भारत के कम ज्ञात आकर्षक गंतव्य

भारत के कम ज्ञात आकर्षक गंतव्य

भारत एक विविधताओं का देश है। यहां आप खान-पान से लेकर लोगों के पहनावे और भाषा में भी विविधता को देख सकते हैं। यहां की भौगोलिक संरचना भी काफी भिन्न है, आप यहां ऊंचे-ऊंचे पहाड़ों से लेकर समतल, तटीय और रेतीले मैदान तक देख सकते हैं। भारत की हर दिशा, हर राज्य एक दूसरे से अलग होने के साथ एक दूसरे से जुड़े हुए हैं और यहीं इस देश की खासियत है। भारत का गौरवशाली और वृहद इतिहास भी पर्यटकों को काफी ज्यादा प्रभावित करता है, आप यहां असंख्य प्राचीन किले, महल, मंदिर, मस्जिद, मकबरे, उद्यान आदि देख सकते हैं। भारत के पूर्व में जहां आपको सुंदर वन जीवन, हरियाली देखने को मिलेगी वहीं पश्चिम के रेगिस्तान और किले आपका दिल जीत लेगें। उत्तर में बर्फ से ढके पहाड़ और नदियां आपको मंत्र मुग्ध कर देंगी तो वहीं दक्षिण के समुद्री तट आको वहां आने पर विवश कर देंगें। भारत में एक पर्यटन प्रेमी के लिए सब कुछ है जो भी वो चाहता है। भारत दुनिया भर पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। भारत यात्रा का देश है जो पर्यटकों के लिए एक स्वर्ग है। दुनिया भर से पर्यटक भारत की मनोरम दृश्यावली, सांस्कृतिक विविधता, भौगोलिक विविधता और शांति की खोज में आते हैं। भारत में बहुत से सुंदर पर्यटन स्थल मौजूद है, जहां पर आप सुकून के कुछ पल बिता सकते हैं। जब भी आप कहीं घूमने की योजना बनाते हैं तो आपको आपको वहीं भीड़, शोर-शराबा, तहल-पहल नजर आने लगता है जो आप रोज अपने दैनिक जीवन में देखते हैं। यूं तो भारत में कई प्रसिद्ध जगह है जहां जाकर आप अपनी छुट्टियों का आनंद ले सकते हैं लेकिन यदि आप अपने अवकाश को शांतिमय और सुकुन के साथ बिताने चाहते हैं तो भारत में आपके लिए कई ऐसी जगह मौजूद है जहां आप शांतिपूर्ण,चहल-पहल से दूर कुछ पल स्वंय के साथ बिता सकते हैं। यहां ना आपको भीड़ का सामना करना पड़ेगा ना, महंगे होटल के चक्कर लगाने पड़ेगें। भारत में कई ऐसी अज्ञात जगह हैं जो शहर और पर्यटकों के भीड़-भीड़ से दूर अपने अलग सौंदर्य में स्थित है। यह अनदेखे, कम अज्ञात गंतव्य आपकी यात्रा को और यादगार बनाने का दम रखते हैं।  दुनिया भर से पर्यटक भारत की मनोरम दृश्यावली, सांस्कृतिक विविधता, भौगोलिक विविधता और शांति की खोज में आते हैं। भारत में बहुत से सुंदर पर्यटन स्थल मौजूद है, जहां पर आप सुकून के कुछ पल बिता सकते हैं। भारत उन खूबसूरत स्थानों से भरा है जिनकी अभी तक खोज नहीं की गई है और वे व्यावसायीकरण द्वारा छेड़छाड़ नहीं कर रहे हैं। ये स्थान शहर के जीवन की हलचल से बहुत आवश्यक आराम प्रदान करते हैं। इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको भारत के कुछ ऐसे ही कम प्रसिद्ध अज्ञात गंतव्यों के बारे में बता रहे हैं जहां जाकर आप उनकी अनुपम सुंदरता में खो जाएगें। जो आपको शांति प्रदान करने के साथ आपकी थकान को पल-भर में गायब कर देगें।



