तमाम तरह के दुर्लभ पेड़ों जैसे मंकी पजल ट्री, कॉर्क ट्री और पेपर बार्क ट्री को सहेज कर रखा गया है। साथ ही अलग-अलग तरह के फूलों और हर्बल पौधों की भी कई सारी वेराइटी देखने को मिलती है। पैदल चलकर यहां की खूबसूरती को और करीब से देखा जा सकता है। फोटोग्राफी करने के लिहाज से भी यह जगह सर्वोत्तम है। आप यहां विभिन्न फोटो को खींच सकते हैं।


रॉक गार्डन, चंडीगढ़

भारत के खूबसूरत उद्यान

चंडीगढ़ में स्थित रॉक गार्डन न तो यह विभिन्न प्रकार के फूलों या पौधों को प्रदर्शित करता है और न ही प्राकृतिक सुंदरता के साथ अपनी आंखों को भिगोने के लिए एक रसीला हरा क्षेत्र प्रदान करता है। फिर भी यह अपने आप में एक अनूठा गार्डन है। चंडीगढ़ का रॉक गार्डन मूर्तिकला कार्यों से भरा एक बगीचा है, जो औद्योगिक रूप से घरेलू अपशिष्ट पदार्थों और फेंके गए सामानों से पूरी तरह से बनाया गया थाय़ जिस चीज को हम यूं ही कबाड़ समझ के फेंक देते है इसी कबाड़ से बनाया गया यह गार्डन काफी रहोचक हैं।  रॉक गार्डन की स्थापना 1957 में एक सरकारी अधिकारी नेक चंद ने की थी। दिलचस्प बात यह है कि उन्होंने बगीचे में पूरी तरह से गुप्त रूप से काम करना शुरू कर दिया था। वह चंडीगढ़ के निर्माण के दौरान विध्वंस स्थलों से अपशिष्ट पदार्थों को इकट्ठा करते थे औक गार्डन का निर्माण करते थे जिसके कारणवश अब यह सुंदर बगीचा चालीस एकड़ के क्षेत्र में फैल गया है। उन आश्चर्यजनक अनूठी कलाकृतियों के अलावा बगीचे में बोतल, चूड़ी, टाइल, बर्तन, सिंक, चश्मा और कई अन्य स्क्रैप आइटम से मानव निर्मित झरने, गुफाएं आदि शामिल हैं। हर साल देश विदेश से हजारो पर्यटक इस गार्डन को देखने आते हैं।
 
रॉक गार्डन नेक चंद जी की रचनात्मकता और कल्पना का एक अद्भुत और उत्कृष्ट प्रतीक है। इन मूर्तियों के अलावा इस गार्डन में भवन के कचरे, खाने के कांटे, खेलने की गोलियां और टेराकोटा बर्तन को मनुष्यों, पशुओं और काल्पनिक जीवों के आकार में दिखाया गया है। गार्डन में आपको झरने, पूल, घुमावदार रास्ते सहित 14 लुभावने चैम्बर भी देखने को मिलेंगे। साथ ही आपको यहाँ एक ओपन थिएटर देखने को मिलेगा जहाँ कई तरह की सांस्कृतिक गतिविधियाँ होती रहती हैं। यहाँ आने वाले पर्यटक इन मूर्तियों, मंदिरों, महलों आदि को देखकर अचरज में पड़ जाते हैं कि कैसे बेकार के सामान से एक व्यक्ति इतनी शानदार कृतियों का निर्माण कर सकता है। रॉक गार्डन की कीर्ति अब देश विदेश के पर्यटकों और कलाप्रेमियों के दिलों तक पहुँच चुकी है। जहां आप आकर इन कलाकृतियों को देख आश्चर्यचकित हो जाएगें।