असम में माजुली

भारत के कम ज्ञात आकर्षक गंतव्य

भारत के पूर्वोतर राज्य असम में वैसे तो कई पर्यटन स्थल उपलब्ध है किन्तु असम मे स्थित माजुली द्वीप एख ऐसा स्थल है जिसेस लोग कम ही जानकार है जो पर्यटको की भीड़ से दूर एक शानदार स्थल उपलब्ध कराता है। अक्सर माजुली को  दुनिया के सबसे बड़े ताजा जल नदी द्वीप के रूप में जाना जाता है। असम में माजुली ब्रह्मपुत्र नदी के तट पर स्थित है, जो जोरहाट शहर से करीब 20 किलोमीटर दूर है। यात्रा उत्साही लोगों के लिए एक स्वर्ग, माजुली असाधारण सौंदर्य और चमक का दावा करता है जिसे अभी तक खोजा नहीं जा सकता है। असम की सांस्कृतिक राजधानी के रूप में भी जाना जाता है, माजुली अपने कई त्योहारों, विविध वन्यजीवन, सुंदर परिदृश्य, वैष्णव मठों, कई सांस्कृतिक प्रदर्शनियों और एक महान आतिथ्य के लिए प्रसिद्ध है। गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' में अपना नाम दर्ज करा चुके इस एक मात्र नदी द्वीप को देखने के लिए देश-दुनिया से हजारों पर्यटक रोजाना असम तक का सफर तय करते हैं। 

माजुली असम के नव-वैष्णव संस्कृति का हब है। इनमें से ज्यादातर शास्त्रों ने नाच-गाने की संस्कृति को जीवित रखा हुआ है। इस द्वीप पर कला और संस्कृति भी खूब पनपी है। राज्य के माइजिंग, देवरी और सोनोवाल कचरी आदिम जातियों के लिए यह घर है। हर साल यहां आने वाले प्रवासी पक्षियों को देखने भी बड़ी संख्या में पर्यटक यहां खिंचे चले आते हैं। असमी के अलावा यहां के स्थानीय नागरिक माइजिंग और देवरी भाषाएं भी बोलते हैं। यदि आप पूर्वी भारत की इन भाषाओं को नहीं जानते तो यहां एक स्थानीय गाइड अपने साथ रखना बेहद मददगार साबित होगा माजुली की सुंदर सुंदरता और प्रदूषण मुक्त वातावरण आपको पूरी तरह से मस्तिष्क और भयभीत कर देगा। माजुली जाने का सबसे अच्छा समय मानसून के मौसम के दौरान अक्टूबर और मार्च के बीच होता है, जब नदी सबसे अच्छी होती है। द्वीप अपने पक्षी-देखने वाले अभियानों के लिए भी जाना जाता है और पक्षियों की सौ से अधिक प्रजातियों का घर है। वहां कई घाट उपलब्ध हैं जो जोरहाट में माजुली और निमातिघाट के बीच नियमित रूप से चलती हैं।।द्वीप पर स्थित 'कमलाबारी सत्र' संस्कृति, साहित्य, कला और संगीत से संबंधित सभी चीजों का केंद्र स्थल है। यहां दीवारों और छतों पर उकेरे गए जटिल डिजाइन आज भी उतने ही आकर्षक लगते हैं जितने ये कभी पहले थे। इसके अलावा यहां दखनपत सत्र के नाम से मशहूर एक स्मारक भी मौजूद है जिसे अपने धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व के लिए जाना जाता है। इसके अलावा आप यहां मौजूद सामागुरी, गरमूढ़, आउनीआटी, बेंगनाआटी सत्रों का भ्रमण भी कर सकते हैं। अगर आप असमिया वास्तुकला, संस्कृति को करीब से जानना चाहते हैं तो इन स्थलों के दर्शन जरूर करें।



मेघालय में मावलिनोंग गांव

भारत के कम ज्ञात आकर्षक गंतव्य

'एशिया में सबसे स्वच्छ गांव' के रूप में जाना जाने वाला पूर्वोतर राज्य मेघालय का गांव मावलिनोंग है। मावलिनोंग गांव भारत का सबसे स्वच्छ और सबसे सुंदर गांव है। मेघालय में वैसे तो बहुत से ऐसे पर्यटन स्थेल हैं, जहां पर प्रकृति अपने भव्य  रूप में उपस्थित है। राजधानी शिलांग में भी अनेकसुन्दर स्थसल हैं। जिनमें वार्डस लेक, उमियाम झील, लेडी हैदरी उद्यान, पोलो ग्राउंड, मिनी चिडियाघर, हाथी झरना और शिलांग की पर्वत चोटी प्रमुख हैं।  मेघालय के पूर्वी खासी पहाड़ियों में स्थित, यह गांव अपनी प्राचीन सड़कों और अप्रचलित वातावरण के लिए जाना जाता है। ठाठ बांस की धूल, अच्छी तरह से बनाए गए सार्वजनिक शौचालय, निर्बाध फुटपाथ और धुएं से मुक्त एवं पॉलीथीन मुक्त वातावरण के लिए यह गांव विश्व भर मे प्रसिद्ध है। स्वच्छ काली सड़कों के माध्यम से  मावलिनोंग गांव के स्थानीय लोगों ने निश्चित रूप से स्वच्छतम गांव की स्थिति को बनाए रखने का ईमानदारी से प्रयास किया है। यह छोटा सा गाँव स्वच्छता के मामले में, शहरी स्थलों के लिए भी एक प्रेरणा का स्रोत हो सकता है। एशिया में सबसे स्वच्छ गांव के रूप में जाने जाने वाले सर्वश्रेष्ठ, मावलिनॉन्ग उदाहरण के आधार पर होते हैं। प्लास्टिक के उपयोग पर प्रतिबंध लगाने से यहां धूम्रपान पर भी लगाम लगा दिया गया है। पारिस्थितिक मित्रता की भावना को जीवित रखते हुए, सड़कों को बांस की धूल के साथ रेखांकित किया गया है गेस्ट हाउस के कई घर बांस का निर्माण करते हैं। गांव में खाद और पोषण वृक्षारोपण भी आम प्रथा है।