लॉयड्स बॉटनिकल गार्डन, दार्जिलिंग, पश्चिम बंगाल

भारत के खूबसूरत उद्यान

लॉयड्स बॉटनिकल गार्डन 1878 में ब्रिटिश शासन के दौरान स्थापित सौंदर्य का एक और टुकड़ा है। इस उद्यान को शुरू में कोलकाता के शिबपुर बॉटनिकल गार्डन की दूरी के रूप में स्थापित किया गया था। लॉयड का बॉटनिकल गार्डन खुली पहाड़ी ढलान के एक आश्चर्यजनक परिदृश्य के बीच स्थित है, जो इस बगीचे को एशिया के सबसे अच्छे इलाकों में से एक बनाता है। इस गार्डन के ठीक ऊपर इडेन सेनोटोरियम नामक एक हास्पीटल बना है जहां बीमार ब्रिटिश अधिकारी उपचार के लिए आते थे। ये गार्डन हिमालय क्षेत्र में पाए जाने वाले वनस्पतियों के अध्ययन का भी बड़ा केंद्र रहा है। लिलाड्स बोटानिकल गार्डन दार्जिलिंग के बस स्टैंड से थोड़ा आगे मुख्य सड़क पर है। यहां प्रवेश के लिए कोई टिकट नहीं है। सातो दिन इस गार्डन में घूमने के लिए जा सकते हैं।

40 एकड़ में फैले इस गार्डन को कोलकाता के बोटानिकल गार्डन का विस्तार भी माना जाता है। ब्रिटिश लोगों ने इस गार्डन को संजोया था खास तौर पर बीमार ब्रिटिश लोगों का हर्बल तरीके से उपचार करने के लिए। इसलिए इस गार्डन में खास तौर पर वैसे पेड़ पौधे लगाए गए हैं जो हिमालय क्षेत्र में ही पाए जाते हैं। लॉयड्स गार्डन में हिमालयी स्वदेशी पौधों की एक विशाल विविधता है, जो हमें उद्यान की स्थापना के लिए मुख्य उद्देश्य की याद दिलाती है जो कि हिमालय के फूलों पर अध्ययन और शोध करना था। इनके अलावा, इसमें कई फर्न, शंकुधारी पेड़, कैक्टस विविधताएं आदि शामिल हैं। बगीचे के अंदर ऑर्केडरियम में प्रदर्शन पर 50 किस्मों के 250 से अधिक ऑर्किड हैं। बगीचे का एक बड़ा हिस्सा दुनिया भर से एकत्रित चमकीले फूलों के पौधों से भर गया है।


लाल बाग गार्डन, बैंगलोर, कर्नाटक

भारत के खूबसूरत उद्यान

उद्यान शहर बंगलौर में सबसे प्रसिद्ध उद्यान, लाल बाग उद्यान निस्संदेह भारत में सबसे सुंदर उद्यानों में से एक है। यह उद्यान गौरवशाली इतिहास का हिस्सा है क्योंकि इसका निर्माण मूल रूप से मैसूर के शासक हैदर अली द्वारा शुरू किया गया था और आखिरकार उनके बेटे टीपू सुल्तान ने पूरा किया। बगीचे में प्रसिद्ध ग्लास हाउस बगीचे में आयोजित वार्षिक पुष्प प्रदर्शनी के दौरान हजारों आगंतुकों को आकर्षित करता है। लाल बाग में भारत में उष्णकटिबंधीय पौधों का सबसे बड़ा संग्रह है। यहाँ कई एकड़ क्षेत्र में फैले घास के लॉन, दूर तक फैली हरियाली, सैंकड़ों वर्ष पुराने पेड़, सुंदर झीलें, कमल के तालाब, गुलाबों की क्यारियाँ, दुर्लभ समशीतोष्ण और शीतोष्ण पौधे, सजावटी फूल हैं। इसका विस्तार 240 एकड़ क्षेत्र में है लालबाग के बीचोंबीच एक बड़ा ग्लास-हाउस है जहां वर्ष में दो बार, जनवरी और अगस्त में पुष्प प्रदर्शनी का आयोजन किया जाता है। पार्क के भीतर ही एक डीयर- एंक्लेव भी है। इस उद्यान में बहुत सी भारतीय फिल्मों की शूटिंग हो चुकी  है।

इस बाग में ट्रॉपिकल पौधों का विशाल संकलन है और यहां वनस्पतियों की 1000 से ज्यादा प्रजातियां पाई जाती हैं। बाग में सिंचाई की व्यवस्था बेहतरीन है और इसे कमल के फूल वाले तालाब, घास के मैदान और फुलवारी के जरिए बेहतरीन तरीके से सजाया गया है। लोगों को वनस्पति के संरक्षण के प्रति जागरुक करने के लिए यहां हर साल फूलों की प्रदर्शनी का आयोजन किया जाता है। लाल बाग हर दिन सुबह 6 बजे से शाम 7 बजे तक खुला रहता है। लाल बाग की चट्टानें करीब 3000 साल पुरानी है और इसे धरती का सबसे पुराना चट्टान माना जाता है। भेंट के तौर पर गार्डन के बीच में एचएमटी द्वारा एक इलेक्ट्रॉनिक फ्लावर क्लॉक बनवाया गया है। यह गार्डन प्रकृति प्रेमियों के लिए किसी स्वर्ग से कम नहीं है।


चश्मे शाही गार्डन, श्रीनगर, जम्मू और कश्मीर

भारत के खूबसूरत उद्यान

ज़बरवान रेंज की शानदार पृष्ठभूमि के बीच, चश्मे शाही गार्डन कश्मीर में मुगल गार्डन का एक और प्यारा उदाहरण है। 1632 में मुगल सम्राट शाहजहाँ के गवर्नर अली मर्दन द्वारा निर्मित, यह डल झील के चारों ओर एक झरने के आसपास स्थित है। गार्डन का निर्माण शाहजहाँ के सबसे बड़े पुत्र दारा शिको द्वारा किया गया था। बगीचे के अंदर परी महल है जहां दारा ज्योतिष सीखते थे और माना जाता है कि उनके छोटे भाई औरंगजेब ने वहां हत्या की थी। शाही झरने (चश्मे शाही) के साथ यह शाही उद्यान भारत के सबसे खूबसूरत उद्यानों में से एक है।

इस उद्यान में तीन छतों, एक जल संचयन, झरने और फव्वारे शामिल हैं। श्रीनगर मुगल उद्यान, चसामा शाही, या ‘रॉयल स्प्रिंग’ का सबसे छोटा, नेहरू मेमोरियल पार्क के ऊपर पहाड़ी की स्थापना की गई है। इन सुखद, शांत उद्यानों में ताजा पानी वसंत औषधीय मूल्यों के लिए प्रसिद्ध है। यहां एक छोटा मंदिर भी है, चस्पा साहिदी, बागानों के पास, जिसमें ताजा पानी का वसंत भी है। चश्मा शाही नेहरू मेमोरियल पार्क के ऊपर स्थित है। चश्मा शाही बाग़ यहाँ से झरने के रूप में फूटने वाले अपने सुपाच्य मिनरल वाटर के लिये प्रख्यात है। चश्मा शाही डल झील तथा आसपास की पहाड़यों का अत्यन्त सुन्दर, मनमोहक और रम्य दृश्य प्रस्तुत करता है। जिसे देख आफ मंत्रमुग्ध हो जाएगें।


लैज़र घाटी, चंडीगढ़

भारत के खूबसूरत उद्यान

वास्तव में परम अवकाश के लिए चंडीगढ़ में एक आदर्श जगह है जहां आप सुकुन  के कुछ पल प्रकृति की गोद मं बिता सकते हैं। चंडीगढ़ में स्थित लैज़र घाटी भारत में सबसे शांतिपूर्ण और सुंदर उद्यानों में से एक है जो लोकप्रिय रूप से शहर के दिल के रूप में जानी जाती है। यह उद्यान वास्तव में सुंदर थीम गार्डन का एक समूह है। पार्कों को सामूहिक रूप से लैज़र घाटी कहा जाता है। यह पूरे शहर के चारों एक सुंदर माला की तरह सजी हुई है।

मुख्य उद्यान सेक्टर 1 में राजेंद्र पार्क में शुरू होता है, जिसका उपयोग लंबी पैदल यात्रा, शारीरिक श्रम-प्रदर्शन आदि के लिए किया जाता है और सेक्टर 3 में आश्चर्यजनक बुगेनविलिया उद्यान तक फैला है। यह उद्यान तब सेक्टर 14 में वनस्पति उद्यान तक फैला है। सेक्टर 16 में अद्भुत गुलाब के बगीचे में जाता है और फिर सेक्टर 23 में प्रवेश करता है। पार्क को ले कोर्बुसीयर द्वारा डिजाइन और निर्मित किया गया था और यह उद्यान 1987 में सार्वजनिक रूप से खुला था।