शिलांग से 100 किलोमीटर दूर स्थित, मावलिनोंग गांव सिर्फ एक निर्दोष गांव नहीं बल्कि भारत के सबसे खूबसूरत गांवों में से एक है। मावलिनोंग गांव का दौरा करने का सबसे अच्छा समय मानसून के मौसम के दौरान होता है, जब बारिश की बूंदे अपने पानी के जादू से पूरे क्षेत्र को हरे रंग में रंग देती है। आप गांव से कुछ किलोमीटर दूर शानदार लिविंग रूट्स ब्रिज भी जा सकते हैं।




महाराष्ट्र में तर्काली बीच

भारत के कम ज्ञात आकर्षक गंतव्य

दक्षिण महाराष्ट्र के सिंधुदुर्ग जिले में स्थित, तर्काली बीच भारत के कुछ समुद्र तटों में से एक है जिसे अभी तक व्यावसायीकरण ने नहीं छुआ है। क्रिस्टल स्पष्ट पानी, खूबसूरत सुनहरे रेत और कम भीड़ इस जगह को बहुत खास बनाती हैं। चूंकि यह मुंबई के बहुत करीब स्थित है, यह एकदम सही पलायन स्थल है।  खासतौर पर उन लोगों के लिए जो शोर शहर के जीवन से दूर जाना चाहते हैं। तारकर्ली गांव कोल्हापुर से लगभग 160 किलोमीटर दूर बसा एक छोटा सा गांव है। कर्ली नदी और अरब सागर के तट पर बसा तारकर्ली बीच प्रकृति के निर्मल दृश्य में मज़े लेने के लिए सबसे आदर्श जगह है। एक तरफ करली बैकवाटर और दूसरी तरफ फ़िरोज़ा नीला समुद्र के साथ, गोवा के निकट होने के बावजूद तारकरली को बहुत लोकप्रियता मिलती है। यह एक कोरल समुद्र तट है जो कोंकण समुद्र तटों के पूरे खिंचाव के साथ बेहतरीन सफेद रेत है। रहने और खाने के स्थान के रूप में कई पानी के खेल उपलब्ध हैं। तर्काली गांव अपने रामनवती उत्सव केलिए प्रसिद्ध है, हर साल महापुरुश मंदिर में मनाया जाता है।

अपने स्पष्ट पानी के कारण, यह स्थान स्नॉर्कलिंग और स्कूबा डाइविंग प्रेमियों के लिए एक स्वर्ग है। वास्तव में, यहां पानी इतना साफ है कि कोई 15 फीट गहराई तक देख सकता है। हालांकि, चूंकि लहरें यहां थोड़ी मजबूत हैं, इसलिए डाइविंग के दौरान सावधानी बरतनी चाहिए। आगंतुक सिर्फ यहां नाव किराए पर ले सकते हैं। आपको रोमांचक पानी के खेल के लिए सुनहरे चट्टानों, डॉल्फ़िन स्पॉटिंग और सुनामी द्वीप पर ले जा सकता है। तर्काली बीच के पास अन्य लोकप्रिय पर्यटक स्थलों में देवबाग बीच, सिंधुदुर्ग किला और बैकवाटर शामिल हैं। पर्यटकों को यहां मिले प्रसिद्ध मालवानी व्यंजनों का भी प्रयास करना चाहिए। चूंकि यह पर्यटकों के बीच लोकप्रिय नहीं है, इसलिए एमटीडीसी रिज़ॉर्ट तर्काली बीच में एकमात्र उपलब्ध आवास है, जिसमें लगभग 20 समुद्र तट कॉटेज हैं।