सयाजी बाग, वडोदरा, गुजरात

भारत के खूबसूरत उद्यान

पूरे पश्चिमी भारत में सबसे बड़ा बगीचा सयाजी बाग या कामती बाग देश के सबसे आश्चर्यजनक बगीचों में से एक है। यह उद्यान 1879 में महाराजा सयाजी राव गायकवाड़ तृतीय  का बड़ौदा (अब वडोदरा) के नागरिकों के लिए एक उपहार था। 113 एकड़ में फैले इस खूबसूरत बगीचे में लगभग 100 पौधों की प्रजातियाँ हैं। विशाल उद्यान में सरदार पटेल तारामंडल, बड़ौदा संग्रहालय और चित्र गैलरी, सयाजी बाग चिड़ियाघर और एक सुंदर फूलों की घड़ी भी शामिल है। वड़ोदरा नगर निगम द्वारा बनाए गए बगीचे को एशिया के सबसे बेहतरीन उद्यानों में माना जाता है।

सयाजी बाग में पेड़ों के 98 से अधिक प्रजातियों का एक समूह है। यहाँ पे दो संग्रहालयों, एक चिड़ियाघर, एक तारामंडल, एक फूल घड़ी, और अन्य आकर्षण के बीच एक बाग को देखने के लिए ट्रेन  45 हेक्टेयर के बगीचे का मैदान है| वडोदरा सयाजी बाग में स्थित दो संग्रहालयों में से एक प्रसिद्ध बरोदा संग्रहालय और पिक्चर गैलरी है, जो 1894 में बनाया गया था, जो विभिन्न इमारतों में से एक है, जिसे सयाजीराव द्वारा नियुक्त किया गया था और मंत और चिशोलम द्वारा डिजाइन किया गया था। सयाजीराव ने बड़े पैमाने पर यात्रा की और विभिन्न डीलरों और विद्वानों, मुग़ल लघुचित्रों से लेकर जापान, तिब्बत, नेपाल और मिस्र और सिक्कों के सभी मूर्तियों, वस्त्रों और वस्तुओं से लेकर सभी वस्तुओं के साथ एक विस्तृत संग्रह बनाने के लिए वस्तुएं पाई जा सकें उस के लिए उन्होंने यात्रा की। तारामंडल के ठीक बगल में एक एस्ट्रोनॉमी पार्क भी है, जहां आप प्रचीन भारत के एस्ट्रोनॉमिकल उपकरण देख सकते हैं। इस पार्क को कमाती बाग के नाम से भी जाना जाता है।


मेहताब बाग, आगरा, उत्तर प्रदेश

भारत के खूबसूरत उद्यान

ताजमहल के अस्तित्व में आने से बहुत पहले, मेहताब बाग या मूनलाइट गार्डन, बाबर का एक सपना था जो उचित देखभाल के बिना लगभग खत्म हो गया था। यह यमुना नदी के किनारे मुगल सम्राटों द्वारा निर्मित ग्यारह उद्यानों में से अंतिम है। सूख गए बगीचे मेहताब बाग से उड़ान भरने वाले रेत के प्रतिकूल प्रभावों को महसूस करने के बाद, इसे इसकी पिछली भव्यता के साथ फिर से बहाल किया गया। यह अब एक खूबसूरत चारबाग (चतुर्भुज उद्यान) है जो ताजमहल परिसर के उत्तर में स्थित है।
महताब बाग का अर्थ होता है चांद की रोशनी का बाग। यमुना नदी के किनारे 25 एकड़ में फैले इस बाग का निर्माण 1631 से 1635 के बीच करवाया गया था।

मेहताब बाग जिसे चांदनी बाग भी कहा जाता है इसको मुग़ल सम्राट बाबर ने बनवाया था यहां से ताज महल का उत्तम दृश्य देखने को मिलता है इसकी चौड़ाई ताजमहल की चौड़ाई के ठीक बराबर है। बाग के बीच में एक बड़ा सा अष्टभुजीय तालाब है, जिसमें ताजमहल का प्रतिबिंब (परछाई) बनता है। इस तालाब के लिए पानी बगल के झरने से लाया गया था। बाढ़ के कारण बाग के चार बलुआ पत्थर के स्तंभ में से सिर्फ एक ही सुरक्षित है। पर्यटक इस बाग से ताजमहल की अनुपम छठा को निहार सकते हैं।


आचार्य जगदीश चंदा बोस भारतीय वनस्पति उद्यान, हावड़ा, पश्चिम बंगाल

भारत के खूबसूरत उद्यान

आचार्य जगदीश चंदा बोस भारतीय वनस्पति उद्यान को पहले भारतीय बोटैनिकल गार्डन के रूप में जाना जाता है। यह उद्यान पश्चिम बंगाल के कोलकाता में स्थित है। आमतौर पर कलकत्ता बॉटनिकल गार्डन के रूप में इसे जाना जाता था। आचार्य जगदीश चंद्र बोस इंडियन बोटैनिकल गार्डन एक सुंदर और विश्व स्तर पर सबसे प्रसिद्ध वनस्पति उद्यान में से एक है। कोलकाता के पास स्थित शिबपुर, हावड़ा में जो बाग है, वह गर्व से 12,000 से अधिक पौधों के नमूनों का कुल संग्रह और 109 हेक्टेयर में फैले दुर्लभ फूलों की एक विशाल श्रृंखला का दावा करता है। ऑर्किड, हथेलियों, बांस और अन्य पौधों के महान संग्रह में सुंदर बगीचे का सबसे प्रसिद्ध मील का पत्थर ग्रेट बरगद का पेड़ है जिसे दुनिया का सबसे बड़ा पेड़ माना जाता है।

यहां पर आपको 150 से ज्यादा दुर्लभ प्रजातियां देखने को मिलेगी। 150 पौधों की प्रजातियों के अलावा यहां पर 144400 वर्ग मीटर में फैला बरगद का पेड़ दुनिया भर में मशहूर है।  दूर से देखने में ये पेड़ एक जंगल की तरह नजर आता हैं। दरअसल, बरगद के पेड़ की शाखाओं से जटाएं पानी की तलाश में नीचे जमीन की और बढ़ती हैं। वे बाद में जड़ के रूप में पेड़ को पानी और सहारा देने लगती है। फिलहाल, इस बरगद की 2800 से अधिक जटाएं जड़ का रूप ले चुकी है। जो आपकी आश्चर्यचकित कर देगीं।


कब्बन पार्क, बैंगलोर, कर्नाटक

भारत के खूबसूरत उद्यान

बैंगलोर में स्थित कब्बन पार्क एक और सुंदर बगीचा है जिसे बैंगलोर के ह्रदय के रुप में जाना जाता है। कब्बन पार्क निश्चित रूप से शहर के हलचल में शांति का स्थान है। उद्यान मूल रूप से 1870 में बनाया गया था और इसका नाम मैसूर के सबसे लंबे समय तक सेवारत आयुक्त सर मार्क क्यूबॉन के नाम पर रखा गया था। एक दिलचस्प नोट पर, यह कब्बन पार्क है जो बैंगलोर शहर के पीछे का कारण था जिसे गार्डन सिटी का नाम दिया गया था। कब्बन पार्क में लगभग 96 विभिन्न प्रजातियों के फूलों के साथ लगभग 6000 पौधे हैं।

पहले यह पार्क सिर्फ 100 एकड़ में फैला था। हालांकि बाद में इसे करीब 300 एकड़ में फैला दिया गया। यहां आप वनस्पति और जीव-जंतु का बेहतीन संकलन देखने को मिलता है। पहले इसे मेडे पार्क के नाम से जाना जाता था। तत्कालीन शासक को श्रद्धांजली देने के लिए जब सिल्वर जुबली मनाया गया तो इस पार्क का नाम बदलकर चारमाराजेन्द्र पार्क रखा गया। पार्क में घने बांस के पेड़ और दूसरे खूबसूरत पौधों के बीच एक बड़ा सा दायरा है, जिसे कर्नाटक सरकार के बागवानी विभाग द्वारा नियंत्रिण किया जाता है। इस पार्क में आप सुबह टहलने वालों, प्रकृतिवादी और शांत वातावरण में प्रकृति का अध्ययन करने वालों को देख सकते हैं। पार्क में 68 प्रकार की विदेशी वनस्पति और करीब 96 प्रजाति पाई जाती हैं। यहां कुल 6000 पेड़-पौधे हैं। पार्क में अट्टारा कचरी हाई कोर्ट, म्यूजियम और सेशाद्री मेमोरियल हॉल भी है। पार्क में घूमने के लिए समय की कोई पाबंदी नहीं है और यह लोगों के लिए हमेशा खुला रहता है।