अरुणाचल प्रदेश में ज़ीरो

भारत के कम ज्ञात आकर्षक गंतव्य

भारत का पूर्वोतर राज्य अरुणाचल प्रदेश सूर्य की मनोहर छटा के लिए जाना जाता है। अरुणाचल प्रदेश प्राकृतिक खूबसूरती से भरा हुआ है। यहां कई ऐसे पर्यटन स्थल हैं जो आपको प्रकृति को नजदीक से महसूस करने और शहरी शोर-शराबे से दूर मन को शांति का अनुभव करवाएंगे। ऐसी ही एक जगह यहां की जीरो वैली भी है अपने लोकप्रिय ज़ीरो संगीत समारोह के लिए जाना जीरो वैली को जाना जाता है। ज़ीरो अरुणाचल प्रदेश राज्य के निचले सुबानसिरी जिले में स्थित एक विचित्र छोटा शहर है। हरी-भरी हरियाली, घने अल्पाइन जंगलों और पन्ना चावल के खेतों से घिरा हुआ, ज़ीरो पूर्वोत्तर के कुछ अज्ञात स्थानों में से एक है। इसके अलावा, पर्यटक यहां रहने वाले स्थानीय अपा तानी जनजाति के साथ बातचीत करके स्थानीय जीवन शैली को भी समझ सकते हैं।

 जीरो का सुंदर पाइन ग्रोव बेहद खूबसूरत पिकनिक स्थसल है। जीरो जि‍तना ज्यापदा खूबसूरत उतनी ही पयर्टकों की भीड़ कम होने से शांत रहता है। इतना ही नहीं जीरो में ब्यूनटी हाई एल्टीट्यूड फिश फार्म देखे जा सकते हैं।यहां देखने के लिए खई स्थल हैं। जीरो घाटी का पाइन ग्रोव यानी पाइन के पेड़ों का बाग पर्यटकों के बीच मशहूर है। यह जगह पुराने जीरो टाउन से करीब तीन किलोमीटर की दूरी पर है। इस जगह को फटॉग्रफी के लिहाज से बेहतरीन माना जाता है। मेघना गुफा मंदिर भगवान शिव को समर्पित है और जीरो के काफी नजदीक स्थित है। टैली घाटी रोमांच पसंद लोगों के लिए परफेक्ट है। यह जगह ट्रेकिंग के लिए फेमस है। टैली घाटी वन्य जीव अभ्यारण्य प्रदेश के जाइरो से करीब 30 किलोमीटर दूर है। इस अभ्यारण्य में वनस्पतियों और जीवों की विशेष किस्म ध्यान आकर्षित करती है। चूंकि मौसम पूरे वर्ष स्वीकार्य है, इसलिए ज़ीरो का दौरा कभी भी किया जा सकता है। निकटतम हवाई अड्डे तेजपुर और गुवाहाटी में हैं, हालांकि, बाद में अधिक उड़ान उपलब्धता के साथ बेहतर होगा। भारतीयों और विदेशियों दोनों के लिए ज़ीरो जाने के लिए विशेष परमिट की आवश्यकता होती है। इसलिए यहां जाने से पहले आज्ञा अवश्य लें।




अरुणाचल प्रदेश में तवांग

भारत के कम ज्ञात आकर्षक गंतव्य

अरुणाचल प्रदेश का तवांग अपने बौद्ध मठ के लिए तो प्रसिद्द है ही साथ ही कम ज्ञात गंतव्य होने के कारण यह शांत और सुंदर भी है। 10,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित, तवांग अरुणाचल प्रदेश की सबसे खूबसूरत छिपी हुई सुंदरियों में से एक है। यह अपने कई मठों के लिए जाना जाता है, यह दलाई लामा का जन्मस्थान भी है। तवांग को भारत का ऑफबीट गंतव्य माना जाता है क्योंकि कई भूस्खलन और खराब मौसम के कारण यहां पहुंचने की काफी मांग है। तवांग अरूणाचल प्रदेश का एक जिला भी है। सन् 1962 में यहा भारत और चीन के बीच भीषण युद्ध लडा गया तवांग छठे दलाई लामा, लोबसंग ग्यात्सो का जन्म स्थान होने के लिए प्रसिद्ध है और भारत में सबसे बड़े बौद्ध मठ के लिए भी जाना जाता है। तवांग अपनी अद्वितीय सौंदर्य से पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। समुद्र स्तर से लगभग 10,000 फीट ऊपर है और झीलों से घिरा हुआ है। तवांग की यात्रा के लिए सबसे अच्छा मौसम मानसून होता है। तापमान आरामदायक रहता है और पर्यटन स्थलों के भ्रमण के लिए उपयुक्त भी होता है। यात्रा करने के लिए सबसे अच्छा महीना मार्च, अप्रैल , मई, जून , सितंबर और अक्टूबर है। इस सुंदर जगह की लुभावनी घाटियां, मिस्टी नदियां और आश्चर्यजनक झरने आपको परम अनुभव प्रदान करेंगे।