इंदिरा गांधी मेमोरियल ट्यूलिप गार्डन, श्रीनगर, जम्मू और कश्मीर

भारत के खूबसूरत उद्यान

कश्मीर में स्थित एशिया का सबसे बड़ा ट्यूलिप गार्डन, इंदिरा गांधी मेमोरियल ट्यूलिप गार्डन भारत के सबसे खूबसूरत उद्यानों में एक है। यह उद्यान लगभग 12 हेक्टेयर के क्षेत्र को कवर करता है और तेजस्वी डल झील को देखने के लिए राजसी ज़बरवान रेंज की गोद में स्थित है। उद्यान 2006 में मुख्य रूप से बागवानी को प्रोत्साहित करने और राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने में मदद करने के लिए स्थापित किया गया था। बगीचे में कम से कम दो मिलियन रंगीन ट्यूलिप हैं, जो देखने के लिए एक अद्भुत दृश्य होगा।

श्रीनगर में हर साल अप्रैल में ट्यूलिप फेस्टिवल मनाया जाता है जिसका आयोजन कश्मीर टूरिजम बोर्ड करता है। आपको जान कर हैरानी होगी कि यह ट्यूलिप गार्डन एशिया का सबसे बड़ा ट्यूलिप गार्डन है। श्रीनगर मे इंदिरा गांधी मेमोरियल ट्यूलिप गार्डन में हर साल एक महीने के लिए ट्यूलिप फेस्टिवल मनाया जाता है, जिसके लिए डिपार्टमेंट ऑफ फ्लॉरिकल्चर पूरे साल मेहनत करता है। ज़बरवान पर्वतमाला के दामन में लगभग 12 हेक्टेयर में फैला यह बटैनिकल गार्डन बहुत खूबसूरत है। इस साल इंदिरा गांधी मेमोरियल ट्यूलिप गार्डन में 15 लाख ट्यूलिप लगाए गए हैं। इस ट्यूलिप गार्डन की स्थापना सन् 2008 में की गई थी। इस गार्डन को देखने लाखों की संख्या में सैलानी हर वर्ष देश-विदेश से आते हैं। यहां फैले रंगबिरंगे ट्यूलिप्स को देख कर कोई भी अंदाज़ा लगा सकता है कि इस इंद्रधनुषी छटा को बिखेरने में कितनी मेहनत की गई है।  लेवल पर बना यह ट्यूलिप गार्डन अपने में 46 प्रकार के ट्यूलिप्स का घर है। इस ट्यूलिप गार्डन के बीचों-बीच गार्डन की खूबसूरती में चार चांद लगाने के लिए कई फाउन्टेन भी लगाए गए हैं।  गार्डन में आने वाले लोगों की सुविधा का पूरा ख़्याल रखा गया है। इसलिए यहां एक छोटा सा फ़ूड पॉइंट भी है जहां आप कश्मीर के ख़ास पकवान जैसे बाक़रख़ानी, चॉकलेट केक और कश्मीरी कहवे का आनंद ले सकते हैं।  हर साल 7 दिन तक यहां ट्यूलिप समारोह चलता है जिसमें 70 किस्मोंन से ज्यालदा ट्यूलिप देखने को मिलते हैं।  यह गार्डन, श्रीनगर के कई बगीचों में से फेमस बगीचा है। यह गार्डन कुल 90 एकड़ के बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। फूलों के मौसम में इस बगीचे में कम से कम 13 लाख ट्यूलिप बल्ब  एक बार में खिलते हैं।


रॉक गार्डन, दार्जिलिंग, पश्चिम बंगाल

भारत के खूबसूरत उद्यान

दार्जिलिंग, पश्चिम बंगाल की पहाड़ी-रानी के पास स्थित एक सुंदर बगीचा है जो हर हफ्ते हजारों पर्यटकों को आकर्षित करता है। इसे रॉक गार्डन या बारबोटी रॉक गार्डन कहा जाता है यह चुन्नू समर फॉल्स में स्थित है। यह आश्चर्यजनक उद्यान वास्तव में 1980 के राजनीतिक आंदोलन के बाद शहर के बाधित पर्यटन उद्योग को फिर से स्थापित करने के लिए बनाया गया था। सुंदर फूलों के पौधों और अन्य हिमालयी फूलों की बहुतायत के साथ एक अपरंपरागत पर्यटन स्थल पहाड़ियों और चट्टानों की एक अद्भुत पृष्ठभूमि के बीच, रॉक गार्डन शांति के लिए और प्रकृति के थोड़ा करीब पहुंचने के लिए एक जगह है। जो आपको अपनी सुंदरता का दिवाना बना देगी।