यही नहीं तंवागं के पास सेला दर्रा भी है। बोमदिला से सेला दर्रा की दूरी 109 किलोमीटर के लगभग है। इसी रास्ते पर पैराडाइस लेक नाविको और पर्यटको को अपनी ओर आकर्षित करती है। यहा लेक के जल में तैरती बर्फ के छोटे छोटे टुकडे भी आपको दिखाई देगें। सेला में बौद्ध गुफाएं और शिव मंदिर भी दर्शनीय है। इस दर्रे का सफर तवांग पर्यटन का एक रोमांचकारी सफर होता है। 17 वी शताब्दी में बौद्ध संप्रदायो के बीच शत्रुता का काल था। मीरा लामा ने भिक्षुओ की सुरक्षा के लिए एक किला बनवाया था। आज इस किले को तवांग मठ के नाम से जाना जाता है।  यहां पर खूबसूरत चोटियां, छोटे-छोटे गांव, शानदार गोनपा और शांत झील के अतिरिक्त इतिहास, धर्म और पौराणिक कथाओं का सम्मिश्रण भी देख सकते हैं। प्राकृतिक खूबसूरती के अलावा पर्यटक यहां पर अनेक बौद्ध मठ भी देख सकते हैं। ये मठ दुनिया भर में बहुत प्रसिद्ध हैं।  तवांग भारत के उन स्थलों में से एक है जो प्रचुर मात्रा में प्राकृतिक सुंदरता और हड़ताली परिदृश्य से भरपूर है। यह साहसिक साधकों के लिए एक स्वर्ग है, क्योंकि बर्फ-स्केटिंग और चट्टान चढ़ाई सहित कई गतिविधियां शामिल हो सकती हैं। इस स्थान पर जाने का सबसे अच्छा समय मार्च और सितंबर के महीनों के बीच गर्मियों के दौरान होता है, क्योंकि यह वह समय है जब कोई तवांग को अपनी पूरी महिमा में देख सकता है। भारी बर्फबारी के साथ सर्दियों को बहुत कड़वा हो सकता है। लोकप्रिय तवांग मठ यात्रा करना सुनिश्चित करें, जो लगभग 400 वर्ष पुराना माना जाता है। यहां आकर आपको विहंगम शांति का अनुभव होगा।




हिमाचल प्रदेश में खज्जियार

भारत के कम ज्ञात आकर्षक गंतव्य

हिमाचल प्रदेश में स्थित खज्जियार को 'भारत के मिनी स्विट्ज़रलैंड' के रूप में जाना जाता है। खज्जियार एक शांतिपूर्ण शहर है जो हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले में डलहौजी के पास स्थित है। कई झीलों, पहाड़ियों और घास के मैदानों से घिरा हुआ, यह उन लोगों के लिए आदर्श गंतव्य है जो भीड़ से दूर आराम से छुट्टी चाहते हैं। ये जगह नवजोड़ो के लिए भी एक आदर्श स्थल है।। यहां का मौसम, चीड़ देवदार के ऊंचे-लंबे हरे-भरे पेड़, नर्म मुलायम मखमली हरियाली और पहाड़ तथा शांति और मानसिक सुकून देने वाली वादियां आपको स्विट्जरलैंड का एहसास कराती है। 'हिमाचल प्रदेश' की खूबसूरत पहाडियां, चारो तरफ हरियाली, वादियां, मन को मदहोश करने वाली नदियां और झीले पूरी दुनियाभर में मशहूर हैं। यहाँ एक तश्तरीनुमा झील है,जो 1.5 किलोमीटर लम्बी है। सर्दियों में खजिहार जब बर्फ का दुशाला ओढ़ता है, तो यहाँ की खूबसूरती सैलानियों पर गजब ढहाने लगती है। यहाँ झील किनारे पहाड़ी शैली में बना  हजारों साल पुराना एक मंदिर भी है, जिसमे नाग देवता की प्रतिमा स्थापित है। खजिहार में ठहरने के लिए डाक बंगले व रेस्ट हाउस भी हैं जहाँ कोई भी ठहर सकता है। यह पर्यटक स्थल छोटा भले ही है लेकिन लोकप्रियता में बड़े-बड़े हिल स्टेशनों से कम नहीं है। पर्यटक मुख्य रूप से इस हिल स्टेशन की आबोहवा का आनंद लेने के लिए आते हैं। खज्जियार का मौसम दिनभर तो सुहाना रहता है लेकिन शाम ढलने पर यहां का मौसम कुछ इस कदर मनमोहक और रोमांचित करने वाला हो जाता है कि आप खुद को किसी और ही दुनिया में पाने लगते हैं।