गुलाब बाग / सज्जन निवास बाग, उदयपुर, राजस्थान

भारत के खूबसूरत उद्यान

गुलाब बाग जिसे सज्जन निवास उद्यान के रूप में भी जाना जाता है, उदयपुर का सबसे बड़ा उद्यान है और गुलाब की बेशुमार किस्मों का केंद्र है। उद्यान 1878 में महाराणा सज्जन सिंह द्वारा बनवाया गया था। महाराणा ने औषधीय मूल्यों वाले पौधों से बगीचे को भरने के लिए एक प्रसिद्ध बागवानी विशेषज्ञ भी नियुक्त किया। गुलाब बाग में आम, केले, नींबू, अंगूर, कटहल, लकड़ी के सेब, अनार, लीची आदि लगभग सभी प्रकार के उष्णकटिबंधीय पेड़ शामिल हैं, सुंदर बगीचा प्रतिष्ठित पिछोला झील के बहुत पास स्थित है।

माना जाता है कि लगभग 0।40 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला उद्यान उदयपुर में सबसे बड़ा बगीचा है। विक्टोरिया हॉल जो प्राचीन कलाकृतियों और अन्य प्राचीन शाही वस्तुओं का संग्रहालय है महल के परिसर में ही स्थित है। बगीचे के आसपास के क्षेत्र में एक चिड़ियाघर स्थित है। चिड़ियाघर और संग्रहालय के अलावा, परिसर में सरस्वती भवन पुस्तकालय भी है जिसे महाराणा फतेह सिंह द्वारा निर्मित किया गया था। पुस्तकालय में पुरातत्व, इतिहास और विचारधारा से संबंधित पुस्तकों की एक समृद्ध संग्रह है। इन पुस्तकों के साथ साथ यात्री यहाँ मध्यकालीन युग से संबंधित विभिन्न प्राचीन पांडुलिपियों को भी देख सकते हैं।


सिम का पार्क, कुन्नूर, तमिलनाडु

भारत के खूबसूरत उद्यान

तमिलनाडु के कुन्नूर में सिम का पार्क एक अनूठा और सुंदर उद्यान है, जो प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले झाड़ियों, पेड़ों और जल संसाधनों के साथ आसपास की सभी प्राकृतिक आकृति में विकसित होता है। उद्यान की स्थापना श्री जे।डी। सिम्स और मेजर मरे द्वारा 1874  में की गई थी। नीलगिरि श्रेणी के स्वदेशी फ़्लोरेस उन क्षेत्रों में सबसे अधिक पाए जाते हैं जहाँ कुछ असामान्य पौधों-प्रजातियों को दुनिया भर से एकत्र किया गया था और बगीचे में लगाया गया था। इस स्थान पर तापमान स्थानिक पौधों के लिए पूरी तरह से आदर्श है इसलिए बगीचे की सुंदरता स्वाभाविक रूप से बढ़ जाती है।

सिम का पार्क 12 हेक्टेयर में बना है। सिम पार्क में 1000 विदेशी पेड़-पौधे हैं। फर्न्स, पाइन्स, मंगोलिया और कामेलिया जैसे पुराने और कम पाए जाने वाले पेड़ आपको यहां दिखेंगे। कुन्नूर का यह प्राकृतिक गार्डन है, जहां पर हर साल फ्रूट शो होता है। सुबह की सैर करने के लिए यह बेहद अच्छा और प्राकृतिक परिवेश वाला गार्डन है। आप इसकी सुंदरता देख मंत्रमुग्ध हो जाएगें।


To read this Article in English Click here
1149
  • SHARE THIS
  • TWEET THIS
  • SHARE THIS
  • COMMENT
  • LOVE THIS 0

Related Links

Comments / Discussion Board - भारत में 21 सबसे खूबसूरत उद्यान

Loader