खज्जियार का आकर्षण चीड़ एवं देवदार के वृक्षों से ढके खज्जियार झील में है। झील के चारों ओर हरी-भरी मुलायम और आकर्षक घास खज्जियार को सुंदरता प्रदान करती है। झील के बीच में टापूनुमा दो जगहें हैं, जहां पहुंचकर पर्यटक और रोमांचित हो जाता है। वैसे तो खज्जियार में तरह-तरह के रोमांचक खेलों का भी आयोजन किया जाता है लेकिन अगर आप गोल्फ के शौकीन हैं तो आपके लिए यह हिल स्टेशन और भी बेहतर है।  पर्यटक ट्रेकिंग, हाइकिंग, घुड़सवारी, पैराग्लाइडिंग आदि जैसे विभिन्न साहसी गतिविधियों में भी शामिल हो सकते हैं। प्रकृति प्रेमी अद्भुत देवदार जंगलों में हरे घास के मैदानों के साथ आनंद ले सकते हैं। खज्जियार जाने का सबसे अच्छा समय गर्मियों के महीनों के दौरान होता है, क्योंकि भारी बर्फबारी के चलते कुछ सड़कों को बंद होने के कारण सर्दियों के दौरान यहां यात्रा करना मुश्किल हो सकता है।




मध्य प्रदेश में ओरछा

भारत के कम ज्ञात आकर्षक गंतव्य

मध्य प्रदेश में स्थित ओरछा उन सभी के लिए एक आदर्श स्थान है जो भारतीय इतिहास और वास्तुकला से प्यार करते हैं। ओरछा का शाब्दिक अर्थ है गुप्त स्थान है। मध्यप्रदेश राज्य के टिकमगढ़ जिले में स्थित, इस छोटे से शहर की स्थापना 16 वीं शताब्दी के दौरान बुंदेला राजपूत के प्रमुख प्रमुख महाराजा रुद्र प्रताप सिंह ने की थी। इसे एक बार बुंदेलखंड साम्राज्य की राजधानी के रूप में जाना जाता था। बेटवा नदी पर स्थित, ओरछा एक भव्य किले महल पर खड़ा है। हड़ताली वास्तुकला, भव्य महलों और आकर्षक मंदिरों के साथ, यह जगह उन लोगों के लिए जरूरी है जो इतिहास से प्यार करते हैं। किले के अंदर, कई अद्भुत संरचनाएं हैं जो विभिन्न युगों से संबंधित हैं। कुछ सबसे महत्वपूर्ण लोगों में राम राजा मंदिर, जहांगीर महल (मुगल वास्तुकला की भव्यता का प्रतिनिधित्व) और चतुर्भुज मंदिर (9वीं सदी का मंदिर) है।

आप यदि इस शहर को और करीब से जानना चाहते हैं तो आप साइकिल से यात्रा करिए। जो यहां पर शानदार संरचनाओं को खोजने का सबसे अच्छा तरीका है। यहां पर कुछ होमस्टे भी स्थित हैं।  शहर के संपन्न  सांस्कृतिक धरोहरो को देखना एक अलग ही अनुभव देगा। ओरछा के महल के किनारे से बहती बेतवा नदी को देखकर मन खुश हो जाएगा। यहां का मुख्ये आकर्षण जहांगीर महल, राजा महल स्टैंीड, परवीन महल, चतुर्भुज मंदिर, लक्ष्मील नारायण मंदिर और हनुमान मंदिर है। यहां स्थित ओरछा महल किला को शासक रुद्रप्रताप ने बनवाया था। किला परिसर में कई इमारतें हैं जिन्हेंह समय-समय पर कई अलग-अलग लोगों ने बनवाया था। महलों के साथ-साथ पर्यटक यहाँ पर हवेलियाँ देख सकते हैं। दाउजी की हवेली प्रमुख है। मंदिरों में चतुर्भुज मंदिर तथा लक्ष्मीनारायण मंदिर बहुत ही प्रसिद्ध हैं। लक्ष्मीनारायण मंदिर की सुंदर आकृतियाँ ओरछा रूप को दर्शाती हैं तथा चतुर्भुज मंदिर आकार में अन्य मंदिरों से सबसे बड़ा है। यदि पर्यटक यहाँ की ओरछा संस्कृति से परिचित होना चाहते हैं तब बेतवा नदी पर स्थित ओरछा की छतरी देख सकते हैं। चंद्रशेखर आजाद ने अपने जीवन के अंतिम दिन इसी स्थान पर बिताए थे। उनकी अस्थियाँ इस पवित्र स्थल पर आज भी शहीद स्मारकों के रूप में सुरक्षित हैं। यदि पर्यटक ओरछा से कलात्मक वस्तुएँ खरीदना चाहते हैं तो यहाँ के बाजारों में डोकरा की धातु से बनी वस्तुएँ मिलती हैं।




पश्चिम बंगाल में लेपजाजगेट

भारत के कम ज्ञात आकर्षक गंतव्य

पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग से लगभग 19 किलोमीटर दूर स्थित लेपजाजत एक सुरम्य गांव है जिसे कभी लेप्चा जनजाति का घर माना जाता था। हालांकि, अब इसे डब्लूबीएफडीसी (पश्चिम बंगाल वन विकास निगम) द्वारा आरक्षित वन क्षेत्र में बदल दिया गया है। पश्चिम बंगाल में दार्जिलिंग के नजदीक स्थित, लेपजाजग नामक एक छोटा सा गांव है जिसे भारत में एक गुप्त स्थान माना जाता है। यह अज्ञात गंतव्य मोटी ओक वन से ढके पहाडिय़ों के बीच घिरा हुआ है।  हालांकि यह दार्जिलिंग के निकट स्थित है, जो एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है, आगंतुकों ने अभी तक इस शानदार जगह की खोज नहीं की है। मोटी ओक पेड़ों से घिरा हुआ, पाइंस की सुंदर दृष्टि, रोडोडेंड्रॉन सैलून और चमचमाती बर्फ केकेंजुंगा चोटियों से घिरा हुआ यह शहर आपको स्वच्छ हवा में सांस लेने का स्थल उपलब्ध कराएगाष जहां की ताजी हवा आपका तन-मन खुश कर देगी। यह जगह अपने प्रचुर मात्रा में और विविध पक्षी जीवन के लिए भी जानी जाती है। पर्यटक लेपजाजगेट के नजदीक स्थित पशुपति और मिरिक भी जा सकते हैं। यह जगह शहरी चमक-धमक से आज भी दूर है और अपने प्राकृतिक स्वरुप को बनाए हुए स्थित है।




जम्मू-कश्मीर में गुरेज़ घाटी

भारत के कम ज्ञात आकर्षक गंतव्य

जम्मू-कश्मीर को वैसे तो धरती का स्वर्ग कहा जाता है क्योंकि यहां कई ऐसे स्थल मौजूद है जहां आकर आप सब कुछ भूल जाएगें। कश्मीर के सबसे जादुई और मोहक घाटियों में से एक, गुरेज़ घाटी जम्मू-कश्मीर राज्य के उत्तरी हिस्से में श्रीनगर के पास शक्तिशाली किसानगंगा नदी के तट पर स्थित है। इस स्थान पर भारत और पाकिस्तान के बीच नियंत्रण रेखा शामिल है, गुरिज घाटी भारत में सबसे अधिक संरक्षित स्थानों में से एक थी। यह वर्ष 2007 तक बंद थी, लेकिन अब आगंतुकों के लिए खोला गयी है। इस वजह से, कश्मीर में इस खूबसूरत घाटी के बारे में बहुत से लोग नहीं जानते हैं। बर्फ से ढके हुए पहाड़ों, विविध वन्यजीवन और दुर्लभ वनस्पतियों और जीवों से घिरे हुए, गुरेज़ घाटी उन लोगों के लिए जरूरी है जो प्रकृति और रोमांच से प्यार करते हैं। जम्मूा-कश्मीर की कुछ सबसे खूबसूरत जगहों में से एक है गुरेज घाटी। समुद्रतट से  लगभग 8000 फीट की ऊंचाई पर स्थित यह घाटी श्रीनगर से 125 किमी दूर  है। अगर आप जम्मू कश्मीर घूमने जाने का प्लान बना रही हैं तो गुरेज की घाटी को देखे बिना इस राज्य के खूबसूरत सफर में कुछ अधूरा रह जाएगा।

गुरेज घाटी का केंद्रीय हिस्सा है दवार जिसमें कुल मिलाकर 15 गांव हैं और ये गांव पूरी गुरेज घाटी में फैले हुए हैं। इसके अलावा यहां पर किशनगंगा नदी भी बहती है। ऊंची-ऊंची पहाडियों से घिरे दवार में चारों ओर किशनगंगा नदी की बहती लहरों की आवाज गूंजती है। इस घाटी में आने वाले टूरिस्ट्स दवार देखने जरूर आते हैं। कश्मीररी कवि हब्बात खातून के नाम पर इस जगह का ये नाम रखा या है। इस त्रिकोणीय आकार के पर्वत में हब्बा‍ खातून की अपने पति के प्रेम से जुड़ी कई कहानियां आज भी गूंजती हैं। कहा जाता है कि आज भी आप यहां हब्बां खातून को अपने पति की तलाश करते हुए देख सकते हैं। कश्मींरी कवि हब्बाभ खातून के नाम पर इस जगह का ये नाम रखा या है। इस त्रिकोणीय आकार के पर्वत में हब्बाश खातून की अपने पति के प्रेम से जुड़ी कई कहानियां आज भी गूंजती हैं। कहा जाता है कि आज भी आप यहां हब्बाआ खातून को अपने पति की तलाश करते हुए देख सकते हैं। यह घाटी जम्मू कश्मीर का मुख्य आकर्षण है। अगर आपको भी नेचर के खूबसूरत नजारों का मजा लेना है तो गुरेज घाटी जरूर जाएं। गुरेज घाटी जाने के लिए मई से लेकर अक्टूबर तक का समय परफेक्ट होता है। इस समय आप यहां पर प्राकृतिक नजारों के साथ-साथ ठंडी ठंडी हवाओं का भी मजा ले सकते हैं। यहां की ठंडी हवाएं आपको गर्मियों के मौसम में भी ठंडक का अहसास करवाएंगी।




जम्मू-कश्मीर में पांगोंग झील

भारत के कम ज्ञात आकर्षक गंतव्य

जम्मू-कश्मीर में स्थित पांगोंग झील को बॉलीवुड फिल्म -3 इडियट्स ने बहुत लोकप्रिय बनाया था, फिर भी यह भारत में सबसे लुभावनी स्थानों में से एक पहले से ही रही है। जो अभी तक यात्रियों द्वारा अनदेखी है। 14,271 फीट की ऊंचाई पर स्थित, पांगोंग झील भारतीय और चीनी दोनों सीमाओं के नीचे आती है। झील का केवल एक तिहाई हिस्सा भारत के में है। पारदर्शी पानी, स्पष्ट नीले आकाश और बर्फीली पर्वत श्रृंखला के साथ अविश्वसनीय दृश्यों से आप पूरी तरह से यहां मंत्रमुग्ध हो जाएगें। यह भारत में सबसे ज्यादा खारे पानी की झील भी है।  इस झील पर सूर्यास्त के शानदार दृश्य को देखना कभी ना भूलें। 

चूंकि यह क्षेत्र भारतीय सेना के अंतर्गत आता है, इसलिए आगंतुकों को लेह के डिप्टी कमिश्नर से पूर्व अनुमति की आवश्यकता होगी। इस जगह तक पहुंचना थोड़ा कर लग सकता है। लेकिन एक बार पहुंचने के बाद, झील के सुंदर दृश्य से आप सभी प्रयासों को भूल जाएंगे। यात्रियों को मनाली-लेह राजमार्ग के साथ 30 किलोमीटर की यात्रा करना है और केरू पहुंचना है। वहां से, दो मार्गों में से एक ले जाएं जो पांगोंग झील की ओर ले जाते हैं, जो एक और 113 किलोमीटर होगा।नीले आसमान, सुनहरे मैदानों और बर्फ से ढंके चोटियों की पृष्ठभूमि के बीच में स्थित, पांगोंग त्सो झील एकदम जादुई दुनिया जैसी प्रतीत होती है। लद्दाख की अन्य झीलों के मुकाबले इसकी एक ख़ास विशेषता है कि, यहां कितना भी तापमान क्यों ना कम हो जाये, ये झील कभी भी जमती नहीं है। इसके अलावा यह झील अपने रंग बदलने के लिए भी जानी जाती है, जो इसे एक सुरम्य प्रसन्न बनाता है। पांगोंग त्सो के आस-पास कई कैम्पिंग की सुविधाएं हैं। आप जब भी यहां की यात्रा करें इस झील के किनारे थोड़ा सा मस्य जरुर बितायें।

 

यदि आप साहस और कुछ रोमांचक करने के लिए इच्छुक हैं तो आपके लिए भारत में ऑफबीट गंतव्यों की खोज करना बहुत मजेदार और रोमांचक हो सकता है। ये जगह न केवल लुभावनी होंगी, बल्कि कम भीड़ और शोर-सराबे से दूर आपको सुंदर यादों के साथ एक शानदार अनुभुति कराएगें। जहां आप अपने साथी के साथ जीवन के सुरम्य सपनों को बुन सकेगें।


To read this Article in English Click here

You may also like to visit

Free Listing